परमेश्वर के दैनिक वचन | "देह की चिन्ता करने वालों में से कोई भी कोप के दिन से नहीं बच सकता है" | अंश 338

अतीत के बारे में पुनः सोचो: कब तुम लोगों के प्रति मेरी दृष्टि क्रोधित, और मेरी आवाज़ कठोर हुई है? मैंने कब तुच्छ बातों पर तुम लोगों के साथ भेदभाव किया है? मैंने कब तुम लोगों को अनुचित रूप से प्रताड़ित किया है? मैंने कब तुम लोगों को तुम्हारे मुँह पर डाँटा है? क्या यह मेरे कार्य के वास्ते नहीं है कि मैं तुम लोगों को हर प्रलोभन से बचाने के लिए अपने परमपिता को पुकारता हूँ? तुम लोग मेरे साथ इस प्रकार का व्यवहार क्यों करते हो? क्या मैंने कभी भी अपने अधिकार का उपयोग तुम लोगों की देह को मार गिराने के लिए किया है? तुम लोग मुझे इस प्रकार से बदल क्यों दे रहे हो? मेरे प्रति कभी हाँ और कभी ना करने के बाद, तुम लोग न हाँ में हो और न ही ना में हो, और फिर तुम लोग मेरे प्रति धोखेबाज़ हो और मुझसे बातों को छिपाते हो, और तुम लोगों के मुँह अधार्मिकता की थूक से भरे हुए हैं? क्या तुम लोगों को लगता है कि तुम लोगों की ज़ुबानें मेरी पवित्रात्मा को धोखा दे सकती हैं? क्या तुम लोगों को लगता है कि तुम लोगों की ज़ुबानें मेरे कोप से बचा सकती हैं? क्या तुम लोगों को लगता है कि तुम लोगों की ज़ुबानें मुझ यहोवा के कार्यों की, जिस तरह से भी वे चाहें, आलोचना कर सकती हैं? क्या मैं ऐसा परमेश्वर हूँ जिसके बारे में मनुष्य आलोचना कर सकता है? क्या मैं छोटे से भुनगे को इस प्रकार से अपनी ईशनिंदा करने दे सकता हूँ? मैं कैसे ऐसी अवज्ञा के पुत्रों को अपने अनन्त आशीषों के बीच तथ्य के रूप में प्रस्तुत कर सकता हूँ? तुम लोगों के वचनों और कार्यों ने तुम लोगों को काफी समय तक उजागर और निन्दित किया है। जब मैंने स्वर्क को फैलाया और सभी चीजों का सृजन किया, तो मैंने किसी भी प्राणी को उसकी पसंद के अनुसार भाग लेने की अनुमति नहीं दी, किसी भी चीज को, जैसा वह चाहे वैसे, मेरे कार्य और मेरे प्रबंधन को गड़बड़ करने की अनुमति तो बिल्कुल नहीं दी। मैंने किसी भी मनुष्य या वस्तु को सहन नहीं किया; मैं कैसे उन लोगों को छोड़ सकता हूँ जो मेरे प्रति निर्दयी और क्रूर और अमानवीय हैं? मैं कैसे उन लोगों को क्षमा कर सकता हूँ जो मेरे वचनों के विरोध में विद्रोह करते हैं? मैं कैसे उन्हें छोड़ सकता हूँ जो मेरी अवज्ञा करते हैं? क्या मनुष्य की नियति मुझ सर्वशक्तिामन के हाथों में नहीं है? मैं कैसे तुम्हारी अधार्मिकता और अवज्ञा को पवित्र मान सकता हूँ? तुम्हारे पाप मेरी पवित्रता को कैसे दूषित कर सकते हैं? मैं अधार्मिकता की अशुद्धता से दूषित नहीं होता हूँ, न ही मैं अधर्मियों के चढ़ावों का आनन्द लेता हूँ। यदि तुम मुझ यहोवा के प्रति वफादार थे, तो क्या तुम मेरी वेदी से बलिदानों को अपने लिए ले सकते थे? क्या तुम मेरे पवित्र नाम की ईशनिंदा करने के लिए अपनी विषैली ज़ुबान का उपयोग कर सकते थे? क्या तुम इस प्रकार से मेरे वचनों के विरुद्ध विद्रोह कर सकते थे? क्या तुम मेरी महिमा और पवित्र नाम को, एक बुरे, शैतान, की सेवा करने के लिए एक उपकरण के रूप में उपयोग कर सकते थे? मेरा जीवन पवित्र लोगों के आनन्द के लिए प्रदान किया जाता है। मैं अपने जीवन के साथ कैसे तुम्हें, तुम्हारी इच्छानुसार, खेलने और इसे तुम लोगों के बीच संघर्ष के एक उपकरण के रूप में उपयोग करने की अनुमति दे सकता हूँ? तुम मेरे प्रति जैसे हो उसमें, तुम लोग इतने निर्दयी और अच्छाई के मार्ग में इतने अभाव वाले कैसे हो सकते हो? क्या तुम लोग नहीं जानते हो कि मैंने पहले ही तुम लोगों की बुरी करतूतों को जीवन के इन वचनों में लिख दिया है? जब मैं मिस्र को दण्ड देता हूँ तब तुम लोग कोप के दिन से कैसे बच कर निकल सकते हो? मैं कैसे तुम लोगों के द्वारा बार-बार विरोध और अनादर किया जा सकता हूँ? मैंने तुम लोगों को स्पष्ट रूप से कहता, हूँ कि जब वह दिन आएगा, तो तुम लोगों की ताड़ना मिस्र की ताड़ना की अपेक्षा अधिक असहनीय होगी! तुम लोग कैसे मेरे कोप के दिन से बच कर निकल सकते हो? मैं तुम लोगों को सत्य कहता हूँ: मेरी सहनशीलता तुम लोगों की बुरी करतूतों के लिए तैयार थी, और उस दिन पर तुम लोगों की ताड़ना के लिए विद्यमान है। एक बार जब मैं अपनी सहनशीलता के अंत में पहुँच गया तो क्या तुम लोग वह नहीं होंगे जो कुपित न्याय को भुगतोगे। क्या सभी बातें मुझ सर्वशक्तिमान के हाथों में नहीं हैं? मैं कैसे इस प्रकार से आकाश के नीचे तुम लोगों को अपनी अवज्ञा की अनुमति दे सकता हूँ? तुम लोगों का जीवन अत्यंत कठोर होगा क्योंकि तुम मसीह से मिल चुके हो, जिसके बारे में कहा गया कि वह आएगा, फिर भी जो कभी नहीं आया। क्या तुम लोग उसके शत्रु नहीं हो? यीशु तुम लोगों का मित्र रहा है, फिर भी तुम लोग मसीह के शत्रु हो। क्या तुम लोग नहीं जानते हो कि यद्यपि तुम लोग यीशु के मित्र हो, किन्तु तुम लोगों की बुरी करतूतों ने उन लोगों के पात्रों को भर दिया है जो घृणित हैं? यद्यपि तुम लोग यहोवा के बहुत करीबी हो, किन्तु क्या तुम लोग नहीं जानते हो कि तुम लोगों के बुरे वचन यहोवा के कानों तक पहुँच गए हैं और उन्होंने उसके क्रोध को भड़का दिया है? वह तुम्हारा करीबी कैसे हो सकता है, और वह कैसे तुम्हारे उन पात्रों को नहीं जला सकता है, जो बुरी करतूतों से भरे हुए हैं? कैसे वह तुम्हारा शत्रु नहीं हो सकता है?

— 'वचन देह में प्रकट होता है' से उद्धृत

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें