मसीह की बातचीतों के अभिलेख

विषय-वस्तु

अध्याय 38. सब इससे निर्धारित होता है कि व्यक्ति के पास सत्य है या नहीं

सिवाय जब आप बुरी आत्माओं के अधीन हों, आपके अंदर की आत्मा के प्रकार की परवाह किए बगैर, मनुष्य की प्रकृति हमेशा एक समान ही होती है। कुछ लोगों को हमेशा लगता है कि उनकी आत्मा सही नहीं है, क्योंकि वे कुछ ऐसा कर सकते हैं जो अनूठा होता है, यद्यपि अन्य लोग भी यह महसूस करते हैं कि संभवतः उनकी आत्मा सही नहीं है, क्योंकि वे कभी भी बदल नहीं पाते हैं। वास्तविकता में, इसकी परवाह किए बगैर कि आत्मा में कुछ बुराई है या नहीं, मनुष्य की प्रकृति हमेशा एक समान ही होती है। वह हमेशा परमेश्वर का विरोध करती है और परमेश्वर को धोखा देती है। उनके भ्रष्टाचार का स्तर भी बहुत हद तक समान ही होता है। मानवीय प्रकृति की तमाम सामान्य चीजें एक समान होती हैं। कुछ लोगों को हमेशा संदेह रहता है कि उनकी आत्मा सही नहीं है, या वे सोच सकते हैं: “मैंने ऐसा क्यों किया? मैं कभी सोच भी नहीं सकता था! क्या ऐसा इसलिए है क्योंकि मेरी आत्मा सही नहीं है?” कुछ लोगों के लिए, वे कुछ भी कर लें, लेकिन वे अपनी आत्मा की जांच नहीं करते हैं, और वे सिर्फ इतना जांच करते हैं, “मैंने चीजों को इस तरह क्यों किया? मेरी प्रकृति क्या है? मुझे सत्य का पालन करने के लिए भविष्य में क्या करना चाहिए?” परीक्षा के लिए अपनाई गई पद्धति और मार्ग भिन्न होते हैं; कुछ लोग सत्य की तलाश करते हैं, जबकि कुछ लोग नकारात्मक दिशा में प्रयास करते हैं। अब आपको समझना चाहिए कि, भले ही व्यक्ति किसी भी आत्मा से संबंधित हो, आत्मा से संबंधित मामले ऐसे होते हैं जिन्हें कोई देख या स्पर्श नहीं कर सकता है, और महत्वपूर्ण चीज है अपनी प्रकृति, साथ ही साथ अपनी प्रकृति की चीजों पर ध्यान केंद्रित करना। आपके कर्मों से आपकी प्रकृति का पता चलता है आपकी प्रकृति क्या है उसके प्रमाण से पता चलता है कि आपका सत्व क्या है, लेकिन इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि आपमें किस प्रकार की आत्मा है। शैतान द्वारा भ्रष्ट किए जाने के बाद सभी मनुष्य की प्रकृति एक समान हो जाती है। वे सभी एक ही मानव पूर्वज से आते हैं, एक ही दुनिया में रहते हैं, एक समान भ्रष्टाचार से गुजरते हैं। मानव प्रकृति के मामले एक समान होते हैं, मनुष्य के लिए आम चीजें एक समान होती हैं, फिर भी कुछ लोग इस परिवेश के आधार पर कुछ चीजें कर पाते हैं, जबकि अन्य लोग इस वातावरण के आधार पर कुछ दूसरी चीजें कर पाते हैं। कुछ लोग विशिष्ट संस्कृति और ज्ञान के साथ जन्म लेते हैं, वे शिक्षित होते हैं; जबकि कुछ लोगों में कोई संस्कृति या ज्ञान, बगैर अधिक शिक्षा के, नहीं होता है। कुछ लोग चीजों को इस दृष्टिकोण से देखते हैं, जबकि दूसरे लोग चीजों को किसी दूसरे दृष्टिकोण से देखते हैं। कुछ लोग एक निश्चित सामाजिक परिवेश के दायरे में रहते हैं, जबकि दूसरे लोग अलग परिवेश के दायरे में रहते हैं। उनमें से प्रत्येक की भिन्न प्रथाएँ, परंपराएँ और आदतें होती हैं, फिर भी मनुष्य की प्रकृति से जो बाहर निकलता है वह एक समान ही होता है, इसलिए इस बारे में चिंतित होना गैर जरूरी है कि आपमें किस प्रकार की आत्मा है। कुछ चीज ऐसी होती है जिसे कोई मनुष्य प्राप्त नहीं कर सकता है, यह ऐसी चीज है जिसके बारे में केवल परमेश्वर जानते हैं। किसी भी स्थिति में, मनुष्य के लिए इन चीजों को जानना व्यर्थ है। किसी की आत्मा की चीड़फाड़ करना और उसका अध्ययन करने की इच्छा रखने का कोई फायदा नहीं हो सकता है; यह ऐसी चीज है जिसमें सबसे मूर्ख और संभ्रमित व्यक्ति शामिल होगा। हर बार कुछ गलत करने या अपराध करने पर स्वयं पर संदेह न करें: “ओह, क्या मेरी आत्मा में कुछ बुरा है? क्या मैं दुष्ट आत्मा हूँ? क्या मेरी आत्मा धार्मिक नहीं है? मैं ऐसी चीजें क्यों करता रहता हूँ?” क्रियान्वित कार्यों की परवाह किए बगैर, आपको हमेशा अपनी प्रकृति के भीतर ही स्रोत को खोजना चाहिए, आपको हमेशा उस सत्य को खोजना चाहिए जिसमें मनुष्य को अवश्य प्रवेश करना चाहिए। अगर आप अपनी आत्मा की जाँच करते हैं, तो आपको कोई उत्तर प्राप्त नहीं होगा। भले ही आपको पता हो कि आपकी आत्मा किस प्रकार की है, आपको अपनी प्रकृति की अभी भी कोई समझ नहीं है, और आप अब भी अपने मामले के समाधान में अक्षम होंगे। इसलिए, आप लोगों में से कुछ लोग हमेशा इस बारे में बातें करते हैं कि आप लोगों की आत्मा किस प्रकार की है, मानो आप लोग विशेष रूप से आध्यात्मिक हों, मानो आप लोगों को ज्ञान हो; लेकिन वास्तविकता में, आप एक नौसिखिए हैं, और मूर्ख भी हैं। आप में से कुछ लोग इस पर विशेषतः आध्यात्मिक रूप से भी चर्चा करते हैं, मानो आप जो चीजें कहते हैं वे बहुत गहरी हैं, मानो ये चीजें ऐसी हैं जिन्हें साधारण मनुष्य समझ नहीं सकते हैं, जैसे वे कहते हैं “हमारे लिए महत्वपूर्ण यह जाँचना है कि हमारी आत्मा किस तरह की है। मनुष्य की आत्मा के बगैर, आप बच नहीं सकते हैं भले ही आप परमेश्वर में विश्ववास करते हों। परमेश्वर को परेशान करना बंद करो।” कुछ लोग इससे दूषित हो जाते हैं, यह सोच कर कि इसका बहुत गहरा अर्थ है, “यह सत्य है, मुझे भी यह जाँचने दो कि मेरी आत्मा किस प्रकार की है।” वह विक्षिप्त हो जाता है क्योंकि वह आत्मा पर बहुत अधिक ध्यान क्रेंद्रित करता है, वह अपने हर काम की जाँच करता है, आखिरकार उसे पता चलता है कि मसला क्या है: ऐसा क्यों है कि मैं मामलों से निपटने में हमेशा सत्य के खिलाफ हो जाता हूँ? ऐसा क्यों है कि मेरे पास कोई मानवता या चेतना नहीं है? मुझमें जरूर एक दुष्ट आत्मा है। वास्तव में, मनुष्य की प्रकृति अच्छी नहीं होती है और उसके पास सत्य नहीं होता है, तो मनुष्य कोई भी अच्छा कार्य कैसे कर सकता है? भले ही सतही तौर पर यह कितना बढ़िया लगता हो, यह सत्य के अनुकूल नहीं होता है और अभी भी परमेश्वर का विरोध कर रहा होता है। मनुष्य प्रकृति से अच्छा नहीं होता है, वह पहले ही शैतान द्वारा भ्रष्ट और परिवर्तित कर दिया गया है इतना कि अब उसमें मानव विशेषताओं की कोई झलक नहीं है, हमेशा परमेश्वर के खिलाफ़ विद्रोह और उनका विरोध करता है, परमेश्वर से बहुत दूर चला गया है; मनुष्य के लिए ऐसा कुछ भी करना असंभव है जो ईश्वर की इच्छा के अनुरूप है, और अब मनुष्य की अंतर्निहित प्रकृति में ऐसा कुछ भी नहीं है जो परमेश्वर के अनुकूल हो सकता है। यह स्पष्ट है। कुछ लोग निरंतर विक्षिप्त हो रहे हैं: “ओह, ऐसा क्यों है कि मैं हमेशा गलत कर रहा होता हूँ, ऐसा क्यों है कि मैं हमेशा मूर्खतापूर्ण चीजें कर रहा होता हूँ, अपने आपका मजाक बना रहा होता हूँ? क्या इसलिए क्योंकि मेरी आत्मा खराब है?” आत्मा के ऊपर बहुत अधिक ध्यान केंद्रित करके, और अपनी प्रकृति के मामलों की उपेक्षा करके, यह व्यक्ति छोटी-छोटी चीजों को पकड़ कर बैठा है और महत्वपूर्ण चीजों से वंचित रह जा रहा है। व्यावहारिक चीजों की उपेक्षा करना जबकि आसमानी चीजों को पकड़ कर रहना, क्या यह मूर्खता नहीं है? क्या आप इतने वर्षों की जाँच के बाद आत्मा के इस मामले को समझ पाए हैं? क्या आप अन्तरात्मा के मामले को समझ पाए हैं? आपकी आत्मा कैसी दिखाई देती है, क्या आपने इसे कभी अपनी आँखों से देखा है? आप अपनी प्रकृति के मामले में अन्वेषण करने की झंझट नहीं मोल लेते हैं जो कि आपकी अन्तरात्मा के भीतर गहरी दबी पड़ी है, और इसके बजाय अपना समय यह समझने में बरबाद करते हैं कि आपकी आत्मा किस प्रकार की है। क्या आपके पास इसके लिए कुछ दिखाने हेतु है? क्या आप उस अंधे व्यक्ति की तरह नहीं हैं जो मोमबत्ती जला रहा है, और केवल मोम बर्बाद कर रहा है? आप अपनी वास्तविक कठिनाइयों के समाधान खोजने की उपेक्षा कर रहे हैं, इसके बजाय आपने बुरे और पथभ्रष्ट करने वाले कार्यों में शामिल होना जारी रखा है, आपने अपनी आत्मा के प्रकार का अध्ययन जारी रखा है; ऐसी जाँच-पड़ताल से कौन सी समस्याएँ हल होती हैं? परमेश्वर में विश्वास करना, फिर भी ईमानदारी वाले कार्यों में शामिल न होना, हमेशा आत्मा का अध्ययन करते रहना, मानो कोई पागल व्यक्ति हो। वास्तव में चतुर व्यक्ति का रवैया ऐसा होना चाहिए: मुझे परवाह नहीं कि परमेश्वर क्या करते हैं, या परमेश्वर मेरे साथ कैसा व्यवहार करते हैं; मुझे परवाह नहीं मैं कितना अधिक भ्रष्ट हूँ, या मेरी मानवता किस तरह की है; मैं सत्य की अपनी खोज में और परमेश्वर को जानने की अपनी कोशिश में अटल रहूँगा। यह जीवन की दिशा है, यह वही चीज है जिसे हासिल करने की आकांक्षा मनुष्य को करनी चाहिए, मोक्ष का एकमात्र मार्ग यही है। अब केवल सत्य का अनुसरण ही व्यावहारिक है, केवल अपनी भ्रष्ट प्रकृति का ज्ञान व्यावहारिक है, केवल परमेश्वर को संतुष्ट करने की क्षमता व्यावहारिक है, जबकि उन सभी चीजों की जाँच समय की बर्बादी है जिन्हें आप न तो स्पर्श कर सकते हैं और न देख सकते हैं। जब तक आप देह में रहते हैं, आपको उस चीज की आकांक्षा करनी चाहिए जिसे मुनष्य प्राप्त कर सकता है। यह निर्धारित करने के लिए कि क्या कोई व्यक्ति किसी दुष्ट आत्मा के अधीन है, यह इस पर निर्भर करता है कि क्या व्यक्ति का दिमाग कार्य करते समय सामान्य रहता है; अगर यह सामान्य नहीं रहता है, तो फिर मोक्ष नहीं मिल सकता है। अब आप लोगों की चेतना बहुत सामान्य है, आप बहुत सामान्य तरीके से बात करते हैं, और आपको कभी भी कुछ अलौकिक और असामान्य नहीं हुआ है; भले ही कभी-कभी आपकी स्थिति पूरी तरह सामान्य नहीं रहती है, मानव प्रकृति बस इतना ही प्रकट करती है। आपके कार्य संभवतः हमेशा सही नहीं हो सकते हैं, लेकिन मानव प्रकृति भी यही चीजें प्रकट करती है। अन्य लोगों के लिए भी यह ऐसा ही होता है, केवल उन चीजों के प्रकट होने की पृष्ठभूमि और समय उनके लिए भिन्न होते हैं। आपके लिए, ऐसा प्रतीत होता है कि आपके अलावा हर कोई सही चीजें कर रहा है, लेकिन यह भी मनुष्यों की गलत धारणा है। आप महसूस करते हैं कि अब आप लोगों की कुछ महत्ता है, आपका आत्मा से संबंधित कुछ कथनों और मामलों से सामना हुआ है, और बाद में आप उन चीजों को स्वयं का विश्लेषण करने में लागू करते हैं, मानो आप कोई महत्वपू्र्ण व्यक्ति हैं। यहां तक कि धर्मशास्त्र का विद्वान भी आत्मा के मामलों को नहीं समझ सकता है, केवल परमेश्वर ही मामलों को समझ सकते हैं, तो मनुष्य कैसे इसे स्पष्ट रूप से समझ सकता है? क्या मनुष्यों के लिए गलत मार्ग में चले जाना आसान नहीं है? आजकल लोगों के साथ यह होना आम बात है। भले ही आप ऐसे मामलों के बारे में गंभीरता से चर्चा नहीं कर रहे हैं, भले ही आप इस मामले के कारण कमजोर नहीं पड़े हों या लड़खड़ा नहीं गए हों, लेकिन एक क्षण के लिए, दूसरे लोगों ने जो कहा उससे आप प्रभावित हो गए। भले ही आप ऐसी चीजों पर बहुत अधिक ध्यान नहीं देते हैं, वे फिर भी आपके अंदर होती हैं, और फिर जब वह दिन आता है जिसमें आप सचमुच में गलती करते हैं, जब आप पराजित होते हैं, जब आप गिरते हैं, तो आपको स्वयं पर संदेह होता है: क्या ऐसा इसलिए है क्योंकि क्या मेरी आत्मा में कुछ बुराई है? सामान्यतः, आपको अपने ऊपर संदेह नहीं होता है और आपको दूसरे लोग विवेकहीन लगते हैं, ऐसे दिखते हैं जैसे वे स्वयं ही फंस गए हैं। फिर वह दिन आता है जब आपका निपटारा हो रहा होता है, या दूसरे लोग कहते हैं कि आप शैतान हैं, एक दुष्ट आत्मा हैं। आप भी उस पर विश्वास भी करने लगेंगे, आप भी फंस जाएंगे और खुद को निकालने में असमर्थ रहेंगे। वास्तव में, अधिकतर लोग इस गलती को करने के लिए तत्पर रहते हैं, वे आत्मा के मामलों को विशेष रूप से महत्व देते हैं जबकि अपनी प्रकृति पर ध्यान नहीं देते हैं, जो उन्हें वास्तविकता से बिल्कुल अलग कर देती है। यह अनुभव का भटकाव है। आप लोगों को केवल इस पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए कि आपकी प्रकृति के किस पहलू के कारण आप आसानी से गलती कर बैठते हैं और गलत मार्ग पर चले जाते हैं, और फिर इस आधार से शुरूआत करते हुए अपना सबक सीखना चाहिए। विशेष रूप से परमेश्वर की सेवा में, आपके खुद के अनुभवों में, खुद अपनी प्रकृति को जानने में, आपको धीरे-धीरे ऊँची समझ प्राप्त करनी चाहिए, और उसके द्वारा अपनी स्थिति को संभालना चाहिए और सही दिशा में विकास करना चाहिए। अगर आप इन सत्यों को अपने आंतरिक जीवन में ढाल सकते हैं, तो फिर आप अधिक दृढ़ बन जाएँगे। आप उन चीजों के बारे में चिकनी चुपड़ी बातें नहीं रहेंगे जिन्हें आप नहीं समझते हैं, आप बात करते समय मुद्दे पर रहेंगे, और आप उन चीजों का प्रसार करेंगे जो व्यावहारिक हैं। कोई व्यक्ति खुद अपनी प्रकृति को जितनी गहराई से समझता है, और जितना अधिक सत्य वह समझता है, उसकी बातें उतनी ही नपी तुली होती हैं, और वह फिर आगे निरर्थक बातें नहीं करेगा। सत्य के बगैर व्यक्ति हमेशा मूर्ख लगता है, उसमें कुछ भी कहने की हिम्मत होती है। सुसमाचार का प्रचार-प्रसार करते समय, कुछ और लोगों को जोड़ने के लिए, कुछ लोग परमेश्वर की निंदा करने की कीमत चुकाने की हद तक चले जाते हैं; ये लोग यह भी नहीं जानते कि वे कौन हैं, वे अपनी स्वयं की प्रकृति को नहीं जानते हैं, वे परमेश्वर से नहीं डरते हैं। कुछ लोग सोचते हैं कि ऐसी चीजें उतनी भयानक नहीं हैं, लेकिन क्या वास्तव में ये चीजें गंभीर नहीं हैं? जिस दिन उन्हें इस समस्या की गंभीरता का अहसास होता है, तो वे वास्तव में डर जाते हैं; यह कोई हंसने की बात नहीं है! अगर आप इस मामले के सार को समझने में असमर्थ हैं, तो फिर आप क्या समझते हैं? आप अभी भी महसूस करते हैं कि आप बहुत बुद्धिमान हैं, कि आप हर चीज समझ सकते हैं, लेकिन आपको बिल्कुल नहीं पता कि आपने पहले ही परमेश्वर को कुपित कर दिया है, और आपको बिल्कुल नहीं पता कि आपका नाश होने वाला है। भले ही आपको नरक के मामलों और आध्यात्मिक दुनिया की पूरी समझ हो, फिर भी अगर आपको स्वयं की प्रकृति की समझ नहीं है, तो आपके सारे प्रयास व्यर्थ हो जाते हैं। अब, अपनी प्रकृति की समस्याओं को सुलझाना मुख्य काम है। आपको आपकी प्रकृति द्वारा प्रकट किए जाने वाली प्रत्येक चीज की पूरी समझ होनी चाहिए। अगर आप यह नहीं समझ सकते हैं, तो आपकी सारी समझ व्यर्थ प्रयास भर हैं। अगर आप इसे नहीं समझ सकते हैं, तो यह विश्लेषण करने का कोई फायदा नहीं है कि आपकी आत्मा या रूह किस प्रकार की है। मुख्य बात यह है कि उन सभी चीजों के बारे में एक गहरी समझ हो जो वास्तव में किसी की प्रकृति में मौजूद रहती हैं। इसकी परवाह किए बगैर कि आपके अंदर किस प्रकार की आत्मा है, आप फिर भी एक मनुष्य होते हैं, आपके विचार होते हैं, आपका दिमाग सामान्य तरीके से काम कर रहा होता है, और इसलिए आपको सत्य समझने का प्रास करना चाहिए और सत्य को स्वीकार करना चाहिए। अगर आप सत्य को समझ सकते हैं, तो आपको अपने कार्य सत्य के अनुसार करने चाहिए; ये मनुष्य के कर्तव्य हैं। आत्मा के बारे में आपके अध्ययन का कोई मोल नहीं है। कोई ऐसा व्यक्ति जिसके बारे में पता चला हो कि वह बुरी आत्मा के अधीन है, जब वह कभी-कभार सामान्य होता है, अगर आप उसे सत्य बताते हैं तो वह समझने में सक्षम हो जाता है, और कई बार उसे थोड़े-बहुत अनुभव भी हो जाते हैं, हालाँकि यह असामान्य चेतनाएँ वाले लोगों के लिए नहीं है, जो पूरी तरह से दुष्ट आत्माओं के अधीन होते हैं। सिवाय इन लोगों के, सामान्य चेतना वाले लोगों के लिए, इसकी परवाह किए बगैर कि उनके अंदर किस प्रकार की आत्मा है, उनकी शिक्षा के स्तर की परवाह किए बगैर, कोई भी व्यक्ति जिसे आत्मा की थोड़ी भी समझ हो वह कुछ सत्य समझ सकता है, और यह पर्याप्त होता है। मनुष्य के पास ऐसा कोई अंग नहीं है जो सत्य को ग्रहण कर सके, लेकिन मनुष्य सत्य सुनने में सक्षम है, सत्य के सिद्धांतों के संदर्भ में मनुष्य के विचार फिर भी उपयोगी होते हैं, और यही चीज है जिसे मनुष्य प्राप्त करने में सक्षम है। इसलिए, अब आपके लिए इसका अध्ययन करने की कोई जरूरत नहीं है कि आपकी आत्मा किस प्रकार की है। अब मुद्दा यह नहीं समझने का प्रयास करना है कि आपकी आत्मा किस प्रकार की है; आपकी यह आत्मा सत्य स्वीकार करने में सक्षम है या नहीं, आपकी यह आत्मा ऐसी आत्मा है या नहीं जो परमेश्वर पर विश्वास करती है, ये बातें महत्वपूर्ण नहीं हैं। महत्वपूर्ण बात यह है कि क्या आप, मनुष्य के रूप में, सत्य स्वीकार करने योग्य हैं, क्या आप ऐसे व्यक्ति हैं जो सत्य की खोज में है, क्या आप ऐसे व्यक्ति हैं जिसकी अपनी स्थिति की गहरी समझ हो, क्या आप ऐसे व्यक्ति हैं जो स्वयं की प्रकृति को अच्छे से समझता हो, ये मुख्य बातें हैं। आपके अध्ययन कि आपकी आत्मा किस प्रकार की है व्यर्थ हैं, और इसके अलावा, उनका कोई मोल नहीं है। अगर आप जाँच जारी रखते हैं कि आपकी आत्मा किस प्रकार की है, जाँच जारी रखते हैं कि आपकी रूह के साथ क्या हो रहा है, आपकी आत्मा क्या कर रही है, आपकी आत्मा का परिणाम क्या है, यह भविष्य में कैसी होने वाली है, तो फिर आप वाकई महत्वपूर्ण चीजों को विलंबित करेंगे। भले ही आप ऐसी चीजों की पूरी तरह से जाँच कर लेते हैं, वह दिन जब बाकी लोग पहले ही सत्य को समझ चुके होंगे और वास्तविकता में प्रवेश कर चुके होंगे, आप उसके बजाय महत्वपूर्ण चीजों को विलंबित कर चुके होंगे, आपने पहले ही स्वयं के लिए एक गड्ढा खोद लिया होगा। यह गलत रास्ते पर जाना होगा, परमेश्वर में अपने विश्वास को गंवाना होगा, जिसके लिए कुछ दिखाने हेतु आपके पास कुछ नहीं होगा। जब वह दिन आएगा तो आप किसे दोष देने वाले हैं?