Hindi Christian Testimony Video | कलीसिया का अगुआ कोई अधिकारी नहीं होता | True Story of a Christian

29 जनवरी, 2022

एक कलीसिया अगुआ के तौर पर वह यह सोचता है कि वह एक रहनुमा की तरह है, जो दूसरों से ऊंचे स्तर पर है, कमियों और कमजोरियों से मुक्त है और सभी तरह की समस्याओं को सुलझा सकता है। इन भ्रांतिपूर्ण विचारों से प्रेरित होकर वह हमेशा दिखावा करने, ऊंचे-ऊंचे परंतु खोखले धर्म-सिद्धांत बघारने और अपने कर्तव्य के लिए उठाए जाने वाले कष्टों का बखान करने में जुटा रहता है। वह अपने दोषों को भी हमेशा छिपाकर रखता है। परिणामस्वरूप, भाई-बहन उसका बहुत आदर करते हैं और उसकी प्रशंसा करते रहते हैं। एक दिन वह गवाही का एक वीडियो देखता है और परमेश्वर के कुछ वचन पढ़ता है, जिनसे उसे अपनी गलत धारणाओं का पता चलता है और उसे यह अहसास होता है कि वह एक मसीह-विरोधी के रास्ते पर चल रहा है। इसके बाद वह एक ईमानदार इंसान बनने और खुद को गलत ढंग से पेश न करने पर ध्यान देना शुरू करता है। वह भाई-बहनों के साथ सहज और सामान्य संबंध विकसित करने में सफल रहता है। धीरे-धीरे उसके अहंकारी स्वभाव में बदलाव आ जाता है।

और देखें

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

साझा करें

रद्द करें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें