परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर का कार्य और मनुष्य का अभ्यास" | अंश 290

चूँकि मनुष्य परमेश्वर में विश्वास करता है, तो उसे परमेश्वर के पदचिन्हों का करीब से, कदम दर कदम, अनुसरण करना होगा; और उसे "जहाँ कहीं मेम्ना जाता है उसका अनुसरण" करना चाहिए। केवल ये ही ऐसे लोग हैं जो सच्चे मार्ग को खोजते हैं, केवल ये ही ऐसे मनुष्य हैं जो पवित्र आत्मा के कार्य को जानते हैं। लोग जो दासत्व से पत्रों एवं सिद्धान्तों का अनुसरण करते हैं वे ऐसे लोग हैं जिन्हें पवित्र आत्मा के कार्य के द्वारा निष्कासित किया गया है। समय की प्रत्येक अवधि में, परमेश्वर नया कार्य आरम्भ करेगा, और प्रत्येक अवधि में, मनुष्य के बीच में एक नई शुरुआत होगी। यदि मनुष्य केवल इन सच्चाईयों में ही बना रहता है कि "यहोवा ही परमेश्वर है" और "यीशु ही मसीहा है," जो ऐसी सच्चाईयां हैं जो केवल एक अकेले युग पर ही लागू होती हैं, तो मनुष्य कभी भी पवित्र आत्मा के कार्य के साथ कदम नहीं मिला पाएगा, और वह हमेशा पवित्र आत्मा के कार्य को हासिल करने में असमर्थ रहेगा। इसकी परवाह किए बगैर कि परमेश्वर कैसे कार्य करता है, मनुष्य जरा सा भी सन्देह किए बिना अनुसरण करता है, और वह करीब से अनुसरण करता है। इस रीति से, पवित्र आत्मा के द्वारा मनुष्य को कैसे निष्काषित किया जा सकता है? इसकी परवाह किए बगैर कि परमेश्वर क्या करता है, जब तक मनुष्य को निश्चय है कि यह पवित्र आत्मा का कार्य है, और वह बिना किसी आशंका के पवित्र आत्मा के कार्य में सहयोग करता है, और परमेश्वर की अपेक्षाओं को पूरा करने का प्रयास करता है, तो उसे कैसे दण्ड दिया जा सकता है? परमेश्वर का कार्य कभी नहीं रूका है, उसके पदचिन्ह कभी नहीं थमे हैं, और उसके प्रबंधन के कार्य की पूर्णता से पहले, वह सदैव से व्यस्त रहा है, और कभी नहीं रुका है। किन्तु मनुष्य अलग हैः पवित्र आत्मा के कार्य के आंशिक भाग को प्राप्त करने के बाद, वह ऐसा व्यवहार करता है मानो वह कार्य कभी नहीं बदलेगा; थोड़ा का ज्ञान प्राप्त करने के बाद, वह परमेश्वर के नए कार्य के पदचिन्हों का अनुसरण करने के लिए आगे नहीं बढ़ता है; परमेश्वर के कार्य के सिर्फ छोटे से भाग को देखने के बाद, वह तुरन्त ही परमेश्वर को लकड़ी की एक विशिष्ट आकृति के रूप में निर्धारित करता है, और यह मानता है कि परमेश्वर सदैव इस आकार में बना रहेगा जिसे वह अपने सामने देखता है, कि यह भूतकाल में ऐसा ही था और भविष्य में भी ऐसा ही बना रहेगा; सिर्फ एक सतही ज्ञान प्राप्त करने के बाद, मनुष्य इतना घमण्डी हो जाता है कि वह स्वयं को भूल जाता है और बेहूदा ढंग से परमेश्वर के स्वभाव एवं अस्तित्व के विषय में घोषणा करता है कि साधारण तौर पर उनका कोई अस्तित्व नहीं है; और पवित्र आत्मा के कार्य के एक चरण का दृढ़ता से अनुसरण करने का चुनाव करने के बाद, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है की वह किस किस्म का व्यक्ति है जो परमेश्वर के नए कार्य की घोषणा करता है, मनुष्य इसे स्वीकार नहीं करता है। ये ऐसे लोग हैं जो पवित्र आत्मा के नए कार्य को स्वीकार नहीं कर सकते हैं; वे अति रूढ़िवादी हैं, और वे नई चीज़ों को स्वीकार करने में असमर्थ हैं। इस प्रकार के लोग ऐसे हैं जो परमेश्वर में विश्वास तो करते हैं किन्तु परमेश्वर का तिरस्कार भी करते हैं। मनुष्य विश्वास करता है कि इस्राएली ग़लत थे क्योंकि उन्होंने "केवल यहोवा में विश्वास किया और यीशु में विश्वास नहीं किया," फिर भी अधिकांश लोग एक ऐसी भूमिका निभाते हैं जिसके अंतर्गत वे "केवल यहोवा में विश्वास करते हैं तथा यीशु को ठुकराते हैं" और "मसीहा के वापस लौटने की लालसा करते हैं, किन्तु उस मसीहा का विरोध करते हैं जिसे यीशु कहते हैं।" तो इसमें कोई आश्चर्य नहीं है कि लोग पवित्र आत्मा के कार्य के एक चरण को स्वीकार करने के पश्चात् अभी भी शैतान के प्रभुत्व के अधीन जीवन बिताते हैं, और उन्होंने अभी भी परमेश्वर की आशीषों को प्राप्त नहीं किया है। क्या यह मनुष्य के विद्रोहीपन का परिणाम नहीं है? सम्पूर्ण संसार के मसीही जिन्होंने आज के नए कार्य के साथ कदम नहीं मिलाया है वे सभी उस विश्वास को थामे रहते हैं कि वे भाग्यशाली लोग हैं, और यह कि परमेश्वर उनकी प्रत्येक इच्छा को पूरा करेगा। फिर भी वे निश्चय से यह नहीं कह सकते हैं कि परमेश्वर क्यों उन्हें तीसरे स्वर्ग पर ले जाएगा, न ही वे इसके विषय में निश्चित हैं कि किस प्रकार यीशु उन्हें इकट्टा करने के लिए श्वेत बादल पर सवार होकर आएगा, और वे पूर्ण निश्चयता के साथ यह तो बिलकुल भी नहीं कह सकते हैं कि यीशु सचमुच में उस दिन सफेद बदल पर सवार होकर आएगा या नहीं जिसकी वे कल्पना करते हैं। वे सब चिन्तित हैं, और वे घाटे में है; वे स्वयं भी नहीं जानते हैं कि परमेश्वर उनमें से प्रत्येक को ऊपर ले जाएगा या नहीं, जो विभिन्न समूहों के थोड़े से मुट्टीभर लोग हैं, जो प्रत्येक समुदायों से उसकी जय जयकार करते हैं। वह कार्य जिसे परमेश्वर ने अब किया है, वर्तमान युग, और परमेश्वर की इच्छा—उनके पास इनमें से किसी भी चीज़ की कोई समझ नहीं है, और वे अपनी ऊंगलियों में दिनों को गिनने के आलावा और कुछ नहीं कर सकते हैं। ऐसे लोग जो अंत तक मेम्ने के पदचिन्हों का अनुसरण करते हैं केवल वे ही अन्तिम आशीष को प्राप्त कर सकते हैं, जबकि वे "चतुर लोग", जो बिल्कुल अंत तक अनुसरण करने में असमर्थ हैं फिर भी विश्वास करते हैं कि उन्हें सब कुछ प्राप्त हो चुका है, वे परमेश्वर के प्रगटीकरण की गवाही देने में असमर्थ हैं। वे सब विश्वास करते हैं कि वे पृथ्वी पर सबसे चतुर व्यक्ति हैं, और वे अकारण ही परमेश्वर के कार्य के लगातार विकास को छोटा करते हैं, और ऐसा प्रतीत होता है कि वे पूर्ण निश्चयता के साथ विश्वास करते हैं कि परमेश्वर उन्हें स्वर्ग ले जाएगा, वे जिनके "पास परमेश्वर के प्रति अत्याधिक वफादारी है, परमेश्वर का अनुसरण करते हैं, और परमेश्वर के वचन में बने रहते हैं।" यद्यपि उनके पास परमेश्वर के द्वारा बोले गए वचनों के प्रति "अत्याधिक वफादारी" है, फिर भी उनके वचन एवं कार्य अत्यंत घिनौने लगते हैं क्योंकि वे पवित्र आत्मा के कार्य का विरोध करते हैं, और छल एवं दुष्टता करते हैं। ऐसे लोग जो बिल्कुल अंत तक अनुसरण नहीं करते हैं, जो पवित्र आत्मा के कार्य के साथ कदम नहीं मिलाते हैं, और जो केवल पुराने कार्य से चिपके रहते हैं और वे न केवल परमेश्वर के प्रति वफादारी हासिल करने में असफल नहीं हुए हैं, बल्कि इसके विपरीत, वे ऐसे लोग बन गए हैं जो परमेश्वर का विरोध करते हैं, वे ऐसे लोग बन गए हैं जिन्हें नए युग के द्वारा ठुकरा दिया गया है, और जिन्हें दण्ड दिया जाएगा। क्या उनसे भी अधिक बेचारा और कोई है? अनेक लोग यह भी विश्वास करते हैं कि वे सब जो प्राचीन व्यवस्था को ठुकराते हैं और नए कार्य को स्वीकार करते हैं वे विवेकहीन हैं। ये लोग, जो केवल विवेक की ही बात करते हैं, और पवित्र आत्मा के कार्य को नहीं जानते हैं, अन्ततः उनके स्वयं के विवेक द्वारा उनके भविष्य की संभावनाओं को छोटा कर दिया जाएगा। परमेश्वर का कार्य सिद्धान्त के द्वारा बना नहीं रहता है, और यद्यपि यह उसका स्वयं का कार्य है, फिर भी परमेश्वर इससे अभी भी चिपका नहीं रहता है। जिसे नकारा जाना चाहिए उसे नकारा गया है, जिसे हटाया जाना चाहिए उसे हटाया गया है। फिर भी मनुष्य परमेश्वर के प्रबंधन के कार्य के सिर्फ एक छोटे से भाग को ही पकड़े रहने के द्वारा स्वयं को परमेश्वर से शत्रुता की स्थिति में रख देता है। क्या यह मनुष्य की मूर्खता नहीं है? क्या यह मनुष्य की अज्ञानता नहीं है? लोग जितना अधिक भयभीत एवं अति सतर्क होते हैं क्योंकि वे परमेश्वर की आशीषों को प्राप्त न करने के विषय में डरते हैं, उतना ही अधिक वे और बड़ी आशीषों को हासिल करने, और अंतिम आशीष को पाने में असमर्थ होते हैं। ऐसे लोग जो दासत्व से व्यवस्था में बने रहते हैं वे सभी व्यवस्था के प्रति अत्यंत वफादारी का प्रदर्शन करते हैं, और वे जितना अधिक व्यवस्था के प्रति ऐसी वफादारी का प्रदर्शन करते हैं, उतना ही अधिक वे ऐसे विद्रोही होते हैं जो परमेश्वर का विरोध करते हैं। क्योंकि अब राज्य का युग है और व्यवस्था का युग नहीं है, और आज के कार्य को अतीत के कार्य के विरूद्ध रोका नहीं जा सकता है, और अतीत के कार्य की तुलना आज के कार्य से नहीं की जा सकती है। परमेश्वर का कार्य बदल चुका है, और मनुष्य का रीति व्यवहार भी बदल चुका है, उसे व्यवस्था को पकड़े रहना या क्रूस को उठाना नहीं है। अतः, व्यवस्था एवं क्रूस के प्रति लोगों की वफादारी परमेश्वर की स्वीकृति को प्राप्त नहीं करेगी।

— 'वचन देह में प्रकट होता है' से उद्धृत

विश्वासियों को ध्यान से ईश्वर के पदचिह्नों का अनुसरण करना ही चाहिए

क्यूँकि रखे इंसान ईश्वर में आस्था, उसे चलना चाहिए ध्यान से उसके पीछे।

पवित्र आत्मा का कार्य निकाले उन्हें जो सिद्धांतों के गुलाम हैं। हर युग में ईश्वर नया काम करे, इंसानों के बीच नई शुरुआत करे। अगर इंसान एक ही युग के इन सत्यों को मानेगा कि "यहोवा ईश्वर है" और "यीशु मसीह है," तो पवित्रात्मा के काम के संग चल न सकेगा, न कभी उसे हासिल करेगा। क्यूँकि रखे इंसान ईश्वर में आस्था, उसे चलना चाहिए ध्यान से उसके पीछे। कदम-दर-कदम ईश्वर के पीछे चले, "जहाँ मेमना जाए, वहीं जाए।" ये ही लोग सच्चा मार्ग खोजें, ये ही लोग जानें पवित्रात्मा के काम को। जो अंत तक मेमने का अनुसरण करें वे ही अंतिम आशीष पाएँ।

जो अंत तक अनुसरण न करें, या पवित्र आत्मा के काम संग न चलें, जो पुराने काम से चिपके रहें वे ईश्वर के प्रति वफ़ादार न रह पाएँ। वे ईश्वर-विरोधी बनकर, नये युग द्वारा नकारे जाएँ, वे सभी अंत में सज़ा पाएँ। इनसे ज़्यादा दयनीय और कौन हो सके। क्यूँकि रखे इंसान ईश्वर में आस्था, उसे चलना चाहिए ध्यान से उसके पीछे। कदम-दर-कदम ईश्वर के पीछे चले, "जहाँ मेमना जाए, वहीं जाए।" ये ही लोग सच्चा मार्ग खोजें, ये ही लोग जानें पवित्रात्मा के काम को। जो अंत तक मेमने का अनुसरण करें वे ही अंतिम आशीष पाएँ। जो हूबहू व्यवस्था से चिपके रहें व्यवस्था के प्रति अधिक वफ़ा दिखाएँ, वे विद्रोही उतना ही ईश्वर का विरोध करें।

अब व्यवस्था का नहीं, राज्य का युग है। पहले किए गए काम के बराबर न रखा जा सके आज के काम को; पिछले की तुलना न हो आज के काम से। ईश-कार्य बदला है, इंसान का अभ्यास भी बदला है; ये व्यवस्था-पालन या क्रूस धारण करना नहीं है। इनके प्रति इंसान की वफ़ा को नहीं मिलेगी ईश्वर की स्वीकृति। क्यूँकि रखे इंसान ईश्वर में आस्था, उसे चलना चाहिए ध्यान से उसके पीछे। कदम-दर-कदम ईश्वर के पीछे चले, "जहाँ मेमना जाए, वहीं जाए।" ये ही लोग सच्चा मार्ग खोजें, ये ही लोग जानें पवित्रात्मा के काम को। जो अंत तक मेमने का अनुसरण करें वे ही अंतिम आशीष पाएँ।

'मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ' से

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

परमेश्वर के दैनिक वचन | "मनुष्य, जिसने परमेश्वर को अपनी ही धारणाओं में सीमित कर दिया है, वह किस प्रकार उसके प्रकटनों को प्राप्त कर सकता है?" | अंश 284

परमेश्वर का कार्य निरंतर आगे बढ़ता रहता है, और यद्यपि उसके कार्य का प्रयोजन नहीं बदलता है, जिस मायनों वह कार्य करता है वे निरंतर बदलते रहते...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "तुम्हें मसीह की अनुकूलता में होने के तरीके की खोज करनी चाहिए" | अंश 280

मैं मनुष्य के मध्य में बहुत कार्य कर चुका हूं, और इस दौरान जो वचन मैंने व्यक्त किये हैं, वे बहुत हो चुके हैं। ये वचन मनुष्य के उद्धार के...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन : अध्याय 5" | अंश 238

जिस कार्य की मैंने योजना बनायी है वह एक पल भी रुके बिना आगे बढ़ता रहता है। राज्य के युग में प्रवेश करके, और तुम लोगों को मेरे लोगों के रूप...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर के स्वभाव को समझना अति महत्वपूर्ण है" | अंश 245

परमेश्वर का स्वभाव एक ऐसा विषय है जो बहुत गूढ़ दिखाई देता है और जिसे आसानी से स्वीकार नहीं किया जाता, क्योंकि उसका स्वभाव मनुष्यों के...