सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

हे परमेश्वर, तुम मुझे बहुत प्रेम देते हो

I

परमेश्वर, तुम्हारा न्याय है असली, धार्मिक और पवित्र।

तुम्हारे वचन हैं वो प्रकाश जो करें उजागर मनुष्य के बुरे तरीके।

विश्वास किया मैंने, पर जानता नहीं था मैं

कितना मेरे विद्रोह ने तुम्हें किया दुखी।

मुझे आती है शर्म, होता है अफ़सोस, हूँ कर्ज़दार तुम्हारा।

आज समझा हूँ मैं।

कई बार मैंने मुड़कर देखा उस राह को, जिस पर चला था मैं।

जीऊं अगर मैं सिर्फ़ अपने लिए, तो हूं मैं बहुत विद्रोही।

समझूंगा मैं सच्चाई को, दूंगा तुम्हें शुद्ध प्रेम।

होगी पीड़ा, पर हूँ मैं तैयार। होगी पीड़ा, पर हूँ मैं तैयार।

हे परमेश्वर।

II

तुम्हारा न्याय जगाता है मुझे, देख सकता हूँ मैं तुम्हारा प्रेम।

केवल तुम्हारी धार्मिकता जानकर, जान पाता हूँ मैं अपना दूषण।

मुड़कर देखता हूँ मैं, कई बार रहे हो तुम मेरे रहनुमा,

हर कदम पर की तुमने मेरी सुरक्षा!

जाना है मैंने उस क़ीमत को मुझे बचाने के लिए की जो तुमने अदा।

मानव जाति के प्रेम के तुम हो योग्य।

कई बार मैंने मुड़कर देखा उस राह को, जिस पर चला था मैं।

जीऊं अगर मैं सिर्फ़ अपने लिए, तो हूं मैं बहुत विद्रोही।

समझूंगा मैं सच्चाई को, दूंगा तुम्हें शुद्ध प्रेम।

होगी पीड़ा, पर हूँ मैं तैयार।

होगी पीड़ा, पर हूँ मैं तैयार।

हे परमेश्वर।

III

तुमने बोले कई वचन, सही बहुत परेशानी मुझे बचाने के लिए।

तुम्हारे न्याय के बिन मुझ में बदलाव नहीं था मुमकिन।

तुम्हारे प्रेम के लिए हूँ मैं आभारी, हूँ तुम्हारा कर्ज़दार।

तुम्हारा कार्य है बचाता और बदलता मुझे!

तुम्हारे वचनों का करते हुए अभ्यास, तुम्हारे सत्य को करते हुए अनुभव,

मेरा दिल भर जाता है अनंत ख़ुशियों से।

जानता हूँ कि तुम्हारे वचन हैं सच, तुम्हारा प्रेम है असली।

तुम्हें प्रेम करने और जानने की करता हूँ मैं कोशिश।

यह है जीवन का सबसे मीठा आशीष!

कई बार मैंने मुड़कर देखा उस राह को, जिस पर चला था मैं।

जीऊं अगर मैं सिर्फ़ अपने लिए, तो हूं मैं बहुत विद्रोही।

समझूंगा मैं सच्चाई को, समझूंगा मैं सच्चाई को, दूंगा तुम्हें शुद्ध प्रेम।

होगी पीड़ा, पर हूँ मैं तैयार।

होगी पीड़ा, पर हूँ मैं तैयार।

हे परमेश्वर।

"मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना" से

पिछला:परमेश्वर के कार्य को समर्पित होने को मैं हूँ तैयार

अगला:मुश्किल डगर पर परमेश्वर का अनुसरण करो

शायद आपको पसंद आये