परमेश्वर के दैनिक वचन | "अभ्यास (4)" | अंश 439

किसी की गवाही में अडिग रहने का क्या अर्थ है? कुछ लोग कहते हैं कि वे बस इस तरह से अनुसरण करते हैं और स्वयं को इस चिंता में नहीं डालते हैं कि क्या वे जीवन प्राप्त करने में सक्षम हैं; वे जीवन की खोज नहीं करते हैं, किन्तु वे पीछे भी नहीं पलटते हैं। वे केवल यह स्वीकार करते हैं कि कार्य का यह चरण परमेश्वर द्वारा किया जाता है। इस सब में, क्या वे अपनी गवाही में विफल नहीं हुए हैं? ऐसे लोग जीत लिए जाने की गवाही भी नहीं देते हैं। जिन लोगों पर विजय प्राप्त की जा चुकी है वे अन्य सभी की परवाह किए बिना अनुसरण करते हैं और जीवन की खोज करने में सक्षम होते हैं। वे न केवल व्यावहारिक परमेश्वर में विश्वास करते हैं, बल्कि परमेश्वर के सभी व्यवस्थापनों का पालन करना भी जानते हैं। ऐसे ही लोग गवाही देते हैं। जो लोग गवाही नहीं देते हैं उन्होंने कभी भी जीवन की खोज नहीं की है और अभी भी अस्पष्टता के साथ अनुसरण कर रहे हैं। तुम अनुसरण कर सकते हो, किन्तु इसका अर्थ यह नहीं है कि तुम पर विजय प्राप्त की जा चुकी है, क्योंकि तुम परमेश्वर के आज के कार्य के बारे में कुछ नहीं जानते हो। जीत लिया जाना सशर्त है। सभी अनुसरण करने वाले जीते नहीं गए हैं, क्योंकि अपने हृदय में तुम इस बारे में कुछ भी नहीं समझते हो कि क्यों तुम्हें आज के परमेश्वर का अनुसरण करना चाहिए, न ही तुम यह जानते हो कि तुम आज तक सफल कैसे रहे, किसने आज तक तुम्हारा समर्थन किया है। परमेश्वर में अपने विश्वास में, कुछ लोग पूरा दिन भ्रम में व्यय कर देते हैं; इस प्रकार, अनुसरण करने का आवश्यक रूप से यह अर्थ नहीं है कि तुम गवाही दे रहे हो। वास्तव में सच्ची गवाही क्या है? यहाँ कही गई गवाही के दो हिस्से हैं: एक जीत लिए जाने की गवाही है, और दूसरी पूर्ण बना दिए जाने की गवाही है (जो, स्वाभाविक रूप से, भविष्य की बड़ी परीक्षाओं और क्लेशों के बाद की गवाही है)। दूसरे शब्दों में, यदि तुम क्लेशों और परीक्षाओं के दौरान अडिग रहने में सक्षम हो, तो तुमने गवाही के दूसरे कदम को पेश किया है। आज जो महत्वपूर्ण है वह है गवाही का पहला कदम: ताड़ना और न्याय की परीक्षाओं की हर घटना के दौरान अडिग रहने में सक्षम होना। यह विजय प्राप्त कर लिए जाने की गवाही है। ऐसा इसलिए है क्योंकि आज विजय का समय है। (तुम्हें पता होना चाहिए कि आज पृथ्वी पर परमेश्वर के कार्य का समय है; पृथ्वी पर देहधारी परमेश्वर का मुख्य कार्य पृथ्वी पर उसका अनुसरण करने वाले लोगों के इस समूह को जीतने के लिए ताड़ना और न्याय का उपयोग करना है)। तुम जीत लिए जाने की गवाही देने में सक्षम हो या नहीं यह न केवल इस बात पर निर्भर करता है कि तुम बिल्कुल अंत तक अनुसरण कर सकते हो या नहीं, बल्कि, इससे भी महत्वपूर्ण रूप से, इस बात पर निर्भर करता है, कि, जब तुम परमेश्वर के कार्य के प्रत्येक चरण का अनुभव करते हो, तो तुम परमेश्वर के ताड़ना और न्याय के सच्चे ज्ञान में सक्षम होते हो या नहीं, और इस बात पर कि तुम इस समस्त कार्य को वास्तव में समझते हो या नहीं। यह ऐसा मामला नहीं है कि यदि तुम बिल्कुल अंत तक अनुसरण करोगे, तो तुम सफल होने में सक्षम हों जाओगे। तुम्हें ताड़ना और न्याय की हर घटना के दौरान स्वेच्छा से समर्पण करने में सक्षम अवश्य होना चाहिए, तुम जिस कार्य का अनुभव करते हो तुम्हें उसके प्रत्येक चरण के बारे में सच्चे ज्ञान में सक्षम अवश्य होना चाहिए, और परमेश्वर के स्वभाव का ज्ञान प्राप्त करने और आज्ञापालन करने में सक्षम अवश्य होना चाहिए। यह जीत लिए जाने की अंतिम गवाही है जो तुमसे अपेक्षित है। जीत लिए जाने की गवाही मुख्य रूप से परमेश्वर के देहधारण के बारे में तुम्हारे ज्ञान के संदर्भ में है। महत्त्वपूर्ण रूप से, गवाही का यह कदम परमेश्वर के देहधारण के लिए है। दुनिया के लोगों या सामर्थ्य का उपयोग करने वालों के सामने तुम क्या करते हो या कहते हो यह मायने नहीं रखता है; सर्वोपरि जो मायने रखता है वह यह है कि तुम परमेश्वर के मुँह के सभी वचनों और उसके सभी कार्यों का पालन करने में सक्षम हो या नहीं। इसलिए, गवाही का यह कदम शैतान और परमेश्वर के सभी दुश्मनों—राक्षसों और बैरियों पर निर्देशित है जो विश्वास नहीं करते हैं कि परमेश्वर दूसरी बार देह बनेंगे तथा और भी बड़े कार्य करने के लिए आएँगे, और इसके अतिरिक्त, परमेश्वर के देह में वापस आने के तथ्य पर विश्वास नहीं करते हैं। दूसरे शब्दों में, यह सभी ईसा मसीह के शत्रुओं—उन सभी दुश्मनों पर निर्देशित किया जाता है जो परमेश्वर के देहधारण में विश्वास नहीं करते हैं।

परमेश्वर की कमी महसूस करना और परमेश्वर के लिए तड़पना यह साबित नहीं करता है कि तुम परमेश्वर द्वारा जीते जा चुके हो; वह इस बात पर निर्भर करता है कि क्या तुम मानते हो कि वह वचन देह बन जाता है, कि क्या तुम मानते हो कि वचन देह बन गया है, और कि क्या तुम मानते हो कि पवित्रात्मा वचन बन गया है और वचन देह में प्रकट हुआ है। यही मूल गवाही है। यह मायने नहीं रखता है कि तुम किस तरह से अनुसरण करते हो, न ही तुम अपने आप को कैसे व्यय करते हो; महत्वपूर्ण यह है कि क्या तुम इस सामान्य मानवता से पता लगाने में सक्षम हो कि वचन देह बन गया है और सत्य का आत्मा देह में प्रत्यक्ष हुआ है—समस्त सत्य, मार्ग और जीवन देह में आ गया है, और परमेश्वर का आत्मा का वास्तव में पृथ्वी पर आगमन हो गया है और आत्मा देह में आ गया है। यद्यपि, सतही तौर पर, यह पवित्र आत्मा की सहायता से गर्भधारण से भिन्न प्रतीत होता है, किन्तु इस कार्य से तुम लोग और अधिक स्पष्टता से देखने में सक्षम होते हो कि पवित्रात्मा पहले से ही देह में प्रत्यक्ष हो गया है इसके अतिरिक्त, वचन देह बन गया है, और वचन देह में प्रकट हो गया है, और तुम इन वचनों के वास्तविक अर्थ को समझने में सक्षम हो: आदि में वचन था, और वचन परमेश्‍वर के साथ था, और वचन परमेश्‍वर था। इसके अलावा, तुम्हें यह भी अवश्य समझना चाहिए कि आज का वचन परमेश्वर है, और तुम्हें अवश्य देखना चाहिए कि वचन देह बनता है। यह सर्वोत्तम गवाही है जो तुम दे सकते हो। यह साबित करता है कि तुम देहधारी परमेश्वर के सच्चे ज्ञान से सम्पन्न हो—तुम न केवल उसे जानने में सक्षम हो, बल्कि यह भी जानते हो कि जिस मार्ग पर तुम आज चलते हो वही जीवन का मार्ग है, और सत्य का मार्ग है। यीशु ने कार्य का एक चरण किया, जिसने केवल "वचन परमेश्वर के साथ था" के सार पूरा किया, सत्य परमेश्वर के साथ था और परमेश्वर का आत्मा देह के साथ था और उससे अभिन्न था, अर्थात, देहधारी परमेश्वर का देह परमेश्वर के आत्मा के साथ था, जो कि एक अधिक बड़ा प्रमाण है कि देहधारी यीशु परमेश्वर का प्रथम देहधारण था। कार्य के इस चरण ने "वचन देह बनता है" के आंतरिक अर्थ को पूरा किया, "वचन परमेश्वर के साथ था, और वचन परमेश्वर था", को और गहन अर्थ प्रदान किया और तुम्हें इन वचनों पर दृढ़ता से विश्वास करने की अनुमति देता है, कि "आरंभ में वचन था"। कहने का अर्थ है, कि सृजन के समय परमेश्वर वचन से सम्पन्न था, उसके वचन उसके साथ थे और उससे अभिन्न थे, और अंतिम युग में, वह अपने वचनों की सामर्थ्य और उसके अधिकार को और भी अधिक स्पष्ट करता है, और मनुष्य को परमेश्वर के सभी तरीकों को देखने की—उसके सभी वचनों को सुनने की अनुमति देता है। ऐसा है अंतिम युग का कार्य। तुम्हें इन चीजों को हर पहलू से जान लेना चाहिए। यह देह को जानने का नहीं, बल्कि देह और वचन को जानने का प्रश्न है। यही वह गवाही है जो तुम्हें अवश्य देनी चाहिए, जिसका हर किसी को ज्ञान अवश्य होना चाहिए। क्योंकि यह दूसरे देहधारण का कार्य है—और आख़िरी बार जब परमेश्वर देह बनता है—यह उसके देहधारण के महत्व को पूर्णतः पूरा कर देता है, देह में परमेश्वर के समस्त कार्य को पूरी तरह से कार्यान्वित करता और प्रकट करता है, और परमेश्वर के देह में होने के युग का अंत करता है। इस प्रकार, तुम्हें देहधारण के अर्थ को अवश्य जानना चाहिए। यह मायने नहीं रखता है कि तुम इधर-उधर कितना दौड़ते हो, या क्या तुम अन्य बाहरी मामलों को कितनी अच्छी तरह से करते हो; जो मायने रखता है वह है कि क्या तुम वास्तव में देहधारी परमेश्वर के सामने झुकने में और अपना पूरा अस्तित्व परमेश्वर के प्रति अर्पित करने, और उसके मुँह से आने वाले सभी वचनों का पालन करने में सक्षम हो। यही वह है जो तुम्हें करना चाहिए, और जिसका तुम्हें पालन करना चाहिए।

गवाही का आखिरी चरण इस बात की गवाही है कि क्या तुम पूर्ण बनाए जाने में सक्षम हो या नहीं—जिसका अर्थ है कि अंतिम गवाही यह है कि, देहधारी परमेश्वर के मुँह से बोले गए सभी वचनों को समझ करके, तुमने परमेश्वर के ज्ञान को पाया और उसके बारे में निश्चित हो गये, तुम परमेश्वर के मुँह के सभी वचनों को जीते हो और उन शर्तों को प्राप्त करते हो जो परमेश्वर तुमसे माँगता है—पतरस की शैली और अय्यूब की आस्था—इस तरह से कि तुम मृत्यु तक पालन कर सको, अपने आप को पूरी तरह से उसे सौंप दो, और अंत में मनुष्य की एक छवि प्राप्त करो जो मानक के स्तर का हो, जिसका अर्थ है कि किसी ऐसे व्यक्ति की छवि जिसे परमेश्वर की ताड़ना और न्याय का अनुभव करने के बाद, जीता, और पूर्ण बनाया जा चुका हो। यही वो गवाही है जिसे किसी ऐसे व्यक्ति के द्वारा दी जानी चाहिए जिसे अंतत: पूर्ण बना दिया गया है। ये गवाही के दो कदम हैं जो तुम लोगों को उठाने चाहिए और ये परस्पर संबंधित हैं, प्रत्येक अपरिहार्य है। किन्तु एक बात तुम्हें अवश्य जाननी चाहिए: आज जिस गवाही की मैं तुमसे अपेक्षा करता हूँ वह न तो दुनिया के लोगों पर, न ही किसी एक व्यक्ति पर निर्देशित है बल्कि उस पर है जो मैं तुमसे मांगता हूँ। यह इस बात के द्वारा मापी जाती है कि क्या तुम मुझे संतुष्ट करने में सक्षम हो या नहीं, और क्या तुम मेरी उन अपेक्षाओं के मानकों को पूर्णतः पूरा करने में समर्थ हो जो मैं तुम लोगों में से प्रत्येक से करता हूँ। यही वह है जिसे तुम लोगों को समझना चाहिए।

— 'वचन देह में प्रकट होता है' से उद्धृत

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

परमेश्वर के दैनिक वचन | "उपाधियों और पहचान के सम्बन्ध में" | अंश 163

यशायाह, यहेजकेल, मूसा, दाऊद, इब्राहीम एवं दानिय्येल इस्राएल के चुने हुए लोगों के मध्य अगुवे या भविष्यवक्ता थे। उन्हें परमेश्वर क्यों नहीं...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "प्रार्थना की क्रिया के विषय में" | अंश 417

किस प्रकार कोई सच्ची प्रार्थना में प्रवेश करता है? प्रार्थना करते हुए तुम्हारा हृदय परमेश्वर के समक्ष शांतिपूर्ण होना चाहिए, और यह...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "केवल पूर्ण बनाया गया ही एक सार्थक जीवन जी सकता है" | अंश 213

विजय प्राप्त करने का मुख्य लक्ष्य मानवता को शुद्ध करना है ताकि मनुष्य सत्य को धारण कर सके, क्योंकि मनुष्य अभी बहुत ही थोड़ा सा सत्य धारण...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की अधिक आवश्यकता है" | अंश 125

परमेश्वर के कार्य का प्रत्येक चरण सारी मानवजाति के वास्ते है, और समूची मानवजाति की ओर निर्देशित है। यद्यपि यह देह में उसका कार्य है, फिर भी...