Hindi Christian Testimony Video | खुशामदी इंसान होने के नतीजे | True Story of a Christian

20 जनवरी, 2022

मुख्य किरदार एक कलीसिया अगुआ है जो इन शैतानी फलसफों के अनुसार जीता है, जैसे कि "सामंजस्य एक निधि है; धीरज एक गुण है" और "अच्छे दोस्तों की गलतियों पर खामोश रहने से दोस्ती अच्छी और लंबी होती है"। इसके परिणाम स्वरूप, जब वह देखता है कि सिंचन कार्य के उपयाजक, भाई लियु का अपने कर्तव्य के प्रति लापरवाह रवैया है, तो वह उनकी समस्या को उजागर करके उसका विश्लेषण करने के लिए सत्य पर संगति साझा करने की हिम्मत नहीं जुटा पाता है। जब वह देखता है कि उसके साथ काम करने वाले दो भाई हमेशा एक दूसरे से लड़ते रहते हैं, जिससे उनके कार्य की प्रगति में रुकावट आती है, तो वह इस डर से कुछ नहीं कह पाता कि कहीं वे नाराज़ न हो जाएं और दूसरे भाई-बहनों के मन में बनी उसकी छवि खराब न हो जाये। इसका असर कलीसिया के काम के साथ-साथ उनके कलीसिया जीवन पर भी पड़ता है। सच्चाई का सामना होने पर, मुख्य किरदार को यह बात साफ तौर पर समझ आ जाती है कि खुशामदी इंसान बनने का मतलब है कलीसिया के काम में रुकावट डालना और उसे कमज़ोर करना। उसे पता चलता है कि वह शैतान के सेवक के रूप में काम कर रहा है। खुद के प्रति नफ़रत और पछतावे से भरकर, वह परमेश्वर से प्रार्थना करके पश्चाताप करता है, सत्य का अभ्यास करता है और खुद को बदल पाता है।

और देखें

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

साझा करें

रद्द करें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें