परमेश्वर के दैनिक वचन | "सात गर्जनाएँ—भविष्यवाणी करती हैं कि राज्य के सुसमाचार पूरे ब्रह्माण्ड में फैल जाएंगे" | अंश 69

किसी को यह विश्वास नहीं है कि वे मेरे महिमा के दर्शन कर पाएंगे, और मैं उन्हें विवश नहीं करता, बल्कि लोगों के बीच से अपनी महिमा को हटा लेता हूं और उसे एक दूसरी दुनिया में ले जाता हूं। जब इंसान एक बार फिर पश्चाताप करता है तो मैं और भी अधिक, आस्थावान लोगों को अपनी महिमा दिखाता हूं। मैं इसी सिद्धांत से काम करता हूं। क्योंकि एक समय ऐसा आता है जब मेरी महिमा कनान छोड़ देती है, और ऐसा भी समय आता है जब मेरी महिमा चुने हुए लोगों को छोड़ देती है। इसके अलावा, ऐसा समय भी आता है जब मेरी महिमा पूर्ण धरती को छोड़ देती है, और तब यह प्रकाश-विहीन होकर अंधकार में विलीन हो जाती है। कनान की धरती को भी प्रकाश नसीब नहीं होगा; सबका विश्वास समाप्त हो जाएगा, लेकिन कोई भी कनान की धरती की सुगंध को छोड़ना सह नहीं पाएगा। केवल तभी जब मैं नव-स्वर्ग और पृथ्वी में प्रवेश करूंगा, मैं सबसे पहले कनान की धरती पर अपनी महिमा का दूसरा भाग प्रकाशित करूंगा, जिससे गहन अंधकार की रात्रि में डूबी पृथ्वी पर प्रकाश की एक हल्की-सी झलक दिखाई देगी, जिसकी वजह से पूरी धरती प्रकाशमान हो जाएगी। सारी धरती पर लोग रोशनी की ऊर्जा से शक्ति ग्रहण करेंगे और इससे मेरी महिमा बढ़ेगी और समस्त राष्ट्रों को नई तरह से दिखाई देगी। इससे मानवजाति को अहसास हो जाए कि मैं बहुत पहले ही इंसानी दुनिया में आ चुका हूं और बहुत पहले ही अपनी महिमा को इस्राएल से पूर्व में ले आया हूं; चूँकि मेरी महिमा पूर्व से चमकती है, जहां इसे अनुग्रह के युग से लेकर आज तक लाया गया है। लेकिन मैं इस्राएल को अलविदा कहकर पूर्व में आया। केवल जब पूर्व की रोशनी धीरे-धीरे श्वेत रूप में परिवर्तित होगी तभी पूरी पृथ्वी पर अंधकार रोशनी में बदलने लगेगा, और केवल तभी लोगों को पता चलेगा कि मैं बहुत पहले इस्राएल से जा चुका हूं और एक नए रूप में पूर्व में उभर रहा हूं। एक बार इस्राएल में अवतरित होकर और फिर उसे छोड़कर, मैं फिर से इस्राएल में जन्म नहीं ले सकता, क्योंकि मेरा कार्य पूरे विश्व के लिए है, और इसके अलावा, रोशनी सीधे पूर्व से पश्चिम की ओर चमकती है। इसी वजह से मैं पूर्व में अवतरित हुआ हूं और कनान को पूर्व के लोगों के पास लाया हूं। मेरी इच्छा है कि मैं पूरी दुनिया से लोगों को कनान की धरती पर लेकर आऊं, अत: मैं पूरे विश्व को नियंत्रित करने के लिए कनान में कथन जारी करता रहता हूं। इस समय, कनान को छोड़कर, पूरी धरती पर रोशनी नहीं है, और सभी लोग भूख और शीत से संकट में हैं। मैंने अपनी महिमा इस्राएल को दी और फिर वापस ले ली, और फिर इस्राएलियों को, और सम्पूर्ण मानवता को पूर्व में ले आया। मैं उन सभी को रोशनी में ले आया ताकि वे फिर से एक हो सकें, और इसकी संगति में रह सकें, तथा उन्हें और खोज न करनी पड़े। मैं उन सभी को फिर से रोशनी देखने दूंगा जिन्हें इसकी तलाश है और अपनी वह महिमा देखने दूंगा जो इस्राएल में थी; मैं उन्हें देखने दूंगा कि मैं बहुत पहले सफेद बादलों पर सवार होकर लोगों के बीच आ गया हूं, अनगिनत सफेद बादल और पर्याप्त मात्रा में फलों के गुच्छे, और तो और, इस्राएल के यहोवा परमेश्वर को भी देखने दूंगा। मैं उन्हें यहूदियों के मालिक, चिर-इच्छित मसीह, और अपना पूर्ण प्रकटन देखने दूंगा, जिसे शासक पूरे युगों के दौरान सताते रहे हैं। मैं पूरे विश्व पर कार्य करूंगा, मैं महान कार्य करूंगा और अंत के दिनों में लोगों को अपनी सारी महिमा और सारे कर्म दिखाऊंगा। जिन्होंने बरसों मेरी प्रतीक्षा की है, जिन्होंने मेरे सफेद बादलों पर सवार होकर आने की इच्छा की है, इस्राएल को, जिसने फिर से मेरे प्रकट होने की कामना की है, और उस सारी मानवता को, जिसने मुझे सताया है, उन्हें मैं समग्र पूर्णता में अपनी महिमामयी मुखाकृति दिखाऊंगा, ताकि उन सभी को पता चल सके कि मैं बहुत पहले ही पूर्व में अपनी महिमा ले आया हूं, और यह अब यहूदिया में नहीं है। क्योंकि अंत के दिन पहले ही आ चुके हैं!

पूर्ण ब्रह्माण्ड में मैं अपना कार्य कर रहा हूं, और पूर्व में गर्जना करते हुए धमाके निरंतर होते हैं और सभी सम्प्रदायों और पंथों को हिला देते हैं। मेरी वाणी ने सभी लोगों को वर्तमान में लाने में अगुवाई की है। मैं अपनी वाणी से सभी लोगों को जीत लूंगा, ताकि वे इस धारा में आएं, मेरे सामने नतमस्तक हों, क्योंकि मैंने बहुत पहले अपनी महिमा सारी धरती से वापस ले ली है और इसे नए रूप में पूर्व में जारी कर दिया है। ऐसा कौन है जो मेरी महिमा नहीं देखना चाहता? कौन है जिसे उत्सुकता से मेरी वापसी की प्रतीक्षा नहीं है? कौन है जिसे मेरे पुन: प्रकटन की प्यास नहीं है? कौन है जिसे मेरी मनोरमता की अभिलाषा नहीं है? कौन है जो रोशनी में नहीं आना चाहेगा? कौन है जो कनान की समृद्धि नहीं देखना चाहेगा? कौन है जो उद्धारक के लौटने की इच्छा नहीं रखता? कौन है जो महान सर्वशक्तिमान की आराधना नहीं करता? मेरी वाणी समस्त धरती पर फैल जाएगी; मैं चाहता हूं कि मैं अपने पसंदीदा लोगों के सामने अपने अधिक वचन व्यक्त करूं। भयंकर गर्जना की तरह जो पर्वतों और नदियों को हिलाकर रख देती है, मैं अपने वचन पूर्ण ब्रह्माण्ड और मानवता के सामने बोलता हूँ। अत: मेरे मुख के वचन इंसान के लिए खज़ाना बन गए हैं, और सभी लोग मेरे वचनों को संजोकर रखते हैं। बिजली पूर्व से लेकर पश्चिम तक चमकती है। मेरे वचन ऐसे हैं कि इंसान इन्हें त्यागना नहीं चाहता और साथ ही उन्हें कल्पना से परे पाता है, लेकिन उसमें भरपूर आनंद लेता है। किसी नवजात शिशु की तरह, लोग मेरे आगमन की खुशियां और आनंद मना रहे हैं। अपनी वाणी के ज़रिए मैं सभी लोगों को अपने सामने लाऊंगा। उसके बाद, मैं औपचारिक रूप से इंसानी नस्ल में प्रवेश करूंगा ताकि वे आकर मेरी आराधना करें। उस महिमा के साथ जो मुझसे प्रसारित होती है और उन वचनों के साथ जो मेरे मुख में हैं, मैं इसे ऐसा बनाऊंगा कि सभी लोग मेरे सामने आएं और देखें कि बिजली पूर्व से चमकती है और मैं पूर्व के “जैतून के पर्वत” पर्यंत अवतरित हो चुका हूं। वे देखेंगे कि मैं बहुत पहले से ही इस धरती पर हूं, यहूदियों का पुत्र होकर नहीं बल्कि पूर्व की बिजली होकर क्योंकि मैं बहुत पहले ही पुनर्जीवित हो चुका हूं, और लोगों के बीच से जा चुका हूं, और लोगों के बीच पुन: अपनी महिमा के साथ प्रकट हुआ हूं। मैं वो हूं जिसे अनंत युगों पहले पूजा जाता था, और मैं वो शिशु भी हूं जिसे अनंत युगों पहले इस्राएलियों द्वारा त्याग दिया गया था। इसके अलावा, मैं आज के युग का सर्व-महिमामय सर्वशक्तिमान परमेश्वर हूं! सभी मेरे सिंहासन के समक्ष आओ और मेरी महिमामयी मुखाकृति का अवलोकन करो, मेरी वाणी सुनो, और मेरे कर्मों को देखो। यही मेरी इच्छा की समग्रता है; यही मेरी योजना का अंत और चरम है, तथा मेरे प्रबंधन का प्रयोजन है। सभी देश मेरी आराधना करें, सभी जिह्वा मुझे स्वीकृति दें, हर व्यक्ति मुझमें निष्ठा रखे, और प्रत्येक व्यक्ति मेरी प्रजा बने!

— ‘वचन देह में प्रकट होता है’ से उद्धृत

पूरब की ओर लाया है परमेश्वर अपनी महिमा (II)

इस्राएल को दी अपनी महिमा परमेश्वर ने, फिर हटा ली महिमा उसने वहां से, ले आया इस्राएलियों को, सभी इंसानों को पूरब में। परमेश्वर ले आया है उन्हें रोशनी की ओर ताकि वे फिर एक हो सकें, जुड़ सकें रोशनी से, न करनी पड़े तलाश रोशनी की। जिन्हें है तलाश, वो फिर से देख सकेंगे रोशनी परमेश्वर की कृपा से, और उसकी महिमा जो थी कभी इस्राएल में, देखो परमेश्वर आया है होकर सवार सफ़ेद बादलों पर इंसानों के बीच, देखो सफ़ेद बादल, देखो फल-कुंज, देखो इस्राएल का यहोवा परमेश्वर, देखो यहूदियों का मालिक, देखो मसीहा जिसकी हसरत थी, देखो उसका पूर्ण प्रकटन युगों तक जिसे सताया शासकों ने, देखो यहूदियों का मालिक, देखो मसीहा जिसकी हसरत थी, देखो उसका पूर्ण प्रकटन युगों तक जिसे सताया शासकों ने। काम परमेश्वर पूरे जगत का करेगा, और काम वो महान करेगा, दिखाएगा अपनी सारी महिमा, सारे कर्म इंसान को, अंत के दिनों में। परमेश्वर दिखाएगा अपनी महिमा का पूरा रूप उन्हें, जिन्होंने इंतज़ार किया है उसका बरसों-बरस, जिन्होंने ख़्वाहिश की है आएगा वो होकर बादलों पर सवार, इस्राएल को जिसने हसरत की है वो आए फिर एक बार, उन तमाम इंसानों को जो सताते हैं परमेश्वर को। तो जान जाएंगे सभी, बहुत पहले हटा ली है परमेश्वर ने महिमा अपनी, और ले आया है इसे पूरब में। ये यहूदिया में नहीं है, चूँकि अंत के दिनों का आगमन हो चुका है।

‘मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ’ से उद्धृत

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

परमेश्वर के दैनिक वचन | "जो परमेश्वर से सचमुच प्यार करते हैं, वे वो लोग हैं जो परमेश्वर की व्यावहारिकता के प्रति पूर्णतः समर्पित हो सकते हैं" | अंश 491

परमेश्वर के देह में होने के दौरान, जिस आज्ञाकारिता की वह लोगों से अपेक्षा करता है वह वह नहीं होती है जो लोग कल्पना करते हैं—आलोचना या...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "मनुष्य के सामान्य जीवन को पुनःस्थापित करना और उसे एक अद्भुत मंज़िल पर ले जाना" | अंश 128

परमेश्वर मनुष्य के मध्य इस कार्य को करने के लिए, मनुष्य पर स्वयं को व्यक्तिगत तौर पर प्रकट करने के लिए, और उसे देखने हेतु मनुष्य को अनुमति...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "मनुष्य के सामान्य जीवन को पुनःस्थापित करना और उसे एक अद्भुत मंज़िल पर ले जाना" | अंश 2

6,000 वर्षों के परमेश्वर के प्रबधंन के कार्य को तीन चरणों में बांटा गया है: व्यवस्था का युग, अनुग्रह का युग, और राज्य का युग। इन तीन चरणों...