74. अपने कर्तव्य के प्रति दृष्टिकोण के सिद्धांत

(1) कर्तव्य परमेश्वर से मिला एक आदेश और एक सृजित प्राणी का ध्येय होता है। इसका निष्पादन स्वर्ग का आदेश होता है और पृथ्वी द्वारा स्वीकृत किया जाता है; अपने कर्तव्य को न निभाना राजद्रोह का एक जघन्य कर्म होता है;

(2) परमेश्वर द्वारा मनुष्य को प्रदत्त कर्तव्यों को प्रमुख और छोटे, उदात्त और निम्न में बाँटा नहीं जाता है। व्यक्ति को परमेश्वर से अपना कर्तव्य प्राप्त करना चाहिए; इसका अच्छी तरह निष्पादन करना ही एक जमीर और समझदारी का होना है;

(3) अपने कर्तव्य के प्रदर्शन को अपनी संभावनाओं या भाग्य के बंधनों से प्रभावित नहीं होने देना चाहिए। व्यक्ति को अपने कर्तव्य के प्रति एक विनम्र मानसिकता और एक सकारात्मक, सहयोगी दृष्टिकोण रखना चाहिए;

(4) अपना कर्तव्य निभाते समय, व्यक्ति को उन तरीकों पर बार-बार चिंतन करना चाहिए, जिनसे उसके निजी उद्देश्य, उसके निष्पादन में, मिलावट कर देते हैं। फ़ौरन ही, उन मिलावटों को हल करने के लिए सच्चाई की तलाश करो, और जहाँ तुम अपना कर्तव्य संतोषजनक ढंग से निभा सकते हो, वहीं पहुँचो।

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन:

मानवजाति के एक सदस्य और एक सच्चे ईसाई होने के नाते अपने मन और शरीर परमेश्वर के आदेश की पूर्ति करने के लिए समर्पित करना हम सभी का उत्तरदायित्व और कर्तव्य है, क्योंकि हमारा संपूर्ण अस्तित्व परमेश्वर से आया है, और वह परमेश्वर की संप्रभुता के कारण अस्तित्व में है। यदि हमारे मन और शरीर परमेश्वर के आदेश और मानवजाति के धार्मिक कार्य के लिए नहीं हैं, तो हमारी आत्माएँ उन लोगों के योग्य नहीं होंगी, जो परमेश्वर के आदेश के लिए शहीद हुए थे, और परमेश्वर के लिए तो और भी अधिक अयोग्य होंगी, जिसने हमें सब-कुछ प्रदान किया है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर संपूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियंता है' से उद्धृत

तुम परमेश्वर के आदेशों को कैसे लेते हो, यह एक बहुत ही गंभीर विषय है! परमेश्वर ने जो तुम्हें सौंपा है, यदि तुम उसे पूरा नहीं कर सकते, तो तुम उसकी उपस्थिति में जीने के योग्य नहीं हो और तुम्हें दण्डित किया जाना चाहिए। यह स्वर्ग का नियम और पृथ्वी का सिद्धांत है कि मनुष्य परमेश्वर द्वारा दिये गए हर आदेश को पूरा करे; यह उसका सर्वोच्च दायित्व है, उसके जीवन जितना ही महत्वपूर्ण है। यदि तुम परमेश्वर के आदेशों को गंभीरता से नहीं लेते, तो तुम उसके साथ सबसे कष्टदायक तरीक़े से विश्वासघात कर रहे हो, और तुम यहूदा से भी अधिक शोकजनक हो और तुम्हें शाप दिया जाना चाहिए। परमेश्वर के सौंपे हुए कार्य को कैसे लिया जाए, लोगों को इसकी एक पूरी समझ पानी चाहिए, और उन्हें कम से कम यह बोध होना चाहिए कि वह मानवजाति को जो आदेश देता है वे परमेश्वर से मिले उत्कर्ष और विशेष कृपाएँ हैं, ये सबसे महिमावान बातें हैं। अन्य सब कुछ छोड़ा जा सकता है; यहाँ तक कि अगर किसी को अपना जीवन भी बलिदान करना पड़े, तो भी उसे परमेश्वर के आदेश को पूरा करना चाहिए।

— "मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'मनुष्य का स्वभाव कैसे जानें' से उद्धृत

मनुष्य के कर्तव्य और वह धन्य है या शापित, इनके बीच कोई सह-संबंध नहीं है। कर्तव्य वह है, जो मनुष्य के लिए पूरा करना आवश्यक है; यह उसकी स्वर्ग द्वारा प्रेषित वृत्ति है, जो प्रतिफल, स्थितियों या कारणों पर निर्भर नहीं होनी चाहिए। केवल तभी कहा जा सकता है कि वह अपना कर्तव्य पूरा कर रहा है। धन्य होना उसे कहते हैं, जब कोई पूर्ण बनाया जाता है और न्याय का अनुभव करने के बाद वह परमेश्वर के आशीषों का आनंद लेता है। शापित होना उसे कहते हैं, जब ताड़ना और न्याय का अनुभव करने के बाद भी लोगों का स्वभाव नहीं बदलता, ऐसा तब होता है जब उन्हें पूर्ण बनाए जाने का अनुभव नहीं होता, बल्कि उन्हें दंडित किया जाता है। लेकिन इस बात पर ध्यान दिए बिना कि उन्हें धन्य किया जाता है या शापित, सृजित प्राणियों को अपना कर्तव्य पूरा करना चाहिए; वह करते हुए, जो उन्हें करना ही चाहिए, और वह करते हुए, जिसे करने में वे सक्षम हैं। यह न्यूनतम है, जो व्यक्ति को करना चाहिए, ऐसे व्यक्ति को, जो परमेश्वर की खोज करता है। तुम्हें अपना कर्तव्य केवल धन्य होने के लिए नहीं करना चाहिए, और तुम्हें शापित होने के भय से अपना कार्य करने से इनकार भी नहीं करना चाहिए। मैं तुम लोगों को यह बात बता दूँ : मनुष्य द्वारा अपने कर्तव्य का निर्वाह ऐसी चीज़ है, जो उसे करनी ही चाहिए, और यदि वह अपना कर्तव्य करने में अक्षम है, तो यह उसकी विद्रोहशीलता है। अपना कर्तव्य पूरा करने की प्रक्रिया के माध्यम से मनुष्य धीरे-धीरे बदलता है, और इसी प्रक्रिया के माध्यम से वह अपनी वफ़ादारी प्रदर्शित करता है। इस प्रकार, जितना अधिक तुम अपना कार्य करने में सक्षम होगे, उतना ही अधिक तुम सत्य को प्राप्त करोगे, और उतनी ही अधिक तुम्हारी अभिव्यक्ति वास्तविक हो जाएगी। जो लोग अपना कर्तव्य बेमन से करते हैं और सत्य की खोज नहीं करते, वे अंत में हटा दिए जाएँगे, क्योंकि ऐसे लोग सत्य के अभ्यास में अपना कर्तव्य पूरा नहीं करते, और अपना कर्तव्य पूरा करने में सत्य का अभ्यास नहीं करते। ये वे लोग हैं, जो अपरिवर्तित रहते हैं और शापित किए जाएँगे। उनकी न केवल अभिव्यक्तियाँ अशुद्ध हैं, बल्कि वे जो कुछ भी व्यक्त करते हैं, वह दुष्टतापूर्ण होता है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'देहधारी परमेश्वर की सेवकाई और मनुष्य के कर्तव्य के बीच अंतर' से उद्धृत

कर्तव्य अस्तित्व में कैसे आता है? आम तौर पर कहें, तो यह मानवता का उद्धार करने के परमेश्वर के प्रबंधन-कार्य के परिणामस्वरूप अस्तित्व में आता है; ख़ास तौर पर कहें, तो जब परमेश्वर का प्रबंधन-कार्य मानवजाति के बीच खुलता है, तब विभिन्न कार्य उत्पन्न होते हैं, जिन्हें करने की आवश्यकता होती है, और उन्हें पूरा करने के लिए लोगों का सहयोग चाहिए। इसने लोगों द्वारा पूरे किए जाने के लिए जिम्मेदारियों और विशेष कार्यों को जन्म दिया है, और यही जिम्मेदारियाँ और विशेष कार्य वे कर्तव्य हैं, जो परमेश्वर मानवजाति को सौंपता है। इसलिए, परमेश्वर के घर में, विभिन्न कार्य जिसमें लोगों के सहयोग की आवश्यकता है, वे कर्तव्य हैं जिन्हें उन्हें पूरा करना चाहिए। तो, क्या बेहतर और बदतर, बहुत ऊँचा और नीच या महान और छोटे के अनुसार कर्तव्यों के बीच अंतर हैं? ऐसे अंतर नहीं होते; यदि किसी चीज़ का परमेश्वर के प्रबंधन कार्य के साथ कोई लेना-देना हो, उसके कार्य को कार्यान्वित करने की आवश्यकता हो या उसके घर के काम की आवश्यकता हो, तो यह व्यक्ति का कर्तव्य होता है। यह कर्तव्य की परिभाषा और उत्पत्ति है।

— "मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'कर्तव्‍य का समुचित निर्वहन क्‍या है?' से उद्धृत

वह चीज़ जो सबसे प्रत्यक्ष और गोचर रूप से उस बंधन को दर्शाती है जो तुम्हें परमेश्वर से जोड़ता है, वो यह है कि तुम परमेश्वर द्वारा तुम्हें सौंपे जाने वाले मामलों और कार्यों का निपटान कैसे करते हो और तुम्हारा रवैया कैसा है। जो सबसे अधिक प्रत्यक्ष रूप से नज़र आता है, वह यही मुद्दा है। जब तुमने इस महत्वपूर्ण मुद्दे को समझ लिया हो और परमेश्वर ने तुम्हें जो आज्ञा दी है, उसे पूरा कर लिया हो, तो परमेश्वर के साथ तुम्हारा सम्बन्ध सामान्य होगा। जब परमेश्वर तुम्हें एक कार्य सौंपे, या तुम्हें किसी एक कर्तव्य को पूरा करने के लिए कहे, तब यदि तुम्हारा दृष्टिकोण सतही और उदासीन हो, और तुम इसे एक प्राथमिकता के रूप में नहीं देखते हो, तो क्या यह अपने पूरे दिल और पूरी ताक़त को लगा देने के ठीक विपरीत नहीं होता है? इसलिए, अपना कर्तव्य निभाते समय तुम्हारा रवैया निर्णायक महत्व का होता है, वैसे ही जैसे कि तुम्हारे द्वारा चुना गया तरीका और मार्ग होते हैं। अपने कर्तव्य को सरसरी तौर पर और जल्दबाज़ी में करने, और इसे महत्व न देने का परिणाम क्या होता है? इसका परिणाम है कि तुम अपना कर्तव्य ठीक ढंग से नहीं निभाओगे, भले ही तुम इसे अच्छी तरह से करने के योग्य हो। तुम्हारा कार्य-निष्पादन कसौटी पर खरा नहीं उतरेगा, और परमेश्वर तुम्हारे कर्तव्य के प्रति तुम्हारे रवैये से संतुष्ट नहीं होगा। यदि, आरंभ से ही, तुमने सामान्य रूप से खोज की होती और सहयोग दिया होता; यदि तुमने अपने सभी विचारों को इसके लिए समर्पित कर दिया होता; यदि तुमने अपना दिल और अपनी आत्मा इसे करने में लगा दी होती, और अपना सारा प्रयास इसी में जुटा दिया होता, और एक अवधि का श्रम, अपनी मेहनत, और अपने विचारों को इसके लिए समर्पित कर दिया होता, या संदर्भ की सामग्री के लिए कुछ समय दिया होता, और अपने पूरे तन-मन को इसके लिए प्रतिबद्ध कर दिया होता; यदि तुम इस तरह का सहयोग देने में सक्षम होते, तो परमेश्वर तुम्हारी अगुवाई करता, तुम्हारा मार्गदर्शन करता। तुम्हें ज़्यादा प्रयत्न करने की ज़रूरत नहीं है; जब तुम सहयोग देने में कोई कसर नहीं छोड़ते, तो परमेश्वर पहले से ही तुम्हारे लिए सब कुछ व्यवस्थित कर देगा। यदि तुम मक्कार और विश्वासघाती हो, और काम के दौरान ही तुम्हारा हृदय परिवर्तन हो जाता है और तुम भटक जाते हो, तो परमेश्वर तुम में कोई रुचि नहीं लेगा; तुम इस अवसर को खो चुके होगे, और परमेश्वर कहेगा, "तुम योग्य नहीं हो; तुम बेकार हो। दूर खड़े हो जाओ। तुम्हें आलसी बने रहना पसंद है, है न? तुम धोखेबाज़ी और मक्कारी पसंद करते हो, है न? तुम आराम करना पसंद करते हो? ठीक है, फिर आराम करो।" परमेश्वर यह अनुग्रह और अवसर अगले व्यक्ति को दे देगा। तुम लोग क्या कहते हो : यह नुकसान है या फ़ायदा? यह बहुत बड़ा नुकसान है!

— "मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'अपना कर्तव्‍य करते हुए गैरज़िम्‍मेदार और असावधान होने की समस्‍या का समाधान कैसे करें' से उद्धृत

कुछ लोग अपने कर्तव्यों के निर्वहन को पूँजी के रूप में देखते हैं, कुछ कर्तव्यों के निर्वहन को अपने व्यक्तिगत कार्यों के रूप में देखते हैं और कुछ उन्हें अपने कार्य, उद्यमों या निजी मामलों के रूप में देखते हैं या एक तरह के मनबहलाव, मनोरंजन या शौक के रूप में देखते हैं। संक्षेप में, भले ही अपने कर्तव्य के प्रति तुम्हारा चाहे जो रवैया हो, यदि यह तुम्हें परमेश्वर से प्राप्त नहीं होता और यदि तुम इसे एक ऐसे कार्य के रूप में नहीं मान पाते जिसे परमेश्वर के प्रबंधन कार्य के भीतर किसी सृजित प्राणी को करना चाहिए या जिसके साथ उसे सहयोग करना चाहिए, फिर तुम जो कर रहे हो, वह तुम्हारा कर्तव्य पूरा करना नहीं हुआ। मैं इन विषयों को क्यों उठा रहा हूँ ? इनके बारे में संगति करके मैं किन समस्याओं को हल करने की कोशिश कर रहा हूं? अपने कर्तव्यों के प्रति लोगों का जो गलत रवैया है, मैं उसे ठीक करने का प्रयास कर रहा हूं। एक बार जब वे इन सच्चाइयों को समझ जाएँगे, तो धीरे-धीरे अपने कर्तव्यों के प्रति उनका रवैया सत्य और उसके सिद्धांतों के अनुरूप हो जाएगा, साथ ही साथ परमेश्वर की आवश्यकताओं के अनुरूप भी। कम से कम, अपने कर्तव्य के संबंध में तुम्हारा परिप्रेक्ष्य और रवैया सत्य और परमेश्वर की आवश्यकताओं के अनुरूप होना चाहिए। कर्तव्य परमेश्वर द्वारा लोगों को सौंपे गए काम हैं; वे लोगों द्वारा पूरा करने के लिए विशेष कार्य हैं। लेकिन, एक कर्तव्य निश्चित रूप से तुम्हारा व्यक्तिगत व्यवसाय नहीं है, और न ही वह भीड़ में बेहतर दिखने का एक माध्यम है। कुछ लोग कर्तव्यों का उपयोग अपने प्रबंधन के लिए और गिरोह बनाने के लिए करते हैं; कुछ अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए करते हैं; कुछ अपने अंदर के खालीपन को भरने के लिए करते हैं; और कुछ भाग्य पर भरोसा करने वाली अपनी मानसिकता को संतुष्ट करने के लिए करते हैं यह सोचकर कि जब तक वे अपने कर्तव्यों को पूरा करते रहेंगे, तब तक परमेश्वर के घर में और परमेश्वर द्वारा मनुष्य के लिए व्यवस्थित अद्भुत गंतव्य में उनका भी एक हिस्सा होगा। कर्तव्य के बारे में इस तरह के दृष्टिकोण गलत हैं; वे परमेश्वर को घिनौने लगते हैं और उन्हें तत्काल दूर किया जाना चाहिए।

— "मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'कर्तव्‍य का समुचित निर्वहन क्‍या है?' से उद्धृत

कर्तव्य और परमेश्वर दोनों के प्रति लोगों को ईमानदार हृदय रखना चाहिए—यह सर्वोच्च ज्ञान है। एक ईमानदार हृदय से परमेश्वर के साथ व्यवहार करने में लोगों का रवैया क्या होना चाहिए? लोगों को यह प्रश्न किए बिना कि इससे उन पर आपदा आएगी या आशीष मिलेगी, बिना किसी शर्त के और परमेश्वर के आयोजनों के प्रति समर्पित होकर, अपने कर्तव्य में परमेश्वर के लिए स्वयं को खपाना चाहिए; ऐसा व्यक्ति ईमानदार हृदय का होता है। जो हमेशा संदेह करते हैं, जो हमेशा शर्तें रखते हैं और जो निरंतर शोध में लगे रहते हैं, क्या उनका हृदय ईमानदार होता है? ऐसे व्यक्ति के हृदय में क्या निहित होता है? उनके हृदय में धोखेबाजी और बुराई होती है और वे हमेशा शोध में लगे रहते हैं। जब कुछ ऐसा होता है जो उनके निजी हितों को प्रभावित करता है, तो वे सोचते हैं : “जब परमेश्वर ने मेरे साथ यह किया और जब उसने मेरे लिए इस स्थिति का प्रबंध किया, तो परमेश्वर क्या सोच रहा था? क्या यह कुछ ऐसा है, जो अन्य लोगों के साथ हुआ है? जब मैं इस परीक्षा से बाहर आ जाऊँगा, तो इसके बाद परिणाम क्या होंगे? वे इन सवालों पर शोध करते हैं; वे शोध करते हैं कि वे क्या प्राप्त कर सकते हैं या खो सकते हैं, क्या मौजूदा प्रसंग उनके लिए आपदा लाएगा या आशीष। एक बार जब वे इन सवालों पर शोध करना आरंभ कर देते हैं, तो क्या वे सत्य का अभ्यास करने में सक्षम होते हैं? क्या वे परमेश्वर की आज्ञा मानने में सक्षम हैं? (नहीं।) जब वे एक कर्तव्य शुरू करते हैं, तो वे इस पर शोध करते हैं और पूछते हैं : “यदि मैं इस कर्तव्य को अभ्यास में लाता हूँ तो क्या मुझे पीड़ा होगी? क्या मुझे बहुत समय बिताने की आवश्यकता होगी और क्या मैं नियमित भोजन और आराम कर पाऊँगा? मैं किस तरह के लोगों के संपर्क में आऊँगा?” हालाँकि दिखावे के लिए वे इस कर्तव्य को स्वीकार करते हैं, मगर अपने दिल में वे कपट रखते हैं और निरंतर ऐसी चीजों पर शोध करते रहते हैं। वास्तव में, ये सभी चीजें जिन पर वे शोध करते हैं, उनके निजी हितों से संबंधित हैं; वे परमेश्वर के घर के हितों पर नहीं, सिर्फ अपने हितों पर विचार करते हैं। यदि लोग केवल अपने हितों पर विचार करते हैं, तो उनके लिए सत्य का अभ्यास करना आसान नहीं होता और उनमें परमेश्वर के प्रति सच्ची आज्ञाकारिता नहीं होती। जो इस प्रकार के शोध में लगे हैं, उनमें से कई के साथ अंत में क्या होता है? कुछ परमेश्वर के ख़िलाफ़ विद्रोह करते हैं; अर्थात, वे नकारात्मक भावनाओं से भरी चीजें करते हैं, काम करते समय सावधान रहते हैं। यह किस तरह का स्वभाव है, जो ऐसी भावनाएँ लाता है? यह धोखा और बुराई है; बुराई की इस हद तक जाने के बाद, ये लोग स्वयं को परमेश्वर के विरुद्ध खड़ा कर रहे हैं! जब लोग लगातार शोध करते हैं, तो उनका ध्यान बँट जाता है, तो क्या वे इस दशा में अपना कर्तव्य ठीक से निभा सकते हैं? वे ईमानदारी और अपने प्राण-पण के साथ परमेश्वर की आराधना नहीं करते, उनके पास ईमानदार हृदय नहीं हैं और अपने कर्तव्य को करने के दौरान वे हमेशा निगरानी रखते हैं और संकोच करते हैं। इससे क्या अर्थ निकलता है? परमेश्वर उन पर कार्य नहीं करता, वे चाहे जो भी करें, वे सिद्धांतों को नहीं पा सकते और वे जो भी करते हैं, वह हमेशा गलत होता है। चीजें हमेशा गलत क्यों हो जाती हैं? कभी-कभी, ऐसा नहीं होता कि परमेश्वर उन्हें उजागर करता है, बल्कि वे स्वयं को बर्बाद कर लेते हैं। वे परमेश्वर के घर के कार्य या परमेश्वर के घर के हितों पर कोई ध्यान नहीं देते; वे हमेशा अपनी ओर से षड्यंत्र कर रहे होते हैं, अपनी प्रतिष्ठा और ओहदे के लिए योजनाएं बना रहे होते हैं। वे ऐसा करते रहते हैं और फिर वे भटकने लगते हैं। अपने स्वयं के हितों और भविष्य की संभावनाओं की योजनाएँ बनाना और परमेश्वर के घर के कार्य और परमेश्वर के घर के हितों के बारे में विचार करना, क्या इनके बीच उनके कार्यों का परिणाम एक समान है? नहीं, परिणाम निश्चित रूप से समान नहीं है। वे उजागर हो चुके हैं और इस व्यवहार से किसी का कर्तव्य निर्मित नहीं होता; इस व्यक्ति के कार्यों का सार और प्रकृति बदल गई है। यदि यह केवल कुछ मामूली नुकसान की बात है, तो उनके पास अभी भी बचाए जाने की संभावना होगी—उनके पास अभी भी एक मौका होगा। किंतु अगर बड़ा नुकसान होता है, तो क्या उनके लिए अभी भी कोई मौका है? यदि तात्कालिक मामला एक गंभीर प्रकरण है, इस हद तक कि यह व्यवधान और गड़बड़ियों का कारण बनता है, तो इसमें शामिल व्यक्ति को बदला और हटाया जाना चाहिए; कुछ लोगों को इसी तरह से हटाया गया है।

— "मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'केवल सत्य के सिद्धांतों की खोज करके ही अपना कर्तव्य अच्छी तरह निभाया जा सकता है' से उद्धृत

अपने कर्तव्य के प्रति इंसान का सबसे बुनियादी रवैया क्या होना चाहिए? यदि तुमने कहा, "चूंकि परमेश्वर के घर ने मुझे यह कर्तव्य दिया है, तो यह मेरा है और मैं जैसे चाहूँ इसे पूरा कर सकता हूं," क्या यह स्वीकार्य रवैया होगा? बिल्कुल नहीं होगा। यदि तुम्हारे इस तरह के विचार हैं, तो वे परेशानी पैदा करेंगे और इसका मतलब है कि तुमने एक बुरे रास्ते पर चलना शुरू कर दिया है। तुम्हें इस तरह से नहीं सोचना चाहिए। तो, सोचने का सही तरीका क्या है? सबसे पहले, तुम्हें सत्य और सिद्धांतों की तलाश करनी चाहिए। इन चीजों की तलाश करो: इस कर्तव्य को कैसे पूरा किया जाना चाहिए, परमेश्वर की अपेक्षा क्या है, लोगों से परमेश्वर की अपेक्षाओं के क्या सिद्धांत हैं, तुम्हें क्या करना चाहिए, कार्य के किन हिस्सों को तुम्हें पूरा करना चाहिए, और इस कर्तव्य की पूर्ति करते हुए तुम्हें पूरी तरह से समर्पित और ज़िम्मेदार बनने के लिए कैसे व्यवहार करना चाहिए। तो, समर्पण किसके प्रति किया जाए? परमेश्वर के प्रति—तुम्हें उसके प्रति समर्पित होना चाहिए, अन्य लोगों के प्रति जिम्मेदार होना चाहिए, और जहाँ तक अपनी बात है, तुम्हें सिद्धांत का पालन करना चाहिए और अपने कर्तव्य का निर्वाह करना चाहिए। सिद्धांत का पालन करने का क्या मतलब है? सिद्धांत का पालन करना परमेश्वर के वचनों और सत्य के अनुसार कार्य करना है। तो फिर, कर्तव्य का पालन करने का क्या अर्थ है? उदाहरण के लिए, तुम्हें एक या दो साल के लिए कोई काम सौंपा गया है, लेकिन अभी तक किसी ने तुमसे कोई पूछताछ नहीं की है। तुम्हें क्या करना चाहिए? यदि कोई पूछताछ नहीं करता है, तो क्या इसका मतलब है कि कर्तव्य का निर्वहन नहीं हुआ? इस बात पर कोई ध्यान न दो कि कोई भी पूछताछ करता है या नहीं, कोई देखता है या नहीं कि तुम अपने कर्तव्य का निर्वहन कैसे कर रहे हो; यह कार्य तुम्हें सौंपा गया था। हालाँकि यह तुम्हारा व्यक्तिगत काम नहीं है, यह तुम्हें सौंपा गया था और यह तुम्हारी ज़िम्मेदारी है। तुम्हें यह सोचना चाहिए कि यह काम कैसे करना है और इस काम को कैसे बेहतर ढंग से किया जा सकता है और तुम्हें कैसे करना चाहिए। यदि तुम हमेशा इस बात की प्रतीक्षा करते रहते हो कि दूसरे तुमसे पूछताछ करें, वे तुम्हारा निरीक्षण करें और तुम्हें प्रोत्साहित करें, तो क्या इस तरह का रवैया तुम्हारे कर्तव्य में होना चाहिए? यह किस तरह का रवैया है? यह निष्क्रिय रवैया है; तुम्हें अपने कर्तव्य पालन में इस तरह का रवैया नहीं रखना चाहिए।

— "मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'कर्तव्‍य का समुचित निर्वहन क्‍या है?' से उद्धृत

ज़्यादातर लोग इस मनोस्थिति में अपने कर्तव्यों को निभाते हैं : "यदि कोई अगुवाई करता है, तो मैं पीछे चलता हूँ। वे मुझे जहाँ भी ले जाएंगे, मैं उनका अनुसरण करूंगा और वे मुझसे जो भी करने को कहेंगे, मैं करूंगा।" दूसरी ओर, ज़िम्मेदारी या चिंता लेना या अतिरिक्त ध्यान देना, वे चीजें हैं जो उनके बस के बाहर हैं और जिनकी कीमत चुकाने के लिए वे तैयार नहीं हैं। शारीरिक प्रयास में उनकी हिस्सेदारी है, लेकिन वे ज़िम्मेदारी में हिस्सा नहीं लेते। यह वास्तव में अपना कर्तव्य निभाना नहीं है। तुम्हें अपने कर्तव्य में पूरा दिल लगाना सीखना चाहिए; यदि किसी के पास दिल है, तो उसे इसका उपयोग करना चाहिए। यदि कोई अपने दिल का उपयोग कभी नहीं करता, तो यह साबित होता है कि वह हृदयहीन है, और हृदयहीन लोग सत्य को प्राप्त नहीं कर सकते! वे सत्य क्यों प्राप्त नहीं कर सकते? वे नहीं जानते कि परमेश्वर के सामने कैसे आएँ; वे नहीं जानते कि परमेश्वर की प्रबुद्धता और मार्गदर्शन को समझने में अपना दिल कैसे लगाएँ, या चिंतन में, या सत्य की खोज में, या परमेश्वर की इच्छा को खोजने, समझने और उसके प्रति विचारशीलता दिखाने में अपना दिल कैसे लगाएँ। क्या तुम लोगों को ऐसी अवस्थाओं का अनुभव है जिनमें तुम अक्सर परमेश्वर के सामने शांत रह सके हो, और चाहे कुछ भी हो जाए, और चाहे तुम्हारा कर्तव्य कुछ भी हो, तुम अक्सर परमेश्वर के सामने आकर उसके वचनों पर दिल लगाकर गौर किया हो, और सत्य की खोज में और कर्तव्य निभाने के तरीके पर विचार करने में अपना दिल लगाया हो? क्या ऐसे अवसर कई बार आए हैं? अपना कर्तव्य दिल लगाकर करने और इसकी ज़िम्मेदारी लेने के लिए तुम्हें पीड़ा सहने और एक कीमत चुकाने की ज़रूरत है। केवल इसके बारे में बात करना ही काफ़ी नहीं है। यदि तुम अपना कर्तव्य दिल लगाकर नहीं करते, बल्कि हमेशा शारीरिक प्रयास करना चाहते हो, तो तुम्हारा कर्तव्य निश्चित ही अच्छी तरह पूरा नहीं होगा। तुम बस एक ढर्रे पर काम करते रहोगे और कुछ नहीं, और तुम्हें पता नहीं होगा कि तुमने अपना कर्तव्य कितनी अच्छी तरह से निभाया। यदि तुम दिल लगाकर काम करोगे, तो तुम धीरे-धीरे सत्य को समझोगे; लेकिन अगर तुम ऐसा नहीं करोगे, तो तुम नहीं समझोगे। जब तुम दिल लगाकर अपना कर्तव्य निभाते हो और सत्य का पालन करते हो, तो तुम धीरे-धीरे परमेश्वर की इच्छा को समझने, स्वयं के भ्रष्टाचार और कमियों का पता लगाने और अपनी सभी विभिन्न अवस्थाओं में महारत हासिल करने में सक्षम हो जाते हो। यदि तुम खुद की जांच करने के लिए अपना दिल नहीं लगाते, लेकिन केवल बाहरी प्रयासों पर ध्यान केंद्रित करते हो, तो तुम अपने दिल में उत्पन्न होने वाली विभिन्न आवस्थाओं और विभिन्न बाहरी वातावरणों में अपनी सभी प्रतिक्रियाओं को जानने में असमर्थ होगे। अगर तुम खुद की जांच करने के लिए अपना दिल नहीं लगाते हो, तो तुम्हारे लिए अपने दिल की समस्याओं का हल करना मुश्किल हो जाएगा। इसलिए, तुम्हें दिल लगाकर और ईमानदारी के साथ परमेश्वर की स्तुति और आराधना करनी चाहिए। दिल लगाकर और ईमानदारी के साथ परमेश्वर की आराधना करने के लिए तुम्हारे पास एक शांत और ईमानदार दिल होना चाहिए; अपने दिल की अथाह गहराईयों में, परमेश्वर की इच्छा और सत्य खोजना तुम्हें आना चाहिए, और तुम्हें चिंतन करना चाहिए कि तुम अपने कर्तव्य को अच्छी तरह से कैसे करो, यह विचार करते हुए कि तुम अपने कर्तव्य के कौन-से हिस्सों को अभी तक समझ नहीं पाए हो और अपने कर्तव्य को बेहतर तरीके से कैसे निभाया जा सकता है। केवल इन बातों को अपने दिल में अक्सर सोचकर ही तुम सत्य को प्राप्त कर पाओगे। अगर ये बातें तुम अपने दिल में अक्सर नहीं सोचते, और इसके बजाय तुम्हारा दिल मन की या बाहर की चीज़ों से भरा है, या ऐसी चीज़ों ने यहाँ घर कर लिया है, जिनका दिल का इस्तेमाल करने और ईमानदारी के साथ परमेश्वर की आराधना करने से कोई सरोकार नहीं है—यानि इनका इसके साथ कुछ भी लेना-देना नहीं है—तो क्या तुम सत्य को प्राप्त कर पाओगे? क्या परमेश्वर के साथ तुम्हारा कोई रिश्ता है?

— "मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'ईमानदार होकर ही कोई सच्ची मानव सदृशता जी सकता है' से उद्धृत

जब लोग अपना कर्तव्य निभाते हैं तो वे दरअसल वही करते हैं जो उन्हें करना चाहिए। पर अगर तुम इसे परमेश्वर के सामने करते हो, अगर तुम अपना कर्तव्य दिल से और ईमानदारी की भावना से निभाते हो, तो क्या यह रवैया कहीं ज्यादा सही नहीं होगा? तो तुम इस रवैये को अपने दैनिक जीवन में कैसे व्यवहार में ला सकते हो? तुम्हें "दिल से और ईमानदारी से परमेश्वर की आराधना" को अपनी वास्तविकता बनाना होगा। जब कभी भी तुम शिथिल पड़ना चाहते हो और बस बिना रुचि के काम करना चाहते हो, जब कभी भी तुम आलसी बनना चाहते हो, और जब कभी भी तुम अपना ध्यान बँटने देते हो और बस मौज-मस्ती करना चाहते हो, तो तुम्हें इन बातों पर अच्छी तरह विचार करना चाहिए: इस तरह व्यवहार करने में, क्या मैं अविश्वास के लायक बन रहा हूँ? क्या यह कर्तव्य के निर्वहन में अपना मन लगाना है? क्या मैं ऐसा करके विश्वासघाती बन रहा हूँ? ऐसा करने में, क्या मैं उस विश्वास के अनुरूप रहने में विफल हो रहा हूँ, जो परमेश्वर ने मुझ पर दिखाया है? तुम्हें इसी तरह आत्म-मंथन करना चाहिए। तुम्हें सोचना चाहिये, "मैंने इस बात को गंभीरता से नहीं लिया। उस समय, मैंने महसूस किया कि कुछ समस्या थी, लेकिन मैंने उस समस्या को गंभीर नहीं समझा; मैंने बस लापरवाही से उस पर लीपा-पोती कर दी। इस समस्या का अब तक कोई समाधान नहीं हुआ है। मैं किस तरह का व्यक्ति हूँ?" अब तुमने समस्या को पहचान लिया होगा और खुद को कुछ हद तक जान लिया होगा। थोड़ा ज्ञान हो जाने पर, क्या तुम्हें रुक जाना चाहिए? क्या अपने पापों को स्वीकार कर लेने से तुम्हारा काम पूरा हो गया है? तुम्हें पश्चाताप करना होगा और खुद में पूरी तरह बदलाव लाना होगा! और तुम अपने-आपमें बदलाव कैसे ला सकते हो? पहले अपने कर्तव्य को लेकर तुम्हारा रवैया और मानसिकता गलत थे, तुम्हारा दिल इसमें नहीं रहता था, और तुम कभी भी सही चीजों पर ध्यान नहीं देते थे। आज, तुम्हें अपने कर्तव्य को लेकर अपना रवैया ठीक करना है, तुम्हें परमेश्वर के आगे प्रार्थना करनी है, और जब भी तुम्हारे पिछले विचार और रवैये फिर से उभरें तो तुम्हें परमेश्वर से विनती करनी है कि वह तुम्हें अनुशासित करे और तुम्हें ताड़ना दे। जल्दी से उन क्षेत्रों की पहचान करो जहां तुम ढीलेपन और बेमन से अपने कर्तव्य निभाते थे। यह सोचो कि तुम इन्हें कैसे ठीक कर सकते हो, और उन्हें ठीक करने के बाद, फिर से खोजो और प्रार्थना करो, और फिर अपने भाई-बहनों से पूछो कि क्या उनके कुछ सुझाव और सिफारिशें हैं, जब तक कि हर कोई यह न कहे कि तुमने सही किया है। सिर्फ तभी तुम्हें वैधता मिलेगी। तुम ऐसा महसूस करोगे कि तुमने मापदंडों के अनुरूप अपना कर्तव्य निभाया है, और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया है, पूरे दिल से किया है, और अपना सब कुछ अर्पित किया है; तुम महसूस करोगे कि तुमने अपना सर्वस्व झोंक दिया है, और तुम्हारे दिल में कोई पछतावा नहीं है। परमेश्वर के सामने अपना हिसाब देते समय तुम्हारी चेतना निर्मल और शुद्ध होगी, और तुम कहोगे, "भले ही परमेश्वर मुझे अपना कर्तव्य निभाने के 60% अंक दे, पर मैंने अपने शरीर की शक्ति का हर कतरा इसमें झोंक दिया है, मैंने इसे पूरे दिल से किया है, मैंने न कोई सुस्ती दिखाई न ढीलापन बरता, और मैंने अपनी तरफ से कोई कसर नहीं छोड़ी है।" क्या यह अपने पूरे दिल, अपने पूरे दिमाग और अपनी पूरी ताकत को अपने कर्तव्य में लगाने की वास्तविकताओं को व्यवहार में लाना और उन्हें अपने दैनिक जीवन में लागू करना नहीं हुआ? क्या यह सत्य की इन वास्तविकताओं को जीना नहीं है? और जब तुम सत्य की इन वास्तविकताओं को जीते हो तो अपने दिल में तुम कैसा महसूस करते हो? क्या तुम्हें ऐसा महसूस नहीं होता कि तुम एक मनुष्य के समान जी रहे हो, न कि किसी चलते-फिरते शव के समान?

— "मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'केवल सत्‍य के बारम्‍बार चिन्‍तन से ही आपको आगे का मार्ग मिल सकता है' से उद्धृत

तुम लोगों में से प्रत्येक को अपना कर्तव्य अपनी पूरी क्षमता से, खुले और ईमानदार दिलों के साथ पूरा करना चाहिए, और जो भी कीमत ज़रूरी हो, उसे चुकाने के लिए तैयार रहना चाहिए। जैसा कि तुम लोगों ने कहा है, जब दिन आएगा, तो परमेश्वर ऐसे किसी भी व्यक्ति के प्रति लापरवाह नहीं रहेगा, जिसने उसके लिए कष्ट उठाए होंगे या कीमत चुकाई होगी। इस प्रकार का दृढ़ विश्वास बनाए रखने लायक है, और यह सही है कि तुम लोगों को इसे कभी नहीं भूलना चाहिए। केवल इसी तरह से मैं तुम लोगों के बारे में निश्चिंत हो सकता हूँ। वरना तुम लोगों के बारे में मैं कभी निश्चिंत नहीं हो पाऊँगा, और तुम हमेशा मेरी घृणा के पात्र रहोगे। अगर तुम सभी अपनी अंतरात्मा की आवाज़ सुन सको और अपना सर्वस्व मुझे अर्पित कर सको, मेरे कार्य के लिए कोई कोर-कसर न छोड़ो, और मेरे सुसमाचार के कार्य के लिए अपनी जीवन भर की ऊर्जा अर्पित कर सको, तो क्या फिर मेरा हृदय तुम्हारे लिए अक्सरहर्ष से नहीं उछलेगा? इस तरह से मैं तुम लोगों के बारे में पूरी तरह से निश्चिंत हो सकूँगा, या नहीं?

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'गंतव्य के बारे में' से उद्धृत

मनुष्य द्वारा अपना कर्तव्य निभाना वास्तव में उस सबकी सिद्धि है, जो मनुष्य के भीतर अंतर्निहित है, अर्थात् जो मनुष्य के लिए संभव है। इसके बाद उसका कर्तव्य पूरा हो जाता है। मनुष्य की सेवा के दौरान उसके दोष उसके क्रमिक अनुभव और न्याय से गुज़रने की प्रक्रिया के माध्यम से धीरे-धीरे कम होते जाते हैं; वे मनुष्य के कर्तव्य में बाधा या विपरीत प्रभाव नहीं डालते। वे लोग, जो इस डर से सेवा करना बंद कर देते हैं या हार मानकर पीछे हट जाते हैं कि उनकी सेवा में कमियाँ हो सकती हैं, वे सबसे ज्यादा कायर होते हैं। यदि लोग वह व्यक्त नहीं कर सकते, जो उन्हें सेवा के दौरान व्यक्त करना चाहिए या वह हासिल नहीं कर सकते, जो उनके लिए सहज रूप से संभव है, और इसके बजाय वे सुस्ती में समय गँवाते हैं और बेमन से काम करते हैं, तो उन्होंने अपना वह प्रयोजन खो दिया है, जो एक सृजित प्राणी में होना चाहिए। ऐसे लोग "औसत दर्जे के" माने जाते हैं; वे बेकार का कचरा हैं। इस तरह के लोग उपयुक्त रूप से सृजित प्राणी कैसे कहे जा सकते हैं? क्या वे भ्रष्ट प्राणी नहीं हैं, जो बाहर से तो चमकते हैं, परंतु भीतर से सड़े हुए हैं? यदि कोई मनुष्य अपने आपको परमेश्वर कहता है, मगर अपनी दिव्यता व्यक्त करने, स्वयं परमेश्वर का कार्य करने या परमेश्वर का प्रतिनिधित्व करने में अक्षम है, तो वह नि:संदेह परमेश्वर नहीं है, क्योंकि उसमें परमेश्वर का सार नहीं है, और परमेश्वर जो सहज रूप से प्राप्त कर सकता है, वह उसके भीतर विद्यमान नहीं है। यदि मनुष्य वह खो देता है, जो उसके द्वारा सहज रूप से प्राप्य है, तो वह अब और मनुष्य नहीं समझा जा सकता, और वह सृजित प्राणी के रूप में खड़े होने या परमेश्वर के सामने आकर उसकी सेवा करने के योग्य नहीं है। इतना ही नहीं, वह परमेश्वर का अनुग्रह प्राप्त करने या परमेश्वर द्वारा ध्यान रखे जाने, बचाए जाने और पूर्ण बनाए जाने के योग्य भी नहीं है। कई लोग जो परमेश्वर का भरोसा खो चुके हैं, परमेश्वर का अनुग्रह भी खोते चले जाते हैं। वे न केवल अपने कुकर्मों से घृणा नहीं करते, बल्कि ढिठाई से इस बात का प्रचार भी करते हैं कि परमेश्वर का मार्ग गलत है, और वे विद्रोही परमेश्वर के अस्तित्व तक से इनकार कर देते हैं। इस प्रकार की विद्रोहशीलता रखने वाले लोग परमेश्वर के अनुग्रह का आनंद लेने के पात्र कैसे हो सकते हैं? जो लोग अपना कर्तव्य नहीं निभाते, वे परमेश्वर के विरुद्ध अत्यधिक विद्रोही और उसके अत्यधिक ऋणी होते हैं, फिर भी वे पलट जाते हैं और हमलावर होकर कहते हैं कि परमेश्वर गलत है। इस तरह के मनुष्य पूर्ण बनाए जाने लायक कैसे हो सकते हैं? क्या यह हटा दिए जाने और दंडित किए जाने की ओर नहीं ले जाता? जो लोग परमेश्वर के सामने अपना कर्तव्य नहीं निभाते, वे पहले से ही सर्वाधिक जघन्य अपराधों के दोषी हैं, जिसके लिए मृत्यु भी अपर्याप्त सज़ा है, फिर भी वे परमेश्वर के साथ बहस करने और उसके साथ अपनी बराबरी करने की धृष्टता करते हैं। ऐसे लोगों को पूर्ण बनाने का क्या महत्व है? जब लोग अपना कर्तव्य पूरा करने में विफल होते हैं, तो उन्हें अपराध और कृतज्ञता महसूस करनी चाहिए; उन्हें अपनी कमजोरी और अनुपयोगिता, अपनी विद्रोहशीलता और भ्रष्टता से घृणा करनी चाहिए, और इससे भी अधिक, उन्हें परमेश्वर को अपना जीवन अर्पित कर देना चाहिए। केवल तभी वे सृजित प्राणी होते हैं, जो परमेश्वर से सच्चा प्रेम करते हैं, और केवल ऐसे लोग ही परमेश्वर के आशीषों और प्रतिज्ञाओं का आनंद लेने और उसके द्वारा पूर्ण किए जाने के योग्य हैं। और तुम लोगों में से अधिकतर क्या हैं? तुम लोग उस परमेश्वर के साथ कैसा व्यवहार करते हो, जो तुम लोगों के मध्य रहता है? तुम लोगों ने उसके सामने अपना कर्तव्य किस तरह निभाया है? क्या तुमने, अपने जीवन की कीमत पर भी, वह सब कर लिया है, जिसे करने के लिए तुम लोगों से कहा गया था? तुम लोगों ने क्या बलिदान किया है? क्या तुम लोगों को मुझसे कुछ ज्यादा नहीं मिला है? क्या तुम लोग विचार कर सकते हो? तुम लोग मेरे प्रति कितने वफादार हो? तुम लोगों ने मेरी किस प्रकार से सेवा की है? और उस सबका क्या हुआ, जो मैंने तुम लोगों को दिया है और तुम लोगों के लिए किया है? क्या तुम लोगों ने यह सब माप लिया है? क्या तुम सभी लोगों ने इसका आकलन और तुलना उस जरा-से विवेक के साथ कर ली है, जो तुम लोगों के भीतर है? तुम्हारे शब्द और कार्य किसके योग्य हो सकते हैं? क्या तुम लोगों का इतना छोटा-सा बलिदान उस सबके बराबर है, जो मैने तुम लोगों को दिया है? मेरे पास और कोई विकल्प नहीं है और मैं पूरे हृदय से तुम लोगों के प्रति समर्पित रहा हूँ, फिर भी तुम लोग मेरे बारे में दुष्ट इरादे रखते हो और मेरे प्रति अनमने रहते हो। यही तुम लोगों के कर्तव्य की सीमा, तुम लोगों का एकमात्र कार्य है। क्या ऐसा ही नहीं है? क्या तुम लोग नहीं जानते कि तुम एक सृजित प्राणी का कर्तव्य निभाने में बिलकुल असफल हो गए हो? तुम लोगों को सृजित प्राणी कैसे माना जा सकता है? क्या तुम लोगों को यह स्पष्ट नहीं है कि तुम क्या व्यक्त कर रहे हो और क्या जी रहे हो? तुम लोग अपना कर्तव्य पूरा करने में असफल रहे हो, पर तुम परमेश्वर की सहनशीलता और भरपूर अनुग्रह प्राप्त करना चाहते हो। इस प्रकार का अनुग्रह तुम जैसे बेकार और अधम लोगों के लिए नहीं, बल्कि उन लोगों के लिए तैयार किया गया है, जो कुछ नहीं माँगते और खुशी से बलिदान करते हैं। तुम जैसे मामूली लोग स्वर्ग के अनुग्रह का आनंद लेने के बिलकुल भी योग्य नहीं हैं। केवल कठिनाई और अनंत सज़ा ही तुम लोगों को अपने जीवन में मिलेगी! यदि तुम लोग मेरे प्रति विश्वसनीय नहीं हो सकते, तो तुम लोगों के भाग्य में दु:ख ही होगा। यदि तुम लोग मेरे वचनों और कार्यों के प्रति जवाबदेह नहीं हो सकते, तो तुम्हारा परिणाम दंड होगा। राज्य के समस्त अनुग्रह, आशीषों और अद्भुत जीवन का तुम लोगों के साथ कोई लेना-देना नहीं होगा। यही वह अंत है, जिसके तुम काबिल हो और जो तुम लोगों की अपनी करतूतों का परिणाम है!

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'देहधारी परमेश्वर की सेवकाई और मनुष्य के कर्तव्य के बीच अंतर' से उद्धृत

पिछला: 73. कलीसिया के निष्‍कासन सम्‍बन्‍धी सिद्धान्‍त

अगला: 75. अपनी जगह की पुष्टि करने के सिद्धांत

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें