जो लोग सीखते नहीं और कुछ नहीं जानते : क्या वे जानवर नहीं हैं?

जब तुम आज के मार्ग पर चलते हो, तो किस प्रकार का अनुगमन सबसे अच्छा होता है? अपने अनुगमन में तुम्हें खुद को किस तरह के व्यक्ति के रूप में देखना चाहिए? तुम्हें पता होना चाहिए कि आज जो कुछ भी तुम पर पड़ता है, उसके प्रति तुम्हारा नज़रिया क्या होना चाहिए, चाहे वह परीक्षण हों या कठिनाई, या फिर निर्मम ताड़ना और श्राप। तुम्हें इस पर सभी मामलों में सावधानीपूर्वक विचार करना चाहिए। मैं यह क्यों कहता हूँ? मैं इसे इसलिए कहता हूँ, क्योंकि आज जो कुछ भी तुम पर पड़ता है, आख़िरकार, वे छोटे-छोटे परीक्षण हैं जो बार-बार आते हैं; शायद तुम उन्हें मानसिक रूप से बहुत कष्टदायक नहीं समझते, और इसलिए तुम चीजों को बस बह जाने देते हो, और प्रगति की खोज में उन्हें मूल्यवान संपत्ति नहीं मानते। तुम कितने लापरवाह हो! इससे पता चलता है कि तुम इस मूल्यवान संपत्ति को अपनी आँखों के सामने उड़ते एक बादल जैसा समझते हो; तुम बार-बार बरसने वाले इन कठोर आघातों को सँजोकर नहीं रखते—आघात, जो कि अल्पकालीन होते हैं और नरम लगते हैं—बल्कि उन्हें दिल पर न लेते हुए और कभी-कभार पड़ने वाली दस्तक समझते हो। तुम इतने घमंडी हो! इन भयंकर हमलों के प्रति, हमले जो कि बार-बार आने वाले तूफानों की तरह हैं, तुम केवल हल्कापन दिखाते हो; यहाँ तक कि कभी-कभी तुम अपनी उदासीनता प्रकट करते हुए एक ठंडी मुस्कान भी दे देते हो—क्योंकि तुमने मन में कभी नहीं सोचा कि तुम इस तरह के "दुर्भाग्य" क्यों झेलते रहते हो। क्या मैं मनुष्य के साथ बहुत अन्याय करता हूँ? क्या मैं तुम्हारी गलतियाँ निकालता हूँ? हालाँकि तुम्हारी मानसिकता संबंधी समस्याएँ उतनी गंभीर नहीं भी हो सकती हैं, जितना मैंने वर्णित किया है, फिर भी तुमने अपने बाहरी आत्मसंयम के माध्यम से, लंबे समय से अपनी आंतरिक दुनिया की एक उत्तम छवि बनाई हुई है। मेरे यह बताने का कोई अर्थ नहीं है कि जो एकमात्र चीज़ तुम्हारे दिल की गहराइयों में छिपी है, वह है असभ्य गंदी भाषा और मुश्किल से पता लगने वाली उदासी। क्योंकि तुम्हें लगता है कि इस तरह के परीक्षण झेलना बहुत गलत है, तुम श्राप देते हो; परीक्षण तुम्हें दुनिया की वीरानी का एहसास कराते हैं और इस वजह से तुम उदासी से भर जाते हो। इन बार-बार के आघातों और अनुशासन को बहुत अच्छी सुरक्षा के रूप में देखने के बजाय तुम उन्हें स्वर्ग द्वारा निरर्थक परेशानी पैदा किए जाने के रूप में, या फिर स्वयं से लिए जाने वाले उपयुक्त प्रतिशोध के रूप में देखते हो। तुम कितने अज्ञानी हो! तुम निर्दयता से अच्छे समय को अँधेरे में कैद कर लेते हो; बार-बार तुम अद्भुत परीक्षणों और अनुशासन को अपने दुश्मनों द्वारा किए गए हमलों के रूप में देखते हो। तुम अपने वातावरण के अनुकूल होने में असमर्थ हो; और उसके लिए इच्छुक तो और भी कम हो, क्योंकि तुम इस बार-बार की—और अपनी दृष्टि में निर्मम—ताड़ना से कुछ भी हासिल करने के लिए तैयार नहीं हो। तुम न तो खोज करते हो और न ही अन्वेषण, बस अपने भाग्य के आगे नतमस्तक हो जाते हो, और उस स्थिति को स्वीकार कर लेते हो, जिसमें तुम हो। जो बातें तुम्हें बर्बर ताड़ना लगती हैं उन्होंने तुम्हारा दिल नहीं बदला, न ही उन्होंने तुम्हारे दिल पर कब्ज़ा किया है; इसके बजाय उन्होंने तुम्हारे दिल में छुरा घोंपा। तुम इस "क्रूर ताड़ना" को इस जीवन में अपने दुश्मन से ज्यादा नहीं देखते, और तुमने कुछ भी हासिल नहीं किया है। तुम इतने दंभी हो! शायद ही कभी तुम मानते हो कि तुम इस तरह के परीक्षण इसलिए भुगतते हो, क्योंकि तुम बहुत घिनौने हो; इसके बजाय, तुम खुद को बहुत अभागा समझते हो, और कहते हो कि मैं हमेशा तुम्हारी गलतियाँ निकालता रहता हूँ। आज तक, जो मैं कहता और करता हूँ, तुम्हें वास्तव में उसका कितना ज्ञान है? ऐसा मत सोचो कि तुम एक अंतर्जात प्रतिभा हो, जो स्वर्ग से थोड़ी ही निम्न, किंतु पृथ्वी से बहुत अधिक ऊँची है। तुम किसी भी अन्य से ज्यादा होशियार नहीं हो—यहाँ तक कि यह भी कहा जा सकता है कि पृथ्वी पर जितने भी विवेकशील लोग हैं, तुम उनसे कहीं ज्यादा मूर्ख हो, क्योंकि तुम खुद को बहुत ऊँचा समझते हो, और तुममें कभी भी हीनता की भावना नहीं रही; ऐसा लगता है कि तुम मेरे कार्यों को बड़े विस्तार से अनुभव करते हो। वास्तव में, तुम ऐसे व्यक्ति हो, जिसके पास विवेक की मूलभूत रूप से कमी है, क्योंकि तुम्हें इस बात का कुछ पता नहीं है कि मैं क्या करूँगा, और उससे भी कम तुम्हें इस बात की जानकारी है कि मैं अभी क्या कर रहा हूँ। इसीलिए मैं कहता हूँ कि तुम जमीन पर कड़ी मेहनत करने वाले किसी बूढ़े किसान के बराबर भी नहीं हो, ऐसा किसान, जिसे मानव-जीवन की थोड़ी भी समझ नहीं है और फिर भी जो जमीन पर खेती करते हुए स्वर्ग के आशीषों पर निर्भर करता है। तुम अपने जीवन के संबंध में एक पल भी विचार नहीं करते, तुम्हें यश के बारे में कुछ नहीं पता, और तुम्हारे पास कोई आत्म-ज्ञान तो बिलकुल नहीं है। तुम इतने "उन्नत" हो! सच में, मैं तुम बाँके छैलों और तुम नाजुक युवतियों के लिए चिंता करता हूँ : तुम आँधी-तूफानों के अधिक भीषण घातक हमले कैसे झेल पाओगे? छैले उस वातावरण के प्रति पूरी तरह से उदासीन हैं, जिसमें वे स्वयं को पाते हैं। उनकी नज़र में यह नगण्य है, वे इसके बारे में कुछ नहीं सोचते, वे नकारात्मक नहीं हैं, न ही वे खुद को तुच्छ और नीच समझते हैं; इसके बजाय, वे अपने प्रशंसकों को साथ बहाकर ले जाते हुए गलियों में मटकते फिरते हैं। ये अज्ञानी "प्रतिष्ठित लोग", जो कभी नहीं सीखते, नहीं जानते कि मैं क्यों उनसे ऐसी बातें कहता हूँ; उनके चेहरे क्रोध से भरे हैं, वे केवल खुद को जानने की कोशिश करते हैं, और बाद में अपनी बुरी आदतों के साथ जीते रहते हैं; एक बार जब वे मुझे छोड़ देते हैं, तो वे फिर से दुनिया में उद्दंडतापूर्वक दौड़ना शुरू कर देते हैं, अपनी पुरानी चालों पर आ जाते हैं। तुम्हारे चेहरे के भाव कितनी तेज़ी से बदलते हैं। तो, एक बार फिर, तुम मुझे इस तरह से धोखा देने की कोशिश कर रहे हो—तुम कितने दबंग हो! और भी हास्यास्पद वे नकचढ़ी देवियाँ हैं। मेरे अत्यावश्यक कथन सुनकर, और उस वातावरण को देखकर, जिसमें वे हैं, उनके चेहरे से आँसू—बिन बुलाए—बहने लगते हैं, वे फूट-फूटकर रोने लगती हैं, और तमाशा खड़ा कर देती हैं—कितना घृणित है! अपना आध्यात्मिक कद देखकर वे अपने बिस्तर पर गिर जाती हैं और वहाँ अनवरत रोते हुए पड़ी रहती हैं मानो मुश्किल से साँस ले पा रही हों। इन वचनों ने उन्हें उनका बचपना, घिनौनापन और नीचता दिखाई है, और बाद में वे नकारात्मकता के बोझ से दब जाती हैं, प्रकाश उनकी आँखों से चला जाता है, और वे मेरे बारे में शिकायत या मुझसे नफरत नहीं करतीं, बल्कि सिर्फ निश्चल, नकारात्मक और इसी प्रकार अज्ञानी और बिना सीखे रहती हैं; मुझे छोड़ने के बाद वे खिलवाड़ करती हैं और "राजकुमारी की चाँदी की घंटी" जैसी अपनी खनखनाती हँसी हँसती हैं। वे कितनी नाजुक हैं और उनमें आत्म-प्रेम की कितनी कमी है! मानवजाति के क्षतिग्रस्त माल जैसे तुम लोग—मनुष्यता का कितना अभाव है तुम लोगों में! तुम नहीं जानते कि अपने आप से कैसे प्रेम करें, या अपनी रक्षा कैसे करें, तुम्हें कोई होश नहीं है, तुम सच्चे मार्ग की तलाश नहीं करते, तुम सच्ची रोशनी से प्रेम नहीं करते, और इससे भी बढ़कर, तुम नहीं जानते कि खुद को कैसे सँजोएँ। तुमने मेरे द्वारा बार-बार दी गई शिक्षाओं को लंबे समय से अपने दिमाग के पीछे रख दिया है। यहाँ तक कि तुम उन्हें अपने खाली समय में खेलने की चीज़ें समझते हो, और हमेशा उन्हें अपना "संरक्षक ताबीज" मानते हो। जब शैतान द्वारा आरोप लगाया जाता है, तो तुम प्रार्थना करते हो; नकारात्मक होने पर तुम ऊँघने लगते हो; जब तुम खुश होते हो, तो तुम दौड़ते हो; जब मैं तुम्हें धिक्कारता हूँ, तो तुम झुक जाते हो और विनम्र बन जाते हो; और जब तुम मुझे छोड़ते हो, तो तुम उन्मादपूर्वक हँसते हो। भीड़ में तुमसे ऊँचा कोई नहीं होता, लेकिन तुम कभी भी खुद को सबसे घमंडी नहीं समझते। तुम हमेशा इतने अभिमानी, आत्म-संतुष्ट और उद्धत होते हो कि शब्दों में वर्णन नहीं किया जा सकता। ऐसे "सज्जन युवक और युवतियाँ" तथा "उम्रदराज़ सज्जन और देवियाँ", जो कुछ नहीं जानते और कभी नहीं सीखते, मेरे वचनों को अनमोल खजाना कैसे मान सकते हैं? अब मैं तुमसे सवाल करना जारी रखूँगा : इतने लंबे समय में तुमने मेरे वचनों और कार्य से आख़िर क्या सीखा है? क्या तुम धोखा देने में ज्यादा चतुर नहीं हो गए हो? अपनी देह में अधिक परिष्कृत नहीं हो गए हो? मेरे प्रति अपने दृष्टिकोण में अधिक लापरवाह नहीं हो गए हो? मैं तुमसे सीधे कहता हूँ : मैंने बहुत काम किया है, फिर भी इसने तुम्हारा साहस बढ़ाया है, साहस, जो कि एक चूहे के साहस जैसा हुआ करता था। मेरे प्रति तुम्हारे डर की भावना रोज़ाना कम होती जाती है, क्योंकि मैं बहुत दयालु हूँ, और मैंने हिंसा का इस्तेमाल करते हुए तुम्हारी देह को अनुमति नहीं दी; शायद तुम सोचते हो कि मैं केवल अशिष्ट टिप्पणियाँ कर रहा हूँ—लेकिन ज्यादातर मैं तुम पर मुस्कुराता हूँ, और तुम्हारे मुँह पर तुम्हारी निंदा नहीं करता। इसके अलावा, मैं हमेशा तुम्हारी कमजोरी के लिए तुम्हें क्षमा करता हूँ, और केवल इसी वजह से तुम मेरे साथ उस तरह का व्यवहार करते हो, जैसे साँप अच्छे किसान के साथ व्यवहार करता है। मैं मनुष्य के कौशल, उसकी अवलोकन-शक्तियों की उपलब्धि की कितनी प्रशंसा करता हूँ! सच कहूँ, तो आज यह मायने नहीं रखता कि तुम्हारा दिल श्रद्धा से रहित है या नहीं। मैं न तो उत्सुक हूँ और न ही चिंतित। लेकिन मुझे तुमको यह भी अवश्य बताना चाहिए : तुम, "प्रतिभा के धनी", अज्ञानी और सीखने के अनिच्छुक, अंतत: अपनी आत्म-संतुष्ट, क्षुद्र चतुराई द्वारा नीचे गिरा दिए जाओगे—तुम वही होगे, जो दुःख भोगता है और जिसे ताड़ना दी जाती है। मैं इतना बेवकूफ़ नहीं हूँ कि जब तुम नरक में दुःख भुगतो तो मैं तुम्हारा साथ दूँ, क्योंकि मैं तुम्हारे जैसा नहीं हूँ। यह मत भूलो कि तुम मेरे द्वारा सृजित ऐसे प्राणी हो, जिसे मेरे द्वारा श्राप दिया गया है, और फिर भी जिसे मेरे द्वारा सिखाया और बचाया जाता है। मेरे लिए तुम्हारे पास ऐसा कुछ भी नहीं है, जिसे मैं छोड़ने का अनिच्छुक होऊँ। मैं जब भी काम करता हूँ, तो कोई भी व्यक्ति, घटना या वस्तु मुझे रोक नहीं सकती। मानवजाति के प्रति मेरे दृष्टिकोण और मत हमेशा एक-से रहे हैं : मैं तुम्हें बहुत ज्यादा पसंद नहीं करता, क्योंकि तुम मेरे प्रबंधन के लिए एक संलग्नक हो, और तुम्हारे बारे में कुछ भी किसी अन्य चीज़ से बेहतर नहीं है। तुम्हें मेरी यह सलाह है : हर समय याद रखो कि तुम परमेश्वर द्वारा सृजित प्राणी से अधिक कुछ नहीं हो! तुम मेरे साथ रह सकते हो, लेकिन तुम्हें अपनी पहचान पता होनी चाहिए; अपने बारे में बहुत ऊँची राय मत रखो। अगर मैं तुम्हारी निंदा नहीं भी करता, या तुमसे नहीं निपटता, और मुस्कुराहट के साथ तुम्हारा सामना करता हूँ, तो इससे यह साबित नहीं होता कि तुम मेरे समान ही हो; तुम्हें पता होना चाहिए कि तुम सत्य का अनुसरण करने वालों में से एक हो, न कि स्वयं सत्य हो! तुम्हें कभी मेरे वचनों के साथ-साथ बदलना बंद नहीं करना चाहिए। तुम इससे बच नहीं सकते। मैं तुम्हें इस महान समय के दौरान, यह दुर्लभ अवसर आने पर प्रयास करके कुछ सीखने की सलाह देता हूँ। मुझे मूर्ख मत बनाओ; मुझे तुम्हारी आवश्यकता नहीं कि तुम मुझे धोखा देने हेतु चापलूसी का उपयोग करो। जब तुम मुझे खोजते हो, तो यह सब मेरे लिए नहीं, बल्कि तुम्हारे खुद के लिए है!

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें