परमेश्वर के दैनिक वचन | "मनुष्य के सामान्य जीवन को पुनःस्थापित करना और उसे एक अद्भुत मंज़िल पर ले जाना" | अंश 3

परमेश्वर में जीवधारियों के प्रति कोई द्वेष नहीं है और वह केवल शैतान को पराजित करना चाहता है। उसके सम्पूर्ण कार्य-चाहे वह ताड़ना हो या न्याय—को शैतान की ओर निर्देशित किया गया है; इसे मानवजाति के उद्धार के लिए सम्पन्न किया जाता है, यह सब शैतान को पराजित करने के लिए है, और इसका एक उद्देश्य है: बिलकुल अन्त तक शैतान के साथ युद्ध करना! और परमेश्वर जब तक शैतान पर विजय प्राप्त ना कर ले वह कभी विश्राम नहीं करेगा! वह विश्राम तभी करेगा जब वह एक बार शैतान को हरा दे। क्योंकि परमेश्वर के द्वारा किए गए समस्त कार्य को शैतान की ओर निर्देशित किया गया है, और क्योंकि ऐसे लोग जिन्हें शैतान के द्वारा भ्रष्ट कर दिया गया है वे सभी शैतान के प्रभुत्व के नियन्त्रण में हैं और सभी शैतान के प्रभुत्व में जीवन बिताते हैं, यदि परमेश्वर ने शैतान के विरुद्ध युद्ध नहीं किया होता या उन्हें उससे छुड़ाकर अलग नहीं किया होता, तो शैतान ने इन लोगों पर से अपने शिकंजे को ढीला नहीं किया होता, और उन्हें अर्जित नहीं किया जा सकता था। यदि उन्हें अर्जित नहीं किया जाता, तो यह साबित करेगा कि शैतान को पराजित नहीं किया गया है, यह कि उसे परास्त नहीं किया गया है। और इस प्रकार, परमेश्वर की 6,000 साल की प्रबंधकीय योजना में, प्रथम चरण के दौरान उसने व्यवस्था का कार्य किया था, दूसरे चरण के दौरान उसने अनुग्रह के युग का कार्य किया था, अर्थात्, क्रूसारोहण का कार्य, और तीसरे चरण के दौरान उसने मनुष्य पर विजय प्राप्त करने का कार्य किया था। इस समस्त कार्य को उस मात्रा की ओर निर्देशित किया गया है जिसके तहत शैतान ने मानवजाति को भ्रष्ट किया है, यह सब शैतान को पराजित करने के लिए है, और केवल एक ही चरण शैतान को पराजित करने के लिए नहीं है। परमेश्वर के प्रबंधन के 6,000 साल के कार्य का मूल-तत्व उस बड़े लाल अजगर के विरुद्ध युद्ध है, और मानवजाति का प्रबधं करने का कार्य भी शैतान को हराने का कार्य है, और शैतान के साथ युद्ध करने का कार्य है। परमेश्वर ने 6,000 सालों से युद्ध किया है, और इस प्रकार से उसने अन्ततः मनुष्य को उस नए आयाम में पहुंचाने के लिए 6,000 सालों से कार्य किया है। जब शैतान पराजित हो जाता है, तो मनुष्य पूरी तरह से स्वतन्त्र हो जाएगा। क्या यह आज परमेश्वर के कार्य का निर्देशन नहीं है? यह बिलकुल आज के कार्य का निर्देशन है: सम्पूर्ण छुटकारा और मनुष्य को स्वतन्त्र करना, ताकि वह किसी प्रकार नियमों के अधीन न हो, न ही किसी प्रकार के बन्धनों या प्रतिबंधों के द्वारा सीमित हो। इस समस्त कार्य को आप लोगों के डीलडौल (आकृति) के अनुसार और आप लोगों की आवश्यकताओं के अनुसार किया गया है, जिसका अर्थ है कि जो कुछ आप सब पूरा कर सकते हैं उसे आप लोगों को प्रदान किया गया है। यह "किसी बत्तख को शाखा में ज़बरदस्ती बैठाने" का मामला नहीं है, या आप लोगों को ऐसी चीज़ें करने के लिए मजबूर करना नहीं है जो आप सब की योग्यता से बाहर है; इसके बजाए, इस समस्त कार्य को आप लोगों की वास्तविक ज़रूरतों के अनुसार सम्पन्न किया गया है। कार्य का प्रत्येक चरण मनुष्य की वास्तविक ज़रूरतों एवं अपेक्षाओं के अनुसार है, और यह शैतान को हराने के लिए है। वास्तव में, प्रारम्भ में सृष्टिकर्ता एवं उसके प्राणियों के बीच में किसी प्रकार की बाधाएं नहीं थीं। उन सब को शैतान के द्वारा खड़ा किया गया है। मनुष्य शैतान की गड़बड़ी और उसकी भ्रष्टता के कारण किसी भी चीज़ को देखने या स्पर्श करने में असमर्थ हो गया है। मनुष्य ही वह पीड़ित व्यक्ति है, ऐसा व्यक्ति है जिसे धोखा दिया गया है। जब एक बार शैतान को हरा दिया जाता है, तो जीवधारी सृष्टिकर्ता को देखेंगे, और सृष्टिकर्ता जीवधारियों के ऊपर निगाह डालेगा और व्यक्तिगत तौर पर उनकी अगुवाई करने में सक्षम होगा। केवल यह ही वह जीवन है जो पृथ्वी पर मनुष्य के पास होना चाहिए। और इस प्रकार, परमेश्वर का कार्य मुख्य रूप से शैतान को हराने के लिए है, और जब एक बार शैतान को हरा दिया जाता है, तो हर एक चीज़ का समाधान हो जाएगा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" से उद्धृत

इंसान को संभालने का काम है शैतान को हराने का काम

न्याय हो या ताड़ना, परमेश्वर के तमाम कामों का शैतान ही निशाना है, इनका मकसद इंसान को बचाना और शैतान को हराना है। एक ही लक्ष्य है परमेश्वर के काम का: अंत तक शैतान से लड़ना है। विजयी होने तक परमेश्वर आराम न करेगा। क्योंकि परमेश्वर के काम का निशाना है शैतान, चूँकि शैतान के कब्ज़े में है भ्रष्ट हुए इंसान, गर जंग शुरू न की परमेश्वर ने शैतान के ख़िलाफ़, या अलग न किया इंसान को शैतान से, तो कभी पाया न जा सकेगा उसे। गर कब्ज़े में रहा इंसान शैतान के, और पाया न जा सका उसे, तो अजेय साबित होगा शैतान, हराया नहीं गया है उसे। बड़े लाल अजगर के ख़िलाफ़ जंग मूल है परमेश्वर के छ: हज़ार साल के काम का, इंसान के प्रबंधन का काम भी शैतान को हराने का काम है।

नए आयाम में लाने के लिये इंसान को, छ: हज़ार साल जंग की है, काम किया है परमेश्वर ने, शैतान जब हार जाएगा, इंसान आज़ाद हो जाएगा। हर चरण इंसान की असली ज़रूरतों, अपेक्षाओं के अनुरूप है, ताकि हरा सके शैतान को परमेश्वर। गर कब्ज़े में रहा इंसान शैतान के, और पाया न जा सका उसे, तो अजेय साबित होगा शैतान, हराया नहीं गया है उसे। बड़े लाल अजगर के ख़िलाफ़ जंग मूल है परमेश्वर के छ: हज़ार साल के काम का, इंसान के प्रबंधन का काम भी शैतान को हराने का काम है।

छ: हज़ार साल की प्रबंधन योजना में, पहले चरण में व्यवस्था का काम किया परमेश्वर ने। दूसरे चरण में अनुग्रह के युग का काम किया परमेश्वर ने। तीसरे चरण में इंसान को जीतता है परमेश्वर। उस हद अनुसार काम किया जाता है जिस तक भ्रष्ट कर दिया है इंसान को शैतान ने। इस काम का लक्ष्य शैतान को हराना है, इन तीनों चरणों का मकसद शैतान को हराना है। बड़े लाल अजगर के ख़िलाफ़ जंग मूल है परमेश्वर के छ: हज़ार साल के काम का, इंसान के प्रबंधन का काम भी शैतान को हराने का काम है।

"मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना" से

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

परमेश्वर के दैनिक वचन | "सात गर्जनाएँ—भविष्यवाणी करती हैं कि राज्य के सुसमाचार पूरे ब्रह्माण्ड में फैल जाएंगे" | अंश 69

किसी को यह विश्वास नहीं है कि वे मेरे महिमा के दर्शन कर पाएंगे, और मैं उन्हें विवश नहीं करता, बल्कि लोगों के बीच से अपनी महिमा को हटा लेता...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन : अध्याय 9 | अंश 239

चूँकि तुम मेरे घराने के एक सदस्य हो, और चूँकि तुम मेरे राज्य में निष्ठावान हो, इसलिए तुम जो कुछ भी करते हो उसे उन मानकों को पूरा करना चाहिए...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर द्वारा धारण किये गए देह का सार" | अंश 104

मैं ऐसा क्यों कहता हूँ कि देहधारण का अर्थ यीशु के कार्य में पूर्ण नहीं हुआ था? क्योंकि वचन पूरी तरह से देहधारी नहीं हुआ? यीशु ने जो किया वह...