परमेश्वर के दैनिक वचन | "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" | अंश 87

पाँचवे दिन, जीवन के विविध और विभिन्न रूप अलग अलग तरीकों से सृष्टिकर्ता के अधिकार को प्रदर्शित करते हैं

पवित्र शास्त्र कहता है, "फिर परमेश्‍वर ने कहा, 'जल जीवित प्राणियों से बहुत ही भर जाए, और पक्षी पृथ्वी के ऊपर आकाश के अन्तर में उड़ें।' इसलिये परमेश्‍वर ने जाति जाति के बड़े बड़े जल-जन्तुओं की, और उन सब जीवित प्राणियों की भी सृष्‍टि की जो चलते फिरते हैं जिन से जल बहुत ही भर गया, और एक एक जाति के उड़नेवाले पक्षियों की भी सृष्‍टि की: और परमेश्‍वर ने देखा कि अच्छा है" (उत्पत्ति 1:20-21)। पवित्र शास्त्र साफ साफ कहता है कि, इस दिन, परमेश्वर ने जल के जन्तुओं और आकाश के पक्षियों को बनाया, कहने का तात्पर्य है कि उसने विभिन्न प्रकार की मछलियों और पक्षियों को बनाया, और उनकी प्रजाति के अनुसार उन्हें वर्गीकृत किया। इस तरह, परमेश्वर की सृष्टि से पृथ्वी, आकाश, और जल समृद्ध हो गए...।

जैसे ही परमेश्वर के वचन कहे गए, नई ज़िन्दगियाँ, हर एक अलग आकार में, सृष्टिकर्ता के वचनों के मध्य एकदम से जीवित हो गईं। वे इस संसार में अपने स्थान के लिए एक दूसरे को धकेलते, कूदते और आनंद से खेलते हुए आ गए...। हर प्रकार एवं आकार की मछलियाँ जल के आर-पार तैरने लगीं, और सभी किस्मों की सीप वाली मछलियाँ रेत में उत्पन्न होने लगीं, कवचधारी, सीप वाली, और बिना रीढ़ वाले जीव जन्तु, चाहे बड़े हों या छोटे, लम्बे हों या छोटे, विभिन्न रूपों में जल्दी से प्रगट हो गए। विभिन्न प्रकार के समुद्री पौधे शीघ्रता से उगना शुरू हो गए, विविध प्रकार के समुद्री जीवन के बहाव में बहने लगे, लहराते हुए, स्थिर जल को उत्तेजित करते हुए, मानो उनसे कहना चाहते हैं: अपना एक पैर हिलाओ! अपने मित्रों को लेकर आओ! क्योंकि तुम सभी फिर अकेले नहीं रहोगे! उस घड़ी जब परमेश्वर के द्वारा बनाए गए जीवित प्राणी जल में प्रगट हुए, प्रत्येक नए जीवन ने उस जल में जीवन शक्ति डाल दी जो इतने लम्बे समय से शांत था, और एक नए युग से परिचय किया...। उस समय के बाद से, वे एक दूसरे के आस पास रहने लगे, और एक दूसरे की सहभागिता की, और एक दूसरे के साथ कोई भेद नहीं किया। अपने भीतर के जीवधारियों के लिए जल अस्तित्व में आया था, और हर एक जीवन की जो उसकी बाँहों में आया था उसका पोषण करने लगा, और प्रत्येक जीवन जल और उसके पोषण के कारण अस्तित्व में बना रहा। प्रत्येक ने दूसरे को जीवन दिया, और उसी समय, हर एक ने, उसी रीति से, सृष्टिकर्ता की सृष्टि की अद्भुतता और महानता और सृष्टिकर्ता के अधिकार और अद्वितीय सामर्थ के लिए गवाही दी।

जैसे समुद्र अब शांत न रहा, उसी प्रकार जीवन ने आकाश को भरना प्रारम्भ कर दिया। एक के बाद, छोटे और बड़े पक्षी, भूमि से आकाश में उड़ने लगे। समुद्र के जीवों से अलग, उनके पास पंख और पर थे जो उनके दुबले और आर्कषक आकारों को ढँके हुए थे। उन्होंने अपने पंखों को फड़फड़ाया, और गर्व और अभिमान से अपने परों के आकर्षक लबादे को और अपनी विशेष क्रियाओं और कुशलताओं को प्रदर्शित करने लगे जिन्हें सृष्टिकर्ता के द्वारा उन्हें प्रदान किया गया था। वे स्वतन्त्रता के साथ हवा में लहराने लगे, और कुशलता से आकाश और पृथ्वी के बीच, घास के मैदानों और जंगलों के आर पार यहाँ वहाँ उड़ने लगे...। वे हवा के प्रियतम थे, वे हर चीज़ के प्रियतम थे। वे जल्द ही स्वर्ग और पृथ्वी के बीच में एक बन्धन बननेवाले थे, और जल्द ही उन सन्देशों को सभी चीज़ों तक पहुँचानेवाले थे...। वे गीत गाने लगे, वे आनंद के साथ यहाँ वहाँ झपट्टा मारने लगे, वे हर्षोल्लास एवं हँसी लेकर आए, और एक समय ख़ाली पड़े संसार में कम्पन पैदा किया...। उन्होंने अपने स्पष्ट, एवं मधुर गीतों का उपयोग किया, और अपने हृदय के शब्दों का उपयोग कर उस जीवन के लिए सृष्टिकर्ता की प्रशंसा की जो उसने उन्हें दिया था। उन्होंने सृष्टिकर्ता की पूर्णता और अद्भुतता को प्रदर्शित करने के लिए हर्षोल्लास के साथ नृत्य किया, और वे, उस विशेष जीवन के द्वारा जो उसने उन्हें दिया था, सृष्टिकर्ता के अधिकार की गवाही देते हुए अपने सम्पूर्ण जीवन को समर्पित कर देंगे।

इसके बावजूद कि वे जल में थे या आकाश में, सृष्टिकर्ता की आज्ञा के द्वारा, जीवित प्राणियों की यह अधिकता जीवन के विभिन्न रूपों में मौजूद थी, और सृष्टिकर्ता की आज्ञा के द्वारा, वे अपनी अपनी प्रजाति के अनुसार इकट्ठे हो गए—और यह व्यवस्था और यह नियम किसी भी जीवधारी के लिए अपरिवर्तनीय था। और उनके लिए सृष्टिकर्ता के द्वारा जो भी सीमाएँ बनाई गई थीं उन्होंने कभी भी उसके पार जाने की हिम्मत नहीं की, और न ही वे ऐसा करने में समर्थ थे। जैसा सृष्टिकर्ता के द्वारा नियुक्त किया गया था, वे जीवित और बहुगुणित होते रहे, और सृष्टिकर्ता के द्वारा बनाए गए जीवन क्रम और व्यवस्था से कड़ाई से चिपके रहे, और सचेतता से उसकी अनकही आज्ञाओं, स्वर्गीय आदेशों और नियमों में बने रहे जो उसने उन्हें तब से लेकर आज तक दिया था। वे सृष्टिकर्ता से अपने एक विशेष अन्दाज़ में बात करते थे, और सृष्टिकर्ता के अर्थ की प्रशंसा करने और उसकी आज्ञा मानने के लिए आए थे। किसी ने कभी भी सृष्टिकर्ता के अधिकार का उल्लंघन नहीं किया, और उनके ऊपर उसकी संप्रभुता और आज्ञाओं का उपयोग उसके विचारों के तहत हुआ था; कोई वचन नहीं दिए गए थे, परन्तु वह अधिकार जो सृष्टिकर्ता के लिए अद्वितीय था उसने उससे ख़ामोशी से सभी चीज़ों का नियन्त्रण किया जिसमें भाषा की कोई क्रिया नहीं थी, और मानवजाति से भिन्न था। इस विशेष रीति से उसके अधिकार के इस्तेमाल ने नए ज्ञान को प्राप्त करने के लिए मनुष्य को बाध्य किया, और सृष्टिकर्ता के अद्वितीय अधिकार की एक नई व्याख्या की। यहाँ, मुझे तुम्हें बताना होगा कि इस नए दिन में, परमेश्वर के अधिकार के इस्तेमाल ने एक बार और सृष्टिकर्ता की अद्वितीयता का प्रदर्शन किया।

आगे, आओ हम पवित्र शास्त्र के इस अंश के अंतिम वाक्य पर एक नज़र डालें: "परमेश्‍वर ने देखा कि अच्छा है।" तुम लोग क्या सोचते हो कि इसका अर्थ क्या है? इन वचनों में परमेश्वर की भावनाएं भरी हैं। परमेश्वर ने उन सभी चीज़ों को देखा जिन्हें उसने बनाया था जो उसके वचनों के कारण अस्तित्व में आए और स्थिर बने रहे, और धीरे धीरे परिवर्तित होने लगे। उसी समय, परमेश्वर ने अपने वचनों के द्वारा जिन विभिन्न चीज़ों को बनाया था, और वे विभिन्न कार्य जिन्हें उसने पूरा किया था क्या वह उनसे सन्तुष्ट था? उत्तर है कि "परमेश्‍वर ने देखा कि अच्छा है।" तुम लोग यहाँ क्या देखते हो? इससे क्या प्रकट होता है कि "परमेश्‍वर ने देखा कि अच्छा है?" यह किसकी ओर संकेत करता है? इसका अर्थ है कि जो कुछ परमेश्वर ने योजना बनाया और निर्देश दिया था उसे पूरा करने के लिए, और उन उद्देश्यों को पूर्ण करने के लिए जिन्हें वह पूरा करने निकला था परमेश्वर के पास सामर्थ और बुद्धि थी। जब परमेश्वर ने हर एक कार्य को पूरा कर लिया, तो क्या वह खेदित हुआ? उत्तर अभी भी यही है "परमेश्‍वर ने देखा कि अच्छा है।" दूसरे शब्दों में, उसने कोई खेद महसूस नहीं किया, बल्कि उसके बजाए वह सन्तुष्ट था। इसका मतलब क्या था कि उसे कोई खेद महसूस नहीं हुआ? इसका मतलब है कि परमेश्वर की योजना पूर्ण है, उसकी सामर्थ और बुद्धि पूर्ण है, और यह कि सिर्फ उसकी सामर्थ के द्वारा ही ऐसी पूर्णता को प्राप्त किया जा सकता है। जब कोई मुनष्य कार्य करता है, तो परमेश्वर के समान, क्या वह देख सकता है, कि वह अच्छा है? क्या हर चीज़ जो मनुष्य करता है उसमें पूर्णता होती है? क्या मनुष्य किसी चीज़ को पूरी अनंतता के लिए पूरा कर सकता है? जैसा मनुष्य कहता है, "कोई भी पूर्ण नहीं है, बस थोड़ा बेहतर होता है," ऐसा कुछ भी नहीं है जो मनुष्य करे और वह पूर्णता को प्राप्त करे। जब परमेश्वर ने देखा कि जो कुछ उसने बनाया और पूर्ण किया वह अच्छा था, परमेश्वर के द्वारा बनाई गई हर वस्तु उसके वचन के द्वारा स्थिर हुई, कहने का तात्पर्य है कि, जब "परमेश्‍वर ने देखा कि अच्छा है," तब जो कुछ भी उसने बनाया उसे चिरस्थायी रूप में स्वीकृति दी, उसके किस्मों के अनुसार उन्हें वर्गीकृत किया गया, और उन्हें पूरी अनंतता के लिए एक दृढ़ स्थिति, उद्देश्य, और कार्यप्रणाली दी गई। इसके अतिरिक्त, सब वस्तुओं के बीच उनकी भूमिका, और वह यात्रा जिन से उन्हें परमेश्वर की सब वस्तुओं के प्रबन्ध के दौरान गुज़रना था, उन्हें परमेश्वर के द्वारा पहले से ही नियुक्त कर दिया गया था, और वे बदलनेवाले नहीं थे। यह वह स्वर्गीय नियम था जिसे सब वस्तुओं के सृष्टिकर्ता के द्वारा दिया गया था।

"परमेश्‍वर ने देखा कि अच्छा है," इन सामान्य, कम महत्व के शब्दों की कई बार उपेक्षा की जाती है, परन्तु ये स्वर्गीय नियम और स्वर्गीय आदेश हैं जिन्हें सभी प्राणियों को परमेश्वर के द्वारा दिया गया है। यह सृष्टिकर्ता के अधिकार का एक और मूर्त रूप है, जो अधिक व्यावहारिक, और अति गंभीर है। अपने वचनों के जरिए, सृष्टिकर्ता न केवल वह सबकुछ हासिल करने में सक्षम हुआ जिसे वह हासिल करने निकला था, और सब कुछ प्राप्त किया जिसे वह प्राप्त करने निकला था, बल्कि जो कुछ भी उसने सृजा था, उसका नियन्त्रण कर सकता था, और जो कुछ उसने अपने अधिकार के अधीन बनाया था उस पर शासन कर सकता था, और, इसके अतिरिक्त, सब कुछ क्रमानुसार और निरन्तर बने रहनेवाला था। सभी वस्तुएँ उसके वचन के द्वारा जीवित हुईं और मर भी गईं और, उसके अतिरिक्त उसके अधिकार के कारण वे उसके द्वारा बनाई गई व्यवस्था के मध्य अस्तित्व में बने रहे, और कोई भी नहीं छूटा! यह व्यवस्था बिलकुल उसी घड़ी शुरू हो गई थी जब "परमेश्‍वर ने देखा कि अच्छा है," और वह बना रहेगा, और जारी रहेगा, और परमेश्वर के प्रबंधकीय योजना के लिए उस दिन तक कार्य करता रहेगा जब तक वह सृष्टिकर्ता के द्वारा रद्द न कर दिया जाए! सृष्टिकर्ता का अद्वितीय अधिकार न केवल सब वस्तुओं को बनाने, और सब वस्तुओं के अस्तित्व में आने की आज्ञा की काबिलियत में प्रकट हुआ, बल्कि सब वस्तुओं पर शासन करने और सब वस्तुओं पर संप्रभुता रखने, और सब वस्तुओं में चेतना और जीवन देने, और, इसके अतिरिक्त, सब वस्तुओं को पूरी अनंतता के लिए बनाने की उसकी योग्यता में भी प्रगट हुआ था जिसे वह अपनी योजना में बनाना चाहता था ताकि वे एक ऐसे संसार में प्रगट हो सकें और अस्तित्व में आ जाएँ जिन्हें उसके द्वारा एक पूर्ण आकार, और एक पूर्ण जीवन संरचना, और एक पूर्ण भूमिका में बनाया गया था। यह भी इस तरह से सृष्टिकर्ता के विचारों में प्रकट हुआ जो किसी विवशता के अधीन नहीं था, और समय, अंतरिक्ष, और भूगोल के द्वारा सीमित नहीं किए गए थे। उसके अधिकार के समान, सृष्टिकर्ता की अद्वितीय पहचान अनंतकाल से लेकर अनंतकाल तक अपरिवर्तनीय बनी रहेगी। उसका अधिकार सर्वदा उसकी अद्वितीय पहचान का एक प्रदर्शन और प्रतीक बना रहेगा, और उसका अधिकार हमेशा उसकी अद्वितीय पहचान के अगल बगल बना रहेगा!

— 'वचन देह में प्रकट होता है' से उद्धृत

सृष्टिकर्ता के अधिकार और पहचान काअस्तित्व साथ-साथ है

फ़र्क नहीं पड़ता, वे जल में हैं या आकाश में, रहते हैं अलग-अलग रूपों में बहुत से प्राणी सृष्टिकर्ता की आज्ञा से। होते एकत्र अपनी नस्ल या किस्म के मुताबिक उसी की आज्ञा से। बदल नहीं सकता कभी कोई जीव इस नियम को।

हिम्मत नहीं करते जीव सृष्टिकर्ता की सीमाओं को लांघने की, न ही वे ऐसा करने के काबिल हैं। वे फैलते, जीते, बहुगुणित होते हैं, जैसा पूर्व-नियत किया उसने, पालन करते हैं उसके जीवन-क्रम और नियमों का, उसकी अनकही आज्ञाओं का, करते हैं पालन आज भी उसके बनाये आदेशों-नियमों का।

न बदलेगी अनंत काल तक उसके अधिकार की तरह, अद्वितीय पहचान सृष्टिकर्ता की। दर्शाता रहेगा उसका अधिकार उसकी अद्वितीय पहचान को सदा। मौजूद रहेगा उसका अधिकार उसकी पहचान के साथ अनंत काल तक।

प्रकट होता है अधिकार उसका न सिर्फ़ अपने कहे को पूरा करने में, बल्कि उन पर राज करने की काबिलियत में, उन्हें जीवन और जोश देने में, अनंत काल तक उन्हें पूर्ण आकार और भूमिका में बनाये रखने में, प्रकट होता है ये उसके असीम विचारों में।

न बदलेगी अनंत काल तक उसके अधिकार की तरह, अद्वितीय पहचान सृष्टिकर्ता की। दर्शाता रहेगा उसका अधिकार उसकी अद्वितीय पहचान को सदा। मौजूद रहेगा उसका अधिकार उसकी पहचान के साथ अनंत काल तक। न बदलेगी अनंत काल तक उसके अधिकार की तरह, अद्वितीय पहचान सृष्टिकर्ता की। दर्शाता रहेगा उसका अधिकार उसकी अद्वितीय पहचान को सदा। मौजूद रहेगा उसका अधिकार उसकी पहचान के साथ अनंत काल तक।

"मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना" से

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" | अंश 41

शैतान ने पहली बार अय्यूब को परखा (उसकी भेड़-बकरियां चुरा ली गईं और उसके बच्चों के ऊपर आपदा आई) क. परमेश्वर के द्वारा कहे गए वचन (अय्यूब 1:8)...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" | अंश 129

मृत्यु: छठवां घटनाक्रम इतनी अफरा-तफरी के पश्चात्, इतनी कुंठाओं एवं निराशाओं के पश्चात्, इतने सारे सुखों एवं दुखों और उतार एवं चढ़ावों के...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है VIII" | अंश 173

(4) प्रकाश चौथी चीज़ लोगों की आँखों से सम्बन्धित है—अर्थात् प्रकाश। यह बहुत ही आवश्यक है। जब तू चमकता हुआ प्रकाश देखता है, और जब इस प्रकाश...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है II" | अंश 105

(उत्पत्ति 19:1-11) साँझ को वे दो दूत सदोम के पास आए; और लूत सदोम के फाटक के पास बैठा था। उन को देखकर वह उनसे भेंट करने के लिये उठा, और मुँह...