सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

भाग्य से जूझने के उन दिनों को विदाई

21

इशिन

एक पिछड़ा हुआ देहाती गाँव, अपने काम से थके हुए मेरे माता-पिता, वित्तीय कठिनाइयों का एक जीवन... मेरे युवा दिमाग पर इन उदास यादों की छाप पड़ी हुई थी, "भाग्य" के बारे में यह मेरी पहली धारणा थी। स्कूल जाना शुरू करने के बाद, जब मैंने पहली बार मेरे शिक्षक को यह कहते हुए सुना कि "तुम अपने भाग्य को अपने ही हाथों से नियंत्रित करते हो", तो मैंने इन शब्दों को दृढ़ता से मेरे मानस में रख लिया। मेरा मानना था कि हालांकि मैं इस तथ्य को नहीं बदल सकती थी कि मैं गरीबी में पैदा हुई थी, फिर भी कड़ी मेहनत के द्वारा मैं अपने भाग्य को बदल सकती थी। परिणामस्वरूप, अपने "भाग्य" के साथ कुश्ती करने के लिए और स्वर्ग का एक ऐसा टुकड़ा हासिल करने के लिए जिसे मैं अपना कह सकूँ, मैंने अपना पूरा ज़ोर लगा दिया।

मेरी पढाई में एक बाधा

पीढ़ियों से, अनगिनत छात्रों की तरह, अध्ययन करने और कॉलेज जाने का मेरा दृढ़ संकल्प मेरे भाग्य को बदलने में पहला कदम था। इस लक्ष्य की ओर, मैंने कड़ी मेहनत के साथ पढाई की। जब मैं कक्षा में रहती तो मैं ध्यान से सुना करती थी, कक्षा के बाहर जब अन्य छात्र खेल रहे होते थे, मैं तब भी पढ़ती रहती थी, और अक्सर देर रात तक किताबों में गहरी डूबी रहती थी। अध्ययन में मेरे कठोर परिश्रम के कारण, मेरे अंक हमेशा बेहतरीन हुआ करते थे। जब जब मेरे शिक्षकों या सहपाठियों की मुझ पर प्रशंसा भरी दृष्टि पड़ती, यह मेरे दृढ़ विश्वास को और मज़बूत कर देती थी कि "संसार में मेरी अपनी एक जगह बनाने के लिए मुझे अपने दो हाथों पर भरोसा करना है।" लेकिन दुनिया के तरीक़े अप्रत्याशित होते हैं। जब मैं इन सुन्दर आदर्शों के लिए प्रयास कर रही थी तो मेरे पिता अचानक बीमार पड़ गए। जाँच के बाद हमने पाया कि उनको सूत्रण रोग (सिरोसिस) था, और यह पहले ही मध्य अवस्था तक बढ़ चुका था। बीमारी के कारण मेरे पिता का पूरा शरीर सूज गया था, और न केवल वे काम करने में असमर्थ थे, उन्हें डॉक्टर के दौरों पर भी बहुत पैसा खर्च करना पड़ा। कुछ समय के लिए, घर के सभी काम के साथ-साथ 3 एकड़ भूमि पर खेत का काम, मेरी माँ के कन्धों पर आ पड़ा, और साथ ही मेरी माँ भी एक गंभीर स्त्री-रोग संबंधी बीमारी के तहत आ गई। एक दिन मेरे पिता ने एक दुःख से भारी चेहरे के साथ मुझसे कहा: "बेटी, अभी हमारा पूरा परिवार सिर्फ तुम्हारी माँ के सहारे पर निर्भर है। उनका बोझ बहुत भारी है। चार बच्चों की एक वर्ष की पढाई के लिए बहुत पैसा लगता है। हमारे पास वास्तव में तुम सभी को स्कूली शिक्षा प्रदान करने का कोई तरीक़ा नहीं है। तुम सबसे बड़ी हो, इसलिए तुम्हें अपने भाइयों और बहनों के बारे में सोचना चाहिए। क्यों न तुम स्कूल जाना छोड़ दो ताकि हम तुम्हारे भाइयों और बहनों को यह मौका दे सकें?" मेरे पिता के शब्दों को सुनने के बाद, मुझे अपने दिल में एक अभिभूत करने वाली पीड़ा महसूस हुई: मैंने हमेशा कड़ी मेहनत से पढाई करने और एक विशेष व्यक्ति बनने की आशा की थी, लेकिन अगर मैं अपने पिता की यह इच्छा मान लेती हूँ कि मैं अपनी पढ़ाई छोड़ दूँ, तो क्या मेरी समस्त संभावनाएँ और उम्मीदें पूरी तरह से ओझल नहीं हो जाएँगी?! मेरी आँखें आँसुओं से डबडबा गई थीं, और मुझे अपने दिल में बहुत उदासी महसूस हुई। मुझे पता था कि मेरे पिता ने इन शब्दों को कहने से पहले लंबे समय तक सोचा था, और मेरी बीमार माँ को देखकर, मैं उन पर इतना भारी बोझ नहीं डाल सकी। मेरे परिवार की दरिद्र वित्तीय स्थिति को देखते हुए, मैंने अपने पिता की इच्छाओं को मान लिया क्योंकि मेरे पास वर्तमान स्थिति से समझौता कर लेने और आंसुओं से लड़ने के अलावा कोई विकल्प नहीं था।

आपदा से बाल-बाल बच निकलना

अभी मैं छोटी थी और मैंने जूनियर हाईस्कूल की पढ़ाई पूरी नहीं की थी, लेकिन मैं महत्वाकांक्षा से भरपूर थी। हालांकि मैं अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर पाई थी, फिर भी पैसे कमाने के लिए एक अस्थायी नौकरी पाने पर मैंने अपना ध्यान केन्द्रित किया। मेरा मानना था कि कड़ी मेहनत के द्वारा मैं अब भी अपना भाग्य बदल सकती थी। अधिक समय पहले ही, एक रिश्तेदार के परिचय की मदद से मैं कपड़े के एक कारखाने में काम करने के लिए शहर चली गई। अधिक पैसे कमाने के लिए मैं जितनी अधिक मेहनत कर सकती थी, मैंने की। जहाँ अन्य लोग एक साथ दो मशीनों को देखा करते थे, मैंने एक साथ चार मशीनों को संभाला, और जब दूसरे अवकाश लिया करते थे, तो मैं काम करते ही रहती थी। प्रबंधकर्ता ने देखा कि मैं भरोसेमंद और काबिल थी, और उसने मेरे काम करने के पाँच महीने के भीतर ही मेरी तनख्वाह को बढ़ा कर लंबे समय से काम करने वाले कर्मचारियों के बराबर कर दी। मेरे सहकर्मी मुझे ईर्ष्या से देखा करते थे।

उस वर्ष जब मैं अपनी सफलता पर गर्व महसूस कर रही थी और कड़ी मेहनत करते रहना चाहती थी, माँ ने मुझे सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अंतिम दिनों के सुसमाचार के बारे में बताया। माँ ने मुझसे कहा कि परमेश्वर सभी चीज़ों पर शासन करता है और उनकी व्यवस्था करता है, और हर किसी का भाग्य परमेश्वर के हाथों से नियन्त्रित होता है, लेकिन मेरे अभिमानी और अहंकारी मन में केवल यही विश्वास था कि "तुम अपने भाग्य को अपने ही हाथों से नियंत्रित करते हो," और मैंने अपनी माँ की बातों को अनसुना कर दिया। इस प्रकार, परमेश्वर के उद्धार के साथ मेरे संक्षिप्त साक्षात्कार में, अपनी माँ के द्वारा प्रचारित सुसमाचार को मैंने स्वीकार नहीं किया, बल्कि मैंने दुनिया में संघर्ष और लड़ाई करना जारी रखा।

मैं कई सालों तक इसी तरह से चलती रही, और मेरी जिंदगी स्थिर होने लगी। मेरे पास न केवल अपने लिए थोड़ी सी बचत थी, मैं अक्सर अपने परिवार को भी कुछ मदद कर पाती थी। मैंने महसूस किया कि अगर मैं कड़ी मेहनत करते रहती हूँ, तो मुझे निश्चित रूप से उज्ज्वल और असीम संभावनाएँ हासिल होंगी। जब मैं धन और दैहिक सुख के प्रवाह में खो रही थी, एक अप्रत्याशित कार दुर्घटना ने मेरी समस्त जीवन-योजना को तोड़ दिया। मैं एक अस्पताल के बिस्तर में तीन दिन और तीन रात तक बेहोश रही, और जब मैं जागी तो मैं कुछ भी नहीं बोल सकी थी। मैं बस एक गूँगे की तरह थी। जब डॉक्टर ने मुझे बिस्तर से उतरकर थोड़ा चलने-फिरने दिया तभी मुझे एहसास हुआ कि मेरी गंभीर चोट के कारण मैं अपने शरीर के पूरे बाएँ भाग को हिला-डुला भी नहीं सकती थी। ऐसा कोई तरीक़ा नहीं था कि मैं इस वास्तविकता को स्वीकार कर सकूँ, मैं केवल बीस साल की थी! अगर अब से मुझे हमेशा इस तरह बिस्तर में लकवा-ग्रस्त रहना पड़ा, तो क्या मेरा शानदार यौवन बर्बाद नहीं हो जाएगा? मेरा सुंदर जीवन शुरू भी नहीं हुआ था, और क्या यह वास्तव में खत्म हो सकता है? मैं दुखी थी और दिल टूट गया था, मैं रोना चाहती थी लेकिन मैंने आँसू न गिराए, और मुझे नहीं पता था कि भविष्य का सामना कैसे किया जाए। ...इस समय, मेरी माँ मुझे सांत्वना देने के लिए मेरे पास आईं। उन्होंने मुझसे कहा, "बेटी, ऐसा इसीलिए था कि परमेश्वर तुम्हारी रक्षा करता है, कि तुम जाग उठी! क्या तुम नहीं जानती? डॉक्टर ने कहा था कि भले ही तुम जाग जाओ, तुम सब्ज़ी की तरह निश्चल पड़ी रहोगी। जैसे ही तुम्हारे पिता ने और मैंने यह सुना, हमारे दिल ठिठुर गए थे। पिछले कई दिनों से मैं लगातार परमेश्वर से प्रार्थना किए जा रही हूँ, तुम्हें परमेश्वर के हाथों में सौंप रही हूँ, और परमेश्वर की संप्रभुता को समर्पित हो जाने के लिए तैयार हूँ। परमेश्वर को धन्यवाद! देखो, अब तुम जाग गई हो। यह परमेश्वर की तुम पर दया है। यह परमेश्वर की कृपापूर्ण इच्छा है कि यह कार दुर्घटना तुम पर आ पड़ी! हालाँकि हमने देह का कुछ दर्द सहा है, क्या यह इस तरह की स्थिति का सामना करने के कारण ही नहीं है कि हम संसार से हट कर परमेश्वर की ओर मुड़ सकते हैं? बेटी, तुम्हें तुरंत परमेश्वर पर विश्वास करना शुरू कर देना चाहिए!" जब मैंने देखा कि मेरे लिए सुसमाचार का प्रचार करते हुए माँ अपने आँसुओं को रोक रही थी, मेरा दिल अंततः द्रवित हो गया। माँ ने कहा कि जब मैं बेहोश थी, वे लगातार परमेश्वर से प्रार्थना कर रही थीं। चाहे मेरे लिए जागना संभव हो या नहीं, किसी भी परिस्थिति में वे परमेश्वर के नियोजन और व्यवस्था के प्रति समर्पण करने को तैयार थीं। उन्होंने वास्तव में नहीं सोचा था कि मैं जाग उठूँगी। जब मैं ये सब सुन रही थी, मुझे लगा कि परमेश्वर वास्तव में महान है! हालांकि मैंने उनके उद्धार को नकार दिया था, उसने मेरा त्याग नहीं किया था। जब मुझ पर विपदा गिर पड़ी, तो उसकी सुरक्षा मेरे साथ थी। उसने मुझ पर दया की और मेरी रक्षा की, और उसने मुझे मृत्यु से बचा लिया। परमेश्वर के प्रति कुछ सराहना महसूस करना शुरू किये बिना मैं न रह सकी। परमेश्वर की देखभाल और सुरक्षा के कारण मेरा शरीर बहुत तेज़ी से ठीक हो गया, और निर्धारित समय से एक महीने पहले ही मुझे अस्पताल से छुट्टी मिल गई।

गलत तरीक़े से चीज़ों को करते रहना

हालांकि मैंने परमेश्वर के प्यार और दया का आनंद लिया था, परमेश्वर में विश्वास करने के वास्तविक महत्व को मैं अभी भी नहीं समझती थी, इसलिए मैंने परमेश्वर पर विश्वास करने की बात को गंभीरता से नहीं लिया। जब मेरा शरीर कुछ ठीक हो गया, माँ ने सुझाव दिया कि जीविका के लिए मुझे घर के करीब कोई काम ढूँढ लेना चाहिए, और उन्होंने उम्मीद की कि मैं अपने अवकाश के समय को परमेश्वर में विश्वास करने पर अधिक खर्च करुँगी। लेकिन मैं इस तरह के जीवन को जीने के लिए तैयार नहीं थी। मेरे पैर की चोट पूरी तरह से ठीक हो जाए तब तक मैंने इंतज़ार किया और फिर एक अस्थायी नौकरी करने के लिए बिना किसी हिचकिचाहट के घर छोड़ दिया। इस नौकरी के दौरान मैं एक लड़के के संपर्क में आई, और कुछ समय के लिए एक दूसरे के प्रति प्रेम जताने के बाद, उसने मुझसे शादी करने के लिए कहा, और मुझसे वादा किया कि वह हमारे शेष जीवन भर मुझे प्यार करेगा। मैंने सोचा कि सालों-साल मेरी पढ़ाई में कैसे रूकावट हुई थी, मुझे किस तरह से सड़क की एक दुर्घटना का सामना करना पड़ा था, और कैसे इन प्रयासों के बाद भी मैं अपने भाग्य को बदलने में सक्षम नहीं रही थी। इसलिए इस बार मैंने अपना भाग्य बदलने की मेरी आशा इस विवाह पर टिका दी। अगर मैंने एक ऐसे व्यक्ति से शादी की जो जीवन भर मुझसे प्यार करने का वादा करने को तैयार था, तो मेरे जीवन का उत्तरार्द्ध निश्चित रूप से खुशहाल और आनंददायक होगा। विवाह-मंडप में मैं मेरे साथ एक सुंदर जीवन के इस सपने को लेकर गई थी। लेकिन अप्रत्याशित रूप से, जैसे ही मेरी शादी हो गई, तो यह बिलकुल वैसा नहीं था जिसकी मैंने कल्पना की थी। मेरे पति अक्सर परेशान मामलों के कारण मुझसे झगड़ा किया करते थे, और मेरी सास भी मेरे प्रति उत्साहहीन थी, और मेरे पति को मुझसे झगड़ा करने के लिए उकसाया भी करती थी। ... मैं किसी की भी सांत्वना के बिना पीड़ा में जीती रही। और भी, जिस परिवार में मेरा विवाह हुआ था वह बहुत दूर रहता था, इसलिए मेरे आस-पास कोई भी नहीं था जिससे मैं खुलकर अपने दिल की बात कह सकूँ। असहायता की इस भावना में रहकर, मैं अब यही कर सकी कि फिर से किसी अस्थायी नौकरी की तलाश में चली गई। चूँकि मेरे पति और मैं दो अलग-अलग स्थानों में रहते थे, हमें अजनबियों की तरह महसूस करने में अधिक समय नहीं लगा। विवाह के पाँच साल बाद मेरे पति ने तलाक लेने की बात की, और मुझे बताया कि वह पहले से ही एक अन्य महिला से मिल चुका था जिसे वह अधिक पसंद करता था। जब मैंने उसे यह कहते हुए सुना, तो मुझे अपना दिमाग़ पूरी तरह से खाली महसूस हुआ, और मैंने मन ही मन सोचा, "मैं क्या करूँ? हर कोई कहता है कि तलाक एक महिला के लिए आधा ही जीने के बराबर है, तो मुझे अपने जीवन के बाक़ी हिस्से को कैसे जीना चाहिए?" अपने तलाक प्रमाण पत्र पर हस्ताक्षर करने के बाद ही, मैं खोई-खोई सी घर वापस जाने के लिए ट्रेन में सामान रख रही थी, और मैं फूट-फूट कर रो पड़ी। मुझे इस दुनिया में रहते लोगों के दर्द का गहराई से अनुभव था, और उससे भी अधिक, आने वाले जीवन में उस अभूतपूर्व अकेलेपन का एहसास था जो मेरे सामने था। यह दुनिया इतनी बड़ी थी लेकिन वहाँ कोई जगह नहीं थी जहाँ मैं रह सकूँ। मैंने काफी उजाड़ महसूस किया। इसे खत्म करने के लिए मैं वास्तव में खुद को मार डालना चाहती थी। लेकिन फिर मैंने अपने माता-पिता के बारे में सोचा जो हर गुज़रते दिन के साथ और बूढ़े हो रहे थे, और मुझे हिचकिचाहट हुई: अगर मैं मर गई, तो मेरे माता-पिता का दुख उनके साथ क्या कर डालेगा! इसका तो प्रश्न ही नहीं उठता था। मैं उस तरह से नहीं मर सकती थी। मुझे अपने आँसुओं को पोंछना होगा, मजबूरी को स्वीकार करना होगा और जीते रहना होगा।

एक उड़ाऊ पुत्र का घर लौटना

जब मैं घर लौटी, माँ ने एक बार फिर परमेश्वर के वचन के बारे में मेरे साथ सहभागिता की। मैंने माँ के हाथों से किताब ली और परमेश्वर के वचनों को पढ़ा: "जब तुम रोते हुए इस संसार में आते हो, उस समय तुम अपना कार्य करना प्रारम्भ कर देते हो। तुम परमेश्वर की योजना और विधान में अपनी भूमिका को अपना लेते हो। तुम अपने जीवन की यात्रा प्रारम्भ कर देते हो। तुम्हारी कैसी भी पृष्ठभूमि हो और तुम्हारे सामने कैसी भी यात्रा हो, स्वर्ग में रखी हुई योजनाओं और प्रबंधों से कोई भी बचकर नहीं भाग सकता और कोई भी अपने भाग्य पर नियंत्रण नहीं कर सकता, क्योंकि जो सभी बातों पर शासन करता है वही केवल ऐसे कार्यों को करने के योग्य है" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "परमेश्वर मनुष्य के जीवन का स्रोत है")। "तुम उस दुष्ट शक्ति के साथ चलते आ रहे हो। हजारों वर्षों से तुम उस दुष्ट शक्ति के साथ आंधी तूफान में से होकर चलते रहे हो। उससे मिलकर तुमने परमेश्वर का विरोध किया, जो तुम्हारे जीवन का स्त्रोत था। तुम पश्चताप नहीं करते, अब तुम जान लो कि तुम नाश के चरम बिंदु पर जा पहुंचे हो। तुम भूल बैठे कि दुष्ट शक्ति ने तुम्हें प्रलोभित किया, तुम्हें सताया; तुम अपने मूल को भूल गए। ठीक इसी तरह दुष्ट शक्ति तुम्हें प्रत्येक कदम पर अभी भी हानि पहुंचा रही है। तुम्हारा हृदय और तुम्हारी आत्मा ज्ञानहीन और रद्दी हो गये हैं। तुम अब संसार की व्याकुलता को लेकर शिकायत नहीं करते, ऐसा विश्वास ही नहीं करते कि संसार अधर्म से भरा है। तुम तो सर्वशक्तिमान के अस्तित्व की परवाह तक नहीं करते। यह इसलिए है क्योंकि तुमने दुष्ट शक्ति को अपना सच्चा पिता मान लिया है, और तुम अब उससे अलग नहीं हो सकते। यह तुम्हारे हृदय का एक राज़ है" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "सर्वशक्तिमान का आह भरना")।

परमेश्वर के वचनों को पढ़ने के बाद, मैं समझ गई। परमेश्वर स्वर्ग, पृथ्वी और सभी चीज़ों का रचयिता और शासक है, और इससे भी ज्यादा व मानवजाति के लिए जीवन का स्रोत है। हर किसी का भाग्य परमेश्वर के हाथों से शासित और नियंत्रित होता है। लेकिन मैं वास्तव में परमेश्वर में विश्वास नहीं करती थी, और मुझे परमेश्वर की संप्रभुता का सही ज्ञान नहीं था। मैंने जीने के लिए अभी भी शैतान के उस बीज पर निर्भर किया था जो मेरे भीतर गहराई से बोया गया था, जो मुझसे कहता था कि "तुम अपने भाग्य को अपने हाथों में नियंत्रित करते हैं।" मैंने अभी भी परमेश्वर की संप्रभुता और व्यवस्था को दूर फेंक कर, अपने आप पर भरोसा कर स्वर्ग के एक टुकड़े की तलाश में दुनिया में भटकने का व्यर्थ ही प्रयास किया। मैंने पिछले दशक के बारे में सोचा कि कैसे, मेरे भाग्य को बदलने के लिए मैंने कड़ी मेहनत से पढ़ाई की और पैसे कमाने के लिए संघर्ष किया था। बाद में, एक कार दुर्घटना के बाद, परमेश्वर ने मुझे संरक्षित किया और मुझे आपदा से बचने में मदद की, जिससे मेरा शरीर चमत्कारी रूप से ठीक हो गया। लेकिन मुझे विश्वास दिलाने के लिए किए गए माँ के प्रयासों के बावजूद, मैं अभी भी सच्चाई को देख नहीं रही थी। मैंने सुसमाचार को स्वीकार नहीं किया और मैं परमेश्वर के सामने नहीं आई, बल्कि मैं अपनी योजनाएँ बनाने की महत्वाकांक्षा और इच्छा पर निर्भर रही, और यही पता लगाते रही कि भविष्य में मेरी जिंदगी किस राह पर जा रही थी। फिर मैंने एक बार अपने जीवन की खुशी शादी पर टिकाई थी। मैंने सोचा था कि यदि मुझे विवाह करने के लिए कोई ऐसा मिल गया था जो मेरे लिए प्रतिबद्ध रह सकेगा और मुझे जीवन भर प्यार करेगा, और मैं निश्चित रूप से खुश रहूँगी, लेकिन अंत में एक असफल विवाह ने मुझे असीम पीड़ा दी थी। ...मैंने इस बात पर ज़ोर दिया था कि "तुम अपने भाग्य को अपने ही हाथों से नियंत्रित करते हो," और यह मान लिया था कि अपनी कड़ी मेहनत पर भरोसा करके मैं अपना भाग्य बदल सकती थी, और अंततः एक ऐसा दिन आएगा जब मैं निश्चित रूप से सफल हो जाऊँगी। लेकिन इतने सालों बाद, क्षतिग्रस्त और आहत होने के बाद, मुँहतोड़ पराजय के बाद, पीड़ा और दुःख के अलावा मुझे और कुछ भी नहीं मिला था। अतीत की केवल इस बात पर ध्यान देकर कि मैंने शैतान के ज़हर पर कैसे भरोसा कर लिया था, यह कैसे मेरे भाग्य के साथ प्रतिस्पर्धा में था, मैंने देखा कि मैंने परमेश्वर के अधिकार को नहीं पहचाना था, कि केवल मेरी अपनी क्षमताओं पर भरोसा करके मैं परमेश्वर की संप्रभुता का तिरस्कार कर रही थी। यह वास्तव में बहुत बेवकूफ़ी और मूर्खता का काम था! हालांकि मैंने खुद को परमेश्वर से दूर रखा और परमेश्वर की आवाज़ को सुनने से इनकार कर दिया, परमेश्वर ने मुझे फिर भी क्षमा कर दिया और मुझे सहन किया, और चुपचाप मेरा इंतजार किया, और मेरे दिल और मेरी आत्मा को जागृत करने के लिए मेरे परिवेश बनाए। माँ द्वारा मुझे एक बार फिर सुसमाचार फैलाने के माध्यम से परमेश्वर के सामने वापस लाया गया था। इस पल में, मुझे अंतहीन पछतावा है, लेकिन मैं अपने दिल में परमेश्वर के प्रति कृतज्ञता और आभार से भरी हुई हूँ, और मैं आँसुओं को मेरे चेहरे पर टपकने से रोक न सकी।

खुशी को पा लेना

परमेश्वर के सामने लौटने, और परमेश्वर के वचन से सींचित होने के आनंद ने मेरी घायल भावना को धीरे धीरे ठीक कर दिया। बाद में, एक पड़ोसी बहन ने मेरे तलाक के बारे में जाना और एक साथी के साथ मेरा परिचय कराना चाहा। इस बार मैंने सक्रिय रूप से माँ की राय ली। माँ ने मेरे लिए खुद निर्णय नहीं लिया, बल्कि उन्होंने मुझसे परमेश्वर की इच्छा तलाशने के लिए प्रार्थना करवाई। मैं परमेश्वर के सामने प्रार्थना करने के लिए आई, और मेरी शादी के मामले को परमेश्वर के हाथों में सौंप दिया। प्रार्थना करने के बाद, मुझे अपने दिल में बहुत शांति का अनुभव हुआ, और इसने मुझे परमेश्वर के वचन से एक अंश का स्मरण करा दिया: "मनुष्य की नियति को परमेश्वर के हाथों के द्वारा नियन्त्रित किया जाता है। आप स्वयं को नियन्त्रित करने में असमर्थ हैं: इसके बावजूद हमेशा स्वयं के लिए दौड़-भाग करते एवं व्यस्त रहते हैं, मनुष्य स्वयं को नियन्त्रित करने में असमर्थ बना रहता है। यदि आप अपने स्वयं के भविष्य की संभावनाओं को जान सकते, यदि आप अपनी स्वयं की नियति को नियन्त्रित कर सकते, तो क्या आप तब भी एक प्राणी ही होते? ...मनुष्य की मंज़िल सृष्टिकर्ता के हाथ में होती है, अतः मनुष्य स्वयं का नियन्त्रण कैसे कर सकता है?" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "मनुष्य के सामान्य जीवन को पुनःस्थापित करना और उसे एक बेहतरीन मंज़िल पर ले चलना")। यह सच है। मेरा भाग्य परमेश्वर के हाथों से नियंत्रित होता है। मेरे विवाह को कैसा होना है वह परमेश्वर द्वारा निर्धारित और व्यवस्थित है। मैं अपनी खुद की माँगों और मानकों के आधार पर अपनी पसंद को तय नहीं कर सकती, जैसा कि मैंने अतीत में किया था। अपने जीवन के उत्तरार्ध में मेरा जीवन कैसा होगा, मुझे कैसा पति मिलेगा, मेरा विश्वास है कि यह सब परमेश्वर द्वारा पूर्व-निर्धारित और व्यवस्थित है। मुझे अब जो करने की ज़रूरत है वह परमेश्वर की इच्छा को खोजना, परमेश्वर के नेतृत्व का पालन करना, और परमेश्वर की संप्रभुता के प्रति समर्पित होना, है।

जिस दिन हम मिले थे मैंने देखा कि वह व्यक्ति बहुत लंबा नहीं था, और न ही वह बातें करने में बहुत कुशल था। एक पति को चुनने के मेरे पिछले मानकों के आधार पर, मैं निश्चित रूप से ऐसे साथी की तलाश करती जो वास्तव में अच्छी तरह से बातें कर सकता हो, या जो लंबा और सुंदर हो, लेकिन इस बार मैंने जल्दबाज़ी में पड़कर इनकार नहीं किया। इसके बजाए, मैं इस बात के लिए राजी हो गई कि हम कुछ समय के लिए एक दूसरे को जान लें। उसके बाद के दिनों में मैंने पाया कि हालांकि वह मोहक या रोमांटिक नहीं था, वह दूसरों के प्रति ईमानदार और विचारशील था, अपने कर्तव्यों में अडिग था, और सबसे महत्वपूर्ण बात यह थी कि उसने परमेश्वर में मेरे विश्वास का समर्थन किया। मुझे लगा कि उसे ही वो पति होना चाहिए जिसे परमेश्वर ने मेरे लिए व्यवस्थित किया था। कुछ समय के लिए एक-दूसरे को जानने के बाद हमने शादी कर ली। शादी के बाद, मेरे पति का परिवार मेरे लिए बहुत भला था, और वे सभी परमेश्वर में मेरे विश्वास का समर्थन किया करते थे। जब (कलीसिया के) भाई-बहन हमारे घर में इकट्ठे होते हैं, तो वे सभी हमारे मेहमानों का स्वागत करते हैं। मुझे बहुत खुशी होती है, और मेरा दिल बहुत संतुष्ट महसूस करता है। मेरे दिल में मैं परमेश्वर के अनुग्रह और आशीर्वाद के लिए आभारी हूँ। परमेश्वर कहता है: "जब तू सचमुच में जानता है, जब तू सचमुच में एहसास करता है कि परमेश्वर के पास मनुष्य की नियति के ऊपर संप्रभुता है, जब तू सचमुच समझता है कि हर चीज़ जिसकी परमेश्वर ने तेरे लिए योजना बनाई और निश्चित की है तो उसका बड़ा लाभ है, और वह एक बहुत बड़ी सुरक्षा है, तो तुम महसूस करते हो कि तुम्हारा दर्द आहिस्ता आहिस्ता कम हुआ है, और तुम्हारा सम्पूर्ण अस्तित्व शांत, स्वतंत्र, एवं बन्धन मुक्त हो गया है" ("वचन देह में प्रकट होता है" से "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है III")।

परमेश्वर के वचनों से मैं यह पहचान सकी कि केवल परमेश्वर ही उन चीज़ों को समझता है जिनकी हर व्यक्ति को ज़रुरत होती है। वह हमारी सभी परिस्थितियों को देखता है, और हम पर केवल उसी की संप्रभुता है और सर्वोत्तम संभव तरीके से वह हमारे लिए सब कुछ व्यवस्थित कर देता है। अब मैंने परमेश्वर का उद्धार प्राप्त कर लिया है और मैं उसके सामने आ गई हूँ। मुझे परमेश्वर के वचन से प्राप्त सींचन और आपूर्ति से आनंद मिलता है, और काम, परिवार और विवाह में मेरे अनुभवों के माध्यम से, मैं उस शैतानी नियम को हल करने में सक्षम हूँ जो मेरे भीतर रहता था और जिसने मुझे बताया था कि "तुम अपने भाग्य को अपने ही हाथों से नियंत्रित करते हो।" मैंने यह जान लिया है कि ये शैतानी शब्द हैं जो मनुष्यों को धोखा देते और भ्रष्ट करते हैं, और परमेश्वर से खुद को दूर कर देने के लिए उन्हें छलते हैं। साथ ही, मुझे यह भी स्पष्ट रूप से समझ में आ गया है कि मानवजाति परमेश्वर द्वारा बनाई गई थी, कि हमारा पूरा जीवन परमेश्वर द्वारा प्रबंधित और प्रशासित होता है, और कोई भी इसके परे नहीं हो सकता है, और न ही कोई इसे नियंत्रित कर सकता है। अपने भाग्य को बदलने के लिए हम खुद पर भरोसा करने का व्यर्थ प्रयास करते हैं, और केवल पराजित और पीड़ित होते हैं। यह रचयिता के अधिकार की एक अभिव्यक्ति है। परमेश्वर ने मुझे शैतान के क्षेत्र के अधीन होने से बचा लिया है। मैं परमेश्वर के सामने लौट आई हूँ, परमेश्वर ने सच्चाई को समझने में मेरी अगुआई की है, और अंततः मैं मानव जीवन के सच्चे और सही मार्ग पर चल रही हूँ। जिन चीज़ों का मैंने अनुभव किया है उनके माध्यम से, मुझे सचमुच यह महसूस हुआ है कि इस दुनिया में धन-दौलत, मान-सम्मान और सभी भौतिक चीज़ें खाली हैं, कि जीने के लिए तुम केवल परमेश्वर के वचन पर भरोसा कर सकते हो। केवल तभी तुम्हारा ह्रदय स्थिर और शांत रहेगा। यह वो सबसे बड़ा प्यार तथा आशीर्वाद है जो परमेश्वर ने मुझे दिया है। ज्यों-ज्यों मैं अपनी यात्रा जारी रखती हूँ, मुझे केवल एक ही बात प्रभावित करती है: अज्ञानी मनुष्य जो परमेश्वर का विरोध करते हैं, सर्वाधिक पीड़ा में जीते हैं, और केवल बुद्धिमान मनुष्य जो परमेश्वर की संप्रभुता को समर्पित हो जाते हैं, मुक्त और प्रसन्न हैं!