परमेश्वर के दैनिक वचन | "केवल अंतिम दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनंत जीवन का मार्ग दे सकता है" | अंश 255

यदि तुम वास्तव में अनन्त जीवन के मार्ग को प्राप्त करने की इच्छा रखते हो, और यदि तुम इसको खोजने के लिए भूखे हो, तो पहले इस प्रश्न का उत्तर दो: आज परमेश्वर कहां है? हो सकता है कि तुम कहो कि परमेश्वर स्वर्ग में रहता है, बिल्कुल—वह तुम्हारे घर में तो रहेगा नहीं, हो सकता है कि तुम कहो कि परमेश्वर हर चीज़ में बसता है। या तुम कह सकते हो कि परमेश्वर प्रत्येक व्यक्ति के हृदय में रहता है, या वह आत्मिक संसार में है। मैं इनमें से किसी से भी इन्कार नहीं करता हूं, परन्तु मैं इस मामले को स्पष्ट करना चाहता हूं। ऐसा कहना पूरी तरह से उचित नहीं होगा कि परमेश्वर मनुष्यों के हृदयों में रहता है, परन्तु न ही यह पूरी तरह से गलत है। इसका कारण यह है कि परमेश्वर में विश्वासियों के मध्य, कुछ लोग ऐसे हैं जिनका विश्वास सत्य है और कुछ ऐसे हैं जिनका विश्वास गलत है, कुछ ऐसे हैं जिन्हें परमेश्वर का अनुमोदन प्राप्त है और कुछ ऐसे हैं जिन्हें परमेश्वर का अनुमोदन प्राप्त नहीं है। कुछ ऐसे हैं जो उसको प्रसन्न करते हैं कुछ ऐसे हैं जो उससे घृणा करते हैं, और कुछ ऐसे हैं जिन्हें वह पूर्ण बनाता है और कुछ ऐसे हैं जिन्हें वह मिटा देता है। इसलिए मैं कहना चाहूंगा कि परमेश्वर रहता है परन्तु कुछ ही लोगों के हृदयों में रहता है, और ये कुछ लोग निस्संदेह सच्चाई से परमेश्वर पर विश्वास करते हैं, वे जिन्हें परमेश्वर अनुमोदन प्रदान करता है, जिनसे वह प्रसन्न है और जिन्हें वह पूर्ण बनाता है। ये वे लोग हैं जो परमेश्वर के द्वारा अगुवाई प्राप्त करते हैं। चूंकि ये परमेश्वर के द्वारा अगुवाई प्राप्त करते हैं, इसलिए इन लोगों ने पहले से ही परमेश्वर के अनन्त जीवन के मार्ग के बारे में सुन लिया है और उस मार्ग को देख लिया है। जो परमेश्वर पर विश्वास करते हैं कि वह गलत है, वे परमेश्वर के द्वारा अनुमति प्राप्त किए हुए नहीं हैं, वे परमेश्वर के द्वारा तुच्छ जाने जाते हैं, वे परमेश्वर के द्वारा मिटा दिए जाते हैं—वे परमेश्वर के द्वारा अस्वीकार किए जाने के लिए बाध्य हैं, और बिना जीवन के मार्ग के रहने के लिए भी बाध्य हैं, और परमेश्वर के रहने के स्थान से भी अनभिज्ञ हैं। इसके विपरीत, जिनके हृदयों में परमेश्वर रहता है वे जानते हैं कि वह कहां रहता है। ये ही वे लोग हैं जिन्हें परमेश्वर ने जीवन का मार्ग प्रदान किया है, और ये ही परमेश्वर का अनुसरण करते हैं। अब, क्या तुम जानते हो कि परमेश्वर कहां है? परमेश्वर मनुष्यों के हृदय में और मनुष्यों के पक्ष में रहता है। वह न केवल आत्मिक संसार में है, और सभी चीज़ों के ऊपर है, बल्कि उस पृथ्वी पर भी उसका वास है जहां मनुष्य का अस्तित्व है। अत: अंत के दिनों के आगमन ने परमेश्वर के कार्य के चरणों को नये प्रदेश में अग्रसर किया है। परमेश्वर ब्रह्म़ाण्ड की सभी चीज़ों पर प्रभुता रखता है, और वह मनुष्यों के हृदयों का मुख्य आधार है, और इसके अलावा, वह मनुष्यों के मध्य में रहता है। केवल इसी तरह से वह मानवजाति में जीवन का मार्ग ला सकता है और मनुष्य को जीवन के मार्ग में लेकर आता है, परमेश्वर धरती पर आकर मनुष्यों के बीच इसलिये रहता है ताकि मनुष्य जीवन का मार्ग प्राप्त कर सके और मनुष्य का अस्तित्व बना रह सके। इसी के साथ-साथ, परमेश्वर ब्रह्माण्ड की सभी चीज़ों पर अधिकार रखता है, ताकि वे मनुष्यों के मध्य में उसके प्रबंधकारणीय कार्य में सहयोग प्रदान करें। इसलिए, यदि तुम केवल इस सिद्धांत को मानते हो कि परमेश्वर स्वर्ग में है और मनुष्यों के हृदय में है, लेकिन मनुष्यों के मध्य परमेश्वर के अस्तित्व के सत्य को नहीं मानते, तो तुम कभी भी जीवन को प्राप्त नहीं कर सकते, और सत्य का मार्ग कभी भी प्राप्त नहीं करोगे।

परमेश्वर स्वयं ही जीवन है, सत्य है, और उसका जीवन और सत्य साथ ही साथ रहते हैं। जो सत्य को प्राप्त करने में असफल रहते हैं वे कभी भी जीवन को प्राप्त नहीं कर सकते। बिना मार्गदर्शन, सहायता और सत्य के प्रावधान के तुम केवल संदेश, सिद्धांत और मृत्यु को ही प्राप्त करोगे। परमेश्वर का जीवन सतत विद्यमान है, और उसका सत्य और जीवन एक साथ उपस्थित रहते हैं। यदि तुम सत्य के स्रोत को नहीं प्राप्त कर पाते, तो तुम जीवन के पोषण को प्राप्त नहीं कर पाओगे; यदि तुम जीवन के प्रावधान को प्राप्त नहीं कर सकते तो तुम्हारे जीवन में निश्चय ही सत्य नहीं होगा, और इसलिए कल्पनाओं और धारणाओं से दूरी होगी, तुम्हारी सम्पूर्ण देह केवल देह होगी, तुम्हारी घिनौनी देह। ध्यान रखो कि किताबों की बातें जीवन के तौर पर नहीं गिनी जाती हैं, इतिहास के लेखों को सत्य के रूप में चित्रित नहीं किया जा सकता, और अतीत के सिद्धांत आज के समय में परमेश्वर के द्वारा कहे गए वचनों का लेखा-जोखा नहीं माने जा सकते। केवल वही बात जो परमेश्वर ने पृथ्वी पर आकर और लोगों के बीच रहकर कही है, सत्य, जीवन, परमेश्वर की इच्छा है और कार्य करने का असली तरीका है। यदि तुम अतीत के युगों में परमेश्वर के द्वारा कहे गए वचनों को आज के संदर्भ में लागू करते हो, और अगर तुम अतीत के युगों में परमेश्वर द्वारा कहे गए वचनों को आज लागू करते हो, तो तुम एक पुरातत्ववेत्ता हो, और तुम्हें सबसे बेहतर ढंग से चित्रित करने के लिए ऐतिहासिक विरासत का विशेषज्ञ कहा जा सकता है। क्योंकि तुम हमेशा उन कार्यों के सुरागों के बारे में विश्वास करते हो जो परमेश्वर ने अतीत में किए हैं, केवल उन पदचिन्हों पर विश्वास करते हो जो तब के हैं जब परमेश्वर लोगों के बीच रह कर कार्य किया करता था। और तुम केवल उसी मार्ग पर विश्वास करते हो जो परमेश्वर ने पुराने समय में अपने अनुयायियों को दिया था। आज के समय में तुम परमेश्वर के कार्य के मार्गदर्शन के बारे में विश्वास नहीं करते, महिमामय मुखाकृति में विश्वास नहीं करते, और परमेश्वर के द्वारा आज के समय में व्यक्त किये गये सत्य के मार्ग पर विश्वास नहीं करते। अत: तुम एक ऐसे दिवास्वप्न दर्शी हो जो सच्चाई से कोसों दूर है। यदि तुम अभी भी उन वचनों से चिपके रहोगे जो जीवन प्रदान करने में असमर्थ हैं, तो तुम आशाहीन और एक निर्जीव काष्ठ के समान हो। क्योंकि तुम बहुत ही रूढ़िवादी, असभ्य हो जो चीजों को तर्क की कसौटी पर नहीं कसते हो।

— 'वचन देह में प्रकट होता है' से उद्धृत

परमेश्वर स्वयं ही सत्य और जीवन है

परमेश्वर ख़ुद जीवन और सच्चाई है, उसका जीवन और सच आपस में गुंथे हुए हैं। जिसने उसका सच ना पाया, जीवन ना पाया। बिन उसकी रहनुमाई के, बिन उसकी सच्चाई के, बस ख़त है, मत है और मानव के पास उसकी मौत है। प्रभु का जीवन और सच्चाई गुंथे हुए हैं, मौजूद सदा। नहीं मिलेगा जीवन-पोषण, गर सच्चाई का स्रोत तुम्हें मालूम नहीं। अंत के दिनों का मसीह जीवन लाता है, जो सदा रहे वो सच लाता है। जीवन पाना गर इंसां को, जीवन पाना गर इंसां को, सच के इस पथ पर चलना होगा। इसी राह पर जाने मानव प्रभु को और पाए अनुमोदन उसका।

गर भूल गये जीवन-पथ को, जो अंत समय लाया मसीह, तो समझो तुमने त्याग दिया, यीशु का वो अनुमोदन भी, और दूर कर दिया तुमने ख़ुद को जन्नत से। बन बैठे तारीख़ों के कैदी और कठपुतली तुम। गर नहीं पाओगे तुम जीवन-विधान, तो नहीं ग्रहण कर पाओगे सच्चाई को। तुम तो हो केवल विगलित तन, बस खोखले विचार और व्यर्थ के ख्याल। अंत के दिनों का मसीह जीवन लाता है, जो सदा रहे वो सच लाता है। जीवन पाना गर इंसां को, जीवन पाना गर इंसां को, सच के इस पथ पर चलना होगा। इसी राह पर जाने मानव प्रभु को और पाए अनुमोदन उसका।

किताबों के अल्फ़ाज़ कोई जीवन नहीं, इतिहास के अभिलेख सच्चाई नहीं, पुराने रास्तों की दास्तां भी वो नहीं जो आज कहता है परमेश्वर। धरती पर और इंसानों के बीच है जो परमेश्वर, सच्च्चाई का इज़हार बस वो ही करता है। करता है इज़हार वो मरज़ी प्रभु की, और उसके काम का अंदाज़, काम का अंदाज़।

तारीख़ों की बेड़ियों में जो बंधे हैं, जो घिरे सिद्धांतों से, नियमों में कैद हैं जो, पा नहीं सकते वो जीवन या कि उस पथ को जहां है अनंत जीवन। बस कई हजारों साल का इतिहास उनके पास सिद्धांत है, ठहरे हुए पानी की तरह, ये प्रभु के तख़्त से आया जीवन का पानी नहीं है। जो न पियेंगे ये पानी, होंगे ज़िंदा लाश वो ताउम्र, और रहेंगे नर्क में, शैतान की करते ग़ुलामी। अंत के दिनों का मसीह जीवन लाता है, जो सदा रहे वो सच में लाता है। जीवन पाना गर इंसां को, जीवन पाना गर इंसां को, सच के इस पथ पर चलना होगा। इसी राह पर जाने मानव प्रभु को और पाए अनुमोदन उसका। है मसीह अंतिम दिनों का अनंत जीवन लेके आया।

'मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ' से

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें