सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन "मसीह न्याय का कार्य सत्य के साथ करता है"

2436 |06 मई, 2020

यदि आपके कोई प्रश्न हों, तो कृपया हमसे सम्पर्क करें: http://bit.ly/2pVA2EI

सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन “मसीह न्याय का कार्य सत्य के साथ करता है”

सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं, “अंत के दिनों में, मसीह मनुष्य को सिखाने के लिए विभिन्न प्रकार की सच्चाइयों का उपयोग करता है, मनुष्य के सार को उजागर करता है, और उसके वचनों और कर्मों का विश्लेषण करता है। इन वचनों में विभिन्न सच्चाइयों का समावेश है, जैसे कि मनुष्य का कर्तव्य, मनुष्य को किस प्रकार परमेश्वर का आज्ञापालन करना चाहिए, हर अकेला व्यक्ति जो परमेश्वर के कार्य को मनुष्य को किस प्रकार परमेश्वर के प्रति निष्ठावान होना चाहिए, मनुष्य को किस प्रकार सामान्य मानवता से, और साथ ही परमेश्वर की बुद्धि और उसके स्वभाव इत्यादि को जीना चाहिए। ये सभी वचन मनुष्य के सार और उसके भ्रष्ट स्वभाव पर निर्देशित हैं। खासतौर पर, वे वचन जो यह उजागर करते हैं कि मनुष्य किस प्रकार से परमेश्वर का तिरस्कार करता है इस संबंध में बोले गए हैं कि किस प्रकार से मनुष्य शैतान का मूर्त रूप और परमेश्वर के विरूद्ध दुश्मन की शक्ति है। अपने न्याय का कार्य करने में, परमेश्वर केवल कुछ वचनों से ही मनुष्य की प्रकृति को स्पष्ट नहीं करता है; वह लम्बे समय तक इसे उजागर करता है, इससे निपटता है, और इसकी काट-छाँट करता है। उजागर करने की इन विधियों, निपटने, और काट-छाँट को साधारण वचनों से नहीं, बल्कि सत्य से प्रतिस्थापित किया जा सकता है, जिसे मनुष्य बिल्कुल भी धारण नहीं करता है। केवल इस तरीके की विधियाँ ही न्याय समझी जाती हैं; केवल इसी तरह के न्याय के माध्यम से ही मनुष्य को वश में किया जा सकता है और परमेश्वर के प्रति समर्पण में पूरी तरह से आश्वस्त किया जा सकता है, और इसके अलावा मनुष्य परमेश्वर का सच्चा ज्ञान प्राप्त कर सकता है। न्याय का कार्य जिस चीज़ को उत्पन्न करता है वह है परमेश्वर के असली चेहरे और उसकी स्वयं की विद्रोहशीलता के सत्य के बारे में मनुष्य में समझ। न्याय का कार्य मनुष्य को परमेश्वर की इच्छा की, परमेश्वर के कार्य के उद्देश्य की, और उन रहस्यों की अधिक समझ प्राप्त करने देता है जो उसके लिए अबोधगम्य हैं। यह मनुष्य को उसके भ्रष्ट सार तथा उसकी भ्रष्टता के मूल को पहचानने और जानने, साथ ही मनुष्य की कुरूपता को खोजने देता है। ये सभी प्रभाव न्याय के कार्य के द्वारा निष्पादित होते हैं, क्योंकि इस कार्य का सार वास्तव में उन सभी के लिए परमेश्वर के सत्य, मार्ग और जीवन का मार्ग प्रशस्त करने का कार्य है जिनका उस पर विश्वास है।”

अनुशंसित:

सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन “परमेश्वर मनुष्य के जीवन का स्रोत है”

https://hi.godfootsteps.org/videos/God-is-the-source-of-man-s-life-word.html

सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन “परमेश्वर का प्रकटीकरण एक नया युग लाया है”

https://hi.godfootsteps.org/videos/God-has-ushered-new-age-word.html

सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन “विश्वासियों को क्या दृष्टिकोण रखना चाहिए”

https://hi.godfootsteps.org/videos/viewpoint-believers-ought-to-hold-word.html

सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन “बुलाए हुए बहुत हैं, परन्तु चुने हुए कुछ ही हैं”

https://hi.godfootsteps.org/videos/many-are-called-but-few-are-chosen-word.html

सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन “परमेश्वर और मनुष्य एक साथ विश्राम में प्रवेश करेंगे” (अंश 1)

https://hi.godfootsteps.org/videos/taking-man-to-wonderful-destination-excerpt-1.html

सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया के एप्स डाउनलोड करने के लिए आपका स्वागत है।

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

Leave a Reply

साझा करें

रद्द करें