परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर को जानना परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने का मार्ग है" | अंश 1

तुम में से प्रत्येक व्यक्ति परमेश्वर में विश्वास करके नए सिरे से अपने जीवन की जांच करके यह देख सकता है कि क्या परमेश्वर को खोजते समय, तुम सच्चे रूप में समझ पाए हो, सच्चे रूप में पूर्णत: समझ गये हो, और सच्चे रूप में परमेश्वर को जाने हो, और यह कि तुम सच्चे रूप में जान गये हो कि, विभिन्न मनुष्यों के प्रति परमेश्वर का मनोभाव क्या है, और यह कि तुम वास्तव में यह समझ गये हो कि परमेश्वर तुम पर क्या कार्य कर रहा है और परमेश्वर कैसे उसके प्रत्येक कार्य को व्यक्त करता है। यह परमेश्वर जो तुम्हारी ओर है, तुम्हारे विकास को मार्गदर्शन दे रहा है, तुम्हारी नियति को बना रहा है और तुम्हारी सभी आवश्यकताओं को पूरा कर रहा है—अंतिम विश्लेषण में तुम क्या सोचते और समझते हो और तुम वास्तव में कितना उसके बारे में जानते हो? क्या तुम जानते हो कि प्रत्येक दिन वह तुम्हारे लिए कौन से कार्य करता है? क्या तुम जानते हो कि उसके प्रत्येक कार्य के पीछे क्या नियम और उद्देश्य होते हैं? क्या तुम जानते हो कि वह कैसे तुम्हारा मार्गदर्शन करता है? क्या तुम जानते हो कि किन स्रोतों के द्वारा वह तुम्हारी सभी ज़रुरतों को पूरा करता है? क्या तुम जानते हो कि किन तरीकों से वह तुम्हारी अगुवाई करता है? क्या तुम जानते हो कि वह तुमसे किस बात की अपेक्षा रखता है और तुम में क्या देखना चाहता है? क्या तुम उसके दृष्टिकोण को जानते हो जिस प्रकार से वह तुम्हारे विभिन्न तरह के व्यवहार को लेता है? क्या तुम यह जानते हो कि क्या तुम उसके एक पसंदीदा व्यक्ति हो? क्या तुम उसके आनन्द, क्रोध, दुख और प्रसन्नता के पीछे छिपे विचारों और उद्देश्यों और उसके सार को जानते हो? अंत में, क्या तुम जानते हो कि जिस परमेश्वर पर तुम विश्वास करते हो वह किस प्रकार का परमेश्वर है? क्या ये ऐसे कुछ प्रश्न हो जिनके बारे में तुमने पहले कभी भी न तो समझा और न उन पर विचार किया? परमेश्वर पर अपने विश्वास का अनुगमन करते हुए क्या तुमने कभी वास्तविक मूल्यांकन और परमेश्वर के कार्यों का अनुभव करके उसके प्रति अपनी सभी ग़लतफहमियों को दूर किया है? क्या तुमने कभी भी परमेश्वर का अनुशासन और ताड़ना प्राप्त करने के बाद, सच्चा समर्पण और ध्यान दिया है? क्या तुमने परमेश्वर की ताड़ना और न्याय के मध्य मनुष्य की विद्रोही और शैतानी प्रकृति को जान पाए हो और परमेश्वर की पवित्रता को थोड़ा सा भी प्राप्त किया है? क्या तुमने कभी भी परमेश्वर के वचनों के मार्गदर्शन और प्रकाशन के अधीन अपने जीवन को एक नए प्रकार से देखना प्रारम्भ किया? क्या तुमने कभी परमेश्वर के द्वारा भेजी हुई परख के मध्य मनुष्यों के अपराध पर उसकी असहिष्णुता को महसूस किया है, साथ ही साथ वह तुमसे क्या अपेक्षा रखता है और वह तुम्हें कैसे बचा रहा है, उसे महसूस किया है? यदि तुम यह नहीं जानते कि परमेश्वर को गलत समझना क्या है या यह कि इन ग़लतफहमियों को ठीक कैसे किया जा सकता है, तो यह कहा जा सकता है कि तुम परमेश्वर के साथ कभी भी वास्तविक सहभागिता में नहीं आए हो और परमेश्वर को कभी जाना ही नहीं, या कहा जा सकता है कि तुमने उसे कभी भी समझने की इच्छा तक नहीं की। यदि तुम परमेश्वर के अनुशासन और ताड़ना को नहीं जानते हो, तो निश्चित ही तुमने समर्पण और परवाह को जाना ही नहीं, या फिर तुमने कभी परमेश्वर के प्रति अपने आपको वास्तव में समर्पित नहीं किया और परमेश्वर की परवाह तक नहीं की। यदि तुमने कभी भी परमेश्वर की ताड़ना और न्याय को अनुभव नहीं किया है तो निश्चित तौर पर तुम उसकी पवित्रता को नहीं जानते हो और तुम इतना भी नहीं समझ पाओगे कि मनुष्यों का परमेश्वर के प्रति विद्रोह क्या होता है। यदि जीवन के प्रति तुम्हारा दृष्टिकोण ठीक नहीं है या जीवन में सही उद्देश्य नहीं है, और अपने भविष्य के प्रति दुविधा और अनिर्णय की स्थिति में हो, यहां तक कि आगे बढ़ने में भी हिचकिचाहट की स्थिति में हो, तो यह स्पष्ट है कि तुमने परमेश्वर के प्रकाशन और मार्गदर्शन को कभी भी वास्तव में महसूस ही नहीं किया है और यह भी कहा जा सकता है कि तुम्हें कभी भी परमेश्वर के वचनों का पोषण प्राप्त नहीं हुआ है। यदि तुम अभी तक परमेश्वर की परीक्षा से नहीं गुज़रे हो तो तुम यह नहीं जान पाओगे कि मनुष्य के अपराधों के प्रति परमेश्वर की असहिष्णुता क्या है और न ही यह समझ सकोगे कि आखिरकार परमेश्वर तुमसे चाहता क्या है, और इसकी समझ तो और भी कम होगी कि आखिरकार मनुष्य के प्रबंधन और उसके बचाव का उसका क्या कार्य है। इससे कुछ भी फ़र्क नही पड़ता कि एक व्यक्ति कितने वर्षों से परमेश्वर पर विश्वास कर रहा है, यदि उसने कभी भी उसके वचन का अनुभव या उसमें कुछ भी समझ हासिल नहीं की है, फिर निश्चित तौर पर वह उद्धार के मार्ग पर नहीं चल रहा है, और परमेश्वर पर उसका विश्वास किसी वास्तविक तत्व पर आधारित नहीं है, उसका परमेश्वर के प्रति ज्ञान भी शून्य है और परमेश्वर के प्रति श्रद्धा क्या होती है इसका उसे बिल्कुल भी अनुमान नहीं है।

— “वचन देह में प्रकट होता है” से उद्धृत

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" | अंश 71

परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" | अंश 71 सात बार के सत्तर गुने तक क्षमा करो (मत्ती...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" | अंश 120

परमेश्वर के दैनिक वचन | "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" | अंश 120 दीर्घ-और सूक्ष्म-दृष्टिकोण से परमेश्वर के अधिकार को समझना परमेश्वर...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" | अंश 62

परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" | अंश 62 आज हम सब से पहले परमेश्वर के विचारों,...