49. स्‍वयं को नकारने और शारीरिक इच्‍छाओं को त्‍यागने के सिद्धान्‍त

(1) परमेश्‍वर के वचनों के आधार पर, व्‍यक्ति को अपने भ्रष्‍ट सार के बारे में जानना, और इस सत्‍य को समझना ज़रूरी है कि शरीर शैतानी प्रकृति से नियन्त्रित है। इस तरह, व्‍यक्ति शरीर से सच्‍चे अर्थों में घृणा कर सकता है;

(2) कोई मामला मनुष्‍य द्वारा जितना ही ज्‍़यादा असम्‍भव मान लिया गया हो, और जितना ही कम कम वह उसकी धारणाओं से मेल खाता हो, उतनी ही ज्‍़यादा उसे सत्‍य की खोज करनी चाहिए, खुद को नकारना चाहिए, और परमेश्‍वर के प्रति समर्पण करना चाहिए;

(3) मनुष्‍य की धारणाएँ, कल्‍पनाएँ, और अनुभूतियाँ चाहे कितनी ही सही क्‍यों न हों, वे सत्‍य नहीं हैं, और परमेश्‍वर के वचन मनुष्‍य की धारणाओं से कितना ही कम मेल क्‍यों न खाते हों, उसके वचन सत्‍य हैं;

(4) तमाम मामलों में सत्‍य सिद्धान्‍त को तलाशना, अपनी मान्‍यताओं और दृ‍ष्टिकोणों को त्‍यागना, और शारीरिक इच्‍छाओं का परित्‍याग करना आवश्‍यक है। केवल इसी तरह व्‍यक्ति सत्‍य का अभ्‍यास कर सकता है और मनुष्‍य की तरह जी सकता है।

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन:

परमेश्वर स्वयं ही जीवन है, और सत्य है, और उसका जीवन और सत्य साथ-साथ विद्यमान हैं। वे लोग जो सत्य प्राप्त करने में असमर्थ हैं कभी भी जीवन प्राप्त नहीं करेंगे। मार्गदर्शन, समर्थन, और पोषण के बिना, तुम केवल अक्षर, सिद्धांत, और सबसे बढ़कर, मृत्यु ही प्राप्त करोगे। परमेश्वर का जीवन सतत विद्यमान है, और उसका सत्य और जीवन साथ-साथ विद्यमान हैं। यदि तुम सत्य का स्रोत नहीं खोज पाते हो, तो तुम जीवन की पौष्टिकता प्राप्त नहीं करोगे; यदि तुम जीवन का पोषण प्राप्त नहीं कर सकते हो, तो तुममें निश्चित ही सत्य नहीं होगा, और इसलिए कल्पनाओं और धारणाओं के अलावा, संपूर्णता में तुम्हारा शरीर तुम्हारी देह—दुर्गंध से भरी तुम्हारी देह—के सिवा कुछ न होगा। यह जान लो कि किताबों की बातें जीवन नहीं मानी जाती हैं, इतिहास के अभिलेख सत्य नहीं माने जा सकते हैं, और अतीत के नियम वर्तमान में परमेश्वर द्वारा कहे गए वचनों के वृतांत का काम नहीं कर सकते हैं। परमेश्वर पृथ्वी पर आकर और मनुष्य के बीच रहकर जो अभिव्यक्त करता है, केवल वही सत्य, जीवन, परमेश्वर की इच्छा, और उसका कार्य करने का वर्तमान तरीक़ा है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'केवल अंत के दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनंत जीवन का मार्ग दे सकता है' से उद्धृत

हम सबको जानना चाहिए कि मनुष्य, जो कि देहधारी है, शैतान द्वारा भ्रष्ट किया जा चुका है। मानवजाति की प्रकृति ही है परमेश्वर का विरोध करना। मानवजाति परमेश्वर के समान नहीं हो सकती, परमेश्वर के कार्य के लिए परामर्श देने की उम्मीद तो वह बिलकुल भी नहीं कर सकती। जहाँ तक इस बात का संबंध है कि परमेश्वर मनुष्य का मार्गदर्शन कैसे करता है, तो यह स्वयं परमेश्वर का कार्य है। यह उचित है कि इस या उस विचार की डींग हाँकने के बजाय मनुष्य को समर्पण करना चाहिए, क्योंकि मनुष्य धूल मात्र है। चूँकि हमारा इरादा परमेश्वर की खोज करने का है, इसलिए हमें परमेश्वर के विचार के लिए उसके कार्य पर अपनी अवधारणाएँ नहीं थोपनी चाहिए, और जानबूझकर परमेश्वर के कार्य का विरोध करने के लिए अपने भ्रष्ट स्वभाव का भरसक उपयोग तो बिलकुल भी नहीं करना चाहिए। क्या ऐसा करना हमें मसीह-विरोधी नहीं बनाएगा? ऐसे लोग परमेश्वर में विश्वास कैसे कर सकते हैं? चूँकि हम विश्वास करते हैं कि परमेश्वर है, और चूँकि हम उसे संतुष्ट करना और उसे देखना चाहते हैं, इसलिए हमें सत्य के मार्ग की खोज करनी चाहिए, और परमेश्वर के अनुकूल रहने का मार्ग तलाशना चाहिए। हमें परमेश्वर के कड़े विरोध में खड़े नहीं होना चाहिए। ऐसे कार्यों से क्या भला हो सकता है?

— "वचन देह में प्रकट होता है" की 'प्रस्तावना' से उद्धृत

कई लोगों में परमेश्वर के दूसरे देहधारण के बारे में बुरी भावना है, क्योंकि लोगों को यह बात मानने में कठिनाई होती है कि परमेश्वर न्याय का कार्य करने के लिए देह धारण करेगा। फिर भी, मुझे तुम्हें यह अवश्य बताना होगा कि प्रायः परमेश्वर का कार्य मनुष्य की अपेक्षाओं से बहुत आगे तक जाता है, और मनुष्य के मन के लिए इसे स्वीकार करना कठिन होता है। क्योंकि लोग पृथ्वी पर मात्र कीड़े-मकौड़े हैं, जबकि परमेश्वर सर्वोच्च है जो ब्रह्मांड में समाया हुआ है; मनुष्य का मन गंदे पानी से भरे हुए एक गड्डे के सदृश है, जो केवल कीड़े-मकोड़ों को ही उत्पन्न करता है, जबकि परमेश्वर के विचारों द्वारा निर्देशित कार्य का प्रत्येक चरण परमेश्वर की बुद्धि का परिणाम है। लोग हमेशा परमेश्वर के साथ संघर्ष करने की कोशिश करते हैं, जिसके बारे में मैं कहता हूँ कि यह स्वत: स्पष्ट है कि अंत में कौन हारेगा। मैं तुम सबको समझा रहा हूँ कि अपने आपको स्वर्ण से अधिक मूल्यवान मत समझो। जब दूसरे लोग परमेश्वर का न्याय स्वीकार कर सकते हैं, तो तुम क्यों नहीं? तुम दूसरों से कितने ऊँचे हो? अगर दूसरे लोग सत्य के आगे सिर झुका सकते हैं, तो तुम भी ऐसा क्यों नहीं कर सकते?

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'मसीह न्याय का कार्य सत्य के साथ करता है' से उद्धृत

"असंभव" के बारे में अपनी राय जाने दो! लोग किसी चीज़ को जितना अधिक असंभव मानते हैं, उसके घटित होने की उतनी ही अधिक संभावना होती है, क्योंकि परमेश्वर की बुद्धि स्वर्ग से ऊँची उड़ान भरती है, परमेश्वर के विचार मनुष्य के विचारों से ऊँचे हैं, और परमेश्वर का कार्य मनुष्य की सोच और धारणा की सीमाओं के पार जाता है। जितना अधिक कुछ असंभव होता है, उतना ही अधिक उसमें सत्य होता है, जिसे खोजा जा सकता है; कोई चीज़ मनुष्य की धारणा और कल्पना से जितनी अधिक परे होती है, उसमें परमेश्वर की इच्छा उतनी ही अधिक होती है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के प्रकटन ने एक नए युग का सूत्रपात किया है' से उद्धृत

जब ऐसा कुछ होता है, जिसमें तुम्हें कठिनाई झेलने की आवश्यकता होती है, तो उस समय तुम्हें समझना चाहिए कि परमेश्वर की इच्छा क्या है, और कैसे तुम्हें उसकी इच्छा के प्रति सचेत रहना चाहिए। तुम्हें स्वयं को संतुष्ट नहीं करना चाहिए : पहले अपने आप को एक तरफ़ रख दो। देह से अधिक अधम कोई और चीज़ नहीं है। तुम्हें परमेश्वर को संतुष्ट करने की कोशिश करनी चाहिए, और अपना कर्तव्य पूरा करना चाहिए। ऐसे विचारों के साथ, परमेश्वर इस मामले में तुम पर अपनी विशेष प्रबुद्धता लाएगा, और तुम्हारे हृदय को भी आराम मिलेगा। जब तुम्हारे साथ कुछ घटित होता है, चाहे वह बड़ा हो या छोटा, तो सबसे पहले तुम्हें अपने आपको एक तरफ़ रखना और देह को सभी चीज़ों में सबसे अधम समझना चाहिए। जितना अधिक तुम देह को संतुष्ट करोगे, यह उतनी ही अधिक स्वतंत्रता लेता है; यदि तुम इस समय इसे संतुष्ट करते हो, तो अगली बार यह तुमसे और अधिक की माँग करेगा। जब यह जारी रहता है, लोग देह को और अधिक प्रेम करने लग जाते हैं। देह की हमेशा असंयमित इच्छाएँ होती हैं; यह हमेशा चाहता है कि तुम इसे संतुष्ट और भीतर से प्रसन्न करो, चाहे यह उन चीज़ों में हो जिन्हें तुम खाते हो, जो तुम पहनते हो, या जिनमें आपा खो देते हो, या स्वयं की कमज़ोरी और आलस को बढ़ावा देते हो...। जितना अधिक तुम देह को संतुष्ट करते हो, उसकी कामनाएँ उतनी ही बड़ी हो जाती हैं, और उतना ही अधिक वह ऐयाश बन जाता है, जब तक कि वह उस स्थिति तक नहीं पहुँच जाता, जहाँ लोगों का देह और अधिक गहरी धारणाओं को आश्रय देता है, और परमेश्वर की आज्ञा का उल्लंघन करता है और स्वयं को महिमामंडित करता है, और परमेश्वर के कार्य के बारे में संशयात्मक हो जाता है। जितना अधिक तुम देह को संतुष्ट करते हो, उतनी ही बड़ी देह की कमज़ोरियाँ होती हैं; तुम हमेशा महसूस करोगे कि कोई भी तुम्हारी कमज़ोरियों के साथ सहानुभूति नहीं रखता, तुम हमेशा विश्वास करोगे कि परमेश्वर बहुत दूर चला गया है, और तुम कहोगे : "परमेश्वर इतना निष्ठुर कैसे हो सकता है? वह लोगों का पीछा क्यों नहीं छोड़ देता?" जब लोग देह को संतुष्ट करते हैं, और उससे बहुत अधिक प्यार करते हैं, तो वे अपने आपको बरबाद कर बैठते हैं। यदि तुम परमेश्वर से सचमुच प्रेम करते हो, और देह को संतुष्ट नहीं करते, तो तुम देखोगे कि परमेश्वर जो कुछ करता है, वह बहुत सही और बहुत अच्छा होता है, और यह कि तुम्हारे विद्रोह के लिए उसका शाप और तुम्हारी अधार्मिकता के बारे में उसका न्याय तर्कसंगत है। कई बार ऐसा होगा, जब परमेश्वर तुम्हें अपने सामने आने के लिए बाध्य करते हुए ताड़ना देगा और अनुशासित करेगा, और तुम्हें तैयार करने के लिए माहौल बनाएगा—और तुम हमेशा यह महसूस करोगे कि जो कुछ परमेश्वर कर रहा है, वह अद्भुत है। इस प्रकार तुम ऐसा महसूस करोगे, मानो कोई ज्यादा पीड़ा नहीं है, और यह कि परमेश्वर बहुत प्यारा है। यदि तुम देह की कमज़ोरियों को बढ़ावा देते हो, और कहते हो कि परमेश्वर अति कर देता है, तो तुम हमेशा पीड़ा का अनुभव करोगे और हमेशा उदास रहोगे, और तुम परमेश्वर के समस्त कार्य के बारे में अस्पष्ट रहोगे, और ऐसा प्रतीत होगा मानो परमेश्वर मनुष्यों की कमज़ोरियों के प्रति बिल्कुल भी सहानुभूति नहीं रखता, और वह मनुष्यों की कठिनाइयों से अनजान है। और इस प्रकार से तुम हमेशा दुःखी और अकेला महसूस करोगे, मानो तुमने बड़ा अन्याय सहा है, और उस समय तुम शिकायत करना आरंभ कर दोगे। जितना अधिक तुम इस प्रकार से देह की कमज़ोरियों को बढ़ावा दोगे, उतना ही अधिक तुम महसूस करोगे कि परमेश्वर बहुत अति कर देता है, जब तक कि यह इतना बुरा नहीं हो जाता कि तुम परमेश्वर के कार्य को नकार देते हो, और परमेश्वर का विरोध करने लगते हो, और अवज्ञा से भर जाते हो। इसलिए तुम्हें देह से विद्रोह करना चाहिए और उसे बढ़ावा नहीं देना चाहिए : "मेरा पति (मेरी पत्नी), बच्चे, सम्भावनाएँ, विवाह, परिवार—इनमें से कुछ भी मायने नहीं रखता! मेरे हृदय में केवल परमेश्वर है, और मुझे परमेश्वर को संतुष्ट करने के लिए भरसक प्रयास करना चाहिए और देह को संतुष्ट करने का प्रयास नहीं करना चाहिए।" तुममें ऐसा संकल्प होना चाहिए। यदि तुममें हमेशा इस प्रकार का संकल्प रहेगा, तो जब तुम सत्य को अभ्यास में लाओगे, और अपने आप को एक ओर करोगे, तो तुम ऐसा बहुत ही कम प्रयास के द्वारा कर पाओगे। ऐसा कहा जाता है कि एक बार एक किसान ने एक साँप देखा, जो सड़क पर बर्फ में जम कर कड़ा हो गया था। किसान ने उसे उठाया और अपने सीने से लगा लिया, और साँप ने जीवित होने के पश्चात् उसे डस लिया, जिससे उस किसान की मृत्यु हो गई। मनुष्य की देह साँप के समान है : इसका सार उसके जीवन को हानि पहुँचाना है—और जब पूरी तरह से उसकी मनमानी चलने लगती है, तो तुम जीवन पर से अपना अधिकार खो बैठते हो। देह शैतान से संबंधित है। इसके भीतर असंयमित इच्छाएँ हैं, यह केवल अपने बारे में सोचता है, यह आरामतलब है और फुरसत में रंगरलियाँ मनाता है, सुस्ती और आलस्य में धँसा रहता है, और इसे एक निश्चित बिंदु तक संतुष्ट करने के बाद तुम अंततः इसके द्वारा खा लिए जाओगे। कहने का अर्थ है कि, यदि तुम इसे इस बार संतुष्ट करोगे, तो अगली बार यह और अधिक की माँग करने आ जाएगा। इसकी हमेशा असंयमित इच्छाएँ और नई माँगें रहती हैं, और अपने आपको और अधिक पोषित करवाने और उसके सुख के बीच रहने के लिए तुम्हारे द्वारा अपने को दिए गए बढ़ावे का फायदा उठाता है—और यदि तुम इस पर विजय नहीं पाओगे, तो तुम अंततः स्वयं को बरबाद कर लोगे। तुम परमेश्वर के सामने जीवन प्राप्त कर सकते हो या नहीं, और तुम्हारा परम अंत क्या होगा, यह इस बात पर निर्भर करता है कि तुम देह के प्रति अपना विद्रोह कैसे कार्यान्वित करते हो। परमेश्वर ने तुम्हें बचाया है, और तुम्हें चुना और पूर्वनिर्धारित किया है, फिर भी यदि आज तुम उसे संतुष्ट करने के लिए तैयार नहीं हो, तुम सत्य को अभ्यास में लाने के लिए तैयार नहीं हो, तुम अपनी देह के विरुद्ध एक ऐसे हृदय के साथ विद्रोह करने के लिए तैयार नहीं हो, जो सचमुच परमेश्वर से प्रेम करता हो, तो अंततः तुम अपने आप को बरबाद कर लोगे, और इस प्रकार चरम पीड़ा सहोगे। यदि तुम हमेशा अपनी देह को खुश करते हो, तो शैतान तुम्हें धीरे-धीरे निगल लेगा, और तुम्हें जीवन या पवित्रात्मा के स्पर्श से रहित छोड़ देगा, जब तक कि वह दिन नहीं आ जाता, जब तुम भीतर से पूरी तरह अंधकारमय नहीं हो जाते। जब तुम अंधकार में रहोगे, तो तुम्हें शैतान के द्वारा बंदी बना लिया जाएगा, तुम्हारे हृदय में अब परमेश्वर नहीं होगा, और उस समय तुम परमेश्वर के अस्तित्व को नकार दोगे और उसे छोड़ दोगे। इसलिए, यदि लोग परमेश्वर से प्रेम करना चाहते हैं, तो उन्हें पीड़ा की क़ीमत चुकानी चाहिए और कठिनाई सहनी चाहिए। बाहरी जोश और कठिनाई, अधिक पढ़ने तथा अधिक भाग-दौड़ करने की कोई आवश्यकता नहीं है; इसके बजाय, उन्हें अपने भीतर की चीज़ों को एक तरफ रख देना चाहिए : असंयमित विचार, व्यक्तिगत हित, और उनके स्वयं के विचार, धारणाएँ और प्रेरणाएँ। परमेश्वर की यही इच्छा है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'केवल परमेश्वर से प्रेम करना ही वास्तव में परमेश्वर पर विश्वास करना है' से उद्धृत

परमेश्वर द्वारा लोगों के बाहरी स्वभाव से निपटना भी उसके कार्य का एक भाग है; उदाहरण के लिए, लोगों की बाहरी, असामान्य मानवता से, या उनकी जीवनशैली और आदतों, उनके तौर-तरीकों और रीति-रिवाजों, और साथ ही उनके बाहरी अभ्यासों और उनके जोश से निपटना। किंतु जब वह कहता है कि लोग सत्य को अभ्यास में लाएँ और अपने स्वभावों को बदलें, तो प्राथमिक रूप से जिन चीज़ों के साथ निपटा जा रहा है, वे हैं उनके भीतर के इरादे और प्रेरणाएँ। केवल तुम्हारे बाहरी स्वभाव से निपटना कठिन नहीं है; यह तुम्हें उन चीज़ों को खाने से मना करने के समान है जो तुम्हें पसंद हैं, जो कि आसान है। लेकिन जो तुम्हारे भीतर की धारणाओं को छूता है, उसे छोड़ना आसान नहीं है। इसके लिए आवश्यक है कि लोग देह के खिलाफ़ विद्रोह करें, और एक क़ीमत चुकाएँ, और परमेश्वर के सामने कष्ट सहें। ऐसा विशेष रूप से लोगों के इरादों के साथ है। जबसे लोगों ने परमेश्वर पर विश्वास करना शुरू किया है, उन्होंने कई ग़लत इरादों को प्रश्रय दिया है। जब तुम सत्य को अभ्यास में नहीं ला रहे होते हो, तो तुम ऐसा महसूस करते हो कि तुम्हारे सभी इरादे सही हैं, किंतु जब तुम्हारे साथ कुछ घटित होता है, तो तुम देखोगे कि तुम्हारे भीतर बहुत-से गलत इरादे हैं। इसलिए, जब परमेश्वर लोगों को पूर्ण बनाता है, तो वह उन्हें महसूस करवाता है कि उनके भीतर कई ऐसी धारणाएँ हैं, जो परमेश्वर के बारे में उनके ज्ञान को अवरुद्ध कर रही हैं। जब तुम पहचान लेते हो कि तुम्हारे इरादे ग़लत हैं, तब यदि तुम अपनी धारणाओं और इरादों के अनुसार अभ्यास करना छोड़ पाते हो, और परमेश्वर के लिए गवाही दे पाते हो और अपने साथ घटित होने वाली हर बात में अपनी स्थिति पर डटे रहते हो, तो यह साबित करता है कि तुमने देह के विरुद्ध विद्रोह कर दिया है। जब तुम देह के विरुद्ध विद्रोह करते हो, तो तुम्हारे भीतर अपरिहार्य रूप से एक संघर्ष होगा। शैतान लोगों से अपना अनुसरण करवाने की कोशिश करेगा, उनसे देह की धारणाओं का अनुसरण करवाने की कोशिश करेगा और देह के हितों को बनाए रखेगा—किंतु परमेश्वर के वचन भीतर से लोगों को प्रबुद्ध करेंगे और उन्हें रोशनी प्रदान करेंगे, और उस समय यह तुम पर निर्भर करेगा कि तुम परमेश्वर का अनुसरण करते हो या शैतान का। परमेश्वर लोगों से मुख्य रूप से उनके भीतर की चीज़ों से, उनके उन विचारों और धारणाओं से, जो परमेश्वर के मनोनुकूल नहीं हैं, निपटने के लिए सत्य को अभ्यास में लाने के लिए कहता है। पवित्र आत्मा लोगों के हृदय में स्पर्श करता है और उन्हें प्रबुद्ध और रोशन करता है। इसलिए जो कुछ होता है, उस सब के पीछे एक संघर्ष होता है : हर बार जब लोग सत्य को अभ्यास में लाते हैं या परमेश्वर के लिए प्रेम को अभ्यास में लाते हैं, तो एक बड़ा संघर्ष होता है, और यद्यपि अपने देह से सभी अच्छे दिखाई दे सकते हैं, किंतु वास्तव में, उनके हृदय की गहराई में जीवन और मृत्यु का संघर्ष चल रहा होता है—और केवल इस घमासान संघर्ष के बाद ही, अत्यधिक चिंतन के बाद ही, जीत या हार तय की जा सकती है। कोई यह नहीं जानता कि रोया जाए या हँसा जाए। क्योंकि मनुष्यों के भीतर के अनेक इरादे ग़लत हैं, या फिर चूँकि परमेश्वर का अधिकांश कार्य उनकी धारणाओं के विपरीत होता है, इसलिए जब लोग सत्य को अभ्यास में लाते हैं, तो पर्दे के पीछे एक बड़ा संघर्ष छिड़ जाता है। इस सत्य को अभ्यास में लाकर, पर्दे के पीछे लोग अंततः परमेश्वर को संतुष्ट करने का मन बनाने से पहले उदासी के असंख्य आँसू बहा चुके होंगे। यह इसी संघर्ष के कारण है कि लोग दुःख और शुद्धिकरण सहते हैं; यही असली कष्ट सहना है। जब संघर्ष तुम्हारे ऊपर पड़ता है, तब यदि तुम सचमुच परमेश्वर की ओर खड़े रहने में समर्थ होते हो, तो तुम परमेश्वर को संतुष्ट कर पाओगे। सत्य का अभ्यास करते हुए व्यक्ति का अपने अंदर पीड़ा सहना अपरिहार्य है; यदि, जब वे सत्य को अभ्यास में लाते हैं, उस समय उनके भीतर सब-कुछ ठीक होता, तो उन्हें परमेश्वर द्वारा पूर्ण बनाए जाने की आवश्यकता न होती, और कोई संघर्ष न होता और वे पीड़ित न होते। ऐसा इसलिए है, क्योंकि लोगों के भीतर कई ऐसी चीज़ें हैं, जो परमेश्वर के द्वारा उपयोग में लाए जाने योग्य नहीं हैं, और चूँकि देह का बहुत विद्रोही स्वभाव है, इसलिए लोगों को देह के विरुद्ध विद्रोह करने के सबक को अधिक गहराई से सीखने की आवश्यकता है। इसी को परमेश्वर पीड़ा कहता है, जिसमें से उसने मनुष्य को अपने साथ गुज़रने के लिए कहा है। जब कठिनाइयों से तुम्हारा सामना हो, तो जल्दी करो और परमेश्वर से प्रार्थना करो : "हे परमेश्वर! मैं तुझे संतुष्ट करना चाहता हूँ, मैं तेरे हृदय को संतुष्ट करने के लिए अंतिम कठिनाई सहना चाहता हूँ, और चाहे मैं कितनी भी बड़ी असफलताओं का सामना करूँ, मुझे तब भी तुझे संतुष्ट करना चाहिए। यहाँ तक कि यदि मुझे अपना संपूर्ण जीवन भी त्यागना पड़े, मुझे तब भी तुझे संतुष्ट करना चाहिए!" इस संकल्प के साथ, जब तुम इस प्रकार प्रार्थना करोगे, तो तुम अपनी गवाही में अडिग रह पाओगे।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'केवल परमेश्वर से प्रेम करना ही वास्तव में परमेश्वर पर विश्वास करना है' से उद्धृत

यदि तुम अपने दिल को वश में करना और शरीर के खिलाफ विद्रोह करना चाहते हो, तो पहले तुम्हें यह जानना होगा कि क्या तुम्हारे इरादे अच्छे हैं; तभी तुम अपने दिल को वश में कर सकते हो। यदि तुम्हें यही नहीं पता कि तुम्हारे इरादे सही हैं या नहीं, तो क्या तुम अपने दिल को वश में और शरीर से विद्रोह कर सकते हो? यदि तुम विद्रोह कर भी दो, तो भी तुम ऐसा भ्रमित स्थिति में करोगे। तुम्हें पता होना चाहिए कि अपने पथभ्रष्ट इरादों से विद्रोह कैसे करें; इसी को देह से विद्रोह करना कहते हैं। एक बार जब तुम जान लेते हो कि तुम्हारे इरादे, सोच और ख्याल गलत हैं, तो तुम्हें तत्काल मुड़ जाना चाहिए और सही पथ पर चलना चाहिए। सबसे पहले इस मुद्दे का समाधान करो, और इस संबंध में प्रवेश पाने के लिए स्वयं को प्रशिक्षित करो, क्योंकि तुम ही बेहतर जानते हो कि तुम्हारे इरादे सही हैं या नहीं। एक बार जब तुम्हारे गलत इरादे सही हो जाएँगे, और परमेश्वर के लिए होंगे, तब तुम अपने दिल को वश में करने के लक्ष्य को प्राप्त कर चुके होगे।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'पूर्णता प्राप्त करने के लिए परमेश्वर की इच्छा को ध्यान में रखो' से उद्धृत

जब तुम्हारे साथ कुछ ऐसा होता है, जिसका तुम्हारी अवधारणाओं पर कोई असर नहीं होता, तुम परमेश्वर के वचनों को खाने-पीने और सामान्य रूप से अपना कर्तव्य निभाने में लगे रहतेहो। लेकिन जब कुछ ऐसा होता है जो तुम्हारी अवधारणाओं के विपरीत जाकर उनसे आगे निकल जाता है और उससे विरोधाभास पैदा होते हैं, तो तुम उन्हें कैसे दूर करते हो? क्या तुम अपनी अवधारणाओं की लगाम ढीली छोड़कर उन्हें मनमानी करने देते हो, या तुम उनसे निपटते हो, उन्हें रोकने की कोशिश करते हो और उनका त्याग कर देते हो? कुछ लोगों के सामने जब कोई समस्या आती है, तो उनमें अवधारणाएँ होती हैं, वे उन्हें दर-किनार करने के बजाय, उन्हें दूसरों तक फैलाने की कोशिश करते हैं। वे इन अवधारणाओं को हवा देने का मौका तलाशते हैं, ताकि दूसरों के अंदर भी ये अवधारणाएं पैदा हो जाएँ। कुछ लोग खुद को सही ठहराने की कोशिश करते हैं: “तुम लोग कहते हो कि परमेश्वर की हर बात का अर्थ होता है, लेकिन जहां तक मैं बता सकता हूं, जो हुआ उसका कोई अर्थ नहीं है। यह सत्य के विपरीत है और जब मेरा सामना ऐसी चीज़ों से होता है, जो सत्य के विपरीत होती हैं, तो फिर मेरे पास कहने के लिए कुछ होता है, मुझे धार्मिकता के लिए खड़ा होना होता है! "क्या ऐसा व्यवहार उचित है? सही राह पर चलने के लिए तुम्हें क्या करना चाहिए? कुछ लोग ऐसी अवधारणाओं वाले होते हैं जो चीजों पर विचार करते हैं और महसूस करते हैं कि परमेश्वर के साथ उनका संबंध सामान्य नहीं है, कि उनके भीतर परमेश्वर के बारे में गलतफहमी पैदा हो गई है, और उनकी ऐसी अवधारणाएं होना एक गंभीर समस्या है। उन्हें लगता है कि यदि उनकी अवधारणाएँ दूर नहीं हुईं, तो वे बहुत बड़े खतरे में पड़ सकते हैं और वे परमेश्वर का विरोध करने, उस पर संदेह करने और उसकी ओर से मुँह मोड़ लेने के लिए उत्तरदायी बन सकते हैं। इसलिए वे परमेश्वर से प्रार्थना करते हैं और अपनी अवधारणाओं को एक तरफ रख देते हैं। पहले तो वे अपने ही भ्रांतिपूर्ण दृष्टिकोण का खंडन करते हैं और फिर सत्य की तलाश करते हैं। परिणामस्वरूप, जैसे-जैसे समय बीतता है, शायद वे अपनी अवधारणाओं का विश्लेषण पूरी तरह से न कर पाए हों, या पूरी तरह से दर-किनार करके उन्हें दूर न कर पाए हों, फिर भी सत्य उनके विचारों और व्यवहार को भीतर से निर्देशित करता है और उन्हें उनके कर्तव्य के निर्वहन में भी मार्गदर्शन देता है, इसलिए उनका कर्तव्य प्रभावित नहीं होता। हो सकता है कि ऐसा दिन आए जब उनके साथ कुछ हो और उनकी अवधारणाओं का समाधान हो जाए। क्या यह अभ्यास करने का सही तरीका नहीं है? हो सकता है कि कुछ लोग परमेश्वर द्वारा उनके लिए बनाई गई व्यवस्था से या परमेश्वर ने जो कुछ किया है, जो उनकी अवधारणाओं के लिए खतरा है, उससे कुछ हद तक असंतुष्ट हों, वे लोग बाद में अपने कर्तव्य के प्रति उदासीन हो जाते हैं और उसे ठीक से नहीं निभाते। वे लगातार मन में प्रतिरोध, असंतोष और आक्रोश के साथ एक प्रकार की नकारात्मक स्थिति में रहते हैं। क्या ऐसा व्यवहार सही है? क्या ऐसी चीजों का समाधान आसान है? उदाहरण के लिए, तुम खुद को बहुत होशियार समझते हो, जबकि मैं कहता हूं कि तुम मूर्ख हो और आध्यात्मिक मामलों को नहीं समझते। यह सुनकर तुम क्रोधित और विरोधी हो जाते हो : “कोई यह कहने की हिम्मत नहीं करता कि मैं आध्यात्मिक मामलों को नहीं समझता। आज पहली बार मैंने ऐसा सुना है। मैं इन शब्दों को स्वीकार नहीं कर सकता। अगर मैं आध्यात्मिक मामलों को नहीं समझता तो क्या मैं कलीसिया की अगुआई कर सकता था? क्या मैं इतना बड़ा काम कर सकता था?” एक संघर्ष पैदा होता है न? तो क्या किया जाना चाहिए? जब लोगों के साथ ऐसा होता है, तो क्या उनके लिए आत्म-मंथन करना आसान है? किस तरह के लोग आत्म-मंथन कर पाते हैं? वे लोग जो को सत्य को स्वीकार कर तलाश करते हैं। सबसे पहले तो अपना खंडन करो। भले ही तुम्हें अपना सटीक ज्ञान न हो, इस बात की समझ न हो कि तुम सही हो या गलत या कुछ हद तक तुममें अज्ञानता हो, जैसे ही तुम परमेश्वर को यह कहते सुनो कि तुम मूर्ख हो और आध्यात्मिक मामलों को नहीं समझते हो, हालांकि तुम स्वयं ही इस बारे में नहीं जानते, यह तुम्हारी प्रकृति-सार के विषय में परमेश्वर की परिभाषा है—तुम्हें इन वचनों को सत्य मानकर स्वीकार कर लेना चाहिए और उन्हें अपने आप पर लागू करना चाहिए, भले ही तुम अलग तरीके से सोचते हो। बाद में, काम करते हुए और दूसरों के साथ बातचीत करते हुए, उनसे अपनी तुलना करने पर, तुम देखोगे कि तुम न केवल आध्यात्मिक मामलों को नहीं समझते, बल्कि तुम बहुत अज्ञानी भी हो। यह पता लगने पर कि तुममें कोई गंभीर समस्या है, जो परमेश्वर ने कहा, क्या तुम उसे पूरी तरह से स्वीकार नहीं कर पा रहे हो? तुम्हें इन वचनों को स्वीकार कर लेना चाहिए। पहले तो उन्हें एक नियम, एक परिभाषा या एक अवधारणा के रूप में स्वीकार करो और फिर उन्हें अपने वास्तविक जीवन में खुद पर लागू करने का कोई तरीका सोचो, उन्हें जानने और अनुभव करने के लिए एक साधन के बारे में सोचो। जैसे-जैसे समय बीतेगा, तुम अपना सही मूल्यांकन कर पाओगे। क्या फिर भी तुममें परमेश्वर के बारे में गलतफहमी होगी? जब इस मामले पर तुममें और परमेश्वर में कोई मतभेद नहीं होगा, तो क्या तुम तब भी अपने बारे में परमेश्वर के मूल्यांकन पर आपत्ति करोगे? तुम इसे स्वीकार करोगे और अवज्ञा नहीं करोगे। यदि तुम सत्य को स्वीकार कर, इस मामले को पूरी तरह से समझ लोगे, तो तुम एक कदम आगे बढ़ जाओगे; यदि तुम इसे स्वीकार नहीं करोगे, तो तुम हमेशा के लिए वहीं अटक जाओगे जहाँ तुम हो और कोई प्रगति नहीं कर पाओगे।

— "मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'अपनी धारणाओं का समाधान करके ही कोई परमेश्वर में विश्वास के सही मार्ग में प्रवेश कर सकता है (1)' से उद्धृत

जब लोग परमेश्वर के बारे में गलतफहमियों और अवधारणाओं को जन्म देते हैं, तो उन्हें पहले यह स्वीकार कर लेना चाहिए कि परमेश्वर सत्य है तथा लोगों में सत्य नहीं है और निश्चित रूप से गलत वही लोग हैं। क्या यह एक तरह की औपचारिकता है? यदि तुम इस अभ्यास को केवल एक औपचारिकता समझोगे, सतही तौर पर लोगे, तो क्या तुम अपनी गलतियों को जान सकते हो? कभी नहीं। इसमें कई कदम होते हैं। पहले तो यह तय करो कि तुम्हारे क्रियाकलाप सिद्धांतों के अनुरूप हैं या नहीं। पहले अपने इरादों को मत देखो; कभी-कभी ऐसा भी होता है कि तुम्हारे इरादे तो सही होते हैं लेकिन तुम जिन सिद्धांतों पर अमल करते हो, वे गलत होते हैं। मैं ऐसा क्यों कहता हूं कि तुम जिन सिद्धांतों पर अमल करते हो, वे गलत होते हैं? तुमने खोज की होगी, लेकिन शायद तुम्हें सिद्धांतों की कोई समझ ही न हो; शायद तुमने खोज ही न की हो और तुम्हारे क्रियाकलाप मात्र नेक इरादों और उत्साह पर ही आधारित हों, तुम्हारी कल्पना और अनुभव पर आधारित हों और तुमने गलती कर दी हो। क्या तुम इसकी कल्पना कर सकते हो? जब तुम किसी चीज का अनुमान नहीं लगा पाते हो, तो तुमसे गलती हो जाती है—और तब क्या तुम उजागर नहीं हो जाते हो? एक बार जब तुम उजागर हो जाते हो, अगर तुम परमेश्वर से प्रतिस्पर्धा करते रहते हो, तो तुम्हारी गलती क्या रही? तुम्हारी सबसे बड़ी गलती यह नहीं थी कि तुमने कुछ गलत किया और सिद्धांतों का उल्लंघन किया, जिसके कारण नुकसान हुआ या उसके कुछ और परिणाम हुए, बल्कि कुछ गलत करके भी तुम अड़े रहे और तुमने अपनी गलती को स्वीकारा नहीं; तुम फिर भी अपनी अवधारणाओं और कल्पनाओं को लेकर परमेश्वर का विरोध करते रहे और उसके सही कार्य को नकारते रहे। यही तुम्हारी सबसे बड़ी और सबसे भयंकर भूल थी। किसी व्यक्ति में ऐसी अवस्था परमेश्वर का प्रतिरोध क्यों होगी? लोग इस बात को मानें या न मानें कि सबकुछ परमेश्वर करता है और उसकी संप्रभुता उचित है और उनकी क्या महत्ता है, अगर वे पहले यही न समझ पाएँ कि वे गलत हैं, तो उनकी अवस्था परमेश्वर के प्रतिरोध की है। इस अवस्था को सुधारने के लिए क्या किया जाना चाहिए? परमेश्वर की इच्छा को खोजना, जैसा कि उल्लेख किया जा चुका है, यह लोगों के लिए इतना व्यावहारिक नहीं है। कुछ लोग कहते हैं, "यदि खोजना इतना व्यावहारिक नहीं है, तो क्या इसका मतलब यह है कि यह आवश्यक नहीं है और जिसे खोजा और समझा जा सकता है, वह ज़रूरी नहीं है? मैं इस कदम को छोड़ सकता हूं।" क्या ऐसे चलेगा? जो ऐसा करता है, क्या वह बचाए जाने की स्थिति से बाहर नहीं हो जाता? ऐसे लोग अपनी व्याख्याओं को लेकर सच में टेढ़े और गलत होते हैं। लोगों के लिए परमेश्वर की इच्छा की खोज करना कुछ हद तक एक घुमावदार काम है; यदि वे अधिक यथार्थवादी शॉर्टकट लेना चाहते हैं, तो उन्हें खुद को नकार कर, खुद को अलग रखकर, यह जानना चाहिए कि उनके कार्य गलत हैं और सत्य के अनुरूप नहीं हैं, तब उन्हें सत्य-सिद्धांत की खोज करनी चाहिए। ये हैं वे कदम। ये देखने में सरल लग सकते हैं, लेकिन इन्हें व्यवहार में लाने में बहुत-सी कठिनाइयाँ हैं, क्योंकि मनुष्यों का स्वभाव भ्रष्ट होने के साथ-साथ उनके अंदर तरह-तरह की कल्पनाएं हैं, तरह-तरह की अपेक्षाएँ हैं, इच्छाएं हैं, जो उन्हें अपने दैहिक-सुखों को नकारने से रोकती हैं और उनमें ठहराव नहीं आने देतीं। ये सब करना इतना आसान नहीं है।

— "मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'अपनी धारणाओं का समाधान करके ही कोई परमेश्वर में विश्वास के सही मार्ग में प्रवेश कर सकता है (3)' से उद्धृत

कुछ लोग अपने कर्तव्‍य का पालन करते हुए कभी सत्‍य की तलाश नहीं करते। वे, हठपूर्वक अपनी कल्‍पनाओं के अनुसार आचरण करते हुए, महज़ वही करते हैं जो उन्‍हें अच्‍छा लगता है, वे हमेशा स्‍वेच्‍छाचारी और उतावले बने रहते हैं। "स्‍वेच्‍छाचारी और उतावला" होने का क्‍या अर्थ है? इसका मतलब है कि जब तुम्‍हारा किसी समस्‍या से सामना हो, तो किसी विचार-प्रक्रिया के बगै़र, और दूसरे क्‍या कहते हैं इसकी परवाह किए बिना, उस तरह का आचरण करना जो तुम्हारे हिसाब से ठीक बैठता हो। न तो तुम तक कोई पहुँच सकता है, और न कोई तुम्‍हारा मन बदल सकता है, नतीजतन तुम्‍हें ज़रा भी प्रभावित नहीं किया जा सकता; तुम अपनी अपनी बात पर अड़े रहते हो, और, अगर दूसरे लोग जो कुछ कहते हैं वह मायने भी रखता है, तब भी तुम उसे सुनते नहीं हो, और अपने तरीक़े को ही सही मानते रहते हो। अगर ऐसा हो भी, तब भी क्‍या तुम्‍हें दूसरों के सुझावों पर ध्‍यान नहीं देना चाहिए? फिर भी तुम ध्‍यान नहीं देते। दूसरे लोग तुम्‍हें अड़ियल कहते हैं। कैसे अड़ियल? इस क़दर अड़ियल कि दस बैल भी मिल कर तुम्‍हें डिगा नहीं सकते – पूरी तरह से अड़ियल, अहंकारी और हद दर्जे़ के दुराग्रही, ऐसा अड़ियल जो सत्य को तब तक नहीं देखता, जब तक कि वह तुम्हें घूरने न लगे। क्‍या इस तरह का अड़ि‍यलपन उच्‍छृंखलता के स्‍तर तक नहीं पहुँच जाता? तुम वह करते हो जो करना चाहते हो, जो करने का सोचते हो, और तुम किसी की नहीं सुनते। अगर तुमसे कोई कहे कि जो कुछ तुम कर रहे हो वह सत्‍य के अनुरूप नहीं है, तो तुम कहोगे, "मैं तो यही करूँगा, वह चाहे सत्‍य के अनुरूप हो या न हो। अगर वह सत्‍य के अनुरूप नहीं है, तो मैं तुम्‍हें अमुक तर्क, या अमुक औचित्‍य प्रदान करूँगा। मैं तुम्‍हें बाध्‍य करूँगा कि तुम मेरी बात सुनो। मैंने यह तय कर लिया है।" दूसरे लोग कह सकते हैं कि तुम जो कर रहे हो वह नुकसान पहुँचाने वाला है, इसके गम्‍भीर नतीजे होंगे, यह परमेश्‍वर के घर के हितों को क्षति पहुँचाएगा – लेकिन तुम उनकी बात पर ध्‍यान देने के बजाय और अधिक तर्क देने लगते हो : "मैं तो यही कर रहा हूँ, चाहे तुम्‍हें पसंद हो या न हो। मैं इसे इसी तरीके से करना चाहता हूँ। तुम पूरी तरह गलत हो, मैं पूरी तरह सही हूँ।" हो सकता है तुम सचमुच ही सही हो और तुम जो कर रहे हो उसके गंभीर नतीजे न हों—लेकिन यह किस तरह का स्‍वभाव है जिसे तुम उजागर कर रहे हो? (अहंकार।) अहंकारी प्रकृति तुम्‍हें दुराग्रही बनाती है। जब लोगों का ऐसा दुराग्रही स्‍वभाव होता है, तो क्‍या वे स्‍वेच्‍छाचारी और अविवेकी होने की ओर उन्‍मुख नहीं होते? तब तुम अपने दुराग्रह से मुक्ति कैसे पा सकते हो? जब तुम्‍हारे मन में कोई विचार होता है, तुम उसे प्रकट करते हो और कहते हो कि तुम इस मसले पर क्‍या सोचते हो और क्‍या विश्‍वास करते हो, और फिर, तुम हर किसी से इसके बारे में बात करते हो। सबसे पहले, तुम अपने दृष्टिकोण पर रोशनी डाल सकते हो और सत्‍य को जानने की कोशिश कर सकते हो; इस दुराग्रही स्‍वभाव पर विजय पाने के लिए उठाया जाने वाला पहला क़दम है। दूसरा क़दम तब होता है जब दूसरे लोग अपनी असहमतियों को व्‍यक्‍त करते हैं—ऐसे में दुराग्रही होने से बचने के लिए तुम किस तरह का अभ्यास कर सकते हो? पहले तुम्हारा रवैया विनम्र होना चाहिए, जिसे तुम सही समझते हो उसे बगल में रख दो, और हर किसी को संगति करने दो। भले ही तुम अपने तरीके को सही मानो, तुम्‍हें उस पर ज़ोर नहीं देते रहना चाहिए। यह, सर्वप्रथम, एक तरह की प्रगति है; यह सत्‍य की खोज करने, स्‍वयं को नकारने और परमेश्‍वर की इच्‍छा पूरी करने की प्रवृत्ति को दर्शाता है। जैसे ही तुम्‍हारे भीतर यह प्रवृत्ति पैदा होती है, उस समय तुम अपनी धारणा से चिपके नहीं रहते, तुम प्रार्थना करते हो। चूँकि तुम सही और गलत का भेद नहीं जानते, इसलिए तुम परमेश्वर को अवसर देते हो कि वह तुम्‍हें उजागर करे और बताए कि करने लायक सबसे श्रेष्‍ठ और सबसे उचित कर्म क्‍या है। जैसे-जैसे संगति में हर कोई शामिल होता है, पवित्र आत्‍मा तुम सभी को प्रबुद्धता प्रदान करता है। परमेश्वर लोगों को एक प्रक्रिया के अनुसार प्रबुद्ध करता है, जो कभी-कभी मात्र तुम्हारे रवैये की परख करती है। यदि तुम्हारा रवैया कठोर स्वाग्रह का रवैया है, तो परमेश्वर तुमसे अपना मुँह छिपा लेगा और तुम पर अपना दरवाजा बंद कर देगा; वह तुम्हें उजागर करेगा और तुम्हारा दीवार से टकराना सुनिश्चित करेगा। दूसरी ओर, यदि तुम्हारा रवैया सही है, अपने तरीके पर अड़े रहने वाला नहीं है, न ही वह दंभी, मनमाना और अंधाधुंध रवैया है, बल्कि सत्य की खोज और उसे स्वीकार करने का रवैया है, तो समूह के साथ संगति करने पर और पवित्र आत्मा द्वारा तुम्हारे बीच कार्य आरंभ करने पर संभवतः वह तुम्हें किसी के वचनों के माध्यम से समझ की ओर ले जाएगा। कभी-कभी जब पवित्र आत्मा किसी व्यक्ति को प्रबुद्ध करता है, तो वह सिर्फ कुछ शब्दों या वाक्यांशों में तुम्हें मामले की तह तक ले जाता है। तुम एक ही क्षण में समझ जाते हो कि जिस बात से तुम चिपके रहे हो वह गलत है, और उसी क्षण तुम यह भी समझ जाते हो कि इस काम को सबसे अच्छे तरीके से कैसे किया जा सकता है। इस स्तर तक पहुँचने के बाद, क्या व्यक्ति कुछ बुरा करने, गलत रास्ते पर चलने, और एक गलती का परिणाम भुगतने से सफलतापूर्वक बच गया है? इस तरह की चीज को कैसे हासिल किया जाता है? इसे एक ऐसे हृदय के माध्यम से हासिल किया जाता है जो आज्ञापालन और खोज करता है। एक बार जब तुम इसे हासिल कर लेते हो तो इसके बाद तुम सही तरीके से चलोगे, और परमेश्वर की इच्छा को संतुष्ट कर सकोगे।

परमेश्‍वर की संगति से उद्धृत

सत्य के सहारे किसी भी समस्या या स्थिति का समाधान संभव है, चाहे समस्या या स्थिति कैसी भी क्यों न हो। किसी प्रकार की भी समस्या से तुम क्यों न घिरे हो, अगर तुम सत्य को स्वीकार कर लो और उसे सिद्धांत से अपनी वास्तविकता में बदल दो तथा इसका अभ्यास करो और इसमें प्रविष्ट हो जाओ, तो तुम कैसे भी व्यक्ति क्यों न हो, तुम्हारा रूपांतरण और विकास होगा। यह निश्चित है; यह पूरी तरह सच है। यहाँ ज़ोर लोगों के हृदय और उनकी पसंद पर है, और इस पर है कि जब उनका सामना किसी समस्या से होता है, तो क्या वे परमेश्वर से अपना मुँह मोड़ लेते हैं या उसकी आज्ञा का पालन करते हैं और उसके वचन को स्वीकार करते हैं। यह इस बारे में भी है कि किसी बात से सामना होने पर क्या लोग अपनी देह की लालसा को तृप्त करना पसंद करते हैं, या ऐसा करने के बजाय, वे परमेश्वर के वचनों के अनुरूप कर्म करते हुए अपनी दैहिक-इच्छाओं को त्याग देते हैं और सत्य का अभ्यास करते हैं। मुख्य ध्यान इन्हीं चीजों पर केंद्रित है। जहाँ तक ऐसे लोगों की बात है जो हर परिस्थिति में अपनी शारीरिक पसंद और इच्छाओं का अनुसरण करते हुए अपनी वासनाओं को तृप्त करना और अपनी लालसा की पूर्ति करना पसंद करते हैं, वे कभी भी सत्य के अभ्यास का अर्थ और महत्व का अनुभव नहीं कर पाएंगे। दूसरी तरफ, ऐसे लोग जो शारीरिक वासना का त्याग कर सकते हैं, अपनी योजनाओं और इच्छाओं को छोड़ सकते हैं, सत्य का अभ्यास कर सकते हैं और सत्य की वास्तविकता में प्रविष्ट हो सकते हैं, वे धीरे-धीरे अनुभव कर सकते हैं कि सत्य का अभ्यास करने का अर्थ क्या है, उन्हें सत्य का अभ्यास करने के मज़े और आनंद का अहसास हो सकता है, वे क्रमशः परमेश्वर के वचनों के महत्व को समझ सकते हैं, परमेश्वर की मनुष्य से इसी तरह व्यवहार करने की जो अपेक्षा है उसका अर्थ और मूल्य समझ सकते हैं। लोग जब ऐसा करते हैं तो इसका परिणाम क्या होता है? इसका परिणाम होता है कि लोग सकारात्मक चीजों में ज्यादा से ज्यादा आनंद पाने लग जाते हैं, और नकारात्मक चीजों को पहचानने की पहले से कहीं अधिक सशक्त क्षमता प्राप्त कर लेते हैं, और उनके अंदर उन चीज़ों के प्रति अधिकाधिक घृणा, नफ़रत और तिरस्कार का भाव आ जाता है। लोग जैसे ही इन दशाओं और अभिव्यक्तियों को प्राप्त होंगे, परमेश्वर में उनकी आस्था और भी बढ़ जाएगी। अगर वे ऐसा अभ्यास अक्सर करें, तो वे अपने ही भ्रष्ट आचरण, बुराई, अहंकार, स्वार्थ, अवज्ञा, और प्रतिरोध से घृणा करने लग जाएंगे, अपनी प्रकृति और सार के प्रति उनमें घृणा, बैर-भाव, और नफ़रत के भाव पैदा हो जाएंगे। इस बीच अपने संपर्क में आने वाली आसपास की सभी नकारात्मक चीजों के प्रति भी उनमें नापसंदगी का भाव पैदा हो जाएगा। वे इन स्थितियों को बढ़ावा देंगे। एक तरफ तो खुद को जान लेने पर यह संपादित होता है। दूसरी तरफ, इस घृणा और नफ़रत के पैदा होने पर, सत्य के प्रति लोगों के रवैये में कैसा परिवर्तन आता है? उनके अंदर सत्य को अभ्यास में लाने की तड़प पैदा होती है, सत्य को अभ्यास में लाने के लिए आध्यात्मिक कद और पर्याप्त इच्छाशक्ति प्राप्त करने की तड़प पैदा होती है, और वे उम्मीद करते हैं कि वे सत्य की वास्तविकता में प्रवेश करने लायक हो जाएं, परमेश्वर की इच्छा को संतुष्ट कर पाएं, और ऐसे इंसान बन जाएँ जिसमें विवेक, समझदारी, और सत्य की वास्तविकता हो। वे परमेश्वर के प्रति तथा परमेश्वर द्वारा व्यवस्थित समस्त वातावरण के प्रति समर्पित होने, और परमेश्वर का विरोध करने से बचने के लिए भी लालायित रहते हैं; वे परमेश्वर की इच्छा पूरी करने में सक्षम होना चाहते हैं।

— "मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'हर चीज में केवल सत्य की तलाश से ही उसकी वास्तविकता में प्रवेश किया जा सकता है' से उद्धृत

पिछला: 47. वास्‍तविक आत्‍म-ज्ञान के सिद्धान्‍त

अगला: 50. स्‍वयं का परित्‍याग करने के सिद्धान्‍त

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर धर्मोपदेश और संगति अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें