सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं
परमेश्वर के दैनिक वचन "क्या परमेश्वर का कार्य उतना सरल है, जितना मनुष्य कल्पना करता है?" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "क्या परमेश्वर का कार्य उतना सरल है, जितना मनुष्य कल्पना करता है?" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर द्वारा धारण किये गए देह का सार" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर द्वारा धारण किये गए देह का सार" (अंश 2) परमेश्वर के वचन "परमेश्वर के कार्य के तीन चरणों को जानना ही परमेश्वर को जानने का मार्ग है" (अंश 5)परमेश्वर के वचन "परमेश्वर के कार्य के तीन चरणों को जानना ही परमेश्वर को जानने का मार्ग है" (अंश 5) परमेश्वर के वचन "परमेश्वर के कार्य के तीन चरणों को जानना ही परमेश्वर को जानने का मार्ग है" (अंश 4)परमेश्वर के वचन "परमेश्वर के कार्य के तीन चरणों को जानना ही परमेश्वर को जानने का मार्ग है" (अंश 4) परमेश्वर के दैनिक वचन "सुसमाचार को फैलाने का कार्य मनुष्यों को बचाने का कार्य भी है" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "सुसमाचार को फैलाने का कार्य मनुष्यों को बचाने का कार्य भी है" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के वचन के द्वारा सब कुछ प्राप्त हो जाता है" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के वचन के द्वारा सब कुछ प्राप्त हो जाता है" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन: अध्याय 29" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन: अध्याय 29" (अंश 2) मसीह के वचन "भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की सबसे अधिक आवश्यकता है" (अंश 9)मसीह के वचन "भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की सबसे अधिक आवश्यकता है" (अंश 9) परमेश्वर के दैनिक वचन "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन: अध्याय 27" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन: अध्याय 27" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के कार्य के तीन चरणों को जानना ही परमेश्वर को जानने का मार्ग है" (अंश 7)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के कार्य के तीन चरणों को जानना ही परमेश्वर को जानने का मार्ग है" (अंश 7) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के कार्य के तीन चरणों को जानना ही परमेश्वर को जानने का मार्ग है" (अंश 6)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के कार्य के तीन चरणों को जानना ही परमेश्वर को जानने का मार्ग है" (अंश 6) परमेश्वर के दैनिक वचन "राज्य का युग वचन का युग है" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "राज्य का युग वचन का युग है" (अंश 1) मसीह के वचन "भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की सबसे अधिक आवश्यकता है" (अंश 3)मसीह के वचन "भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की सबसे अधिक आवश्यकता है" (अंश 3) परमेश्वर के दैनिक वचन "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन: अध्याय 29" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन: अध्याय 29" (अंश 1) परमेश्वर के वचन "परमेश्वर के कार्य के तीन चरणों को जानना ही परमेश्वर को जानने का मार्ग है" (अंश 1)परमेश्वर के वचन "परमेश्वर के कार्य के तीन चरणों को जानना ही परमेश्वर को जानने का मार्ग है" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन: अध्याय 10" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन: अध्याय 10" (अंश 2) परमेश्वर के वचन "परमेश्वर को जानना परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने का मार्ग है" (अंश 4)परमेश्वर के वचन "परमेश्वर को जानना परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने का मार्ग है" (अंश 4) परमेश्वर के दैनिक वचन "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन: अध्याय 10" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन: अध्याय 10" (अंश 1) सात गर्जनाएँ—भविष्यवाणी करती हैं कि राज्य के सुसमाचार पूरे ब्रह्माण्ड में फैल जाएंगे अंश 1सात गर्जनाएँ—भविष्यवाणी करती हैं कि राज्य के सुसमाचार पूरे ब्रह्माण्ड में फैल जाएंगे अंश 1 परमेश्वर के दैनिक वचन "छुटकारे के युग में कार्य के पीछे की सच्ची कहानी" (अंश 3)परमेश्वर के दैनिक वचन "छुटकारे के युग में कार्य के पीछे की सच्ची कहानी" (अंश 3) परमेश्वर के दैनिक वचन "सुसमाचार को फैलाने का कार्य मनुष्यों को बचाने का कार्य भी है" (अंश 3)परमेश्वर के दैनिक वचन "सुसमाचार को फैलाने का कार्य मनुष्यों को बचाने का कार्य भी है" (अंश 3) परमेश्वर के दैनिक वचन "अपनी मंज़िल के लिए पर्याप्त संख्या में अच्छे कर्मों की तैयारी करो" (अंश 3)परमेश्वर के दैनिक वचन "अपनी मंज़िल के लिए पर्याप्त संख्या में अच्छे कर्मों की तैयारी करो" (अंश 3) परमेश्वर के दैनिक वचन "उद्धारकर्त्ता पहले ही एक "सफेद बादल" पर सवार होकर वापस आ चुका है" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "उद्धारकर्त्ता पहले ही एक "सफेद बादल" पर सवार होकर वापस आ चुका है" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "अपनी मंज़िल के लिए पर्याप्त संख्या में अच्छे कर्मों की तैयारी करो" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "अपनी मंज़िल के लिए पर्याप्त संख्या में अच्छे कर्मों की तैयारी करो" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के प्रकटन ने एक नए युग का सूत्रपात किया है" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के प्रकटन ने एक नए युग का सूत्रपात किया है" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "बाइबल के विषय में (1)" (अंश 4)परमेश्वर के दैनिक वचन "बाइबल के विषय में (1)" (अंश 4) परमेश्वर के दैनिक वचन "छुटकारे के युग में कार्य के पीछे की सच्ची कहानी" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "छुटकारे के युग में कार्य के पीछे की सच्ची कहानी" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "सुसमाचार को फैलाने का कार्य मनुष्यों को बचाने का कार्य भी है" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "सुसमाचार को फैलाने का कार्य मनुष्यों को बचाने का कार्य भी है" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "उद्धारकर्त्ता पहले ही एक "सफेद बादल" पर सवार होकर वापस आ चुका है" (अंश 3)परमेश्वर के दैनिक वचन "उद्धारकर्त्ता पहले ही एक "सफेद बादल" पर सवार होकर वापस आ चुका है" (अंश 3) परमेश्वर के दैनिक वचन "उद्धारकर्त्ता पहले ही एक "सफेद बादल" पर सवार होकर वापस आ चुका है" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "उद्धारकर्त्ता पहले ही एक "सफेद बादल" पर सवार होकर वापस आ चुका है" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "अपनी मंज़िल के लिए पर्याप्त संख्या में अच्छे कर्मों की तैयारी करो" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "अपनी मंज़िल के लिए पर्याप्त संख्या में अच्छे कर्मों की तैयारी करो" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है" (अंश 3)परमेश्वर के दैनिक वचन "केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है" (अंश 3) "केवल वह जो परमेश्वर के कार्य को अनुभव करता है वही परमेवर में सच में विश्वास करता है" (अंश 4)"केवल वह जो परमेश्वर के कार्य को अनुभव करता है वही परमेवर में सच में विश्वास करता है" (अंश 4) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "मसीह न्याय का कार्य सत्य के साथ करता है" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "मसीह न्याय का कार्य सत्य के साथ करता है" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "मसीह न्याय का कार्य सत्य के साथ करता है" (अंश 3)परमेश्वर के दैनिक वचन "मसीह न्याय का कार्य सत्य के साथ करता है" (अंश 3) परमेश्वर के दैनिक वचन "मसीह न्याय का कार्य सत्य के साथ करता है" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "मसीह न्याय का कार्य सत्य के साथ करता है" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 12)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 12) परमेश्वर के दैनिक वचन "केवल अंतिम दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनंत जीवन का मार्ग दे सकता है" (अंश 3)परमेश्वर के दैनिक वचन "केवल अंतिम दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनंत जीवन का मार्ग दे सकता है" (अंश 3) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के वचन के द्वारा सब कुछ प्राप्त हो जाता है" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के वचन के द्वारा सब कुछ प्राप्त हो जाता है" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर मनुष्य के जीवन का स्रोत है" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर मनुष्य के जीवन का स्रोत है" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन: अध्याय 26" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन: अध्याय 26" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य और मनुष्य का कार्य" (अंश 8)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य और मनुष्य का कार्य" (अंश 8) "सात गर्जनाएँ—भविष्यवाणी करती हैं कि राज्य के सुसमाचार पूरे ब्रह्माण्ड में फैल जाएंगे" (अंश 2)"सात गर्जनाएँ—भविष्यवाणी करती हैं कि राज्य के सुसमाचार पूरे ब्रह्माण्ड में फैल जाएंगे" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 6)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 6) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है" (अंश 3)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है" (अंश 3) मसीह के वचन "भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की सबसे अधिक आवश्यकता है" (अंश 6)मसीह के वचन "भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की सबसे अधिक आवश्यकता है" (अंश 6) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के स्वभाव और उसके कार्य के परिणाम को कैसे जानें" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के स्वभाव और उसके कार्य के परिणाम को कैसे जानें" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "केवल अंतिम दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनंत जीवन का मार्ग दे सकता है" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "केवल अंतिम दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनंत जीवन का मार्ग दे सकता है" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर मनुष्य के जीवन का स्रोत है" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर मनुष्य के जीवन का स्रोत है" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर सम्पूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियन्ता है" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है II" (अंश 8)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है II" (अंश 8) परमेश्वर के दैनिक वचन "केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "केवल परमेश्वर के प्रबंधन के मध्य ही मनुष्य बचाया जा सकता है" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर द्वारा धारण किये गए देह का सार" (अंश 4)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर द्वारा धारण किये गए देह का सार" (अंश 4) परमेश्वर के दैनिक वचन "आज परमेश्वर के कार्य को जानना" (अंश I)परमेश्वर के दैनिक वचन "आज परमेश्वर के कार्य को जानना" (अंश I) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर द्वारा धारण किये गए देह का सार" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर द्वारा धारण किये गए देह का सार" (अंश 1) परमेश्वर के वचन "क्या तुम जानते हो? परमेश्वर ने मनुष्यों के बीच एक बहुत बड़ा काम किया है" (अंश 1)परमेश्वर के वचन "क्या तुम जानते हो? परमेश्वर ने मनुष्यों के बीच एक बहुत बड़ा काम किया है" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर और मनुष्य एक साथ विश्राम में प्रवेश करेंगे" (अंश II)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर और मनुष्य एक साथ विश्राम में प्रवेश करेंगे" (अंश II) परमेश्वर के दैनिक वचन "केवल अंतिम दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनंत जीवन का मार्ग दे सकता है" (अंश I)परमेश्वर के दैनिक वचन "केवल अंतिम दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनंत जीवन का मार्ग दे सकता है" (अंश I) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है IX" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है IX" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर I" (अंश 5)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर I" (अंश 5) परमेश्वर के दैनिक वचन "तुम्हें मसीह की अनुकूलता में होने के तरीके की खोज करनी चाहिए" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "तुम्हें मसीह की अनुकूलता में होने के तरीके की खोज करनी चाहिए" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर और मनुष्य एक साथ विश्राम में प्रवेश करेंगे" (अंश 8)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर और मनुष्य एक साथ विश्राम में प्रवेश करेंगे" (अंश 8) मसीह के वचन "भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की सबसे अधिक आवश्यकता है" (अंश 2)मसीह के वचन "भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की सबसे अधिक आवश्यकता है" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 5)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 5) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर I" (अंश 6)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर I" (अंश 6) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य और मनुष्य का अभ्यास" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य और मनुष्य का अभ्यास" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "जब तक तुम यीशु के आध्यात्मिक शरीर को देखोगे, तब तक परमेश्वर स्वर्ग और पृथ्वी को नया बना चुका होगा" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "जब तक तुम यीशु के आध्यात्मिक शरीर को देखोगे, तब तक परमेश्वर स्वर्ग और पृथ्वी को नया बना चुका होगा" (अंश 1) मसीह के वचन "जो आज परमेश्वर के कार्य को जानते हैं केवल वे ही परमेश्वर की सेवा कर सकते हैं" (अंश 2)मसीह के वचन "जो आज परमेश्वर के कार्य को जानते हैं केवल वे ही परमेश्वर की सेवा कर सकते हैं" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "छुटकारे के युग में कार्य के पीछे की सच्ची कहानी" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "छुटकारे के युग में कार्य के पीछे की सच्ची कहानी" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 3)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 3) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 10)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 10) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 4)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 4) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है V" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है V" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 8)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 8) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 14)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 14) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" (अंश 12)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" (अंश 12) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है VII" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है VII" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है X" (अंश 3)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है X" (अंश 3) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है VI" (अंश 5)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है VI" (अंश 5) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है II" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है II" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 15)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 15) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 5)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 5) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 10)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 10) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 16)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 16) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 7)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III" (अंश 7) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर I" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर I" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 13)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 13) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है IX" (अंश 3)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है IX" (अंश 3) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 12)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 12) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 4)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 4) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है IX" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है IX" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 11)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 11) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर I" (अंश 8)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर I" (अंश 8) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 8)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 8) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 7)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 7) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है II" (अंश 5)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है II" (अंश 5) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 8)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 8) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है V" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है V" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 11)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 11) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" (अंश 4)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" (अंश 4) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है X" (अंश 2)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है X" (अंश 2) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" (अंश 11)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" (अंश 11) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है II" (अंश 10)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है II" (अंश 10) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" (अंश 10)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" (अंश 10) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" (अंश 3)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" (अंश 3) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के स्वभाव और उसके कार्य के परिणाम को कैसे जानें" (अंश 5)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के स्वभाव और उसके कार्य के परिणाम को कैसे जानें" (अंश 5) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 5)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 5) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर I" (अंश 1)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर I" (अंश 1) परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 14)परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है I" (अंश 14) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के स्वभाव और उसके कार्य के परिणाम को कैसे जानें" (अंश 7)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के स्वभाव और उसके कार्य के परिणाम को कैसे जानें" (अंश 7) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" (अंश 15)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II" (अंश 15) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश III)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश III) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 17)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश 17) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के स्वभाव और उसके कार्य के परिणाम को कैसे जानें" (अंश II)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के स्वभाव और उसके कार्य के परिणाम को कैसे जानें" (अंश II) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के स्वभाव और उसके कार्य के परिणाम को कैसे जानें" (अंश IV)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के स्वभाव और उसके कार्य के परिणाम को कैसे जानें" (अंश IV) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश IX)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश IX) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश X)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III" (अंश X) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के स्वभाव और उसके कार्य के परिणाम को कैसे जानें" (अंश VI)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर के स्वभाव और उसके कार्य के परिणाम को कैसे जानें" (अंश VI) परमेश्वर के वचन "परमेश्वर को जानना परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने का मार्ग है" (अंश III)परमेश्वर के वचन "परमेश्वर को जानना परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने का मार्ग है" (अंश III) परमेश्वर के वचन "परमेश्वर को जानना परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने का मार्ग है" (अंश I)परमेश्वर के वचन "परमेश्वर को जानना परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने का मार्ग है" (अंश I) परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर को जानना परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने का मार्ग है" (अंश II)परमेश्वर के दैनिक वचन "परमेश्वर को जानना परमेश्वर का भय मानने और बुराई से दूर रहने का मार्ग है" (अंश II)

परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है V" (अंश 2)

परमेश्वर के वचन के पाठ   55  

परमेश्वर के दैनिक वचन "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है V" (अंश 2)

अनुशंसित:

परमेश्वर के कथन "भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर के उद्धार की अधिक आवश्यकता है" (भाग एक)

https://hi.godfootsteps.org/videos/in-need-of-God-become-flesh-1-word.html

परमेश्वर के कथन "भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर के उद्धार की अधिक आवश्यकता है" (भाग दो)

https://hi.godfootsteps.org/videos/in-need-of-God-become-flesh-2-word.html

सर्वशक्तिमान परमेश्वर के कथन "तीन चेतावनियाँ" | The Warning of God to Man (Hindi)

https://hi.godfootsteps.org/videos/three-admonitions-word-2.html

सर्वशक्तिमान परमेश्वर के कथन "परमेश्वर के वचन के द्वारा सब कुछ प्राप्त हो जाता है" (भाग एक)

https://hi.godfootsteps.org/videos/achieved-by-word-of-God-word.html

चमकती पूर्वी बिजली, सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का सृजन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के प्रकट होने और उनका काम, परमेश्वर यीशु के दूसरे आगमन, अंतिम दिनों के मसीह की वजह से किया गया था। यह उन सभी लोगों से बना है जो अंतिम दिनों में सर्वशक्तिमान परमेश्वर के कार्य को स्वीकार करते हैं और उसके वचनों के द्वारा जीते और बचाए जाते हैं। यह पूरी तरह से सर्वशक्तिमान परमेश्वर द्वारा व्यक्तिगत रूप से स्थापित किया गया था और चरवाहे के रूप में उन्हीं के द्वारा नेतृत्व किया जाता है। इसे निश्चित रूप से किसी मानव द्वारा नहीं बनाया गया था। मसीह ही सत्य, मार्ग और जीवन है। परमेश्वर की भेड़ परमेश्वर की आवाज़ सुनती है। जब तक आप सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों को पढ़ते हैं, आप देखेंगे कि परमेश्वर प्रकट हो गए हैं।

विशेष वक्तव्य: यह वीडियो प्रस्तुति सर्वशक्तिमान परमेश्वर के कलीसिया द्वारा लाभ-के-लिए-नहीं (नॉट-फॉर प्रॉफिट) रचना के रूप में तैयार की गई थी। यह वीडियो किसी भी तीसरे पक्ष को लाभ के लिए वितरित नहीं किया जा सकता है, और हमें आशा है कि हर कोई इसे खुले तौर पर साझा और वितरित करेगा। जब आप इसे वितरित करते हैं, तो कृपया स्रोत पर ध्यान दें। सर्वशक्तिमान परमेश्वर के कलीसिया की सहमति के बिना, कोई भी संगठन, सामाजिक समूह या व्यक्ति इस वीडियो की सामग्री के साथ छेड़छाड़ नहीं कर सकता है या इसे गलत तरीके से प्रस्तुत नहीं कर सकता है।

ऐप को निशुल्क डाउनलोड करें

बेहतरीन वीडियो परमेश्वर के कार्य को समझने में आपकी मदद करेंगे

ऐप को निशुल्क डाउनलोड करें

बेहतरीन वीडियो परमेश्वर के कार्य को समझने में आपकी मदद करेंगे

अन्य श्रृंखलाओं में नवीनतम वीडियो