परमेश्वर के दैनिक वचन | "आरंभ में मसीह के कथन : अध्याय 30" | अंश 387

जागो, भाइयो! जागो, बहनो! मेरे दिन में विलंब नहीं किया जाएगा; समय जीवन है, और समय को कब्जे में लेना जीवन बचाना है! समय बहुत दूर नहीं है! यदि तुम लोग विद्यालय में प्रवेश के लिए परीक्षा देते हो और उत्तीर्ण नहीं होते हो, तो तुम लोग फिर से कोशिश कर सकते हो और परीक्षा के लिए याद कर सकते हो। हालाँकि, मेरे दिन में ऐसा कोई विलंब नहीं होगा। याद रखो! याद रखो! मैं इन अच्छे वचनों के साथ आग्रह करता हूँ। दुनिया का अंत तुम लोगों की नज़रों के बिल्कुल सामने प्रकट होता है, बड़ी आपदाएँ तेजी से निकट आती हैं; क्या तुम लोगों का जीवन महत्वपूर्ण है या तुम लोगों का सोना, खाना, पीना, और कपड़े पहनना महत्वपूर्ण है? इन चीज़ों को समझने का तुम लोगों का समय आ गया है। अब और संदेह में मत रहो और निश्चित होने में संकोच मत करो!

मानवजाति कितनी दयनीय! कितनी अभागी! कितनी अंधी! कितनी क्रूर है! तुम लोग वास्तव में मेरे वचनों को अनसुना करते हो—क्या मैं व्यर्थ में तुम लोगों से बात कर रहा हूँ? तुम लोग अभी भी बहुत बेपरवाह हो, क्यों? ऐसा क्यों है? क्या तुम लोगों ने इस बारे में पहले कभी नहीं सोचा है? मैं इन बातों को किनके लिए कहता हूँ? मुझ पर विश्वास करो! मैं तुम लोगों का उद्धारकर्ता हूँ! मैं तुम लोगों का एकमात्र सर्वशक्तिमान हूँ! नज़र रखो! नज़र रखो! गँवाया हुआ समय फिर कभी नहीं आएगा, यह याद रखो! धरती पर कहीं भी ऐसी जगह नहीं है जहाँ तुम लोग उस दवा को खरीद सको जो पछतावे को शांत करेगी! तो मैं तुम लोगों से यह कैसे कहूँ? क्या मेरा वचन तुम लोगों द्वारा सावधानीपूर्वक सोच-विचार और बार-बार मनन किए जाने योग्य नहीं है? तुम लोग मेरे वचनों के मामले में बहुत लापरवाह हो और अपने जीवन के मामले में बहुत गैर-ज़िम्मेदार हो; मैं इसे कैसे सहन कर सकता हूँ? मैं कैसे सह सकता हूँ?

क्यों, इस पूरे समय में, तुम लोगों के बीच एक उचित कलीसिया जीवन उत्पन्न होने में असमर्थ रहा है? ऐसा इसलिए है क्योंकि तुम लोगों में विश्वास की कमी है, तुम लोग कीमत चुकाने के इच्छुक नहीं हो, तुम लोग अपने आप को अर्पित करने के इच्छुक नहीं हो, और मेरे सामने अपने आप को व्यय करने के इच्छुक नहीं हो। जागो, मेरे पुत्रो! मुझ पर विश्वास करो, मेरे पुत्रो! मेरे प्यारो, मेरे हृदय में जो है उस पर तुम लोग विचार करने में असमर्थ क्यों हो?

— ‘वचन देह में प्रकट होता है’ से उद्धृत

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

"भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की अधिक आवश्यकता है" | अंश 124

परमेश्वर के दैनिक वचन | "भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की अधिक आवश्यकता है" | अंश 124 कोई भी मनुष्य की देह की...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर से प्रेम करने वाले लोग हमेशा के लिए उसके प्रकाश में रहेंगे" | अंश 501

जितना अधिक तुम सत्य को अभ्यास में लाओगे, उतना ही अधिक तुम सत्य को धारण किए रहोगे; जितना अधिक सत्य का अभ्यास करोगे, उतना ही अधिक परमेश्वर...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "क्या तुम परमेश्वर के एक सच्चे विश्वासी हो?" | अंश 324

तुम सभी को परमेश्वर पर विश्वास करने का सही अर्थ पता होना चाहिए। परमेश्वर पर विश्वास करने का अर्थ जो मैंने पहले बताया है वह तुम्हारे...