परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर उन्हें पूर्ण बनाता है, जो उसके हृदय के अनुसार हैं" | अंश 546

परमेश्वर में विश्वासी होने का अर्थ है कि तेरे सारे कृत्य उसके सम्मुख लाये जाने चाहिए और उन्हें उसकी छानबीन के अधीन किया जाना चाहिए। यदि तू जो कुछ भी करता है उसे परमेश्वर के आत्मा के सम्मुख ला सकते हैं लेकिन परमेश्वर की देह के सम्मुख नहीं ला सकते, तो यह दर्शाता है कि तूने अपने आपको उसके आत्मा की छानबीन के अधीन नहीं किया है। परमेश्वर का आत्मा कौन है? कौन है वो व्यक्ति जिसकी परमेश्वर द्वारा गवाही दी जाती है? क्या वे एक समान नहीं है? अधिकांश उसे दो अलग अस्तित्व के रूप में देखते हैं, ऐसा विश्वास करते हैं कि परमेश्वर का आत्मा केवल उसका है, और परमेश्वर जिसकी गवाही देता है वह व्यक्ति मात्र एक मानव है। लेकिन क्या तू गलत नहीं है? किसकी ओर से यह व्यक्ति काम करता है? जो लोग देहधारी परमेश्वर को नहीं जानते, उनके पास आध्यात्मिक समझ नहीं होती है। परमेश्वर का आत्मा और उसका देहधारी देह एक ही हैं, क्योंकि परमेश्वर का आत्मा देह रूप में प्रकट हुआ है। यदि यह व्यक्ति तेरे प्रति निर्दयी है, तो क्या परमेश्वर का आत्मा दयालु होगा? क्या तू भ्रमित नही है? आज, जो कोई भी परमेश्वर की छानबीन को स्वीकार नहीं कर सकता है, वह परमेश्वर की स्वीकृति नहीं पा सकता है, और जो देहधारी परमेश्वर को न जानता हो, उसे पूर्ण नहीं बनाया जा सकता। अपने सभी कामों को देख और समझ कि जो कुछ तू करता है वह परमेश्वर के सम्मुख लाया जा सकता है कि नहीं। यदि तू जो कुछ भी करता है, उसे तू परमेश्वर के सम्मुख नहीं ला सकता, तो यह दर्शाता है कि तू एक दुष्ट कर्म करने वाला है। क्या दुष्कर्मी को पूर्ण बनाया जा सकता है? तू जो कुछ भी करता है, हर कार्य, हर इरादा, और हर प्रतिक्रिया, अवश्य ही परमेश्वर के सम्मुख लाई जानी चाहिए। यहाँ तक कि, तेरे रोजाना का आध्यात्मिक जीवन भी—तेरी प्रार्थनाएँ, परमेश्वर के साथ तेरा सामीप्य, परमेश्वर के वचनों को खाने और पीने का तेरा ढंग, भाई-बहनों के साथ तेरी सहभागिता, कलीसिया के भीतर तेरा जीवन, और साझेदारी में तेरी सेवा—परमेश्वर के सम्मुख उसके द्वारा छानबीन के लिए लाई जानी चाहिए। यह ऐसा अभ्यास है, जो तुझे जीवन में विकास हासिल करने में मदद करेगा। परमेश्वर की छानबीन को स्वीकार करने की प्रक्रिया शुद्धिकरण की प्रक्रिया है। जितना तू परमेश्वर की छानबीन को स्वीकार करता है, उतना ही तू शुद्ध होता जाता है और उतना ही तू परमेश्वर की इच्छा के अनुसार होता है, जिससे तू व्यभिचार की ओर आकर्षित नहीं होगा और तेरा हृदय उसकी उपस्थिति में रहेगा; जितना तू उसकी छानबीन को ग्रहण करता है, शैतान उतना ही लज्जित होता है और उतना अधिक तू देहसुख को त्यागने में सक्षम होता है। इसलिए, परमेश्वर की छानबीन को ग्रहण करना अभ्यास का वो मार्ग है जिसका सभी को अनुसरण करना चाहिए। चाहे तू जो भी करे, यहाँ तक कि अपने भाई-बहनों के साथ सहभागिता करते हुए भी, यदि तू अपने कर्मों को परमेश्वर के सम्मुख ला सकता है और उसकी छानबीन को चाहता है और तेरा इरादा स्वयं परमेश्वर की आज्ञाकारिता का है, इस तरह जिसका तू अभ्यास करता है वह और भी सही हो जाएगा। केवल जब तू जो कुछ भी करता है, वो सब कुछ परमेश्वर के सम्मुख लाता है और परमेश्वर की छानबीन को स्वीकार करता है, तो वास्तव में तू ऐसा कोई हो सकता है जो परमेश्वर की उपस्थिति में रहता है।

— 'वचन देह में प्रकट होता है' से उद्धृत

तुम्हें अपने हर काम में परमेश्वर की निगरानी को स्वीकार करना चाहिए

डरते हैं अधिकतर लोग आज अपने कर्मों को लाने में परमेश्वर के सामने। धोखा दे सकता है तू उसकी देह को, मगर धोखा नहीं दे सकता तू उसके आत्मा को। परमेश्वर की जाँच को सह न सके जो, नहीं है सत्य के अनुरूप वो, इसलिये कर देना चाहिए दरकिनार उसको। वरना परमेश्वर के ख़िलाफ़ पाप है वो। चाहे तू बोले, प्रार्थना करे, भाई-बहनों से संगति करे, अपना फ़र्ज़ निभाए या मामले निपटाए, दिल अपना तू परमेश्वर को समर्पित कर दे। जब पूरा करता है तू काम अपना, तो साथ होता है परमेश्वर तेरे। गर तेरा इरादा सही है और परमेश्वर के काम के लिये है, तो स्वीकार कर लेगा वो सब काम तेरे। इसलिये कर ईमानदारी से काम अपने। हर काम, इरादा, प्रतिक्रिया तेरी, रोज़ाना का आत्मिक जीवन तेरा, परमेश्वर के वचनों को खाना-पीना तेरा, सब लाया जाना चाहिये सामने परमेश्वर के। कलीसिया का जीवन जिस तरह जीता है तू, साझेदारी में सेवा तेरी, सब लाया जाना चाहिये सामने, और परमेश्वर की जाँच के लिये, मदद मिलेगी परिपक्व बनने में इस अभ्यास से तुझे।

शुद्धिकरण की विधि है, स्वीकारना परमेश्वर की जाँच को। अधिक स्वीकारेगा, तू अधिक शुद्ध बनेगा, और परमेश्वर की इच्छा के अधिक अनुरूप बनेगा। बुलावा तू विलासिता का, आसक्ति का नहीं सुनेगा, और दिल तेरा उसकी हाज़िरी में रहेगा। दिल तेरा उसकी हाज़िरी में रहेगा। उसकी जाँच को तू जितना स्वीकारेगा, उतना ही ज़्यादा शैतान शर्मिंदा होगा, उतना ही ज़्यादा शरीर को तू त्याग सकेगा। इसलिये, स्वीकार ले परमेश्वर की जाँच को तू।

'मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ' से

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

परमेश्वर के दैनिक वचन | "उद्धारकर्त्ता पहले ही एक 'सफेद बादल' पर सवार होकर वापस आ चुका है" | अंश 45

जब अंत के दिनों के दौरान उद्धारकर्त्ता का आगमन होता है, यदि उसे तब भी यीशु कहकर पुकारा जाता, और उसने एक बार फिर से यहूदिया में जन्म लिया...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन : अध्याय 17 | अंश 226

मैं अपने कार्य को उसकी सम्पूर्णता में प्रकट करते हुए पृथ्वी पर अपने अधिकार का उपयोग करता हूँ। जो कुछ मेरे कार्य में है वह पृथ्वी की सतह पर...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "आरंभ में मसीह के कथन : अध्याय 1 | अंश 46

स्तुति सिय्योन तक आ गई है और परमेश्वर का निवास स्थान-प्रकट हो गया है। सभी लोगों द्वारा प्रशंसित, महिमामंडित पवित्र नाम फैल रहा है। आह,...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "आरंभ में मसीह के कथन : अध्याय 103 | अंश 96

एक ज़बरदस्त आवाज़ बाहर निकलती है, पूरे ब्रह्मांड को थरथरा देती है, लोगों के कान फोड़ देती है, उन्हें रास्ते से बच निकलने में बहुत देर हो...