सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मसीह के न्याय के अनुभव की गवाहियाँ

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

23. बचाय जाने के बारे में समझ

लिंग क्वींग ग्विंग्ज़्हौ नगर, षंडोंग प्रांत

इन अनेक वर्षों में परमेश्वर का अनुसरण करते हुए, मैंने अपने परिवार और देह के आनंदों को त्याग दिया है, और मैं पूरा दिन कलीसिया में अपना कार्य करने में व्यस्त रही हूँ। इसलिए मैं मानती हूँ: जब तक मैं कलीसिया में मुझे सौंपे गए काम को छोड़ती नहीं हूँ, परमेश्वर को धोखा नहीं देती हूँ, कलीसिया को छोड़ती नहीं हूँ, और अंत तक परमेश्वर का अनुसरण करती हूँ, परमेश्वर मुझे क्षमा करेगा और मैं परमेश्वर द्वारा बचाई जाती रहूंगी। मैं यह भी मानती थी कि मैं परमेश्वर द्वारा मुक्ति के मार्ग पर चल रही हूँ, और मुझे बस इतना करना है कि मुझे अंत तक उसका अनुसरण करना है।

परंतु कुछ दिन पहले, मैंने किसी व्यक्ति के प्रवचनों के लेख देखे “केवल वही जो सत्य को प्राप्त करते हैं और वास्तविकता में प्रवेश करते हैं, वे ही सच में बचते हैं” : “परमेश्वर द्वारा बचाया जाना उतना सरल नहीं होता जितना की लोग कल्पना करते हैं। हमें निर्णय और अनुशासनात्मक सज़ा और साथ ही अपने अनुभवों के प्रत्येक कदम पर परमेश्वर के वचनों में सुनवाई और सुधार पर भरोसा करना चाहिए। हमें परमेश्वर के हर कार्य में प्रत्येक कदम पर उसका बारीकी से पालन करना चाहिए, और अंत में सत्य प्राप्त करना चाहिए और एक नयी रचना बनने के लिए स्वभाव को बदलना चाहिए, और सटन पर सत्य की विजय पर भरोसा रखना चाहिए और पाप को सामने आना चाहिए। परमेश्वर की आज्ञा का पूर्णतः पालन करने के लिए और उसके अनुरूप जीने के लिए हमें परमेश्वर के वचनों के प्रति जागरूक होकर जीना चाहिए। सटन पर विजय पाने और सामने आने वाले पाप के ऊपर विजय पाने के लिए और परमेश्वर द्वारा प्राप्ति इसी प्रकार हो सकती है। अगर परमेश्वर के कार्य के अनुभव से हम यह परिणाम प्राप्त करते हैं तो सच में ही यह परमेश्वर द्वारा बचाया जा रहा है।” सत्य को प्राप्त करने और परमेश्वर द्वारा मुक्ति प्राप्त करने के मार्ग पर, अभी भी अनेक कठिनाईयां और बाधाएँ हैं, जैसे कि परिवार का टूटना, प्राकृतिक और मानव-रचित आपदाएँ – प्रत्येक प्रकार की सुनवाई और पीड़ा जिसका सामना लोगों को करना है। निश्चित तौर पर यह सरल नहीं होता है, अगर लोगों में सत्य की कमी हो, तो वे दृढ़ता से सामना नहीं कर सकते, ऐसे में यह सुनिश्चित है कि वे परमेश्वर के साथ 100% विश्वासघात करेंगे।” इसे पढ़ने के बाद, मुझे ऐसा लगा जैसे कि मैं किसी स्वप्न से जागी हूँ। तो परमेश्वर द्वारा बचाया जाना बिल्कुल भी उतना सरल नहीं था जितना मैंने सोचा था; यह सभी कुछ लोगों द्वारा प्रत्येक कदम पर परमेश्वर के काम और वचनों के अनुभवों पर निर्भर करता है, परमेश्वर के अनुशासनात्मक सज़ा और निर्णय, आचरण और छटाई, साथ ही सभी प्रकार की सुनवाई और पीड़ा की कड़वाहट का अनुभव करना। ताकि वे अपनी स्वयं के भ्रष्ट स्वभावों को सही में समझ सकें और धीरे-धीरे भ्रष्टाचार से खुद को छुटकारा दिला सकें, और अंत में परमेश्वर के वचनों पर भरोसा कर सकें और सटन पर विजय प्राप्त करने के लिए, सत्य पर विश्वास कर सकें और सभी प्रकार के वातावरणों में अंधकार से आगे सकें। केवल इस परिणाम को प्राप्त करना ही सच में परमेश्वर द्वारा बचाया जाना है। परंतु इसे मेरी वास्तविक अवस्था से तुलना करने पर, मैं इस परिणाम को प्राप्त करने से बहुत दूर थी। बहुत बार मुझे यह मालूम होने के बावजूद कि अपनी प्रतिष्ठा और दर्जे के बल पर आगे बढ़ना परमेश्वर द्वारा स्वीकार नहीं किया जाता है, मैं फिर भी इन बातों में लगी रही, और जब मुझे वह प्राप्त नहीं हुआ तो मैं नकारात्मक और कमज़ोर हो गयी। मैं सत्य को प्राप्त करने की प्रेरणा को खो देती और ऐसे अंधकार में फंस जाती जहाँ से मैं खुद को बाहर नहीं निकाल पाती। बहुत बार ऐसा हुआ कि मुझे पता था कि परमेश्वर में विश्वास करने का मतलब था कि मैं उसके प्रेम को चुकाने के लिए सत्य का पालन करूँ और मैं परमेश्वर से मोल-भाव नहीं कर सकती थी, मैंने देखा कि परमेश्वर का दिन बहुत देर से आता था और मैं अपने भीतर नकारात्मकता लेकर चल रही थी। मेरी पहले की ऊर्जा पूर्णतः गायब हो गयी, और मैं अपने कर्तव्य को लापरवाही से करने लगी। जब मुझे अपने कार्यो में कठिनाई का सामना करना पड़ा, जबकि मुझे मालूम था कि यह परमेश्वर ही है, जो परेशानियों के माध्यम से मेरी परीक्षा ले रहा है, पर भीतर मैं अभी भी परमेश्वर के प्रति गलतफहमियों और शिकायतों से भरा थी। मुझे लगता था कि परमेश्वर में विश्वास करना बहुत कठिन था, बहुत थकाने वाला था, और मैं हमेशा उस से बचना चाहती थी, और यहाँ तक कि अपना काम भी छोड़ना चाहती थी। बहुत बार ऐसा था कि मैं जानती थी कि माहौल और सभी लोग, मामले और मेरे चारों ओर की वस्तुएं मुझे सर्वश्रेष्ठ बनाने के लिए परमेश्वर द्वारा बनाई गयी थीं, और मुझे इनसे सत्य प्राप्त करना चाहिए, जब में किसी ऐसे व्यक्ति, मामले या वस्तु का सामना करती थी जो मेरी उम्मीद के अनुसार नहीं होता था, मैं उस से बचती थी और उसे स्वीकार नहीं करना चाहती थी। जब मैं अन्य लोगों को उनके खुशहाल परिवारों के साथ देखती थी, जबकि मैं अपने प्रियजनों द्वारा छोड़ दी गयी थी और मेरे पास कोई आसरा नहीं था, मैं इससे बार-बार इस हद तक मायूसीयत और पीड़ा महसूस करती थी, कि अनेक बार मैं परमेश्वर से अलग होना चाहती थी.... फिर भी, मैं सोचती थी कि बहुत समय पहले मैंने परमेश्वर के उद्धार के मार्ग को अपनाया था। इन सभी वास्तविक परिस्थितियों को देखते हुए, मैं यह महानता कैसे प्राप्त कर सकती थी? जब मैं किसी छोटी सी परीक्षा या हताशा का सामना करती थी, मुझे गिरने का ख़तरा लगता था, जबकि मैं अनेक परेशानियों और कष्टों में खड़ी रह सकती थी। उस क्षण मैंने देखा कि यद्यपि मैंने हताश हुए बिना, अनेक वर्षों तक परमेश्वर में विश्वास किया है, फिर भी मैंने सत्य को वास्तव में नहीं समझा, और मेरे जीवन स्वभाव में ज़रा सा भी बदलाव नहीं आया। मैं अभी भी सटन के अंधकार के तहत रह रही थी और उसके छल और हेरफेर के अधीन थी। यह सच में परमेश्वर द्वारा रक्षा किए जाने के मानक से बहुत दूर था, परंतु मैं अभी भी मानती थी कि मैं परमेश्वर से मुक्ति के मार्ग पर बहुत पहले ही प्रवेश कर चुकी थी और मैं लगभग पर्याप्त थी – यह तो मुझे मात्र भ्रम था।

हे परमेश्वर, आपका धन्यवाद! यह आपका ही ज्ञानोदय और मार्गदर्शन था जिसके कारण मैं अपनी सच्ची अवस्था को स्पष्ट तौर पर देख पायी और मुझे समझ में आया कि वास्तव में उद्धार क्या है, जिस से मेरे पहले के भ्रामक ज्ञान में परिवर्तन आया। इस से मुझे यह भी समझ में आया कि अगर मैं सत्य को प्राप्त नहीं करती हूँ या अपने जीवन स्वभाव में बदलाव नहीं लाती हूँ, तो चाहे मैं कितने भी वर्षों तक परमेश्वर में विश्वास करती रहूँ, मुझे आपका अनुमोदन प्राप्त नहीं होगा। आज के बाद से, मैं समय के इस अनमोल खजाने का ध्यान रखूँगी कि इससे मैं अधिक से अधिक सत्य प्राप्त कर सकूँ, और आपके कार्य का अनुभव कर, मैं अपने भ्रष्ट स्वभाव से छुटकारा पाऊँगी। मैं आपके वचनों के अनुसार जीवन व्यतीत करूँगी और पूरी तरह से आपकी आज्ञा का पालन करूँगी, और आपके माध्यम से सच्ची मुक्ति प्राप्त करूँगी।

पिछला:परमेश्वर के वचनों ने मुझे जगा दिया है

अगला:मैंने स्पष्ट रूप से अपनी सच्ची कद-काठी को देखा

शायद आपको पसंद आये