सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

परमेश्वर के वचन के भजन

परमेश्वर के वचन के भजन

भजन श्रेणियाँ

Hymns-of-experience-8
आराधना गीतों का संग्रह
New-6
सबसे नए भजन

अन्य एल्बम

Know-god-2
परमेश्वर को जानना
Witness-god-2
परमेश्वर के लिए गवाही
Praise-god-2
परमेश्वर की प्रशंसा करना
Gospel-witness-2
सुसमाचार की गवाहियां
Experience-2
जीवन के अनुभव

मनोदशाएं

Mood-majestic-and-solemn-2
प्रतापी और पवित्र
Mood-passionate-2
आवेशपूर्ण
Mood-lyrical-2
काव्यात्मक
Mood-lighthearted-2
प्रसन्नचित्त
Mood-enthusiastic-2
उत्साही
Mood-relaxing-2
आरामदेह


    परमेश्वर के वचनों का एक भजन
    परमेश्वर की इंसान को चेतावनी

    I

    बहुत-सी इच्छाएँ हैं परमेश्वर की। उसकी इच्छा है, तू आचरण अपना बेहतर रख सके, अपने फ़र्ज़ में वफ़ादार रहे, सत्य और इंसानियत हो तुझमें, इंसानियत हो तुझमें। बन सके एक ऐसा इंसान, जो परमेश्वर की ख़ातिर अपना सबकुछ दे सके, अपनी ज़िंदगी के अलावा और भी बहुत कुछ दे सके, बहुत कुछ दे सके।

    II

    पैदा होती हैं ये सारी उम्मीदें तेरी कमियों से, भ्रष्टता से और नाफ़रमानी से। अपने उल्लंघनों की पहले जाँच करनी चाहिये तुझे। यहीं से तू पहले शुरुआत कर। जो अनुरूप नहीं हैं सच्चाई के, अपने उन तमाम विचारों-व्यवहारों की जाँच कर। सीधी-सादी हैं अपेक्षाएं परमेश्वर की, मगर इतना ही नहीं है, जो वो चाहता है तुझसे। न उपहास कर, न तुच्छ समझ परमेश्वर की अपेक्षाओं को, संजीदा बन, ख़ारिज न कर तू इस काम को।

    III

    आगे, हर उल्लंघन, हर विद्रोह के लिये, हर एक से निपटे जो, ऐसे सत्य की तलाश कर, अपने विद्रोही ख़्यालों, बर्ताव और उल्लंघन की जगह, सच्चाई का अभ्यास कर। तीसरा, ज़िंदगी सच्चाई से जी, चालाकी या कपट न कर। इन तीन बातों को अगर पूरा करता है तू, जिसके सपने साकार होते हैं, ऐसा ख़ुशकिस्मत इंसान है तू।

    IV

    शायद इन तीन शर्तों को संजीदगी से ले या लापरवाही से तू, ख़ैर, परमेश्वर का प्रयोजन है कि तू साकार करे अपने सपनों को और अमल में लाए अपने आदर्शों को तू, आदर्शों को तू। तुझे बेवकूफ़ बनाना मकसद नहीं उसका। अपने विचारों, योजनाओं, हिसाब-किताब को, दरकिनार कर दे तू। परमेश्वर की माँगों को संजीदगी से लेना शुरु कर दे तू। वरना, अपने काम का वो अंत कर देगा, भस्म करके तमाम इंसानों को। क्योंकि कर नहीं सकते प्रवेश परमेश्वर के राज्य में, या अगले युग में शैतान की तर्ज़ पर, बुराई में लिप्त इंसान हैं जो। आधिकारिक तौर पर कहता है तुझसे परमेश्वर, परवाह नहीं उसे, कितनी मेहनत से या कितने बेहतर ढंग से काम करता है तू,

    कितना काबिल या नामवर है तू, कितनी बारीकी से उसका अनुसरण करता है तू, अपनी प्रवृत्ति में कितना उन्नत है तू, परमेश्वर की माँगों को अगर पूरा नहीं करता, तो उसकी प्रशंसा कभी पा नहीं सकता तू। सीधी-सादी हैं अपेक्षाएं परमेश्वर की, मगर इतना ही नहीं है, जो वो चाहता है तुझसे। न उपहास कर, न तुच्छ समझ परमेश्वर की अपेक्षाओं को, संजीदा बन, ख़ारिज न कर तू इस काम को, तू इस काम को, तू इस काम को।

    "वचन देह में प्रकट होता है" से

परमेश्वर के वचन के भजन

प्रभु की अच्छाइयां फैली हुई हैं कण-कण में परमेश्वर के प्रबंधन का उद्देश्य मानव जाति को बचाना है ईश्वर मौन होकर हमारे बीच आते हैं सिर्फ़ वही प्रवेश करेंगे अंतिम विश्राम में जो हो चुके हैं पवित्र वह मेरा परमेश्वर है परमेश्वर स्वयं के लिए इंसान की सच्ची आस्था और प्रेम पाने की करता है आशा परमेश्वर के स्वभाव का प्रतीक देहधारी परमेश्वर मानव जाति को नये युग में ले जाते हैं प्रकट हुए परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर काम परमेश्वर का सदा बढता ही रहता है आइये सभी मानवता की तकदीर पर ध्यान दें देहधारी परमेश्वर को बेहद चिंता है अपने अनुयायियों की सिर्फ ईश्वर के पास ही जीवन का मार्ग है सर्वशक्तिमान की आहें सबकुछ परमेश्वर के हाथ में है कैसे ढूंढें परमेश्वर के नक़्शे-कदम विजय कार्य का अंदरूनी अभिप्राय मसीह स्वयं देहधारी परमेश्वर है परमेश्वर अंतिम दिनों में मुख्यत: वचन से काम करता है परमेश्वर की इच्छा स्पष्ट रही है सभी के लिए परमेश्वर न्याय संग उतरता है राजा की तरह हमारा परमेश्वर करता है राज जब तुम खोलते हो अपना हृदय परमेश्वर के लिए परमेश्वर के अंतिम दिनों के काम के परिणाम वचन से मिलते हैं अंतिम परिणाम जिसे हासिल करना परमेश्वर के कार्य का लक्ष्य है सबसे बड़ी आशीष जो ईश्वर मानव को प्रदान करता है देह और आत्मा का है काम उसी सार का परमेश्वर के वचन हैं, कभी न बदलने वाले सत्य देह में काम करके ही परमेश्वर इंसान को हासिल कर सकता है ख़्यालों से और कल्पनाओं से परमेश्वर को कभी न जान पाओगे सभी चीज़ें परमेश्वर के अधिकार-क्षेत्र के अधीन होंगी जानना चाहोगे आख़िर फरीसी, यीशु के ख़िलाफ़ क्यों थे? परमेश्वर का स्वभाव है उत्कृष्ट और भव्य जिसके पास है सच्चा विश्वास, उसे मिलता है परमेश्वर का आशीष क्या तुम हो अपने लक्ष्य के प्रति आगाह प्रभु हर युग में नए कार्य करते हैं अन्यजाति के देशों में परमेश्वर का नाम फैलेगा क्या तुम्हें पता है स्रोत अंनत जीवन का? अंतिम दिनों का मसीह लाता है राज्य का युग मानव के भविष्य पर परमेश्वर विलाप करता है भ्रष्ट मानवता की त्रासदी राज्य के युग में, वचन सब पूर्ण करते हैं परमेश्वर के प्रकटन की महत्ता परमेश्वर के लिए गवाही देना मानव का कर्तव्य है केवल सृष्टिकर्ता मानवता पर दया करता है देहधारी परमेश्वर नहीं कोई आम इंसान कोई थाह लगा नहीं सकता परमेश्वर के अधिकार और सामर्थ्य पूरब की ओर लाया है परमेश्वर अपनी महिमा जो नये काम को स्वीकारते हैं वो धन्य हैं परमेश्वर है लौटा जीत के साथ परमेश्वर ने बनाया चीन में एक विजयी समूह राज्य के युग में परमेश्वर के कार्य के पीछे का सत्य परमेश्वर खोज रहा है उन्हें जो हैं प्यासे उसके प्रकटन के लिए है मसीह अंतिम दिनों का अनंत जीवन लेके आया सच्ची प्रार्थना का प्रभाव परमेश्वर मानता है इंसान को अपना सबसे प्रिय परमेश्वर के देहधारण से ही इंसान उसका विश्वासपात्र बन सकता है परमेश्वर की सत्ता अनुपम है राज्य के युग में परमेश्वर मनुष्य को वचनों के द्वारा पूर्ण करता है परमेश्वर का स्वभाव उज्जवल और पवित्र है हर इंसान जीता है परमेश्वर की रोशनी में विश्राम में प्रवेश करने की मानवता के लिए एकमात्र राह परमेश्वर धर्मी है सभी के लिये भ्रष्ट मानवता को आवश्यकता है देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की मसीह का सार तय होता है उसके काम और अभिव्यक्तियों से आशीषित हैं वो जो करते हैं परमेश्वर से प्रेम परमेश्वर के दो देहधारणों के मायने परमेश्वर विश्वास को पूर्ण बनाता है परमेश्वर की सारी सृष्टि उसकी प्रभुता के अधीन होनी चाहिए हासिल कर सकता है जो प्रभाव परमेश्वर का न्याय परमेश्वर का धार्मिक स्वभाव है अनूठा सृष्टिकर्ता के अधिकार का असली मूर्त रूप शुद्ध प्रेम बिना दोष के ब्रह्माण्ड में परमेश्वर के कार्य की लय परमेश्वर पर भरोसे का सच्चा अर्थ परमेश्वर का सार सर्वशक्तिमान और व्यवहारिक है परमेश्वर का भय मानने से ही बुराई दूर रह सकती है परमेश्वर के लिए जीने का है सबसे ज्यादा मोल परमेश्वर की ताड़ना और न्याय है मनुष्य की मुक्ति का प्रकाश परमेश्वर तुम्हारे हृदय और रूह को खोज रहा परमेश्वर ने किया है अपने पूर्ण स्वभाव को मनुष्य के सामने प्रकट परमेश्वर को इंतज़ार है उनकी मण्डली को पाने का जो उसके साक्षी हैं देहधारी परमेश्वर में दिव्यता का सार होना चाहिए चूँकि परमेश्वर मनुष्यों को बचाता है, वह उन्हें पूर्ण रूप से बचायेगा। प्रार्थना के मायने हो गया है पतन बेबीलोन महान का मसीह का सारतत्व है परमेश्वर परमेश्वर चाहता है इंसानियत जीती रहे इंसान और परमेश्वर हैं सहभागी आनंद-मिलन में इम्तहान में परमेश्वर को इंसान का सच्चा दिल चाहिए सच्ची प्रार्थना उन्हें किसका अनुसरण करना चाहिये जिन्हें सत्य से प्रेम है इंसान जो परमेश्वर के अधिकार के अधीन रहता है परमेश्वर मानव के सृजन के अर्थ को पुर्स्थापित करेगा देहधारी परमेश्वर की जो मानते हैं, वो ही पूर्ण बन सकते हैं परमेश्वर सदा से काम करता रहा है इंसान को राह दिखाने के लिए इंसान शायद समझ ले उसे, उम्मीद है परमेश्वर को परमेश्वर के कर्मों को जानने से ही आती है सच्ची आस्था पूरी पृथ्वी आनंदित होगी और परमेश्वर की प्रशंसा करेगी सभी प्राणियों का जीवन आता है परमेश्वर से सत्य जीवन का सबसे ऊंचा सूत्र है अंत के दिनों के मसीह के पुनरागमन का स्वागत कैसे करना चाहिए? देह-धारण किया परमेश्वर ने, शैतान को हराने और इंसान को बचाने परमेश्वर को जान लेने का परिणाम अंत के दिनों में देहधारी परमेश्वर मुख्यत: वचन का कार्य करता है परमेश्वर छ: हज़ार साल की प्रबंधन योजना का शासक है परमेश्वर सबकी पूर्ण देखभाल करता है परमेश्वर का राज्य मनुष्यों के बीच स्थापित है परमेश्वर हमेशा इंसान की चुपचाप पोषित करता है और उसे सहारा देता है देहधारी परमेश्वर को किसने जाना है स्तुति करो परमेश्वर की वह विजेता बनकर लौटा है परमेश्वर चाहे ज़्यादा लोग उससे उद्धार पाएँ मसीह की पहचान परमेश्वर स्वयं है देह में प्रकट हुआ परमेश्वर का अधिकार और सामर्थ्य मनुष्य के लिए परमेश्वर जो करता वो हर काम नेकनीयत है सत्य की खोज का मार्ग सत्य को स्वीकारने वाले ही परमेश्वर की वाणी सुन सकते हैं अपना हृदय परमेश्वर की ओर मोड़ कर ही तुम परमेश्वर की सुंदरता कर सकते हो महसूस परमेश्वर के लोगों के बढ़ने के साथ बड़ा लाल अजगर होता है धराशायी परमेश्वर के प्रबंधन कार्य का उद्देश्य परमेश्वर की विनम्रता बहुत प्यारी है परमेश्वर का सार सचमुच अस्तित्व में है अंत के दिनों में परमेश्वर के देहधारण के पीछे का उद्देश्य परमेश्वर के अधिकार के तहत शैतान कुछ नहीं बदल सकता सच्ची प्रार्थना में प्रवेश कैसे किया जाता है परमेश्वर को जानकर ही कोई उसका भय मान सकता है और बुराई से दूर रह सकता है मनुष्य को बचाने का परमेश्वर का इरादा बदलेगा नहीं मानव का अस्तित्व परमेश्वर पर निर्भर है दो हज़ार सालों की अभिलाषा सहता है बहुत से कष्ट परमेश्वर इंसान को बचाने को परमेश्वर अपनी उम्मीद रखता है पूरी तरह इंसान पर पूरी कायनात है नई परमेश्वर की महिमा में परमेश्वर बहाल कर देगा सृजन की पूर्व स्थिति कोई ताकत आड़े आ नहीं सकती उस लक्ष्य के जो हासिल करना चाहता है परमेश्वर मानव जाति पर परमेश्वर की करुणा परमेश्वर वाकई आया है इंसान के बीच कैसे परमेश्वर करते हैं सब पर राज परमेश्वर का न्याय और ताड़ना इंसान को बचाने के लिये है ये है मानव-जाति जिसे प्रभु बचाना चाहते हैं इंसान को परमेश्वर के वचनों के अनुसार चलना चाहिये मानवता को बचाने के लिए देह में परमेश्वर करता है खामोशी से काम सृजित जीव को होना चाहिये परमेश्वर की दया पर राज्य गान (I) दुनिया में राज्य का अवतरण हुआ है सच्चे मार्ग की तलाश के सिद्धांत परमेश्वर के आदेश की पूर्ति के लिये कर दो अपना तन-मन समर्पित पतरस जानता था परमेश्वर को सबसे अच्छी तरह चाहे बड़ा हो या छोटा, सबकुछ मायने रखता है जब परमेश्वर की राह का पालन कर रहे हो जिनको परमेश्वर पा लेगा, वो अनंत आशीष का आनंद लेंगे परमेश्वर ने अपना सारा प्रेम दिया है मानवता को परमेश्वर और इंसान के लिये अलग-अलग आरामगाह परमेश्वर स्वर्ग में है और धरती पर भी परमेश्वर की एकमात्र इच्छा है कि इंसान उसकी बात सुने और माने विजेताओं का गीत पूरा राज्य मनाता है ख़ुशियाँ परमेश्वर के क्रोध का प्रतीकात्मक अर्थ गरिमा है उसमें जो करता है आदर परमेश्वर का इंसान के लिये परमेश्वर के प्रबंधनों का प्रयोजन तुम लोगों को सत्य स्वीकार करने वाला बनना चाहिए परमेश्वर का अधिकार जो मानते हैं, उनका भाव ऐसा होना चाहिए ईश्वर का संरक्षण सदा मानवजाति के लिए है राज्य-गान (III) सभी जन आनंद के लिये जयकार करते हैं परमेश्वर का राज्य प्रकट हुआ है धरती पर क्या तुम अपने दिल का प्रेम दोगे परमेश्वर को? क्या तुम परमेश्वर के कार्य को जानते हो? परमेश्वर को हमारे सर्वस्व पर अधिकार करने दो परमेश्वर चाहता है सच्चा दिल मनुष्य का परमेश्वर के नाम का अर्थ इंसान का फ़र्ज़ सृजित प्राणी का उद्यम है इंसान से परमेश्वर की उम्मीदें बदली नहीं हैं इंसान के लिए परमेश्वर के प्रबंध के मायने असल कीमत चाहिये सत्य के अमल के लिये स्वयं परमेश्वर की पहचान और पदवी अय्यूब और पतरस की तरह गवाह बनो सुरक्षा पाने की ख़ातिर भय मानो परमेश्वर का परमेश्वर को अर्पित करना सबसे मूल्यवान बलिदान पवित्र आत्मा के कार्य के सिद्धांत इंसान को परमेश्वर की राह पर कैसे चलना चाहिए परमेश्वर का खुला प्रशासन अखिल ब्रह्माण्ड में मानवता के लिये बहुत महत्वपूर्ण देहधारी परमेश्वर परमेश्वर की वास्तविकता और सुंदरता परमेश्वर ने पाई है महिमा अपनी सभी रचनाओं के बीच पवित्र आत्मा के नए काम का अनुसरण करो और परमेश्वर की स्वीकृति प्राप्त करो परमेश्वर इंसान के सच्चे विश्वास की आशा करता है परमेश्वर के साथ सामान्य रिश्ता कैसे स्थापित करें सत्य को जितना अधिक अमल में लाओगे उतनी तेज़ी से प्रगति करोगे इंसान का सच्चा जीवन सत्य का अनुसरण करते हैं जो, पसंद करता है उन्हें परमेश्वर एक सच्चे व्यक्ति की सदृशता किसी सृजित प्राणी में नहीं होता परमेश्वर का प्रेम प्रभु यीशु का अनुकरण करो सत्य के लिए तुम्हें सब कुछ त्याग देना चाहिए परमेश्वर के अधिकार को जानने का मार्ग परीक्षण माँग करते हैं आस्था की यातनाओं के दौरान सिर्फ़ विजयी लोग अडिग रहते हैं रोक नहीं सकता कोई परमेश्वर के काम को परमेश्वर के वचनों को जो संजोते हैं वे धन्य हैं आओ सिय्योन में लेकर यशगान वही पात्र हैं सेवा के जो अंतरंग हैं परमेश्वर के राज्य-गान (II) आगमन हुआ है परमेश्वर का, राजा है परमेश्वर गरिमामय है सार परमेश्वर का देहधारी परमेश्वर ही बचा सकता है इंसान को पूरी तरह परमेश्वर को बेहतर जान सकते हैं लोग वचनों के कार्य के ज़रिये परमेश्वर के देहधारण का अधिकार और मायने परमेश्वर की इंसान से अंतिम अपेक्षा परमेश्वर लाया है इंसान को नए युग में अपने वचनों और कार्यों को कैसे समझना चाहिये तुम्हें सत्य का अभ्यास सुधार सकता है दूषित स्वभाव को परमेश्वर की जाँच को तुझे हर चीज़ में स्वीकर करना चाहिए चाहे जो भी करे परमेश्वर, उसका अंतिम लक्ष्य है उद्धार परमेश्वर के कार्य के लिए पूरी तरह समर्पित हो जाओ कितना अहम है प्यार परमेश्वर का इंसान के लिये स्वभाव में बदलाव है मुख्यत: प्रकृति में बदलाव समय जो गँवा दिया कभी वापस न आएगा शरीर त्यागने का अभ्यास सच्चाई से जी कर ही तू दे सकता है गवाही देह में परमेश्वर के कार्य का मुख्य प्रयोजन क्या तुम हो अपने लक्ष्य के प्रति आगाह? परमेश्वर का सच्चा प्रेम पाने की खोज करनी चाहिए तुम्हें क्या तुम ऐसा इंसान बनने को तैयार हो जो देता है परमेश्वर की गवाही मानव जाति के भाग्य की ओर ध्यान दो किसका अनुसरण करें नौजवान परमेश्वर ने बहुत पहले तैयार कर दी हर चीज़ इंसान के लिये तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास परमेश्वर उन्हें प्रबुद्ध और रोशन करेगा जो सत्य की खोज करते हैं हर युग में नया कार्य करता है परमेश्वर जीवन-जल की निर्मल नदिया इंसान को जो करना है उस पर उसे अटल रहना चाहिये परमेश्वर के लिए पतरस के प्रेम की अभिव्यक्ति इंसान के लिये परमेश्वर की इच्छा कभी नहीं बदलेगी इंसान के प्रति परमेश्वर का रवैया परमेश्वर के लिए तुम्हारा विश्वास हो सबसे ऊँचा परमेश्वर के वचनों की महत्ता विजेता हैं वे जो परमेश्वर की शानदार गवाही दें परमेश्वर का प्रेम और सार है निस्वार्थ इंसान को सौभाग्य के लिये करनी चाहिये परमेश्वर की आराधना स्वभाव में बदलाव वास्तविक जीवन से अलग नहीं हो सकता परमेश्वर की इंसान को चेतावनी क्या अपने लिये परमेश्वर की आशाओं को महसूस किया है तुम लोगों ने? स्वभाव में बदलाव पवित्र आत्मा के काम से अलग नहीं हो सकता बेपर्दा हो चुके हैं रहस्य सारे जिनमें है कार्य पवित्रात्मा का वही किये जा सकते हैं पूर्ण आत्मायुक्त प्राणी थे मूल इंसान परमेश्वर ही सबसे ज़्यादा प्यार करता है इंसान को शैतान के हाथों इंसान के दूषण के परिणाम का सत्य बदले में क्या दिया है तुमने परमेश्वर को बिना सच्ची प्रार्थना के, सच्ची सेवा नहीं होती परमेश्वर का स्वभाव अपमान सहता नहीं परमेश्वर इंसान का अंत तय करता है उसके अंदर मौजूद सत्य के आधार पर परमेश्वर की विजय के प्रतीक परमेश्वर इंसान को अधिकतम सीमा तक बचाना चाहता है कोई भी परमेश्वर के आगमन को नहीं जानता है परमेश्वर आरम्भ है और अंत भी सर्वशक्तिमान परमेश्वर का पवित्र आध्यात्मिक देह प्रकट हो चुका है वचनों से हासिल होता है परमेश्वर का कार्य बचाएगा जिन्हें परमेश्वर, विशिष्ट हैं वे उसके दिल में अंत के दिनों में न्याय का कार्य है युग को समाप्त करना सबसे असल है परमेश्वर का प्रेम न्याय से बचने के परिणाम अंत के दिनों के मसीह को त्यागना पवित्र आत्मा की ईश-निंदा है अंधेरे में हैं जो उन्हें ऊपर उठना चाहिये जो परमेश्वर के सामने शांत रहते हैं, केवल वही जीवन पर ध्यान केंद्रित करते हैं सत्य पर अमल के लिये सबसे सार्थक है दुख सहना वह सत्य, मार्ग और जीवन है परमेश्वर मूल्यवान मानता है उनको जो उसकी सुनते और उसका आदेश मानते हैं परमेश्वर की ताड़ना और न्याय प्रेम हैं ये जान लो परमेश्वर का अधिकार प्रतीक है उसकी पहचान का धन्य है अंत के दिनों की पीढ़ी पतरस के पथ पर कैसे चलें जीवन को परमेश्वर के वचनों से भरो लक्ष्य जिसका अनुसरण करना चाहिये विश्वासियों को

0खोज परिणाम