54. नकारात्मकता हल करने के सिद्धांत

(1) सबसे पहले, उन परिस्थितियों की पड़ताल करो जो नकारात्मकता को जन्‍म देती हैं : वह किन गतिविधियों की वजह से पैदा होती है, वह किन बाधाओं का नतीजा होती है, और उसके परिणाम क्‍या होते हैं।

(2) नकारात्मकता के सार और उद्गम को समझना, और उस स्‍वभाव को जानना आवश्‍यक है जिससे वह जुड़ी होती है। मूल समस्‍या को समझकर ही व्‍यक्ति सच्‍चे अर्थों में स्‍वयं को जान सकता है।

(3) जब व्‍यक्ति नकारात्मकता का सामना कर रहा हो, तो उन्‍हें अपने बारे में सीखने का कार्य करना चाहिए। नकारात्मकता की समस्‍या को उसकी जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए व्‍यक्ति का जिन सत्‍यों से लैस होना अनिवार्य है उन सत्‍यों को जानना आवश्‍यक है।

(4) जब व्‍यक्ति शैतानी स्‍वभाव के अधीन होता है, तो नकारात्मकता किसी भी वक्त जन्‍म ले सकती है, और इस तरह इसके कारण वह परमेश्‍वर के प्रति विद्रोह और प्रतिरोध कर सकता है। सभी मामलों में, नकारात्मकता का निराकरण करने के लिए व्‍यक्ति को सत्‍य को तलाशना चाहिए।

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन :

लोग अ‍पने भीतर, गहराई में कुछ बुरी मनोदशा पाले रहते हैं, जैसे नकारात्मकता, दुर्बलता और अवसाद या भंगुरता; या लगातार हावी रहने वाली कोई तुच्छ मंशा; या हमेशा अपनी प्रतिष्ठा, स्वार्थ और अपने हितों को लेकर चिंता में घुलते रहते हैं; या फिर वे खुद को अयोग्य समझते हैं और कुछ विशिष्ट नकारात्मक मनोदशा में रहते हैं। जब तुम लगातार ऐसी मनोदशा में रहते हो, तो तुम्हारे लिए पवित्र आत्मा का कार्य प्राप्त करना बहुत मुश्किल हो जाता है। अगर तुम्हें पवित्र आत्मा के कार्य को प्राप्त करने में मुश्किल होती है, तो तुम्हारे अंदर बहुत कम सकारात्मक भावनाएँ होंगी और तुम्हारे लिए सत्य को प्राप्त करना कठिन होगा। लोग संयम के अभ्यास के लिए हमेशा अपनी इच्छा-शक्ति पर निर्भर रहकर, खुद को किसी न किसी तरीके से अंकुश में रखते हैं, पर फिर भी वे उन नकारात्मक या प्रतिकूल मनोदशा से खुद को मुक्त नहीं कर पाते। इसके पीछे आंशिक रूप से मानवीय कारण हैं; लोग अपने अनुकूल अभ्यास का कोई मार्ग नहीं ढूंढ पाते। दूसरा कारण है—और यह भी एक बड़ा कारण है—कि लोग हमेशा इन नकारात्मक, पतनशील एवं विकृत मनोदशा में फंस जाते हैं और पवित्र आत्मा अपना कार्य नहीं कर पाता। अगर कभी-कभार पवित्र आत्मा उन्हें कुछ प्रबुद्धता देता भी है तो भी वह उनमें कोई बड़ा कार्य नहीं कर पाता। इसलिए लोगों को कोई कदम उठाने के लिए कड़ा प्रयास करना पड़ता है और उनके लिए कुछ भी देखना या समझना बहुत मुश्किल होता है। तुम्हारे लिए प्रबुद्धता और प्रकाशन प्राप्त करना दूभर है और प्रकाश प्राप्त करना तो और भी दूभर है, क्योंकि तुम्हारे भीतर बहुत सारी नकारात्मक और प्रतिकूल चीजों ने तमाम जगह घेर रखी है। अगर कोई व्यक्ति पवित्र आत्मा द्वारा प्रबुद्ध न किया जा सके और वह पवित्र आत्मा का कार्य प्राप्त न कर पाए, तो वह इस मनोदशा से छुटकारा नहीं पा सकता या इस नकारात्मक मनोदशा को बदल नहीं सकता; पवित्र आत्मा कार्य नहीं करता और तुम्हें आगे का रास्ता नहीं मिल पाता। इन दोनों कारणों से, तुम्हारे लिए एक सकारात्मक, सामान्य मनोदशा प्राप्त करना मुश्किल हो जाता है। भले ही तुम बहुत कुछ सहन कर सकते हो, अपने कर्तव्यों के पालन में कड़ी मेहनत कर सकते हो, भले ही तुमने बहुत अधिक प्रयास किया है और अपना घर-बार और काम-धंधा तक छोड़ दिया है और हर चीज का पूरी तरह से त्याग कर दिया है, पर तुम्हारी अंदरूनी दशा अब भी नहीं बदली है। बहुत सारी उलझनें अब भी तुम्हें अपनी लपेट में लिए हुए हैं और तुम्हें सत्य का अभ्यास करने और सत्य-वास्तविकता में प्रवेश करने से रोकती हैं। तुम्हारे अंदर बहुत सारी चीजों ने जगह घेर रखी है : निजी अवधारणाएँ, कल्पनाएँ, ज्ञान, जीवन-दर्शन, साथ ही, नकारात्मक चीजें, स्वार्थ, निजी-हित, प्रतिष्ठा से जुड़ी चिंताएँ और दूसरों के साथ विवाद। लोगों के भीतर कुछ भी सकारात्मक नहीं होता। उनके दिमाग नकारात्मक और प्रतिकूल विचारों से भरे रहते हैं, इस तथ्य को कोई नकार नहीं सकता। उनके दिल शैतानी चीजों से भरे हुए हैं और वे उन्हीं के कब्जे में हैं। अगर तुम इन चीजों को दूर नहीं हटाओगे, अगर तुम खुद को इन दशाओं से मुक्त नहीं कर सकते, अगर तुम एक बच्चे की तरह सच्चे नहीं बन सकते—मासूम, जीवंत, निश्छल, प्रामाणिक और विशुद्ध—परमेश्वर की उपस्थिति में नहीं आ सकते और उसके सम्मुख नहीं आ सकते, तो तुम्हारे लिए सत्य प्राप्त करना अत्यंत कठिन होगा।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'अपना सच्चा हृदय परमेश्वर को दो, और तुम सत्य को प्राप्त कर सकते हो' से उद्धृत

हर किसी के सामने ऐसे क्षण आते हैं जब वे निष्क्रिय होते हैं, चाहे वे अकसर आते हों या कभी-कभार, गंभीर हों या मामूली, चाहे कोई स्पष्ट तथ्य हो जो उन्हें निष्क्रिय बनाता है या कोई स्पष्ट तथ्य न हो, लेकिन केवल कुछ विचार, भाव, मत, कल्पनाएँ और धारणाएँ उन्हें निष्क्रियता में डुबो देती हैं। जो भी मामला हो, जो भी स्थिति हो या उनकी जो भी अवस्था हो, अगर लोग भ्रष्ट स्वभाव में रहते हैं, तो ऐसे क्षण आएँगे जब वे कुछ निष्क्रिय अवस्थाओं में डूब जाएँगे। बेशक, अगर लोगों के पास आध्यात्मिक कद हो और वे सत्य का अनुसरण करते हों, तो उनकी निष्क्रिय अवस्था अल्पकालिक होगी, और जैसे-जैसे उनका आध्यात्मिक कद बढ़ेगा और वे सत्य का अनुसरण करेंगे, वह धीरे-धीरे क्षीण होती जाएगी। अगर लोग सत्य का अनुसरण नहीं करते, तो उनकी निष्क्रिय अवस्थाएँ, निष्क्रिय मनोदशाएँ, और निष्क्रिय विचार और मनोवृत्तियाँ और अधिक प्रचुर हो जाएँगी, और उनका जमावड़ा और संचय होता जाएगा। इसलिए निष्क्रियता का समाधान करना बहुत जरूरी है। तुम इसे कैसे लेते हो, यह भी बहुत महत्वपूर्ण है। चाहे कुछ भी हो, निष्क्रियता के प्रति तुम्हारे रवैये में निष्क्रिय तरीके, या प्रतिरोध और टकराव की मनोस्थिति शामिल नहीं होनी चाहिए; इसके बजाय, तुम्हें उससे सत्य की तलाश करते हुए निपटना चाहिए। कुछ विशिष्ट क्षेत्र तुम्हें निष्क्रियता में डुबोने में जितने अधिक सक्षम होते हैं, और जितने अधिक क्षेत्र या मामले परमेश्वर के प्रति अवज्ञा, असंतोष, शिकायतें आदि पैदा करते हैं, और तुम्हें उसके खिलाफ शोर मचाने के लिए उकसाते हैं, उतना ही अधिक तुम्हें परमेश्वर के सामने आना चाहिए और सत्य की खोज करनी चाहिए। अगर तुम किसी एक बात, किसी एक वाक्य या किसी एक विचार या मत के कारण निष्क्रियता में डूबे हो, तो यह साबित करता है कि इस मामले का तुम्हारा ज्ञान विकृत है, कि तुम्हारे पास धारणाएँ और कल्पनाएँ हैं, और यह कि इस मामले के बारे में तुम्हारा दृष्टिकोण निश्चित रूप से सत्य के साथ असंगत है। ऐसे समय में तुम्हें मामले का सही ढंग से सामना करने, उसे यथाशीघ्र और तत्परता से ठीक करने का प्रयास करने, अपने-आपको इन धारणाओं से लड़खड़ाने और गुमराह न होने देने, और परमेश्वर के प्रति अवज्ञा, असंतोष और शिकायतें करने की स्थिति में न डूबने देने की आवश्यकता होती है। यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि निष्क्रियता को तुरंत और पूरी तरह से हल किया जाए। बेशक, चाहे कोई भी साधन या पद्धति हो, सबसे अच्छा तरीका केवल सत्य की तलाश करना, परमेश्वर के वचनों को अधिक पढ़ना, और परमेश्वर की प्रबुद्धता प्राप्त करने के लिए परमेश्वर के सामने आना है; कभी-कभी हो सकता है कि तुम अपने विचार और भाव तुरंत बदलने में सक्षम न हो पाओ, लेकिन कम-से-कम तुम्हें यह पता चल जाएगा कि तुम गलत हो, और तुम्हारे ये विचार विकृत हैं। इसका न्यूनतम प्रभाव यह होगा कि ये गलत विचार और भाव अपने कर्तव्य-पालन के प्रति तुम्हारे समर्पण को प्रभावित नहीं करेंगे, परमेश्वर के साथ तुम्हारे संबंध को प्रभावित नहीं करेंगे, और तुम्हें प्रार्थना करने और अपना दिल खोलने के लिए परमेश्वर के सामने आने से नहीं रोकेंगे। कम-से-कम ये प्रभाव प्राप्त करने की आवश्यकता तो है ही। अगर तुम निष्क्रियता में, और परमेश्वर के प्रति अवज्ञा, असंतोष और शिकायतों की मनोदशा या स्थिति में डूबे हो, और चाहे तुम दूसरों के साथ जैसे भी संगति करते हो या इसे अनदेखा करने का प्रयास करते हो, अगर तुम परमेश्वर के वचनों को पढ़ना या प्रार्थना करने के लिए परमेश्वर के सामने आना नहीं चाहते, तो समस्या गंभीर हो जाएगी। तुम कहते हो, "मैंने अपना कर्तव्य पूरा करने में देरी नहीं की, और मैंने उसे सच्चे दिल से किया, मैं बिलकुल अंत तक समर्पित रहूँगा।" क्या यह कथन सत्य है? अगर तुममें अनसुलझी निष्क्रियता है, तो क्या वह अपने-आप कम हो जाएगी? क्या निष्क्रियता अपने-आप गायब हो सकती है? अगर तुम इस निष्क्रियता को हल करने के तरीके के रूप में सत्य की तुरंत खोज नहीं करते, तो वह बढ़ती जाएगी, और वह केवल और ज्यादा गंभीर ही हो सकती है। उसके परिणाम केवल और ज्यादा गंभीर ही हो सकते हैं, वह सकारात्मक दिशा में नहीं, बल्कि एक घातक दिशा में विकसित होगी। और इसलिए, जब निष्क्रियता प्रकट हो, तो तुम्हें सत्य की तलाश करनी चाहिए और उसे जल्द-से-जल्द हल करना चाहिए। यह एक विकट मामला है।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'नकली अगुआओं की पहचान करना (17)' से उद्धृत

परमेश्वर के न्याय और ताड़ना से पहले लोग कई अवस्थाओं से गुजर चुके होते हैं। उदाहरण के लिए, लोगों में अकसर एक नकारात्मक स्थिति देखी जाती है : जब दूसरे लोग ज्यादा उत्पादक ढंग से अपने कर्तव्य निभाते हैं, तो वे नकारात्मक हो जाते हैं; जब दूसरों के परिवार उनके परिवारों से अधिक एकजुट होते हैं, तो वे नकारात्मक हो जाते हैं; जब दूसरों की स्थितियाँ उनकी स्थितियों से बेहतर होती हैं या जब दूसरे उनसे ज्यादा सक्षम होते हैं, तो वे नकारात्मक हो जाते हैं; और जब उन्हें थोड़ा जल्दी जगा दिया जाता है, जब उनके कर्तव्य थकाऊ होते हैं और जब वे थकाऊ नहीं होते तब भी, वे नकारात्मक हो जाते हैं। चाहे कुछ भी हो, वे नकारात्मक ही रहते हैं। यदि ऐसे लोग खोजने में विशेष प्रयास करते हैं, और विशेष रूप से कीमत चुकाने में सक्षम होते हैं, और यदि उनमें कुछ क्षमता होती है और वे कुछ मात्रा में व्यावहारिक कार्य करने में सक्षम होते हैं, तब अपनी धारणाओं के कारण दूसरे इन लोगों के बारे में कह सकते हैं, "कितने शर्म की बात है कि ये लोग हमेशा नकारात्मक रहते हैं। क्या परमेश्वर को इन लोगों के प्रति थोड़ा पक्षपात दिखाकर इन्हें नकारात्मक होने से बचाना नहीं चाहिए, ताकि ये अपनी नकारात्मकता से उबर जाएँ? परमेश्वर अपना काम क्यों नहीं कर रहा?" परमेश्वर ऐसे लोगों का क्या करता है? उनके प्रति उसका क्या दृष्टिकोण होता है? वह उन्हें अनुशासित नहीं करता, न ही वह उनसे निपटता या उनकी काट-छाँट करता है; वह बस उन्हें दरकिनार कर देता है। इसका क्या मतलब है? इसका मतलब है कि यदि तुम हमेशा नकारात्मक रहते हो और परमेश्वर द्वारा किए गए किसी भी काम से संतुष्ट नहीं होते, तो वह तुम्हें कहीं पटककर तुमसे इंतजार करवाएगा। पवित्र आत्मा निरर्थक काम नहीं करता। कुछ लोग कहते हैं, "यदि परमेश्वर ऐसा नहीं करता, तो इसका मतलब है कि वह प्रेम नहीं करता!" परमेश्वर इस ढंग से प्रेम व्यक्त नहीं करता। नकारात्मकता का मतलब है कि लोगों के भीतर कोई समस्या है : वे सत्य को स्वीकार नहीं कर पाते और वे परमेश्वर के हर काम से लगातार असंतुष्ट बने रहते हैं; इसके अलावा, वे सत्य की जरा-सी भी खोज नहीं करते और न ही उसे व्यवहार में लाते हैं। परमेश्वर ऐसे लोगों के प्रति प्रतिक्रियाशील क्यों रहेगा? क्या वे विवेकशून्य नहीं हैं? ऐसे विवेकशून्य लोगों के प्रति परमेश्वर का क्या रवैया होता है? वह उन्हें दरकिनार करके अनदेखा कर देता है। तुम जैसा चाहे, कर सकते हो, और यदि चाहो तो विश्वास कर सकते हो; यदि तुम विश्वास करते हो और खोज करते हो, तो तुम प्राप्त कर सकते हो। परमेश्वर प्रत्येक व्यक्ति के साथ उचित व्यवहार करता है। यदि तुम्हारा दृष्टिकोण सत्य को स्वीकार न करने और समर्पित न होने का है, और यदि तुम परमेश्वर की अपेक्षाओं के अनुरूप नहीं हो, तो तुम चाहे जिसमें विश्वास करो; साथ ही, यदि तुम छोड़ना चाहो, तो तुम तुरंत ऐसा कर सकते हो। यदि तुम अपना कर्तव्य नहीं निभाना चाहते, तो तुम कुछ भी करो, लेकिन कोई शर्मनाक दृश्य निर्मित न करो या अपने को ज्यादा फन्ने खाँ मत समझो, बल्कि तुरंत छोड़ दो, और जहाँ जाना चाहो जाओ। परमेश्वर ऐसे लोगों से रुकने का आग्रह नहीं करता। यही उसका रवैया है। यदि तुम—जो स्पष्ट रूप से एक सृजित प्राणी है—एक सृजित प्राणी की तरह व्यवहार नहीं करते, बल्कि हमेशा एक महादूत बनना चाहते हो, तो क्या परमेश्वर तुम पर ध्यान दे सकता है? यदि तुम—जो स्पष्ट रूप से एक साधारण व्यक्ति है—हमेशा विशेष और तरजीही व्यवहार चाहते हो, और हैसियत और साख वाला व्यक्ति बनना चाहते हो, जो सभी चीजों में दूसरों से अधिक उत्कृष्ट होता है, तो तुम अनुचित हो और तुममें समझ का अभाव है। परमेश्वर उन लोगों को कैसे देखता है, जिनमें समझ का अभाव होता है? उनके बारे में उसका आकलन क्या होता है? ऐसे लोग विवेकशून्य होते हैं!

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'अपनी धारणाओं का समाधान करके ही कोई परमेश्वर में विश्वास के सही मार्ग में प्रवेश कर सकता है (3)' से उद्धृत

परमेश्वर द्वारा लोगों में किया जाने वाला कार्य मुख्य रूप से उन्हें सत्य प्राप्त करवाने के लिए है, तुमसे जीवन का अनुसरण करवाना तुम्हें पूर्ण बनाने के लिए है, और यह सब तुम्हें परमेश्वर के उपयोग हेतु उपयुक्त बनाने के लिए है। अभी तुम सभी जो कुछ अनुसरण कर रहे हो, वह है रहस्यों को सुनना, परमेश्वर के वचनों को सुनना, अपनी आँखों को आनंदित करना और आसपास यह देखना कि कोई नई चीज़ या रुझान है या नहीं, और उससे अपनी जिज्ञासा संतुष्ट करना। यदि यही इरादा तुम्हारे दिल में है, तो तुम्हारे पास परमेश्वर की आवश्यकताएँ पूरी करने का कोई रास्ता नहीं है। जो लोग सत्य का अनुसरण नहीं करते, वे अंत तक अनुसरण नहीं कर सकते। अभी, ऐसा नहीं है कि परमेश्वर कुछ नहीं कर रहा है, बल्कि लोग उसके साथ सहयोग नहीं कर रहे, क्योंकि वे उनके कार्य से थक गए हैं। वे केवल उन वचनों को सुनना चाहते हैं, जो वह आशीष देने के लिए बोलता है, और वे उसके न्याय और ताड़ना के वचनों को सुनने के अनिच्छुक हैं। इसका क्या कारण है? इसका कारण यह है कि लोगों की आशीष प्राप्त करने की इच्छा पूरी नहीं हुई है और इसलिए वे नकारात्मक और कमजोर हो गए हैं। ऐसा नहीं है कि परमेश्वर जानबूझकर लोगों को अपना अनुसरण नहीं करने देता, और न ऐसा है कि वह जानबूझकर मानवजाति पर आघात कर रहा है। लोग नकारात्मक और कमजोर केवल इसलिए हैं, क्योंकि उनके इरादे गलत हैं। परमेश्वर तो परमेश्वर है, जो मनुष्य को जीवन देता है, और वह मनुष्य को मृत्यु में नहीं ला सकता। लोगों की नकारात्मकता, कमजोरी, और पीछे हटना सब उनकी अपनी करनी के नतीजे हैं।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'तुम्हें परमेश्वर के प्रति अपनी भक्ति बनाए रखनी चाहिए' से उद्धृत

चाहे बड़े मामले आएँ या छोटे, तुम हमेशा नकारात्मक और कमज़ोर होते हो, और तुम कोई गवाही नहीं देते। व्यक्ति को जो कार्य अथवा सहयोग करना चाहिए, तुम वह करने में विफल रहते हो, जिससे यह साबित होता है कि तुम्हारे दिल में न तो परमेश्वर है और न ही सत्य। आओ, फ़िलहाल हम इस बात पर ध्यान न दें कि पवित्र आत्मा का कार्य लोगों को कैसे द्रवित करता है। परमेश्वर के कार्य के अपने वर्षों के अनुभव मात्र के बल पर, बहुत-सी सच्चाइयों को सुनकर, और थोड़े विवेक और दृढ़ संयम के साथ, उन्हें निम्नतम मानक पूरा करने में उन्हें सक्षम होना चाहिए, और उस तरह सुन्न और कमजोर नहीं होना चाहिए, जिस तरह वे अभी हैं। यह एक अविश्वसनीय बात है। यह स्पष्ट है कि तुम इन पिछले कुछ वर्षों में संभ्रमित हो गए हो—नहीं तो तुम ऐसे सुन्न और सुस्त क्यों होते, जैसे तुम हो? सच तो यह है कि तुमने यह सोचकर खुद को सीमांकित कर लिया है, "मैं ठीक नहीं हूँ—मैं अत्यधिक भ्रष्ट हूँ। यह ऐसा ही है, और मुझे बस इसके साथ ही रहना होगा!" तुमने अभी तक अपनी खोज का प्रयास नहीं किया है, और तुम कहते हो, "यही मेरी चुनौती है। मुझे तुम बस घर भेज सकते हो!" यह बकवास नहीं, तो क्या है? यह केवल जिम्मेदारी से कतराना और बचना है! यदि तुम्हारे पास थोड़ा-सा भी जमीर और विवेक है, तो तुम्हें वह ठीक से पूरा करना चाहिए, जो तुम्हें करना है और जो तुम्हारा ध्येय है; पलायनवादी होना एक भयानक बात है और परमेश्वर के साथ विश्वासघात है। सत्य का अनुसरण करने के लिए दृढ़ इच्छाशक्ति की आवश्यकता होती है, और जो लोग बहुत अधिक नकारात्मक या कमज़ोर होते हैं, वे कुछ भी संपन्न नहीं करेंगे। वे अंत तक परमेश्वर में विश्वास नहीं कर पाएँगे, और, यदि वे सत्य को प्राप्त करना चाहते हैं और स्वभावगत बदलाव हासिल करना चाहते हैं, तो उनके लिए अभी भी उम्मीद कम है। केवल वे, जो दृढ़-संकल्प हैं और सत्य का अनुसरण करते हैं, ही उसे प्राप्त कर सकते हैं और परमेश्वर द्वारा पूर्ण किए जा सकते हैं।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'भ्रमित लोगों को बचाया नहीं जा सकता' से उद्धृत

जब लोग कठिनाइयों का सामना करते हैं या जब वे काटे-छाँटे जाते हैं और उनके साथ निपटा जाता है या जब वे विफल होते हैं और गिरते हैं, तब वे नकारात्मक होने से बच सकते हैं। इसका प्राथमिक कारण क्या है? वह यह है कि वे सत्य को स्वीकार करने में सक्षम हैं। सत्य को स्वीकार करने में सक्षम होने से वे नकारात्मक होना बंद कर देते हैं। यदि वे सत्य को स्वीकार नहीं करते हैं, हमेशा अपने भीतर कठिनाइयाँ पालते हैं और हमेशा उनका हल निकालने में असफल रहते हैं, तो वे हमेशा नकारात्मक ही रहेंगे; इसका संबंध उनकी सत्य की समझ से है। कुछ लोग जो नकारात्मक हो गए हैं, उनके साथ संगति करने पर वे कहते हैं, "मेरे साथ संगति मत करो, मैं सब समझता हूँ।" क्या वे वास्तव में सब समझते हैं? अगर वे सब कुछ समझते तो क्या वे नकारात्मक होते? यह समझदारी जिसका वे उल्लेख करते हैं, उसमें किस चीज की आवश्यकता है? इसमें आवश्यक है कि वे सिद्धांतों को समझें और वे उनका शाब्दिक अर्थ समझें। हकीकत में, वे सत्य नहीं समझते। सत्य को न समझते हुए भी, वे सिद्धांतों को स्वीकार करने में सक्षम क्यों हैं? (वे परमेश्वर के वचनों को अनुभव नहीं करते, वे उन पर मनन नहीं करते, और न ही वे सत्य खोजते हैं, वे अपने भ्रष्ट स्वभाव की तुलना उनसे नहीं करते।) वास्तव में यही हो रहा है। वे जिन सिद्धांतों को समझते हैं, उन्हें अभ्यास में नहीं लाते, न उसका उपयोग करते हैं; वे केवल उनके बारे में बात करते हैं या दूसरों को उसका उपदेश देते हैं, और फिर वहीं रुक जाते हैं। वे स्वयं सत्य स्वीकार नहीं करते और इस प्रकार वे अपनी नकारात्मक स्थितियों, अपनी कमजोरियों, अपने विद्रोहीपन, अपनी मिथ्या धारणाओं, और अपनी शिकायतों का हल निकालने में सक्षम नहीं हो पाते हैं। तो फिर, नकारात्मक होने, बदतर हो जाने और खुद को निराशा के हवाले कर देने की समस्या का हल निकालने का सबसे अच्छा तरीका क्या है? (सत्य को स्वीकार करना) यह अपनी समझ के अनुसार सत्य स्वीकार करना और फिर सत्य-वास्तविकता में प्रवेश करना है। इसे कह तो आसानी से दिया जाता है, लेकिन इसमें प्रवेश करने पर कठिनाइयों से सामना होता है, और यह प्रवेश को कठिन बना देता है। इसलिए तुम्हें यह सच में समझना चाहिये कि सत्य क्या है। यदि तुम हमेशा यही सोचोगे कि तुम समझते हो, लेकिन तुम अपनी कठिनाइयों का समाधान करने में सक्षम नहीं हो, तो इससे सिद्ध होता है कि तुमने सत्य नहीं समझा है। उन सिद्धांतों के आधार पर जो तुम समझते हो, यदि तुम उन्हें सत्य की तरह मानो और स्वयं को उनकी कसौटी पर रखो, और उनको अभ्यास मे लाओ, तो तुम्हारी समस्याएँ हल हो जाएंगी, यदि तुम नकारात्मक या कमजोर हो तब भी कोई समस्या नहीं होगी, और तुम निराश नहीं होगे या ठहर नहीं जाओगे। यही नकारात्मकता का हल निकालने का तरीका है।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'केवल ईमानदार बनकर ही लोग वास्तव में खुश हो सकते हैं' से उद्धृत

निष्क्रियता एक ऐसी चीज है, जिससे बचना बहुत मुश्किल है। कोई भी निष्क्रिय हो सकता है। कुछ लोगों में यह लंबे समय तक रहती है, कुछ में थोड़े समय तक। कुछ इस बारे में बात कर सकते हैं कि वे निष्क्रिय क्यों हैं, और कुछ नहीं कर सकते, जिसका कारण बहुत मामूली और अनुल्लेखनीय है, फिर भी यह उन्हें निष्क्रियता में डुबाने में सक्षम होता है। छोटी-सी, महत्वहीन चीजें लोगों को निष्क्रिय बना सकती हैं और उन्हें कुछ दिनों तक हतोत्साहित रख सकती हैं, कुछ खा-पी न पाना, चेहरा लटकाए रखना, किसी के समझाने-बुझाने पर ध्यान न देना—एक शब्द में कहें तो दुखी रहना। ऐसे मामले कैसे सुलझाए जा सकते हैं? अगर कोई बात वास्तव में मामूली और नगण्य है, और कोई ऐसा मामला नहीं है जिसके बारे में तुम बात करना चाहो, और न ही जिसके बारे में अन्य लोग जानना चाहते हों, तो तुम्हें उसे खुद ही दूर कर देना चाहिए, और उसे अन्य लोगों में फैलाते नहीं फिरना चाहिए। जब लोग किसी चीज की तह तक न जा सकें, तो उन्हें कम-से-कम यह ध्यान रखना चाहिए कि वे उसे अन्य लोगों में फैलाते न फिरें। अगर तुम्हारे पास एक ऐसा दिल है, जो परमेश्वर से डरता है और तुम यह स्वीकार करते हो कि तुम परमेश्वर के अनुयायी हो, तो तुम्हें जानबूझकर कोई परेशानी या रुकावट पैदा करने वाला काम नहीं करना चाहिए। यह एक ऐसी चीज है, जिसकी तुम्हें गारंटी देनी चाहिए। अगर तुममें सामान्य मानवता और समझ है, तो तुम्हें ऐसा नहीं करना चाहिए—बशर्ते कि तुम कोई मनोरोगी या किसी दानव के वशीभूत नहीं हो, और अपनी मदद नहीं कर सकते हो; जब दानव तुम्हें बोलने के लिए कहे तभी तुम बोलते हो, तुम कुछ नहीं कर पाते हो, यह सब दुष्ट आत्मा द्वारा किया जाता है। अगर तुममें सामान्य मानवता है, तो तुम्हें गारंटी देनी चाहिए कि तुम ऐसा करोगे। और भले ही तुम निष्क्रिय हो, फिर भी तुममें थोड़ी अंतरात्मा होनी चाहिए, तुम्हें अपनी तरफ से सर्वश्रेष्ठ प्रयास करना चाहिए, जितना तुम कर सकते हो, जितना तुम चाहते हो, उतना करना चाहिए; केवल ऐसी मानसिकता वाले लोगों को ही अंतरात्मा वाले लोग माना जा सकता है, और भले ही तुम्हारे भीतर निष्क्रियता हो, परमेश्वर इसे तूल नहीं देगा या मामला आगे नहीं बढ़ाएगा। अगर तुम दूसरों से बात करने को तैयार हो, और लोग तुम्हारी मदद करने में सक्षम हों, तो यह सबसे अच्छा है; अगर तुम किसी और को नहीं बताना चाहते, तो धीरे-धीरे उससे अपने आप निपटो। परमेश्वर के साथ संवाद करो और उत्तर खोजो, और धीरे-धीरे अपने-आपको बदलो। अगर तुम बहुत गंभीर और बड़ी चीजों से घिरे हुए हो जो तुम्हें निष्क्रिय बनाती हैं—उदाहरण के लिए, अगर तुम्हें लगता है कि पद से हटा दिए जाने के बाद तुम्हारे लिए कोई आशा नहीं है, या तुम्हारे साथ गंभीर रूप से काट-छाँट की जाती है और निपटा जाता है और तुम्हें लगता है कि तुम्हें शाप दिया गया है और तुम्हारी निंदा की गई है, या फिर तुम्हारे परिवार में कोई गंभीर घटना हो जाती है और तुम्हारे परिवार के सदस्य और प्रियजन मर जाते हैं, परमेश्वर द्वारा ले लिए जाते हैं, और ये चीजें तुम्हें निष्क्रियता में डुबो देती हैं, और तुम्हारे मन में परमेश्वर के बारे में कुछ गलत धारणाएँ और निष्क्रियता घर कर लेती हैं, और तुम व्यथित महसूस करते हो—तो ऐसी परिस्थितियों में तुम्हें क्या करना चाहिए? इसे भी सुलझाया जा सकता है। आध्यात्मिक कद वाले कुछ लोगों को खोजो और उन्हें अपने दिल की बात बताते हुए उनके साथ संगति करो। इससे भी अधिक महत्वपूर्ण है परमेश्वर के सामने आना और सच्चाई के साथ उसे इस सारी निष्क्रियता, कमजोरी, और उन चीजों के बारे में संप्रेषित और सूचित करना, जिन्हें तुम नहीं समझते हो और जो दुर्गम प्रतीत होती हैं—उन्हें छिपाओ मत। कुछ चीजें हैं जो तुम्हारे गले में अटक जाती हैं, जो तुम्हारे लिए अकथनीय हैं : उनके बारे में दूसरों से बात मत करो, दूसरों को परेशान मत करो और उन्हें नुकसान मत पहुँचाओ, बल्कि परमेश्वर के सामने आकर उसे बताओ। तुम्हें परमेश्वर को क्यों बताना चाहिए? निष्क्रियता और कमजोरी के कुछ शब्द लोगों को लड़खड़ा सकते हैं। तुम्हें उन्हें परमेश्वर से कहना चाहिए। कुछ लोग कहते हैं, "अगर मैं परमेश्वर से कहूँगा, तो क्या परमेश्वर मेरी निंदा नहीं करेगा?" क्या तुमने बहुत-सी ऐसी चीजें नहीं की हैं, जो पमेश्वर का प्रतिरोध करती हैं और जिनकी परमेश्वर द्वारा निंदा की जाती है? क्या वह इस एक चीज की परवाह करता है? नहीं करता। तो परमेश्वर जानता है कि तुम क्या सोच रहे हो, चाहे तुम उसके बारे में बताओ या नहीं। अगर तुम उसके बारे में कहीं बात न कर पाओ, या उसे बताने के लिए आध्यात्मिक कद का कोई उपयुक्त व्यक्ति न खोज पाओ, तो सबसे अच्छा है कि तुम परमेश्वर के सामने आओ और उसे सच-सच बताओ। तुम परमेश्वर से अपनी कमजोरियाँ, अवज्ञा, यहाँ तक कि अपनी शिकायतों के बारे में भी कह सकते हो। यहाँ तक कि अगर तुम थोड़ी-सी भड़ास भी निकालना चाहो, तो भी ठीक है—परमेश्वर इसकी निंदा नहीं करता। परमेश्वर इसकी निंदा क्यों नहीं करता? परमेश्वर लोगों का आध्यात्मिक कद जानता है। वह इसे जानता है, भले ही तुम उसे न बताओ। जब तुम परमेश्वर से कहते हो, तो एक ओर तो यह तुम्हारे लिए परमेश्वर की आज्ञा मानने का अवसर होता है, तुम्हारे लिए स्वयं को परमेश्वर के सामने खोलकर रख देने का अवसर। दूसरी ओर, यह परमेश्वर के प्रति आज्ञाकारिता की मनोवृत्ति को भी इंगित करता है। कम-से-कम, तुम परमेश्वर को यह तो दिखा रहे होते हो कि तुम्हारा दिल उसके लिए खुला हुआ है; बात बस इतनी-सी है कि तुम कमजोर हो, और इस मामले पर काबू पाने के लिए तुम्हारा आध्यात्मिक कद अपर्याप्त है। बस इतनी-सी बात है। तुम्हारा उसकी अवज्ञा करने का कोई इरादा नहीं है, तुम्हारा रवैया आज्ञाकारिता का है; बात सिर्फ इतनी है कि तुम्हारा आध्यात्मिक कद बहुत छोटा है, और यह मामला तुम्हारे सहन करने के हिसाब से बहुत बड़ा है। जब तुम परमेश्वर के सामने पूरी तरह से खुल जाते हो और अपने-आपको व्यक्त कर देते हो, भले ही तुम जो कहते हो उसमें कमजोरी और शिकायतें हो—और, विशेष रूप से, बहुत-कुछ निष्क्रिय और नकारात्मक हो—तो एक चीज ऐसी होती है जो सही होती है। वह क्या होती है? तुम यह स्वीकार करते हो कि तुम भ्रष्ट हो, तुम मानते हो कि तुम परमेश्वर के प्राणी हो, तुम परमेश्वर—सृष्टिकर्ता की पहचान को नकारते नहीं हो, और यह मानते हो कि तुम्हारे और परमेश्वर के बीच का संबंध सृजित प्राणी और सृष्टिकर्ता का संबंध है। जब तुम वे चीजें परमेश्वर को सौंप देते हो जिन पर काबू पाना सबसे मुश्किल है, वे चीजें जो तुम्हें कमजोर बना सकती हैं, और तुम परमेश्वर को अपने दिल की हर बात बता देते हो, तो यह तुम्हारे रवैये को दर्शाता है। कुछ लोग कहते हैं, "परमेश्वर को बताने से मेरी निष्क्रियता हल नहीं होती, मैं तब भी उसे दूर नहीं कर पाता।" चिंता मत करो—जैसे-जैसे समय बीतेगा, परमेश्वर तुम्हें धीरे-धीरे मजबूत बना देगा, और फिर तुम उतने कमजोर नहीं रहोगे जितने तुम शुरुआत में थे। तुम चाहे जितने भी कमजोर और निष्क्रिय हो, तुम चाहे जितने भी व्यथित और नकारात्मक महसूस कर रहे हो, इसे परमेश्वर को बताओ। परमेश्वर को अजनबी मत समझो; तुम इसे किसी से भी छिपा सकते हो, लेकिन परमेश्वर से मत छिपाओ, क्योंकि अकेला परमेश्वर ही है जिस पर तुम निर्भर कर सकते हो, अकेला वही है जो तुम्हें बचा सकता है। केवल लोगों के परमेश्वर के सामने आने से ही इन चीजों का समाधान होगा। दूसरों पर निर्भर रहना बेकार है। और इसलिए, जब लोगों का सामना ऐसी चीज से हो, जो उन्हें कमजोर और निष्क्रिय बना सकती है, तो सबसे बुद्धिमान वे हैं जो परमेश्वर के सामने आ पाते हैं और उस पर भरोसा कर पाते हैं। केवल मूर्ख ही स्वयं को परमेश्वर से दूर-से-दूर रखते हैं और जब बड़ी, दु:साध्य घटनाएँ घटित होती हैं और परमेश्वर को अपने विश्वास में लेने की सबसे ज्यादा आवश्यकता होती है, तो वे अपने-आपको उससे सबसे ज्यादा छिपाए रहते हैं, और इन बातों को लेकर दिल-ही-दिल में चिंतामग्न रहते हैं। और तब क्या होता है जब वे उन्हें लेकर चिंतामग्न रहते हैं? ये शिकायतें विरोध बन जाती हैं, और विरोध परमेश्वर के विरुद्ध प्रतिरोध और कोलाहल बन जाता है। ये लोग परमेश्वर के साथ असंगत हो जाते हैं, और परमेश्वर के साथ उनका संबंध पूरी तरह से टूट जाता है। लेकिन जब इस तरह की कमजोरी और निष्क्रियता का सामना करने पर तुम तब भी परमेश्वर के सामने आने का विकल्प चुनते हो, खुद पर परमेश्वर की संप्रभुता स्वीकारते हो, उसके आयोजन और व्यवस्थाएँ स्वीकारते हो, तो तुम्हारा रवैया आज्ञाकारिता का रहता है, और जब परमेश्वर तुम्हारी ईमानदारी देखता है और जब वह तुम्हारी कमजोरी देखता है, तो वह जानता है कि तुम्हारा कैसे मार्गदर्शन करना है, कैसे तुम्हें कमजोरी और निष्क्रियता से बाहर निकालना है। और इसलिए, परमेश्वर के मार्गदर्शन में ये चीजें नगण्य जैसी होकर बहुत आसान हो जाती हैं; बिना तुम्हारे जाने ही परमेश्वर उन्हें दूर करने में तुम्हारी मदद करता है, तुम अनजाने में ही एक रास्ता खोज लेते हो, और अनजाने में ही मजबूत हो जाते हो, और पहले की तरह कमजोर नहीं रहते। जब तुम पलटकर पीछे देखते हो, तो तुम्हें आश्चर्य होता है कि उस समय तुम्हारी कमजोरी इतनी बचकानी कैसे हो सकती थी। लेकिन लोग ऐसे ही बचकाने होते हैं। परमेश्वर की मदद के बिना वे कभी भी बचकानेपन और मूर्खता की स्थिति से निकलकर परिपक्वता की स्थिति में नहीं आ पाएँगे। केवल तभी जब इन बचकानी बातों का अनुभव करने के क्रम में, लोग धीरे-धीरे परमेश्वर की संप्रभुता स्वीकारते हैं और उसके प्रति समर्पित हो जाते हैं, और सिद्धांत और परमेश्वर की इच्छा की खोज करते हुए सक्रिय रूप से इन मामलों का सीधे सामना करते हैं—बजाय इसके कि जितना अधिक वे ऐसी चीजों का सामना करें, उतना ही अधिक वे परमेश्वर से दूर भटक जाएँ, उतना ही अधिक वे परमेश्वर से छिप जाएँ, और उतना ही अधिक वे परमेश्वर का प्रतिरोध और विरोध करें, और न तो परमेश्वर से कुछ कहें और न ही उसके वचन पढ़ें, जब उनकी इनमें से कोई भी स्थिति नहीं होती—केवल तभी लोग अधिकाधिक परिपक्व और अधिकाधिक प्रौढ़ होते हैं।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'नकली अगुआओं की पहचान करना (17)' से उद्धृत

लोगों की अकसर ऐसी अवस्था होती है कि वे या तो केवल आशीष और मुकुट पाना चाहते हैं या फिर—असफलता की कुछ घटनाओं का अनुभव कर लेने पर—सोचते हैं कि उनके लिए सब खत्म हो गया है, और कि यह भी परमेश्वर द्वारा निर्धारित किया गया था। दोनों बातें गलत हैं। अगर तुम समय रहते बदल सकते हो, अगर तुम अपना मन बदल सकते हो, अपने हाथों हुई बुराई को एक तरफ रख सकते हो, परमेश्वर के सामने लौट सकते हो, अपने पाप स्वीकार सकते हो और परमेश्वर के सामने पश्चात्ताप कर सकते हो, यह स्वीकार सकते हो कि तुम्हारे कार्य और वह मार्ग, जिस पर तुम चलते हो, गलत हैं, अपनी विफलताएँ स्वीकार सकते हो, और बिना हार माने, चाहे तुम कितने भी दागी हो, परमेश्वर द्वारा तुम्हें बताए गए मार्ग के अनुसार अभ्यास कर सकते हो, तो तुम सही काम कर रहे हो। अपने स्वभाव में बदलावों का अनुभव करने और बचाए जाने के क्रम में लोगों को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा। इनमें परमेश्वर द्वारा निर्धारित स्थितियों के प्रति समर्पित होने में असमर्थ होना, लोगों के अपने विभिन्न विचार, दृष्टिकोण, कल्पनाएँ, भ्रष्ट स्वभाव, ज्ञान और योग्यताएँ, या फिर उनकी व्यक्तिगत समस्याएँ या दोष शामिल हैं। तुम्हें हर तरह की मुश्किलों से जूझना होगा। और जब तुम इन असंख्य कठिनाइयों और अवस्थाओं पर काबू पा लोगे, जब तुम्हारे दिल का संघर्ष समाप्त हो जाएगा, तो तुम्हें सत्य-वास्तविकता प्राप्त हो जाएगी, तुम्हारी बेड़ियाँ टूट चुकी होंगी, और इस तरह तुम मुक्त हो गए होगे। इस प्रक्रिया के दौरान लोगों को अकसर एक समस्या का सामना करना पड़ता है, जो यह है कि अपने भीतर समस्याओं की पहचान करने से पहले, वे सोचते हैं कि वे बाकी सबसे बेहतर हैं, और भले ही कोई और न हो, लेकिन वे धन्य होंगे, ठीक पौलुस की तरह। जब उन्हें समस्याओं का पता चलता है, तो वे खुद को बेकार मानने लगते हैं और सोचते हैं कि उनके लिए सब खत्म हो चुका है। हमेशा दो चरम स्थितियाँ होती हैं। तुम्हें इन चरम स्थितियों से उबरना होगा : जब तुम किसी कठिनाई का सामना करते हो, भले ही तुम पहले ही महसूस कर चुके हो कि यह समस्या पूरी तरह से दु:साध्य है, और इसे हल करना बेहद कठिन होगा, तुम तब भी उसे थोड़ा-थोड़ा हल करते हुए, जैसे चींटियाँ हड्डी कुतरती हैं, उसका ठीक से सामना करने में सक्षम होते हो, और तुम इस स्थिति को पलट पाते हो, परमेश्वर के सामने आ पाते हो, और यह विनती करते हो कि परमेश्वर उसे हल करने में तुम्हारी मदद करे; तुम्हें परमेश्वर के सामने पश्चात्ताप करना चाहिए। पश्चात्ताप इस बात का प्रमाण होता है कि तुम्हारे पास सत्य को स्वीकार करने वाला हृदय और आज्ञाकारी रवैया है, जिसका अर्थ है कि अभी भी आशा है। और अगर इस बीच कोई कठिनाई आ जाए, तो डरो मत। प्रार्थना करने के लिए झट से परमेश्वर के सामने जाओ; परमेश्वर चुपके-चुपके तुम्हें देख रहा होता है और तुम्हारी प्रतीक्षा कर रहा होता है, और अगर तुम उसके प्रबंधन-कार्य की व्यवस्था, धारा और दायरे से दूर नहीं जाते, तो अभी भी आशा होती है, और तुम्हें हार नहीं माननी चाहिए। अगर यह एक भ्रष्ट स्वभाव की सामान्य उपज है, तो अगर तुम अपना अनुसरण जारी रखने और प्रवेश करने के लिए तैयार हो, तो एक दिन आएगा जब ये समस्याएँ हल हो जाएँगी। तुम्हें इस पर विश्वास होना चाहिए। परमेश्वर सत्य है—क्या तुम्हें डरने की जरूरत है कि तुम्हारी यह छोटी-सी समस्या हल नहीं हो सकती? यह सब हल हो सकता है, तो तुम्हें नकारात्मक क्यों होना चाहिए? परमेश्वर ने तुम्हें त्यागा नहीं है, तो तुम क्यों हिम्मत हारते हो? तुम्हें हार नहीं माननी चाहिए। नकारात्मक न होने और समस्या से सही तरीके से निपटने के लिए लोगों को जीवन-प्रवेश के कुछ सामान्य नियमों, उसके कुछ सामान्य प्रवाहों और अभिव्यक्तियों की जानकारी होनी चाहिए, उन्हें अपनी कभी-कभी की नकारात्मकता, कमजोरी और उलझन को बहुत सामान्य समझना चाहिए, और ऐसी चीजों को सही ढंग से लेने में सक्षम होना चाहिए। कभी-कभी उनके भ्रष्ट स्वभाव का छलकना काफी गंभीर और काफी घृणित होता है। विशेष रूप से, ऐसे क्षण होते हैं जब लोग स्पष्ट रूप से जानते हैं कि उन्हें परमेश्वर द्वारा अनुशासित किया जा रहा है, ऐसे में डरो मत : अगर परमेश्वर तुम्हें अनुशासित कर रहा है, अगर वह अभी भी तुम्हारी देखभाल और सुरक्षा कर रहा है, और अभी भी तुम्हारे भीतर काम कर रहा है, और हमेशा तुम्हारे साथ है, तो यह साबित करता है कि परमेश्वर ने तुम्हें त्यागा नहीं है। यहाँ तक कि ऐसे क्षणों में भी, जिनमें तुम्हें लगे कि परमेश्वर ने तुम्हें छोड़ दिया है और तुम अँधेरे में घिर गए हो, तो तुम डरो मत : जब तक तुम जीवित हो और जब तक तुम नरक में नहीं हो, तो तुम्हारे लिए एक मौका है। लेकिन अगर तुम पौलुस की तरह हो, जिसने अंततः यह गवाही दी कि जीवित रहना उसके लिए मसीह होना है, तो तुम्हारे लिए सब-कुछ समाप्त हो गया है। तुम्हारे पास क्या मौका है? यह कि तुम परमेश्वर के सामने आने में सक्षम हो, तुम अभी भी परमेश्वर से प्रार्थना कर सकते हो और यह कहते हुए उससे जवाब माँग सकते हो, "हे परमेश्वर! काश, तुम मुझे अभ्यास के मार्ग का यह पहलू और सत्य का यह पहलू समझा दो।" अगर तुम तुम्हारे पास इस प्रकार की योग्यता है, तो तुम्हारे पास उद्धार की आशा है, और तुम अंतत: इसमें सफल हो जाओगे। क्या ये शब्द पर्याप्त स्पष्ट हैं? क्या अभी भी तुम्हारे नकारात्मक होने की संभावना है? जब लोग परमेश्वर की इच्छा को समझते हैं, तो उनका मार्ग व्यापक हो जाता है। अगर वे उसकी इच्छा को नहीं समझते, तो वह संकीर्ण हो जाता है, उनके हृदयों में अँधेरा छा जाता है, और उनके पास चलने के लिए कोई मार्ग नहीं होता। जो लोग सत्य को नहीं समझते, वे ऐसे होते हैं : वे संकीर्ण मानसिकता के होते हैं, वे हमेशा मीन-मेख निकालते हैं, और वे हमेशा परमेश्वर के बारे में शिकायत करते रहते हैं और उसकी गलत व्याख्या करते हैं—जिसका परिणाम यह होता है कि जितना वे आगे चलते हैं, उतना ही उनका मार्ग लुप्त होता जाता है। वस्तुत: लोग परमेश्वर को नहीं समझते। अगर परमेश्वर लोगों के साथ उनकी कल्पना के अनुसार व्यवहार करता, तो मानवजाति के लिए सब-कुछ बहुत पहले ही समाप्त हो गया होता।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'पौलुस के प्रकृति-स्‍वभाव को कैसे पहचाना जाए' से उद्धृत

परमेश्वर जिन लोगों को बचाता है वे वही लोग हैं जिनके स्वभाव शैतान की भ्रष्टता के कारण भ्रष्ट हो गये हैं; वे निष्कलंक, पूर्ण लोग नहीं हैं, वे ऐसे लोग भी नहीं हैं जो रिक्तता में जीवन जीते हैं। कुछ लोग, अपनी भ्रष्टता के प्रकट होते ही सोचते हैं, "एक बार फिर, मैंने परमेश्वर का विरोध किया है; मैंने कई सालों से उस पर विश्वास किया है, लेकिन मैं अब भी नहीं बदला हूँ। परमेश्वर निश्चित रूप से अब मुझे पसंद नहीं करता है!" यह किस तरह का रवैया है? उन लोगों ने खुद से उम्मीद छोड़ दी है, और वे सोचते हैं कि अब परमेश्वर उन्हें नहीं चाहता है। क्या यह परमेश्वर को गलत समझने वाली बात नहीं है? जब तुम इतना नकारात्मक होते हो तो, शैतान के लिये तुम्हें नुकसान पहुंचाना सबसे आसान होता है, और एक बार वह कामयाब हो गया, तो परिणामों की कल्पना नहीं की जा सकती। इसलिए, चाहे तुम कितनी ही बड़ी मुश्किल में क्यों न हो या चाहे तुम कितना भी निराश क्यों न महसूस करते हो, तुम्हें कभी हिम्मत नहीं हारनी चाहिये! जीवन में प्रगति की प्रक्रिया में और बचाये जाते समय, लोग कभी-कभी गलत मार्ग चुन लेते हैं या पथभ्रष्ट हो जाते हैं। वे कुछ समय के लिए अपने जीवन में कुछ अपरिपक्वता दिखाते हैं, या कभी-कभी कमज़ोर या नकारात्मक हो जाते हैं, गलत बातें कहते हैं, फिसल जाते हैं और गिरते हैं, या असफलता का सामना करते हैं। परमेश्वर के दृष्टिकोण से, ऐसी बातें सामान्य हैं, और वह इन बातों का बतंगड़ नहीं बनाएगा। यह देखकर कि वे कितने गंभीर रूप से भ्रष्ट हैं, कि वे परमेश्वर को कभी भी संतुष्ट नहीं कर पाएंगे, कुछ लोगों के हृदय में पीड़ा होती है और जिन लोगों को ऐसा पश्चाताप होता है, वे अक्सर परमेश्वर के उद्धार का लक्ष्य होते हैं। जिन लोगों को उद्धार की आवश्यकता महसूस नहीं होती, जिन्हें लगता है कि वे पहले से ही पूर्ण हैं, उन्हें परमेश्वर द्वारा बचाया नहीं जाएगा। मैं तुम्हें यह क्यों बता रहा हूँ? मेरे कहने का मतलब यह है कि तुम्हारे अंदर आस्था होनी चाहिएः "इस तथ्य के बावजूद कि मैं अब कमज़ोर हो गया हूँ, पतित हो गया हूँ और असफल हो चुका हूँ, एक न एक दिन मैं उठूँगा और परमेश्वर को संतुष्ट कर पाऊँगा, सत्य को समझूँगा और बचा लिया जाऊँगा।" तुम्हारे अंदर यह आस्था होनी चाहिए। चाहे जो भी बाधाएं, परेशानियाँ आएं या असफलताएं और पराजय हाथ लगे, तुम्हें निराश नहीं होना चाहिए; तुम्हें यह जानना चाहिए कि किस प्रकार के लोग परमेश्वर द्वारा बचाए जाते हैं। इसके अलावा, यदि तुम्हें लगता है कि तुम परमेश्वर के उद्धार के अयोग्य हो, यदि तुम्हें कभी-कभार ऐसा महसूस होने लगे कि परमेश्वर तुमसे घृणा करता है या तुमसे नाराज़ है या अतीत में कभी ऐसा हो चुका है कि तुम्हें परमेश्वर द्वारा पूर्ण रूप से अस्वीकार या खारिज कर दिया गया है, तो चिंता न करो। तुम यह बात तुम्हें पता है, इसलिए बहुत देर नहीं हुई है; यदि तुम पश्चाताप करोगे, तो परमेश्वर तुम्हें उद्धार का अवसर प्रदान करेगा।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'परमेश्वर में आस्था के लिए सर्वाधिक आवश्यक है जीवन में प्रवेश' से उद्धृत

पवित्र आत्मा के पास प्रत्येक व्यक्ति में चलने के लिए एक मार्ग है, और वह प्रत्येक व्यक्ति को पूर्ण होने का अवसर प्रदान करता है। तुम्हारी नकारात्मकता के माध्यम से तुम्हें तुम्हारी भ्रष्टता ज्ञात करवाई जाती है, और फिर नकारात्मकता को फेंककर तुम्हें अभ्यास करने का मार्ग मिल जाएगा; इन्हीं सब तरीकों से तुम पूर्ण किए जाते हो। इसके अतिरिक्त, निरंतर मार्गदर्शन और अपने भीतर कुछ सकारात्मक चीज़ों की रोशनी के द्वारा तुम अपना कार्य अग्रसक्रियता से पूरा करोगे, तुम्हारी अंतर्दृष्टि विकसित होगी और तुम विवेक प्राप्त करोगे। जब तुम्हारी स्थितियाँ अच्छी होती हैं, तुम परमेश्वर के वचन पढ़ने के विशेष रूप से इच्छुक होते हो, और परमेश्वर से प्रार्थना करने के भी विशेष रूप से इच्छुक होते हो, और जो उपदेश तुम सुनते हो, उसे अपनी अवस्था के साथ जोड़ सकते हो। ऐसे समय परमेश्वर तुम्हें भीतर से प्रबुद्ध और रोशन करता है, और तुम्हें सकारात्मक पहलू वाली कुछ चीज़ों का एहसास कराता है। इसी तरह से तुम सकारात्मक पहलू में पूर्ण किए जाते हो। नकारात्मक स्थितियों में तुम दुर्बल और निष्क्रिय होते हो; तुम्हें महसूस होता है कि तुम्हारे दिल में परमेश्वर नहीं है, फिर भी परमेश्वर तुम्हें रोशन करता है और अभ्यास करने के लिए मार्ग खोजने में तुम्हारी सहायता करता है। इससे बाहर आना नकारात्मक पहलू में पूर्णता प्राप्त करना है। परमेश्वर मनुष्य को सकारात्मक और नकारात्मक दोनों पहलुओं में पूर्ण बना सकता है। यह इस पर निर्भर करता है कि तुम अनुभव करने में सक्षम हो या नहीं, और तुम परमेश्वर द्वारा पूर्ण किए जाने के लिए कोशिश करते हो या नहीं। यदि तुम सचमुच परमेश्वर द्वारा पूर्ण किए जाने के लिए कोशिश करते हो, तो नकारात्मक पहलू तुम्हारी हानि नहीं कर सकता, बल्कि तुम्हारे लिए अधिक वास्तविक चीज़ें ला सकता है, और तुम्हें यह जानने में और अधिक सक्षम सकता है कि तुम्हारे भीतर क्या कमी है, अपनी वास्तविक स्थिति को समझने में अधिक सक्षम बना सकता है, और यह देखने में भी कि मनुष्य के पास कुछ नहीं है, और मनुष्य कुछ नहीं है; यदि तुम परीक्षण अनुभव नहीं करते, तो तुम नहीं जानते, और तुम हमेशा यह महसूस करोगे कि तुम दूसरों से ऊपर हो और प्रत्येक व्यक्ति से बेहतर हो। इस सबके द्वारा तुम देखोगे कि जो कुछ पहले आया था, वह सब परमेश्वर द्वारा किया गया था और सुरक्षित रखा गया था। परीक्षणों में प्रवेश तुम्हें प्रेम या विश्वास से रहित बना देता है, तुममें प्रार्थना की कमी होती है और तुम भजन गाने में असमर्थ होते हो और इसे जाने बिना ही तुम इसके मध्य स्वयं को जान लेते हो।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'केवल उन्हें ही पूर्ण बनाया जा सकता है जो अभ्यास पर ध्यान देते हैं' से उद्धृत

यदि तुम्हारा हृदय वास्तव में परमेश्वर के समक्ष शांत रहता है, तो बाहरी दुनिया में होने वाली किसी भी बात से तुम अशांत नहीं होगे, या तुम पर किसी भी व्यक्ति, घटना या वस्तु द्वारा कब्जा नहीं किया जा सकेगा। यदि तुम्हारा इसमें प्रवेश है, तो वे नकारात्मक अवस्थाएँ और समस्त नकारात्मक चीज़ें—मानवीय धारणाएँ, जीवन-दर्शन, लोगों के बीच असामान्य संबंध तथा मत और विचार, इत्यादि—स्वाभाविक रूप से गायब हो जाएँगी। चूँकि तुम सदा परमेश्वर के वचनों पर चिंतन कर रहे हो, और तुम्हारा हृदय हमेशा परमेश्वर के निकट आ रहा है और हमेशा परमेश्वर के वर्तमान वचनों से घिरा रहता है, इसलिए वे नकारात्मक चीज़ें अनजाने ही तुमसे दूर हो जाएँगी। जब नई और सकारात्मक चीज़ें तुम पर कब्जा करेंगी, तब पुरानी नकारात्मक चीज़ों के लिए कोई जगह नहीं रहेगी, इसलिए उन नकारात्मक चीज़ों पर ध्यान न दो। तुम्हें उन्हें नियंत्रित करने के लिए कोई प्रयास करने की आवश्यकता नहीं है। तुम्हें परमेश्वर के समक्ष शांत रहने, परमेश्वर के वचनों को अधिक से अधिक खाने, पीने और उनका आनंद लेने, परमेश्वर की स्तुति में अधिकाधिक भजन गाने, और परमेश्वर को अपने ऊपर कार्य करने का अवसर देने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए, क्योंकि परमेश्वर इस समय मानव-जाति को व्यक्तिगत रूप से सिद्ध बनाना चाहता है, और वह तुम्हारे हृदय को हासिल करना चाहता है; उसका आत्मा तुम्हारे हृदय को प्रेरित करता है, और यदि पवित्र आत्मा के मार्गदर्शन का अनुसरण करके तुम परमेश्वर की उपस्थिति में आ जाते हो, तो तुम परमेश्वर को संतुष्ट करोगे।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के समक्ष अपने हृदय को शांत रखने के बारे में' से उद्धृत

अब तुम्हें नकारात्मक चीज़ों पर ध्यान नहीं देना चाहिए। पहले, हर उस चीज़ को अलग रख दो और उसकी उपेक्षा करो, जो तुम्हें नकारात्मक महसूस कराए। जब तुम कामकाज सँभाल रहे होते हो, तो ऐसे दिल से सँभालो, जो खोज करता हो और सावधानी से आगे बढ़ता हो, ऐसा दिल जो परमेश्वर के प्रति समर्पित होता हो। जब कभी तुम लोगों को अपने भीतर किसी कमजोरी का पता चले, पर तुम उसे खुद पर काबू न पाने दो, और उसके बावजूद तुम वे कार्य करो, जो तुम्हें करने चाहिए, तो तुमने एक सकारात्मक कदम आगे बढ़ा लिया। उदाहरण के लिए, तुम वृद्ध भाई-बहनों की धार्मिक धारणाएँ हैं, फिर भी तुम प्रार्थना कर सकते हो, समर्पण कर सकते हो, परमेश्वर के वचन खा-पी सकते हो, और भजन गा सकते हो...। दूसरे शब्दों में, तुम जो कुछ भी करने में सक्षम हो, जो कोई भी कार्य तुम कर सकते हो, तुम्हें अपनी पूरी शक्ति के साथ उसके प्रति समर्पित हो जाना चाहिए। निष्क्रियता से प्रतीक्षा न करो। अपने कर्तव्य के निर्वहन में परमेश्वर को संतुष्ट करने में सक्षम होना पहला कदम है। फिर, एक बार जब तुम सत्य को समझने में सक्षम हो जाओगे और परमेश्वर के वचनों की वास्तविकता में प्रवेश हासिल कर लोगे, तब तुम परमेश्वर द्वारा पूर्ण किए जा चुके होगे।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'सभी के द्वारा अपना कार्य करने के बारे में' से उद्धृत

कुछ लोग नकारात्मकता के बीच में होने के बावजूद अपने कर्तव्यों का पालन करते समय अभी भी "परिणाम चाहे जो भी हो, अंत तक वफादार रहने" का रवैया बनाए रख सकते हैं। मैं कहता हूँ कि यह परिवर्तन है, लेकिन तुम लोग स्वयं इसे पहचानने में असमर्थ हो। वास्तव में, अगर तुम खुद को ध्यान से जाँचो, तो तुम देखोगे कि तुम्हारे भ्रष्ट स्वभाव का एक हिस्सा पहले ही बदल चुका है; हालाँकि जब तुम खुद को लगातार उच्चतम मानकों से मापोगे, तो तुम न केवल उन्हें पूरा करने में सक्षम नहीं होगे, बल्कि अपने भीतर पहले से आए किसी बदलाव को भी नकार दोगे। यहीं लोग भटक जाते हैं। अगर तुम वास्तव में ऐसे व्यक्ति हो जो सही-गलत में भेद कर सकता है, तो अपने भीतर हुए परिवर्तनों के बारे में खुद को जागरूक करने में कोई बुराई नहीं है; न केवल तुम उन्हें देख सकते हो, बल्कि तुम आगे बढ़ने का अभ्यास का मार्ग भी खोज सकते हो। ऐसा होने पर तुम देखोगे कि अगर तुम कड़ी मेहनत करते हो, तो तुम्हारे पास अभी भी आशा है; तुम देखोगे कि तुम वह नहीं हो, जिसे छुटकारा नहीं मिल सकता। अभी मैं तुम्हें यह बताता हूँ : जो लोग अपनी समस्याओं को सही ढंग से देख सकते हैं, उनके पास आशा है; वे नकारात्मकता से बाहर आ सकते हैं।

तुम सत्य को छोड़ देते हो, क्योंकि तुम सोचते हो कि तुम पहले से ही बचाए जाने से परे हो, इसलिए तुम सबसे मौलिक सत्य भी छोड़ देते हो। शायद ऐसा नहीं है कि तुम सत्य को अभ्यास में नहीं ला सकते, बल्कि तुमने ऐसा करने के अवसर त्याग दिए हैं। अगर तुम सत्य को छोड़ देते हो, तो क्या तुम अभी भी बदल सकते हो? अगर तुम सत्य को छोड़ देते हो, तो परमेश्वर में तुम्हारे विश्वास का क्या अर्थ है? जैसा कि पहले ही कहा जा चुका है, "स्वभाव में बदलाव की कोशिश करना कभी गलत नहीं होता, चाहे इसे जब भी किया जाए।" क्या तुम इन वचनों को भूल गए हो? फिर भी तुम्हें लगता है कि तुम आशाहीन हो। अगर तुमने अपनी सकारात्मक तलाश खो दी है, तो क्या नकारात्मक चीजें सामने नहीं आएँगी? तो फिर तुम नकारात्मक होने से कैसे बच पाओगे? इस प्रकार, मैं अभी भी तुमसे कहता हूँ : तुम्हें खुद को सही ढंग से देखना चाहिए, और सत्य को नहीं छोड़ना चाहिए।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'खुद को सही ढंग से देखो और सत्य को मत छोड़ो' से उद्धृत

पिछला: 53. अहंकार और दंभ में सुधार लाने के सिद्धांत

अगला: 55. अनर्थकता से बचने के सिद्धांत

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें