परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर द्वारा धारण किये गए देह का सार" | अंश 102

पहले देहधारी परमेश्वर ने देहधारण के कार्य को पूर्ण नहीं किया; उसने उस कार्य के पहले चरण को ही पूर्ण किया जिसे देह में होकर करना परमेश्वर के लिए आवश्यक था। इसलिए, देहधारण के कार्य को समाप्त करने के लिए, परमेश्वर एक बार पुनः देह में वापस आया, देह की समस्त सामान्यता और वास्तविकता में जीवित रहा, अर्थात्, पूरी सामान्य और साधारण देह में परमेश्वर के वचन को प्रकट किया, इस प्रकार उस कार्य का समापन किया जिसे उसने देह में अधूरा छोड़ दिया था। दूसरा देहधारी देह सार रूप में पहले के ही समान है, बल्कि और भी अधिक वास्तविक है, यहाँ तक कि पहले से भी अधिक समान्य है। परिणामस्वरूप, दूसरी देहधारी देह जो पीड़ा सहती है वह पहले वाले से अधिक है, किन्तु यह पीड़ा देह में उसकी सेवकाई के परिणामस्वरूप है, जो कि एक भ्रष्ट मानव की पीड़ा से भिन्न है। यह भी उसकी देह की सामान्यता और वास्तविकता से उत्पन्न होती है। क्योंकि वह अपनी सेवकाई को सर्वथा सामान्य और वास्तविक देह में करता है, इसलिए उसकी देह को अत्यधिक कठिनाई को अवश्य सहना चाहिए। जितना अधिक सामान्य और वास्तविक उसकी देह होगी, उतना ही अधिक वह अपनी सेवकाई करने में भुगतेगा। परमेश्वर एक बहुत ही आम देह में कार्य करता है, ऐसी देह जो कि बिल्कुल भी अलौकिक नहीं है। क्योंकि उसकी देह सामान्य है और उसे मनुष्य को बचाने के कार्य का दायित्व भी अवश्य लेना चाहिए, इसलिए वह अलौकिक देह की अपेक्षा और भी अधिक माप में पीड़ा को भुगतता है—ये सभी पीड़ाएँ उसकी देह की वास्तविकता और सामान्यता से उत्पन्न होती हैं। अपनी सेवकाई को करते समय जिन पीड़ाओं से दोनों देहधारी देहें गुज़री हैं, उनसे कोई भी देहधारी देह के सार को देख सकता है। देह जितना अधिक सामान्य होगी, कार्य करने के समय उतनी ही अधिक कठिनाई वह सहेगी; कार्य को करने वाली देह जितना अधिक वास्तविक होगी, उतनी ही अधिक कठोर अवधारणाएँ लोग रखते हैं, और उतने ही अधिक खतरे उस पर पड़ने की संभावना होती है। और फिर भी, देह जितना अधिक वास्तविक होती है, और देह जितनी अधिक आवश्यकताओं और सामान्य मानवजाति की पूरी भावना को धारण करती है, उतना ही अधिक वह परमेश्वर के कार्य को देह में सँभालने में सक्षम होती है। यह यीशु की देह थी जिसे सलीब पर चढ़ाया गया था, उसकी देह जिसे उसने पाप बलि के रूप में त्याग दिया था; यह सामान्य मानवता वाली देह के माध्यम से था कि उसने शैतान को हराया और सलीब से मनुष्य को पूरी तरह से बचाया। और यह पूरी देह के रूप में है कि दूसरा देहधारी परमेश्वर विजय का कार्य करता है और शैतान को हराता है। केवल ऐसी देह जो पूरी तरह से सामान्य और वास्तविक है वही विजय के कार्य को अपनी सम्पूर्णता से कर और एक सशक्त गवाही बना सकती है। अर्थात्, मनुष्य को जीतने के कार्य को देह में परमेश्वर की वास्तविकता और सामान्यता के माध्यम से प्रभावशाली बनाया जा सकता है, न कि अलौकिक अचम्भों और प्रकटनों के माध्यम से। इस देहधारी परमेश्वर की सेवकाई बोलना, और इसके द्वारा मनुष्य को जीतना और पूर्ण बनाना है; दूसरे शब्दों में, देह में साकार हुए पवित्रात्मा का कार्य, देह का कर्तव्य, बोलना और इस के द्वारा मनुष्य को पूरी तरह से जीतना, प्रकट करना, पूर्ण बनाना और हटाना है। और इसलिए, यह विजय के कार्य में है कि देह में परमेश्वर का कार्य पूरी तरह से सम्पन्न किया जाएगा। आरंभिक छुटकारे का कार्य देहधारण के कार्य का आरम्भ था; विजय का कार्य करने वाली देह देहधारण के समस्त कार्य को पूर्ण करेगी। लिंग रूप में, एक पुरुष और दूसरा महिला है; इसमें परमेश्वर के देहधारण का अर्थ पूर्ण हो गया है। यह परमेश्वर के बारे में मनुष्य की मिथ्या-धारणा को दूर करता हैः परमेश्वर पुरुष और महिला दोनों बन सकता है और देहधारी परमेश्वर सार से लिंगहीन है। परमेश्वर ने पुरुष और महिला दोनों को बनाया, और वह लिंगों के बीच विभेद नहीं करता है। कार्य के इस चरण में परमेश्वर संकेतों और चमत्कारों को नहीं दिखाता है, ताकि कार्य वचनों के माध्यम से अपने परिणाम प्राप्त करेगा। इसके अलावा, इस समय का देहधारी परमेश्वर का कार्य बीमार को चंगा करना और दुष्टात्माओं को निकालना नहीं है, बल्कि बोलने के माध्यम से मनुष्य को जीतना है, जिसका अर्थ है कि परमेश्वर की इस देहधारी देह द्वारा धारण की गई पैदाइशी योग्यता वचन बोलना और मनुष्य को जीतना है, न कि बीमार को चंगा करना और दुष्टात्माओं को निकालना। सामान्य मानवता में उसका कार्य अचम्भों को करना नहीं है, बीमार को चंगा करना और दुष्टात्माओं को निकालना नहीं है, बल्कि बोलना है, और इसलिए दूसरा देहधारी देह लोगों को पहले वाले की तुलना में अधिक सामान्य प्रतीत हुआ। लोग देखते हैं कि परमेश्वर का देहधारण झूठ नहीं है; परन्तु देहधारी परमेश्वर यीशु के देहधारण से भिन्न है, और यद्यपि वे दोनों ही परमेश्वर के देहधारण हैं, परन्तु वे पूरी तरह से एकही नहीं हैं। यीशु सामान्य मानवता और साधारण मानवता को धारण करता था, किन्तु उसके साथ कई संकेत और चमत्कार थे। इस देहधारी परमेश्वर में, मानवीय आँखों को कोई भी संकेत या चमत्कार नहीं दिखाई देंगे, न ही बीमार चंगे होते हुए दिखाई देंगे, न ही दुष्टात्माएँ बाहर निकाली जाती हुई दिखाई देंगी, न ही समुद्र पर चलना, न ही चालीस दिन तक उपवास करना दिखाई देगा... वह उसी कार्य को नहीं करता है जो यीशु ने किया, इस वजह से नहीं कि उसका देह सार रूप में यीशु से कुछ भी भिन्न था, बल्कि क्योंकि बीमार को चंगा करना और दुष्टात्माओं को निकालना उसकी सेवकाई नहीं थी। उसने अपने स्वयं के कार्य को ध्वस्त नहीं किया, अपने कार्य में विघ्न नहीं डाला। चूँकि वह मनुष्य को अपने वास्तविक वचनों से जीतता है, इसलिए उसे अचम्भों के साथ वश में करने की आवश्यकता नहीं है, और इसलिए यह चरण देहधारण के कार्य को पूरा करने के लिए है। आज तुम जिस देहधारी परमेश्वर को देखते हो वह पूरी तरह से एक देह है, और उसके बारे में कुछ भी अलौकिक नहीं है। पूरी तरह से देह होने के कारण, वह दूसरों की तरह ही बीमार पड़ता है, उसे ठीक अन्य लोगों के समान ही भोजन और कपड़ों की आवश्यकता होती है। यदि इस समय के आसपास, देहधारी परमेश्वर अलौकिक संकेतों और चमत्कारों को दिखाता, यदि वह बीमारों को चंगा करता, दुष्टात्माओं को निकालता, या एक वचन से मार सकता, तो विजय का कार्य किस प्रकार से किया जा सकता था? कार्य को बुतपरस्तों में कैसे फैलाया जा सकता था? बीमार को चंगा करना और दुष्टात्माओं को निकालना अनुग्रह के युग का कार्य था, छुटकारे के कार्य का पहला चरण था, और अब जबकि परमेश्वर ने सलीब से लोगों को बचा लिया है, इसलिए वह उस कार्य को अब और नहीं करता है। यदि अंत के दिनों में यीशु के जैसा ही कोई "परमेश्वर" प्रकट हो जाता, जो बीमार को चंगा करता और दुष्टात्माओं को निकालता, और मनुष्य के लिए सलीब पर चढ़ाया जाता, तो वह "परमेश्वर", यद्यपि बाइबिल में वर्णित परमेश्वर के समरूप होता और स्वीकार करने में मनुष्य के लिए आसान होता, किन्तु अपने सार रूप में, परमेश्वर के आत्मा के द्वारा नहीं, बल्कि एक दुष्टात्मा द्वारा पहना गया देह होता। क्योंकि जो उसने पहले ही पूरा कर लिया है उसे कभी नहीं दोहराना, यह परमेश्वर के कार्य का सिद्धान्त है। इसलिए परमेश्वर के दूसरे देहधारण का कार्य पहले देहधारण के कार्य से भिन्न है। अंत के दिनों में, परमेश्वर विजय का कार्य एक सामान्य और साधारण देह में पूरा करता है; वह बीमार को चंगा नहीं करता है, मनुष्य के लिए सलीब पर नहीं चढ़ाया जाएगा, बल्कि केवल देह में वचनों को कहता है, देह में मानव को जीतता है। केवल ऐसा देह ही देहधारी परमेश्वर का देह है; केवल ऐसा देह ही देह में परमेश्वर के कार्य को पूर्ण कर सकता है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" से उद्धृत

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर मनुष्य के जीवन का स्रोत है" | अंश 587

इस वृहद संसार में बार बार अनगिनत परिवर्तन हुए हैं। कोई भी मानवजाति की अगुवाई या निर्देश करने के योग्य नहीं है, सिर्फ़ ब्रह्माण्ड की सभी...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचनों के रहस्य की व्याख्या : अध्याय 10 | अंश 225

इस तथ्य के बावजूद कि राज्य का निर्माण औपचारिक रूप से आरंभ हो गया है, राज्य के लिए सलामी अभी तक औपचारिक रूप से बजनी है—अभी यह केवल उसकी...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की अधिक आवश्यकता है" | अंश 118

परमेश्वर ने देहधारण किया क्योंकि शैतान का आत्मा, या कोई अभौतिक चीज़ उसके कार्य का विषय नहीं है, परन्तु मनुष्य है, जो शरीर से बना है और जिसे...